प्रसव के दौरान जोर लगाने की प्रक्रिया

डिलीवरी के दौरान जोर लगाने की प्रक्रिया

In this Article

Last Updated On

प्रसव के दौरान जोर लगाना यानि शिशु को गर्भ से बाहर आने में मदद करना। प्रसव के दौरान जोर लगाने की आवश्यकता तब होती है जब गर्भाशय ग्रीवा यानि सर्विक्स पूरी तरह से चौड़ा हो जाता है और शिशु का सिर जन्म नलिका से बाहर निकलने के लिए तैयार होता है। माँ द्वारा अच्छी तरह से तालमेल बना कर जोर लगाने का प्रयास, शिशु के लिए एक सहज मार्ग को प्रशस्त करता है।

यह लेख आपको प्रसव पीड़ा के समय जोर लगाने के पीछे के विज्ञान को समझने में मदद करेगा और यह भी बताएगा कि इस दौरान क्या सावधानी बरतें ।

कैसे जानें कि प्रसव के दौरान कब जोर लगाना है

सर्विक्स का पूर्ण फैलाव यह दर्शाता है कि प्रसव का पहला चरण समाप्त हो चुका है और इसका दूसरा चरण शुरू हो गया है, जिसमें माँ अपने शिशु को बाहर निकालने के लिए तैयार होती है। शिशु के सिर का गर्भवती महिला की योनि मार्ग के निचले हिस्से में आना प्रसव के लिए जोर लगाने के एक प्राकृतिक संकेतक के रूप में माना जा सकता है। यह उत्तेजना इतनी तीव्र होती है कि राहत पाने के लिए शिशु को नीचे की ओर धकेलना एक स्वाभाविक और आवश्यक प्रतिक्रिया बन जाता है।

श्रोणि पर बढा हुआ दबाव, जननांग क्षेत्र में भारीपन, बढ़ा हुआ रक्त परिसंचरण आदि सब एक साथ प्रसव के सक्रिय चरण को क्रियान्वित करते हैं।

जोर लगाते समय संकुचन

प्रसव के इस सक्रिय चरण में, महिला का गर्भाशय हर पांच मिनट में तीव्रता से सिकुड़ता है, और यह संकुचन 45 से 90 सेकंड तक जारी रहता है। वास्तविक संकुचन की पहचान करना सरल नहीं हो सकता। संकुचन आमतौर पर तीव्र होते हैं और जोर लगाने की इच्छा से जुड़े हो भी सकते हैं और नहीं भी। यह निश्चित रूप से अलग ही महसूस होता है जब आपका शिशु जनन मार्ग से नीचे की ओर यात्रा करता है। इस समय, शांत रहें और प्रकृति को आपके शिशु का दुनिया में स्वागत करने दें।

जब शरीर जोर लगाने के लिए प्रवृत्त हो तो कैसा महसूस होता है

शिशु के नीचे की ओर खिसकने के साथ, माँ को उसका भार महसूस होता है और जनन मार्ग पूरी तरह से फैलने से पहले ही कभी-कभी शरीर जोर लगाने के लिए प्रवृत्त होता है।

यह महत्वपूर्ण है कि आपका प्रसव जल्दी होने के बजाय सुरक्षित रूप से हो। प्रसव का प्रत्येक चरण अपना समय लेता है और प्रकृति की प्रक्रिया को पूरा करना आवश्यक है। आमतौर पर, जोर लगाने की अनुभूति वाली अवस्था में महिलाओं को विभिन्न प्रकार की उत्तेजनाएं महसूस हो सकती हैं:

तीव्र उत्तेजना: एक तीव्र इच्छा, आपका शरीर शिशु के आने का अनुभव करता है । इसका विरोध करना कठिन होता है। इस समय, एक तटस्थ गुरुत्वाकर्षण की स्थिति सहायक हो सकती है।

सामान्य उत्तेजना: होने वाली माँ को हर संकुचन के साथ या संकुचन की चरम अवस्था पर जोर लगाने का अनुभव हो सकता है। श्वसन और अपनी स्थिति को बदलते हुए तब तक इसे बेहतर तरीके से सहन किया जा सकता है जब तक जोर लगाने के लिए आपको तीव्र आवश्यकता या उत्तेजना महसूस नहीं होती । कुछ मामलों में, शिशु आसानी से नीचे की ओर आ सकता है और आपको किसी भी तीव्र दर्द का अनुभव नहीं होगा।

