बड़े बच्चे (5-8 वर्ष)

बच्चों पर जंक फूड के 10 खतरनाक प्रभाव

हर माता-पिता के लिए अपने बच्चों के प्रति सबसे बड़ी जिम्मेदारियों में से एक है कि उन्हें स्वस्थ खाना खिलाना। यदि आपका बच्चा खाने में नखरे करता है, तो उसे स्वस्थ खाना खिलाना आपके लिए एक मुश्किल काम होगा और यदि वह लगातार नखरे करता है तो किसी न किसी दिन (जब आपका धैर्य खत्म हो जाएगा), तो आप जो वो चाहेगा उसे खाने के लिए दे देंगी, जैसे की जंक फूड! आपके घर के आसपास यदि फास्ट फूड कॉर्नर होंगे तो स्वस्थ आहार थोड़ा मुश्किल हो जाएगा। जंक फूड देखने में स्वादिष्ट और स्वाद में भी अच्छा होता है, जिसे आपका बच्चा बिलकुल मना नहीं कर सकता। लेकिन जितना अधिक आप उसकी मांगों के आगे झुकेंगी और उसे अपने तरीके से चलने देंगी, उतना ही हेल्थ पर असर पड़ेगा! आइए यह समझने की कोशिश करें कि आखिर जंक फूड में ऐसा क्या है जो बच्चों को आकर्षित करता है और यह लंबे समय में उनके स्वास्थ्य को कैसे प्रभावित करता है। बोनस: हमारे पास कुछ खास सुझाव भी हैं जो आपको अपने बच्चे को स्वस्थ खाना खाने के लिए मनाने में मदद करेंगे!

बच्चों को जंक फूड की ओर क्या आकर्षित करता है?

ज्यादातर समय, फास्ट-फूड को मजेदार और रोमांचक क्षणों का हिस्सा बनाया जाता है। शुरुआत में, यह वही है जो बच्चों को पूरी तरह से इसमें खो जाने के लिए आकर्षित करता है। कई सारे विज्ञापन, टेस्टी फास्ट फूड को दिखाने वाले बड़े-बड़े होर्डिंग, कई इवेंट्स जो फूड जॉइंट्स द्वारा आयोजित किए जाते हैं, आदि ये सभी चीजें बच्चे को उस जगह पर जाने के लिए एक्साइटेड करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हैं।

कई रेस्तरां में खिलौनों के साथ खाने का कॉम्बो बनाया जाता है, जिससे बच्चों को आकर्षित किया जा सके। यह ज्यादातर किसी ऐसे कार्टून करैक्टर पर आधारित होता है जो बच्चों के बीच लोकप्रिय होता है या एक प्रमोशन के रूप में आने वाली फिल्म से जुड़ा होता है। किसी प्रसिद्ध सेलिब्रिटी के साथ ऐड करके, ये रणनीतियां बड़ी संख्या में बच्चों को रेस्तरां में लाने और फास्ट फूड खाने के लिए आकर्षित करने में काम करती हैं।

खाने की कौन सी सामग्री इसे जंक बनाती है

बच्चों के लिए स्वस्थ आहार और जंक फूड की तुलना करते समय, फास्ट फूड में शायद ही कोई पोषण होता है, लेकिन कुछ विशेष तत्व होते हैं जो इसे जंक बना देते हैं।

1. अतिरिक्त चीनी

कई जंक फूड में आर्टिफिशियल रंग, चीनी और स्वाद मिलाया जाता है, जो उन्हें आकर्षक और स्वादिष्ट बनाता है। इसके अलावा, इन्हें आमतौर पर कार्बोनेटेड पीने के पदार्थों के साथ लिया जाता है जिनमें समान घटक होते हैं। ये पूरी तरह से मिलकर बड़ी मात्रा में अतिरिक्त चीनी बनाते हैं जो शरीर के लिए अच्छा साबित नहीं होता है। इन खाने की चीजों में शुगर के अलग-अलग नाम का उपयोग करते हैं जैसे एचसीएफएस, फ्रुक्टोज, ग्लूकोज आदि जिससे लोग इसे खरीदें।

2. अनहेल्दी फैट

अपने खाने को स्वादिष्ट बनाने के लिए, सभी खाने की चीजें जो फास्ट फूड रेस्तरां खिलाते हैं, जिनमें बर्गर, हॉट डॉग, सैंडविच आदि शामिल हैं, उनमें आमतौर पर चीज की कई परतें होती हैं। कुछ चीजों में मेयोनीज शामिल होता है या स्वाद के लिए अलग से डिप के रूप में दिया जाता है। उनमें से कई तेल में तले हुए होते हैं। ये सभी पहलू खाने में फैट की मात्रा को बढ़ाते हैं, जिनमें से ज्यादातर बच्चों के नियमित सेवन या अधिक सेवन के लिए यह सही नहीं हैं।

