बच्चों में स्लीप एपनिया: कारण, निदान और उपचार

बच्चों में स्लीप एपनिया: कारण, निदान और उपचार

Last Updated On

अपने नवजात बच्चे के स्वास्थ्य के लिए माता-पिता को सतर्क रहना चाहिए। जन्म के बाद के कुछ महीने बहुत ही महत्वपूर्ण होते हैं और इसलिए माता-पिता को अपने बच्चे के स्वास्थ्य संबंधी सभी संकेतों पर नजर रखना बहुत जरूरी है। शुरुआती कुछ महीनों में बच्चे के विकास के कई महत्वपूर्ण पड़ाव होते हैं इसलिए यह सुनिश्चित करना आवश्यक है कि उसके विकास में कोई बाधा न आए। नींद अश्वसन (स्लीप एपनिया) एक गंभीर विकार है जिसके बारे में जागरूक होना आवश्यक है, क्योंकि इस स्थिति का सावधानीपूर्वक अवलोकन करने और पहचानने की आवश्यकता होती है।

स्लीप एपनिया क्या है

सोते समय सांस लेने में तकलीफ को नींद अश्वसन कहा जाता है। यह संभावित रूप से बच्चे के लिए बहुत हानिकारक स्थिति है और सही समय पर इलाज न किए जाने पर इसकी वजह से गंभीर समस्याएं हो सकती हैं। शिशुओं में नींद अश्वसन से हृदय गति धीमी हो सकती है और उनका विकास भी बाधित हो सकता है। श्वास लेने में होने वाली हल्की रुकावट को हाइपोपेनेस कहा जाता है जबकि पूरी तरह श्वास में रुकावट आने को अश्वसन कहा जाता है। नींद अश्वसन को तीन प्रकारों में वर्गीकृत किया जा सकता है:

1. ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया

इस तरह का अश्वसन तब होता है जब ऊपरी वायुमार्ग गले के पीछे के नरम ऊतक के कारण अवरुद्ध हो जाता है।

2. सेंट्रल स्लीप एपनिया

केंद्रीय नींद अश्वसन हृदय या मस्तिष्क में किसी भी समस्या के कारण हो सकता है, जहाँ शरीर स्वयं सांस लेने की क्रिया को रोक देता है। इस स्थिती में मस्तिष्क में कोई बाधा नहीं होती, लेकिन वह सांस लेने के लिए मांसपेशियों को संकेत भेजने में विफल हो जाता है।

3. मिक्स्ड एपनिया

जैसा कि नाम से पता चलता है, यह सेंट्रल स्लीप एपनिया और ऑब्सट्रक्टिव स्लीप एपनिया (बाधक निंद्रा अश्वसन) का एक संयोजन है। यह अश्वसन का एक रूप है जो आमतौर पर समय से पहले जन्म लेने वाले बहुत छोटे बच्चों में पाया जाता है।

इसके कारण क्या हैं

नींद अश्वसन कई कारणों से हो सकता है। इसके कुछ कारण इस प्रकार हैं:

  • नींद के दौरान मांसपेशियों को आराम मिलता है। जब हम सोते हैं तो हमारी मांसपेशियां आराम करती हैं, लेकिन नींद अश्वसन के मामले में, मांसपेशियां आवश्यकता से अधिक आराम चाहती हैं, इससे वायुमार्ग में रुकावट आती है और सांस लेने में कठिनाई होती है। टॉन्सिल और कंठशूल (ऐडिनॉइड) भी नींद अश्वसन का कारण हो सकते हैं।
  • नींद अश्वसन का पारिवारिक इतिहास
  • अधिक वजन
  • डाउन सिंड्रोम
  • प्रमस्तिष्कीय पक्षाघात (सेरेब्रल पाल्सी)
  • मुँह, जबड़े और गले की संरचना में विकृति
  • तुलनात्मक रूप से लंबी गर्दन
  • सामान्य आकार से बड़ी जीभ जो पीछे की ओर भी जा सकती है और सोते समय वायुमार्ग को अवरुद्ध कर सकती है