अनुपस्थित उत्तेजना: यह संभव है कि एक गर्भवती महिला को जोर लगाने के लिए कोई उत्तेजना महसूस न हो। यहाँ समय और स्थिति महत्वपूर्ण होती है। यदि विस्तारण में 30 मिनट से अधिक समय लगता है, तो गर्भवती स्त्री स्वयं या किसी अन्य व्यक्ति या डॉक्टर द्वारा निर्देश देने पर सीधे जोर लगा सकती है।

प्रसव के दौरान जोर लगाने में कितना समय लगता है

पहली बार माँ बनने जा रही महिलाओं के जोर लगाने की अवस्था कुछ घंटों तक रह सकती है। जो महिलाएं दूसरी या उससे ज्यादा बार बच्चे को जन्म दे रही हैं, उनके लिए जोर लगाने वाला यह यह चरण कम से कम 10 मिनट तक रह सकता है। सामान्य तौर पर, इसमें कुछ मिनट से लेकर कुछ घंटों तक का समय लग सकता है। जोर लगाने की प्रक्रिया में लगने वाला समय निम्नलिखित कारकों के आधार पर भिन्न-भिन्न होता है।

पहला प्रसव या उसके बाद का प्रसव: यदि महिला का पहले कभी प्रसव न हुआ हो तो श्रोणि की मांसपेशियां न फैलने के कारण जकड़ी हुई होती हैं। मांसपेशियों के फैलने की प्रक्रिया धीमी और नियमित होती है, और इसलिए इसमें समय लगता है। यदि महिला का यह दूसरा या उसके बाद का प्रसव हो, तो शिशु को बाहर निकलने में कम समय लगेगा। जिन महिलाओं के कई प्रसव हो चुके हैं उन्हें केवल एक या दो बार जोर लगाना पड़ता है क्योंकि श्रोणि की मांसपेशियां पहले से ही ढीली हो चुकी होती हैं ।

श्रोणि संरचना: श्रोणि तंत्र की संरचना विभिन्न महिलाओं में भिन्न-भिन्न होती है। श्रोणि का आदर्श आकार अंडाकार होता है। कुछ श्रोणि निकास छोटे होते हैं लेकिन शिशु उनमें से गुजरकर बाहर निकल जाते हैं। कुछ मामलों में श्रोणि का निकास मार्ग अत्यधिक छोटा होता है। आमतौर पर इस तरह की विषमताएं प्रसव की अवधि को बढ़ा देती हैं और इससे प्रसव-काल में जटिलताओं का सामना भी करना पड़ सकता है।

शिशु का आकार: कुछ शिशुओं के सिर बड़े होते हैं, जिनमें सामान्य से बड़े आकार की कपाल की हड्डियाँ होती हैं जो प्रसव के दौरान जनन मार्ग से निकलते समय एक-दूसरे पर आच्छादित हो जाती हैं। ऐसे मामलों में, शिशु का सिर लम्बा हो जाता है और इसे ‘कैपट’ कहा जा सकता है। ये आमतौर पर जन्म के कुछ समय बाद सामान्य हो जाता है।

भ्रूण के सिर और श्रोणि तंत्र का संरेखण: योनि मार्ग से प्रसव के दौरान शिशु की सामान्य स्थिति वह होती है, जिसमें शिशु का सिर नीचे रहते हुए उसका चेहरा उसकी माँ की पीठ या त्रिकास्थि (कमर के पीछे की तिकोनी हड्डी) की ओर होता है। इसे पूर्वकाल की स्थिति कहा जाता है।

इसके अतिरिक्त कुछ मामलों में शिशु का चेहरा पेट की तरफ हो जाए ऐसी स्थिति में भी आ सकता है, जिसे शीर्ष गर्भस्थिति कहते हैं और इसके लिए शिशु को बाहर निकलने हेतु पलटाने की आवश्यकता होती है।

प्रसव बल: ये वह प्रयास है जिसके साथ गर्भवती माँ, शिशु को बाहर की ओर धकेलती है। गर्भाशय ग्रीवा के फैलाव के लिए गर्भाशय का संकुचन महत्वपूर्ण होता है। दोनों में से किसी एक के भी न होने पर प्रसव स्वाभाविक रूप से संभव नहीं है। पर्याप्त फैलाव के साथ तालमेल करते हुए होने वाला गर्भाशय संकुचन, प्रसव को सुगम तरीके से संपादित करता है ।