3. प्रोसेस्ड पदार्थ

फास्ट फूड में मुश्किल से ही कोई रेशेदार तत्व होते हैं और साथ ही जरूरी अन्य पोषक तत्व भी नहीं होते हैं,जो शरीर को एनर्जी देने के लिए जरूरी होते हैं। खाने में फाइबर की कमी के कारण बच्चे इनका अधिक मात्रा में सेवन करते हैं। सभी फास्ट फूड बिना किसी पोषण के बच्चे को पेट भरा हुआ महसूस कराते हैं। बेहतर होगा कि आप अपने बच्चे को फाइबर और प्रोटीन से भरपूर खाना खिलाएं।

4. फूड टॉपिंग

कई टॉपिंग जो अक्सर बर्गर और सलाद में होते हैं या उनके साथ आने वाले सॉस और डिप्स आदि में भरपूर मात्रा में मेयोनीज, केचप या अन्य फ्लेवर्स होते हैं। इन सभी सामग्रियों में बहुत सारा सोडियम, चीनी या तेल होता है, जिनका नियमित रूप से सेवन करना स्वास्थ्य के लिए अच्छा नहीं होता है।

बच्चों पर जंक फूड के बुरे प्रभाव

इन सभी चीजों के साथ इस तरह के जंक फूड का सेवन बच्चों के लिए काफी बुरा साबित होता है और इसके परिणाम अलग भी हो सकते हैं।

1. समझने में कमी आना

जहां आज के जमाने में हर जगह सबसे पहले और तेजी से पहुंचने का है और यह सब तभी हासिल किया जा सकता है जब आपका दिमाग खुद को विकसित करने के लिए सही पोषण ले रहा हो। जंक फूड केवल कुछ समय के लिए पेट भरने का काम करते हैं और समझदारी विकसित करने में मदद करने के लिए मुश्किल से कुछ ही पोषण देता है। जंक फूड खाने से बच्चों में आमतौर पर किसी काम में लगे रहने पर एकाग्रता की कमी होती है, चीजों को लंबे समय तक याद रखने में वे विफल होते हैं और आमतौर पर सीखने में उन्हें दिक्कत आती है।

2. उम्र के साथ दिल की बीमारी

चीज और अन्य फैट से भरपूर इंग्रीडिएंट्स का पर्याप्त भाग जंक फूड से अलग किया नहीं जा सकता है। ये शरीर में कोलेस्ट्रॉल को बढ़ाने में अहम भूमिका निभाते हैं, जो आर्टरीज की लाइन पर जमा होने लगता है। जंक फूड को रोज खाने से जीवन में आगे चलकर दिल से जुड़ी बीमारियां उत्पन्न हो सकती हैं।

3. विकास में रुकावट

एक बढ़ता बच्चा यानी उसके शरीर में वृद्धि और विकास होना जिसके साथ दांतों और हड्डी की संरचना को अपनी पूर्ण परिपक्वता तक पहुंचने में कुछ समय लगता है। जंक फूड खाने से शरीर के अलग-अलग जगह में फैट जमा होने लगता है, विशेष रूप से कूल्हों और जांघों में, साथ ही अतिरिक्त चीनी दांतों के संपर्क में आ जाती है। यह शुरुआत में हड्डियों से संबंधित दिक्कतों को पैदा करता है और साथ ही दांतों की सड़न यानी कैविटी का कारण भी बनता है।

4. पाचन संबंधी समस्याएं

जंक फूड मुख्य रूप से पदार्थ में प्रोसेस्ड फूड की मौजूदगी के कारण जंक कहलाता है, जिसमें कोई भी आवश्यक पोषक तत्व, मुख्य रूप से फाइबर की कमी होती है। इससे इसे पचाना मुश्किल हो जाता है और साथ ही सही तरीके से मल त्यागने में भी दिक्कतें आती है। ये सभी चीजें कब्ज की शुरुआत या आंतों से जुड़े किसी अन्य विकार के लिए भी जिम्मेदार होती हैं।

5. मोटापे का खतरा

जंक फूड का बेहतरीन और टेस्टी होना इसमें इस्तेमाल होने वाले फैट से भरपूर पदार्थों की मौजूदगी के कारण होता है। ये फैट शरीर में तो जमा होता है, लेकिन जल्दी एनर्जी नहीं देता है, जिससे बच्चे सुस्त हो जाते हैं। जीवन के शुरुआती सालों में शरीर में सुस्ती एक बच्चे के मोटे होने और बाद में शरीर की छवि के मुद्दों का कारण बनने की नींव रखती है।