बच्चों में नींद अश्वसन के कुछ अन्य कारण भी हो सकते हैं।

  • मस्तिष्क में रक्तस्राव
  • श्वसन संबंधी रोग
  • रिफ्लक्स जैसी जठरात्र समस्याएं
  • संक्रमण
  • शरीर में कैल्शियम या ग्लूकोज की असामान्य मात्रा होना
  • शरीर का हानिकारक और विषाक्त रसायनों के संपर्क में आना

नींद अश्वसन होने का खतरा किन बच्चों को होता है

नींद अश्वसन होने का खतरा किन बच्चों को होता है

किसी भी बच्चे को नींद अश्वसन हो सकता है, लेकिन यह अधिकतर समय से पहले जन्म लेने वाले शिशुओं में ज्यादा पाया जाता है। बच्चे का जन्म जितना तय समय से पहले होगा उसे उतना ही उनमें नींद अश्वसन का खतरा बढ़ जाएगा। गर्भावस्था के 37वें सप्ताह से पहले पैदा हुए शिशुओं में इस अवस्था को अपरिपक्वता का अश्वसन कहा जाता है। 37वें सप्ताह या उसके बाद जन्म लेने वाले शिशुओं में इसे शैशवावस्था का अश्वसन कहा जाता है। रिपोर्ट के अनुसार, 1 किलोग्राम से भी कम वजन वाले लगभग 84 प्रतिशत शिशुओं में अश्वसन का खतरा होता है। जिन शिशुओं का वजन जन्म के समय लगभग 2.5 किलोग्राम होता है उन शिशुओं में जोखिम 25 प्रतिशत तक कम हो जाता है।

डाउन सिंड्रोम और जन्मजात परिस्थितियां भी ऊपरी वायुमार्ग को प्रभावित कर सकती हैं, जिससे सोते समय सांस लेने में तकलीफ हो सकती है। डाउन सिंड्रोम से पीड़ित अधिकांश बच्चे नींद अश्वसन से पीड़ित होते हैं।

जटिलताएं

नींद अश्वसन एक गंभीर स्वास्थ्य समस्या है, विशेषकर उन शिशुओं के लिए जिनका जन्म समय से पहले हुआ है कुछ मामलों में, यह घातक भी हो सकता है। इस स्थिति में, जैसे ही बच्चा सांस लेना बंद कर देता है, रक्त में ऑक्सीजन का स्तर गिर जाता है और कार्बन डाइऑक्साइड का स्तर बढ़ जाता है। यह हृदय गति में गिरावट का कारण बन सकता है और इससे बच्चा बेहोश हो सकता है।

शिशुओं में नींद अश्वसन के लक्षण

माता-पिता को नींद अश्वसन के किसी भी संकेत को पहचानने के लिए हर समय सचेत रहने की आवश्यकता होती है। समय से पहले पैदा हुए या कम वजन वाले शिशुओं के बारे में उन्हें अतिरिक्त सावधानी बरतने की जरूरत है। अमेरिकन एकेडमी ऑफ स्लीप मेडिसिन के अनुसार, 15 सेकंड तक सांस लेने में रुकावट सामान्य है और इसे आवधिक श्वसन कहा जाता है। आवधिक सांस लेना अश्वसन का रोग नहीं है। हालांकि, सांस लेते हुए होने वाली रुकावट में वृद्धि होना एक खतरनाक संकेत है।

यह शिशुओं में नींद अश्वसन का संकेत है, जिनके बारे में माता-पिता को सावधान रहना चाहिए:

त्वचा का रंग नीला पड़ना: माथे और बच्चे के शरीर का रंग नीला हो जाने से यह संकेत मिलता है कि रक्त में ऑक्सीजन का स्तर कम हो गया है। ध्यान दें कि अगर बच्चे को सर्दी है या वह रो रहा है तो कभी-कभी बच्चे के मुँह या पैरों के आसपास की त्वचा नीली भी पड़ सकती है।

हांफना: यह सांस लेने के एक लंबे विराम के बाद होता है। समय से पहले पैदा हुए बच्चों में श्वसन प्रणाली की अपरिपक्वता के कारण, मस्तिष्क सांस लेने के लिए मांसपेशियों को संकेत भेजने में विफल रहता है। यह सेंट्रल स्लीप एपनिया का एक स्पष्ट संकेत है।