प्रसव के दौरान कैसे जोर लगाएं

प्रसव के दौरान कैसे जोर लगाएं

प्रसव के दौरान जोर लगाने की 2 तकनीक हैं:

1. निर्देशित जोर लगाना: जब आपकी गर्भाशय ग्रीवा पूरी तरह से चौड़ी होने के बाद आपको आपकी मिडवाइफ या दाई द्वारा निर्देशित किया जाता है कि प्रसव के दौरान कैसे धक्का दिया जाए तो इसे कहा जाएगा निर्देशित जोर लगाना । यह इस बात पर ध्यान दिए बगैर किया जाता है कि आपको जोर लगाने की इच्छा हो भी रही है या नहीं। कुछ विशेषज्ञों का मानना है कि इस प्रकार जोर लगाना गर्भवती माँ तथा शिशु दोनों के लिए खतरनाक हो सकता है।

2. स्वाभाविक जोर लगाना: इसे प्रसव के दौरान सबसे सुरक्षित और प्राकृतिक तरीका माना जाता है। इस विधि में, राहत के लिए माँ अपनी योनि नलिका के नजदीक शिशु के बाहर आने की इच्छा महसूस करने के बाद ही जोर लगाना शुरू करती है। यह पद्धति डॉक्टरों द्वारा बताई और अपनाई जाती है ।

निर्देशित जोर कैसे लगाया जाता है

प्रसव का दूसरा चरण तब शुरू होता है जब गर्भाशय ग्रीवा पूरी तरह से 10 सेंटीमीटर तक फैल जाती है और तब तक फैली रहती है जब तक कि प्रसव न हो जाए। ये चरण कई घंटों तक चल सकता है और यह वह समय होता है जब जोर लगाने के लिए बताया जाता है।

  • प्रत्येक बार धक्का लगाने या संकुचन से पहले एक गहरी सांस लेते हुए, आपको अपने पेट की मांसपेशियों को तानकर रखते हुए, दबाव को सहन करना चाहिए। यह कठोर मलत्याग के समय महसूस किए गए प्रयास के समान है।
  • दस तक की गिनती गिनते हुए जोर लगाया जा सकता है। प्रत्येक संकुचन के लिए दो से तीन बार जोर लगाना पर्याप्त और फलदायी हो सकता है । योनि की त्वचा को फटने से रोकने के लिए बच्चे के नीचे खिसकते जाने के साथ जोर लगाने को समन्वित करना महत्वपूर्ण है।

जोर लगाना क्यों निर्देशित किया जाता है

प्रसव का दूसरा चरण लंबे समय तक खींचना शिशु के लिए प्राणघातक हो सकता है। निर्देशित जोर लगाना दूसरे चरण की अवधि को कम करने में मदद करता है। इसलिए कुछ मामलों में, यह अब दुनिया भर में प्रसव के लिए व्यापक रूप से लागू किया जाता है।

प्रसूति और स्त्री रोग विशेषज्ञों के अमेरिकी कॉलेज के दिशानिर्देशों के अनुसार प्रसव के लंबे समय तक चलने वाले दूसरे चरण का अनुमान लगाया जा सकता है। इससे यह पता चलता है की अगर दूसरा चरण, एपिड्यूरल (रीढ़ की हड्डी में एनेस्थेशिया) के बिना 3 घंटे या एपिड्यूरल देने के बाद 2 घंटे चले तो प्रथम बार माँ बनने वाली स्त्रियों के लिए यह लंबा समय होता है। जबकि एक से अधिक बार माँ बनने वाली स्त्रियों के लिए यह क्रमशः 2 और 1 घंटे तक होता है।

अगर दूसरा चरण लंबा होता है तो वैक्यूम या संदंश (फोरसेप्स) जैसी सहायक प्रसव तकनीकों द्वारा सी-सेक्शन करने के लिए कहा जाता है। अगर माँ और शिशु दोनों सहज हों तो यह बिना किसी हस्तक्षेप के किया जा सकता है। हालांकि, हस्तक्षेप और एक लंबे समय तक दूसरे चरण से बचने के लिए निर्देशित जोर लगाना उचित है।