6. डायबिटीज का खतरा

जंक फूड और उनके साथ आने वाली ड्रिंक्स में शक्कर की मात्रा सबसे ज्यादा होती है। इसके साथ इसलिए कोला और सोडा का सेवन करने से शरीर में बहुत ज्यादा मात्रा में चीनी पहुंचती है। यह सीधे लिवर को प्रभावित करती है, जिससे इंसुलिन सिक्रीशन की समस्या होती है और यहां तक ​​कि जीवन में बहुत जल्दी टाइप 2 डायबिटीज भी हो सकता है।

7. किडनी की समस्या

फैट और कोलेस्ट्रॉल के बढ़ने से हृदय पर दबाव पड़ता है, जिससे ब्लड प्रेशर भी बढ़ जाता है। इसके परिणामस्वरूप किडनी के काम पर प्रभाव पड़ता है, जिसकी वजह से सोडियम के बढ़े हुए स्तर के कारण शरीर में पानी की कमी होती है। डॉक्टर किडनी के ठीक से काम न कर पाने की स्थिति में जांच करने के लिए ऐसे संकेतों की तलाश करते हैं।

8. कम ईक्यू

चीनी और कई अन्य स्वाद देने वाले एजेंटों की मौजूदगी एक छोटे बच्चे में पनपने वाले हार्मोन को प्रभावित करने लगती है। जिसकी वजह से बच्चों में अत्यधिक मूड स्विंग्स देखे जाते हैं और कभी-कभी यह नखरे या डिप्रेशन में भी बदल जाते हैं।

9. थकान का खतरा

जंक फूड खाने के तुरंत बाद पेट भरा हुआ महसूस होना पेट को तो संतुष्ट करता है लेकिन शरीर को प्रोटीन या कार्बोहाइड्रेट के किसी भी रूप में एनर्जी का कोई स्रोत नहीं मिलता है। इससे बच्चे हर समय थके और सुस्त रहते हैं।

10. कमजोर सर्कुलेशन

जंक फूड में नमक की अधिक मात्रा मौजूद होती है, जो ब्लड प्रेशर को बढ़ाता है लेकिन अच्छे तरीके से नहीं। नमक में सोडियम होता है जिसकी वजह से जीवन में बाद में ब्लड प्रेशर की समस्या होती है क्योंकि यह सर्कुलेशन सिस्टम को ठीक से विकसित नहीं कर पाता है।

बच्चे की जंक फूड खाने की आदतों के बारे में कब चिंता करें

माता-पिता होने के नाते आप जानती हैं कि जंक फूड बच्चों या किसी के लिए भी अच्छा नहीं होता है। लेकिन बच्चों को इसे न खाने के लिए मनाना मुश्किल है। हर मोहल्ले में बर्गर और पिज्जा के आउटलेट मौजूद होते हैं और होम डिलीवरी का सरल विकल्प हमारे संकल्प को कमजोर बनाता है और हम हर हफ्ते एक या दो बार अपने बच्चों की मांगों को पूरा करते हैं। जबकि कभी-कभार जंक फूड का सेवन ठीक है, लेकिन अगर वह एक पैटर्न बनना शुरू हो जाता है या उस पॉइंट तक पहुंच जाता है जहां आपका बच्चा जंक फूड के अलावा कुछ भी खाने से मना कर देता है, तो यह एक गंभीर समस्या है।

अपने बच्चे को स्वस्थ भोजन खाने के लिए कैसे प्रोत्साहित करें

जंक फूड खाने के बच्चे उत्साहित और इंट्रेस्टेड रहते हैं। यही वह मूल समस्या है जिसे टारगेट करने की आवश्यकता है और इसे स्वस्थ घर के बने भोजन का उपयोग करके भी सुलझाया जा सकता है।

1. घर पर हैप्पी मील्स लें

ऐसे में इस बात का ख्याल रखें कि आपका परिवार दोपहर के खाने या रात के खाने का एक साथ में इस तरह से मजा लें, जहां खाने पर ध्यान दिया जाता है। अगर आपके घर में कोई पार्टी या कार्यक्रम है तो जंक फूड लाने से बचें।

2. एक योजना का पालन करें

रेफ्रिजरेटर या किसी जगह पर दिन या हफ्ते का मेन्यू चिपका दें। इससे आपके बच्चे को पहले से पता चल जाएगा कि उसको क्या खाने में मिलने वाला है।

3. टेलीविजन देखने का समय कम करें

टेलीविजन को केवल उन पलों तक सीमित रखें, जिनका वे आनंद लेते हैं। विज्ञापनों से पूरी तरह बचने के लिए रिकॉर्ड किए गए एपिसोड या इंटरनेट स्ट्रीमिंग का विकल्प चुनें।

4. ‘स्वस्थ’ को अपनी आदत बनाएं

आपके आसपास का पर्यावरण जितना स्वस्थ होगा, जंक फूड खाने की इच्छा उतनी ही कम होगी। अपने फ्रिज में भी हेल्दी खाना ही स्टोर करें।