लंगड़ाहट: पैरों की मांसपेशियों पर अश्वसन का गंभीर प्रभाव पड़ता है। पैरों की मांसपेशियों में ढीलापन रक्त में ऑक्सीजन के स्तर में अत्यधिक कमी के कारण होता है।

हृदय गति का धीमा होना: अश्वसन वाले शिशुओं की हृदय गति धीमी होती है, जिससे ब्रैडीकार्डिया (मंदनाड़ी) नामक समस्या उत्पन्न होती है , जिससे अचानक बेहोशी हो सकती है।

इसका निदान कैसे किया जाता है

नींद में खलल पड़ने की आशंका होने पर, बच्चे को नींद के विशेषज्ञ के पास ले जाना चाहिए, पहले डॉक्टर बच्चा का कुछ परीक्षण करेंगे। जैसे रक्त में ऑक्सीजन के स्तर को मापना, हृदय गति की निगरानी और श्वास की जांच संबंधी कुछ परीक्षण कर सकते है।

अश्वसन की पहचान करने के लिए एक और परीक्षण किया जाता है, जिसे पॉलीसोमनोग्राम कहते है। इसके लिए सोते समय बच्चे के सटीक निरीक्षण की आवश्यकता होती है और इसे टेक्नीशियन द्वारा स्लीप लैब में आयोजित किया जाता है। यह अवलोकन मस्तिष्क की तरंगों, दिल की धड़कन और सांस के पैटर्न को दर्ज करने के लिए किया जाता है, जिससे श्वास संबंधित समस्या के बारे में जानकारी मिल सके। यह एक दर्द रहित प्रक्रिया है।

उपचार

अश्वसन की गंभीरता के आधार पर, डॉक्टर बच्चे के लिए दवा बताते हैं । टॉन्सिल और एडेनोइड्स के मामले में, गले या ई.एन.टी. विशेषज्ञ से परामर्श करना चाहिए । श्वास अवरोध के कुछ मामलों में, थोड़ी देर के लिए एक वायुमार्ग दबाव मशीन का उपयोग किया जाता है। उन बच्चों के लिए बेबी मॉनिटर का उपयोग भी किया जाता सकता है, जिन्हें सांस लेने में होने वाली विभिन्न समस्याओं के लिए हृदय-श्वसन की निगरानी की आवश्यकता होती है।

नींद अश्वसन से ग्रस्त अधिकांश बच्चों को इस स्थिति से राहत तब मिलती है, जब वे थोड़े बड़े हो जाते हैं, लेकिन समय से पहले जन्म लेने वाले बच्चों में नींद अश्वसन लंबे समय तक बना रह सकता है।

नोट: नींद अश्वसन वाले बच्चों के माता-पिता को सी.पी.आर. (कार्डियोपल्मोनरी रिससिटेशन) करना सीखना चाहिए। अपने डॉक्टर के साथ इस पर चर्चा करें और इस तरीके को अच्छे से सीखें ताकि आप किसी आपात स्थिति के लिए तैयार रह सकें।

चिकित्सक से परामर्श कब करें

समय से पहले जन्म लेने वाले शिशुओं और कम वजन वाले शिशुओं के मामले में, माता-पिता को अतिरिक्त सतर्क रहने की जरूरत होती है। जब सांस लेने में रुकावट 15 सेकंड से अधिक समय तक रहे और बच्चा हल्के से हिलाने पर भी प्रतिक्रिया नहीं दे, तो तुरंत डॉक्टर के पास लेकर जाएं ।

भले ही नींद अश्वसन एक गंभीर समस्या है, लेकिन सही समय पर एक उचित कदम माता-पिता को अपने नवजात बच्चे की इस अवस्था में इलाज करने में मदद कर सकता है। सही मार्गदर्शन और उपचार प्रक्रिया के लिए सावधानीपूर्वक अवलोकन और परामर्श अनिवार्य है।

यह भी पढ़ें:

बच्चों को रात में सोते समय पसीना आने का कारण और उपचार
रात में रोते हुए शिशु को कैसे संभालें