निर्देशित जोर लगाने के लाभ-दोष

2006 के एक अध्ययन के अनुसार, जिसमें रीढ़ की हड्डी में दिये जाने वाले एनेस्थेशिया के बिना सामान्य प्रसव से गुजरने वाली लगभग 300 गर्भवती महिलाओं का निरीक्षण किया गया, उसमें पता चला कि स्वाभाविक जोर लगाने और निर्देशित जोर लगाने वाली अवस्था में कोई महत्वपूर्ण अंतर नहीं था। इस सर्वेक्षण के अनुसार न तो गर्भवती माँ और न ही शिशु को कोई महत्वपूर्ण लाभ हुआ।

इसी टीम द्वारा ऐसी माओं जिन्हें जोर लगाने के लिए निर्देश दिए गए थे, उन्हें उच्च जोखिम वाली मूत्र संबंधी समस्याओं का खतरा देखा गया था । वहीं स्वाभाविक जोर लगाने का कोई प्रतिकूल असर दिखाई नहीं दिया ।

निर्देशित जोर लगाना निम्न में से एक या अधिक के साथ संबद्ध था:

  • योनि के फटने या तीव्र क्षति होने की उच्च संभावना।
  • गर्भवती माता को उसकी श्रोणि के ऊतकों और/या मूत्र तंत्र के नुकसान का एक उच्च जोखिम था।
  • गर्भवती माँ को थकावट और अस्वस्थता – जब लंबे समय तक जोर लगाने की क्रिया करते हैं तो इसके लिए बहुत अधिक ऊर्जा की आवश्यकता होती है।
  • भ्रूण के लिए संकट उत्पन्न होना।
  • सी-सेक्शन और सहायक प्रसव की बेहद आवश्यकताएं।

स्वाभाविक जोर कैसे लगाया जाता है

इस दृष्टिकोण में, आपको केवल संकुचन और आपके अंदर से महसूस होने वाली इच्छा के जवाब में जोर लगाना होता है। यह गर्भवती माँ द्वारा प्रसव का एक अत्यधिक प्राकृतिक तरीका है। आप इन चरणों का पालन कर सकती हैं:

  • जैसे-जैसे संकुचन शुरू होते हैं, जोर लगाने के लिए स्वयं को तैयार करते हुए आप गहरी और पूरी सांस लें।
  • प्रत्येक जोर के साथ श्वसन जारी रखें। यदि आप प्रत्येक श्वसन के साथ तेज आवाज निकालती हैं तो यह सामान्य है। आपको हर पाँच सेकंड में सांस लेते रहना चाहिए जब तक कि जोर लगाने की इच्छा खत्म न हो। आपको अपनी सांस को लंबे समय तक रोककर नहीं रखना चाहिए।
  • जब संकुचन खत्म हो जाते हैं, तो धीरे-धीरे सांस लेते हुए आराम करें और फिर से जोर लगाना शुरू करने से पहले अगले संकुचन का इंतजार करें ।
  • जब फिर से जोर लगाने की इच्छा महसूस हो, तो आप संकुचन की चरम अवस्था के दौरान कुछ सेकंड के लिए जोर लगाना शुरू कर सकती हैं।

जैसे-जैसे शिशु की गति नीचे की ओर होती है और श्रोणि सतह पर दबाव बढ़ता है, आप संकुचन के दौरान अधिक लगातार और जोर से धक्का देना चाहेंगी।

एपिड्युरल के साथ प्रसव के लिए शिशु को बाहर की ओर धकेलना

एपिड्युरल के साथ प्रसव के लिए शिशु को बाहर की ओर धकेलना

रीढ़ की हड्डी में एनेस्थेशिया गर्भवती स्त्री के श्रोणि क्षेत्र को सुन्न कर देगा और यह उसके प्रयासों को भी प्रभावित करेगा । श्रोणि क्षेत्र में संवेदना के बिना, जोर लगाना मुश्किल है। ये पहली बार माँ बनने वाली स्त्रियों के लिए डरावना हो सकता है क्योंकि वे इसकी अभ्यस्त नहीं होती हैं। इस समय, यदि आपका सर्विक्स पूरी तरह से फैला हुआ महसूस होता है, तो आपको जोर लगाने के लिए कहा जाएगा। यदि यह सही समय है, तो श्रोणि तल पर कुछ दबाव महसूस हो सकता है।