5. ग्रोसरी में कोई फास्ट फूड न लाएं

ग्रोसरी की चीजों को ‘जरूरत’ और फास्ट फूड को ‘लक्जरी’ के रूप में रखें। जंक फूड खाने की आदत तुरंत कम हो जाएगी।

6. लेक्चर देने से बचें

बच्चों को लगातार हेल्दी खाना खाने के लिए कहते रहने से उनके दिमाग में यह बात बिलकुल भी नापसंद चीज की तरह स्टोर हो जाएगी। इसके बजाय उन्हें स्वस्थ और स्वादिष्ट विकल्पों के साथ खाना खिलाएं।

7. साथ में खाना बनाएं

अपने बच्चे को खाना पकाने की भावना का मजा लेने दें। वह भावनात्मक रूप से भी हेल्दी खाने से अधिक जुड़ेगा।

8. बागवानी शुरू करें

जड़ों से शुरू करें और अपने बच्चे को घर के गार्डन के एक छोटे से हिस्से में अपनी सब्जियां उगाने के लिए दें। अपने बच्चे में गर्व की भावना पैदा करने के लिए इसका उपयोग करके एक साइड डिश बनाएं।

जंक फूड के हेल्दी विकल्प

यहां आपके बच्चे के पसंदीदा जंक फूड के कुछ हेल्दी विकल्प दिए गए हैं जिन्हें आप घर पर बना सकती हैं।

1. घर की बनी जेली

एक स्वस्थ और स्वादिष्ट विकल्प के साथ बच्चे के स्वीट टेस्ट बड को पूरा करें। होममेड जेली बनाना सीखें और बच्चे को अपने साथ इस एक्टिविटी में शामिल करें।

2. ब्राउन ब्रेड स्नैक्स

शाम के लिए एक बढ़िया नाश्ता बनाने के लिए इसे कॉर्न के साथ मिलाएं।

3. ग्रिल्ड फिश स्टिक्स

बर्गर को किनारे रख दें और अपने बच्चे की पसंदीदा फिश को घर पर ही ग्रिल करें।

4. ग्रेनोला बार

इससे न केवल पेट भरता है बल्कि यह पोषण और एनर्जी का भी अच्छा स्रोत है।

5. घर पर बने आलू के चिप्स

बाहर से चिप्स खरीदने के बजाय, आलू के चिप्स को स्वस्थ तेल में घर पर बनाएं ताकि वे स्वादिष्ट और आपके बच्चे के लिए सही हों।

बच्चों को फास्ट फूड की लत आसानी से लग सकती है और फिर इससे छुटकारा पाना एक कठिन समस्या बन जाती है। अपने अंदर स्वस्थ खानपान की आदतों को शामिल करके इस समस्या को शुरू से ही जड़ से खत्म करने के उपाय करें और अपने बच्चे को अन्य बच्चों के लिए भी एक आदर्श बनने दें।

यह भी पढ़ें:

बच्चों के लिए कैल्शियम युक्त खाद्य पदार्थ
बच्चों के लिए विटामिन ए – फायदे और खाद्य पदार्थ
बच्चों में खाने-पीने की अच्छी आदतें बनाने के बेहतरीन तरीके

समर नक़वी

Recent Posts

क्या एक्सरसाइज करने से फर्टिलिटी बढ़ती है

जब भी कोई कपल प्रेगनेंसी की प्लानिंग करके अपना परिवार पूरा करना चाहता है, तो…

3 days ago

रक्षाबंधन पर भाई-बहन के लिए स्पेशल कोट्स और मैसेजस

हमेशा टॉम एंड जेरी की तरह लड़ने व एक दूसरे को चिढ़ाने वाले भाई-बहन का…

5 days ago

रक्षाबंधन विशेष: बच्चों के लिए खास पहनावे

हम जानते हैं कि अपने खूबसूरत और प्यारे बच्चों को तरह-तरह के कपड़ों में सजाना…

6 days ago

लजीज पकवान जो रक्षाबंधन को बना सकते हैं और भी खास

त्यौहारों का मौसम है और इस मौसम में परिवार की खुशियाँ अक्सर दोगुनी हो जाया…

6 days ago

बहना ने भाई की कलाई पर प्यार बांधा है

बहन और भाई के बीच प्यार का सबसे बड़ा त्यौहार रक्षाबंधन इस साल 11 अगस्त…

6 days ago

अपने भाई या बहन को डेडिकेट करने के लिए 20 रक्षाबंधन स्पेशल गाने

चाहे भाई-बहन सगे हों या कजिन, राखी उनके बीच की बॉन्डिंग और प्यार को दर्शाने…

6 days ago