इस समय तीव्र संकुचन देखना चाहिए और फिर गर्भाशय के संकुचन के साथ तालमेल करने के लिए जोर लगाना चाहिए। इस अवस्था में शिशु की स्थिति भी निर्धारित की जा सकती है। रीढ़ की हड्डी में असंवेदना का प्रभाव कुछ मामलों में कमजोर हो सकता है, जिससे पुनः जोर लगाने की इच्छा हो सकती है। यदि जन्म नलिका का आकार शिशु के लिए पर्याप्त है और संकुचन जारी हैं, तो शिशु लगातार नीचे की ओर आकर बाहर आ जाएगा। इसे लेबरिंग डाउन भी कहा जाता है।

यह सलाह दी जाती है कि जोर लगाने के लिए उपयुक्त स्थिति में रहें । यह नियमित अंतराल पर किया जाना चाहिए और प्रति संकुचन तीन बार या जब भी इच्छा महसूस हो तो जोर लगाना चाहिए । आप इस प्रक्रिया में थक सकती हैं और रुक-रुक कर आराम भी कर सकती हैं।

प्रसव के दौरान जोर लगाने की सर्वश्रेष्ठ स्थिति

सुरक्षित प्रसव में सहायता के लिए विभिन्न स्थतियों की सलाह दी गई है। पेट की तनावग्रस्त मांसपेशियां गर्भाशय से शिशु को बाहर निकालने में काफी मदद करती हैं।

आपके द्वारा अपनाई गई स्थिति या मुद्रा की आपकी प्रसव प्रक्रिया को आगे बढ़ाने में महत्वपूर्ण भूमिका होती है, विशेष रूप से बैठने और झुकने की स्थिति, जिसमें गुरुत्वाकर्षण द्वारा सहायता प्राप्त होती है। यदि आप बहुत सहजता के साथ शिशु को जन्म दे रही हैं, तो आप कुछ अन्य स्थितियों की कोशिश कर सकती हैं, जैसे कि गुरुत्वाकर्षण के प्रभाव को बेअसर करने के लिए एक तरफ लेटना या अपने हाथों और घुटनों पर बैठ जाना।

  • उकड़ूँ बैठने (स्क्वैटिंग) की स्थिति: यह श्रोणि क्षेत्र को इसकी अधिकतम चौड़ाई को प्राप्त करने में सहायता करती है, यानी एक से दो अंगुलियों की चौड़ाई तक। इसमें भी धक्का देने के लिए कम असर की आवश्यकता होती है। यहाँ गुरुत्वाकर्षण की महत्वपूर्ण भूमिका है। यह उन गर्भवती स्त्रियों के लिए काफी मददगार होती है जिन्हें जोर लगाने की कोई तीव्र इच्छा नहीं है। यह मुश्किल प्रसव में शिशु के अवतरण को बेहतर बनाने में मदद करता है।

यदि आपको उकड़ूँ बैठने की स्थिति कठिन लगती है, तो आप कुशन या तकिए के ढेर या एक स्टूल पर आधी उकड़ूँ की स्थिति में आने की कोशिश कर सकती हैं। आजकल प्रसव के लिए स्क्वैटिंग बार लगे हुए पलंग भी उपलब्ध होते हैं।

  • बैठने की स्थिति: यह स्थिति अच्छा आराम प्रदान करती है। इसे आमतौर पर भ्रूण की निगरानी करने के साथ किया जाता है। इसमें गुरुत्वाकर्षण एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। आगे की ओर झुकना बेहतर होता है, जिससे गर्भवती स्त्री को पीठ दर्द से राहत मिलती है।
  • अर्ध-बैठे हुए या ऊर्ध्वाकर अवस्था: गुरुत्वाकर्षण यहाँ फिर से मदद करता है। इसमें गर्भवती स्त्री अपनी श्रोणि को झुकाकर पीठ के निचले हिस्से पर अपने साथी के हाथों की मदद लेते हुए नीचे की ओर जोर लगाने का प्रयास कर सकती है। इससे योनि को अधिकतम चौड़ाई तक फैलने में मदद मिलती है। इसे भ्रूण की निगरानी के साथ किया जा सकता है। यह एक आरामदायक स्थिति भी है। इस स्थिति में, योनि परीक्षण में भी आसानी हो जाती है।
  • हाथों और घुटनों पर आ जाना: इसमें गुरुत्वाकर्षण प्रमुख नहीं है इसलिए प्रसव लंबे समय तक चल सकता है। यह शिशु के संरेखण को ठीक करके पीठ दर्द में राहत प्रदान करने में मदद कर सकता है। यह मुद्रा शिशु को पोस्टीरियर (जिसमें शिशु का सिर पेट की ओर हो जाता है) स्थिति से घूम जाने में मदद करती है।
  • एक तरफ लेटना: ऐसा करने से अच्छा आराम और योनि परीक्षण में सुविधा मिलती है। इस स्थिति द्वारा भ्रूण का परीक्षण किया जा सकता है। यह एपिसीओटॉमी से बचने में सहायता कर सकता है।

आप व्यक्तिगत सुविधा के अनुसार एक आरामदायक स्थिति चुन सकती हैं।

जोर लगाते समय सांस लेने की तकनीक

जोर लगाते समय सांस लेने की तकनीक

पर्याप्त रूप से सांस लेने से आपको आराम मिलेगा और संकट से बचाव होगा। सही तरह से सांस लेना, मांसपेशियों के समुचित संकुचन को सुनिश्चित करेगा। आप बाद के संकुचन के लिए पर्याप्त ऑक्सीजन प्राप्त करेंगी ।

  • मुँह खुला और जबड़े का लचीला होना: पेट और जननांगों के मांसपेशी संकुचन के लिए, आपको अपना मुँह खुला रखना चाहिए और जबड़े को लचीला कर लेना चाहिए। इससे सांस लेते समय हवा की मात्रा बढ़ाने में मदद मिलेगी।
  • अपने हाथों को केंद्र पर रखें: अपने हाथों को अपने पेट के सबसे ऊंचे भाग पर रखें इससे शिशु नीचे की ओर धकेलने वाले प्रयासों में मदद मिलेगी ।
  • नियमित रूप से आसानी से सांस लें और पूरी तरह से सांस छोड़ें।
  • कुछ स्त्रियों के लिए सांस रोककर रखना आसान होता है। ऐसी महिलाएं जोर लगाने के दौरान अपनी सांस रोक सकती हैं, लेकिन लंबे समय तक नहीं।

शिशु को बाहर निकालने में आपकी मदद के लिए सलाह

आपके शिशु को बाहर निकालने में मदद करने के लिए कुछ महत्वपूर्ण और सरल उपाय हैं:

  1. सख्त मलत्याग के समान जोर लगाना: अपने शरीर को आराम दें और अच्छी तरह से सांस लें। नीचे की ओर जोर लगाने के लिए ध्यान केंद्रित करें, भले ही इस प्रक्रिया के दौरान आप मूत्र या मल त्याग कर दें।
  2. ठोड़ी को छाती से स्पर्श करना: अपनी पीठ के सहारे होने पर, अपनी ठोड़ी को अपनी छाती की ओर झुकाने की कोशिश करें। इससे जोर लगाने पर ध्यान केंद्रित होता है ।
  3. स्थिति बदलना: यदि जोर लगाना पर्याप्त रूप से प्रभावी नहीं हो रहा है, तो विभिन्न स्थितियों को आजमाने से मदद मिल सकती है।
  4. आराम करना: धक्का देते समय घबराएं नहीं और शांत रहें।
  5. पुरजोर धक्का देना: जितना अधिक प्रभावी ढंग से आप धक्का देती हैं, उतनी अधिक ताकत आप इकट्ठा करेंगी, और उतनी जल्दी ही आपका शिशु बाहर आ सकेगा ।
  6. पर्याप्त रूप से आराम: अगले संकुचन का इंतजार करते समय आपको बस आराम करना चाहिए और खुद को तैयार करना चाहिए।
  7. खुद की सूझबूझ के साथ धक्का देना: आपसे बेहतर आगे बढ़ाने में कोई भी आपका मार्गदर्शन नहीं कर सकता। सिर्फ आप जानती हैं कि जोर लगाने का सबसे अच्छा समय क्या है।
  8. इस क्षण को जीना: अपने शिशु को पैदा होते हुए देखना आपको उत्तेजना के रस से ओत-प्रोत करते हुए आपको प्रेरित कर सकता है। आप एक दर्पण मांग सकती हैं। याद रखें कि शिशु का सिर क्षणिक रूप से प्रकट हो सकता है क्योंकि धक्का देना एक रुक-रुक कर होने वाला काम है।
  9. नीचे की ओर धक्का: अगर आप अच्छी तरह से ध्यान केंद्रित कर रही हैं और नीचे की ओर धक्का लगा रही हैं, तो आपको चेहरे की भयानक निस्तब्धता, सिर में परिपूर्णता या सीने में जकड़न का अनुभव नहीं होगा।
  10. चीखना: जोर लगाने के लिए बहुत शक्ति इस्तेमाल होती है और आप दुनिया को यह बता सकती हैं कि प्रसव में क्या दर्द होता है । चिल्लाने से आपको जोर लगाने में मदद मिलेगी।
  11. शिशु को स्पर्श करना: आप शिशु के बाहर की ओर निकलते हुए सिर को छुएं जिससे जोर लगाने के लिए आपको अंदाजा मिलेगा ।
  12. टॉयलेट का उपयोग: यदि आपने मूत्र त्याग नहीं किया है, तो जोर लगाने से पहले इसे कर लेना समझदारी है।
  13. सही तरह से श्वास लेना: आसान और सहजता के साथ सांस लें। इससे आपको बिना थकावट के लंबी अवधि के लिए जोर लगाने में मदद मिलती है।

क्या होगा अगर जोर लगाने के बाद भी, आपका शिशु बाहर नहीं आता

कभी-कभी ऐसा होता है कि पर्याप्त जोर लगाने के बावजूद शिशु को बाहर नहीं निकाला जा सकता। हालांकि आपने अपनी सारी ऊर्जा लगा दी, लेकिन शिशु बाहर नहीं निकल सका, इससे आपको थकान होगी। यह आपके बाद के जोर लगाने के प्रयासों को और कमजोर करेगा और प्रसव को और भी कठिन बना देगा।

इस अवस्था में आपके शिशु को सही स्थिति में लाने की आवश्यकता होती है। दो से तीन घंटे के जोर लगाने के प्रयासों के बाद, आपके डॉक्टर आपके जोर लगाने के दौरान उपकरणों का उपयोग करने का निर्णय ले सकते हैं । ऐसे में आमतौर पर फोरसेप्स और वैक्यूम का इस्तेमाल किया जाता है, लेकिन शिशु के दिखाई देने के बाद ही। जब आप जोर लगाती हैं तो डॉक्टर शिशु को सही ढंग से मार्ग देंगे, लेकिन शिशु को कभी बाहर नहीं खींचेंगे।

क्या हो अगर आप जोर लगाने के लिए प्रवृत्त ही न हों

पूरी तरह से विस्तारण होने के बाद भी, ऐसा हो सकता है कि एक गर्भस्थ महिला को जोर लगाने की इच्छा महसूस ही न हो। अपनी स्थिति या मुद्रा को बदलना जल्द से जल्द प्रसव करने के लिए सबसे आसान चीजों में से एक है, इससे जोर लगाने की प्रवृत्ति विकसित होगी । यदि आप लंबे समय से निश्चल अवस्था में थीं तो प्रयत्न करें और सीधी खडी हो जाएं और टब में बैठने, तेज चलने जैसी मुद्राएं करने का प्रयास करें । जन्म देने में सहायक गेंद (बर्थिंग बॉल) पर बैठने से कुछ मदद मिल सकती है। इससे आपको बहुत जल्दी जोर लगाने की इच्छा महसूस करने में मदद मिल सकती है।

यदि स्थितियों को बदलने और चलने के बाद भी, आप जोर लगाने के प्रवृत्त होने में विफल रहती हैं, तो अब करने के लिए और कुछ भी नहीं बचा है। यदि आप सहज महसूस कर रही हैं और शिशु सही ढंग से नीचे की ओर खिसक रहा है, तो आराम करने और शांत होने का प्रयास करें।

यदि चाहें तो आप थोड़ा नीचे की ओर जोर लगाने का प्रयास कर सकती हैं और देखें कि क्या यह मदद करता है। गर्भवती स्त्रियां कभी-कभी संकुचनों के दौरान जोर देने और शिशु को बाहर निकालने के लिए स्पष्ट रूप से प्रवृत्त नहीं होती हैं । एक छोटा सा जोर लगाने का प्रयास मदद कर सकता है और आप शीघ्र ही प्रसव कर सकती हैं।

त्वचा के फट जाने के जोखिम को कैसे कम करें

यह महत्वपूर्ण है कि गर्भवती स्त्रियों को मालूम हो कि त्वचा को नुकसान पहुँचाए बिना प्रसव के दौरान कैसे जोर लगाना है। प्रसव के लिए सही स्थिति प्राप्त करने के बाद, गर्भवती स्त्रियों में जननांग की त्वचा के फटने और प्रसव से संबंधित जननांग की चोटों के जोखिम को कम करने के लिए एक अच्छी देखभाल आवश्यक है।

  • मध्य गर्भावस्था के समय केगेल व्यायाम और दैनिक जननांग मालिश शुरू करें। ये प्रसव के तनाव को कम करने के लिए जननांग की मांसपेशियों को मजबूत करने में मदद कर सकते हैं। अंगों की सुरक्षा के लिए प्रसव के समय विभिन्न अन्य तकनीकों का उपयोग किया जा सकता है।
  • जब शिशु बाहर आता है, तो जननांग पर गर्म सिकाई की जा सकती है। इससे उस जगह को आराम मिलता है और दर्द और सूजन को कम करने में मदद मिलती है। उस हिस्से को चिकना करने में मदद करने के लिए जननांग ऊतकों को तेल से मालिश भी की जाती है।
  • अगर आपको पहले जननांग संबंधी समस्याएं मौजूद हैं, तो आपको अपने डॉक्टर को सूचित करना चाहिए।
  • कुछ मामलों में भगछेदन (एपिसोटोमी) की आवश्यकता हो सकती है। कहा जाता है कि त्वचा का फटना भगछेदन से बेहतर होता है क्योंकि वे केवल नरम ऊतकों को नुकसान पहुँचाते हैं और इसलिए तेजी से भर जाते हैं। भगछेदन में त्वचा और मांसपेशियों की परतें शामिल होती हैं जो बाद में निशान और मूत्र असंयम का कारण भी बन सकती हैं।

एपिसोटोमी की आवश्यकता कब होती है

एपिसोटोमी की आवश्यकता कब होती है

भगछेदन योनि पर चीरा लगाने को कहते हैं जो जन्म नलिका को बड़ा करने और प्रसव के दौरान शिशु के सिर को सुविधाजनक मार्ग देने के लिए योनि की पीछे की दीवार पर लगाया जाता है। पहले ये माना जाता था कि प्रत्येक प्रसव में भगछेदन अवश्य होना चाहिए। लगभग 70 प्रतिशत गर्भवती महिलाओं को शिशु को जन्म देते समय योनि के ऊतकों का एक प्राकृतिक तरह से फटने का अनुभव होता है।

निम्नलिखित स्थितियों में एपिसोटोमी की जाती है:

  • यूरेथ्रा और क्लिटॉरिस जैसे नाजुक भागों के ऊतक फटने पर ।
  • योनि नलिका के माध्यम से भ्रूण के तत्काल प्रसव का संकट होने पर ।
  • गैर-प्रगतिशील प्रसव: दूसरे चरण में अत्यधिक देरी होने पर ।

एपिसोटोमी के बारे में पहले से नहीं बताया जा सकता, लेकिन कुछ कारक हैं जो इसे रोकने में मदद कर सकते हैं, वे हैं:

  • संतुलित और पौष्टिक आहार।
  • प्रसव से पहले के चार हफ्ते तक सौम्य वजाइनल स्ट्रेचिंग।

गर्भावस्था और प्रसव दोनों प्राकृतिक प्रक्रियाएं हैं, आपका शरीर स्वयं ही इसके साथ समायोजित हो जाता है । शांत रहने, गलतियों से बचने, और शिशु के जन्म का अच्छा अनुभव होने के लिए आपको इससे जुड़ी सभी प्रक्रियाओं की जानकारी होनी चाहिए ।

यह भी पढ़ें:

गर्भावस्था के दौरान घरेलू काम – क्या करें और क्या न करें?
डिलीवरी के बाद शारीरिक सूजन