छोटे बच्चे से बात करने के 10 बेस्ट तरीके

छोटे बच्चे से बात करने के 10 बेस्ट तरीके

कोई भी बच्चा इस दुनिया में आने के बाद जो काम सबसे पहले करता है, वह होता है अपना मुँह खोलना और जोर से चिल्ला कर रोना। ऐसा करने से उसकी सांसो की शुरुआत होती है और फिर बच्चे अलग-अलग तरीकों से बर्ताव करने लगते हैं। कुछ बच्चे काफी एक्टिव होते हैं और हमेशा ही रोते रहते हैं या गले से गरगर की आवाजें निकालते रहते हैं। वहीं कुछ बच्चे आमतौर पर अधिकतर समय चुप रहते हैं और केवल तभी रोते हैं, जब उन्हें किसी चीज की जरूरत होती है। जब छोटे बच्चों के साथ बात करने की बात आती है, तो पेरेंट्स को यह पता होना चाहिए, कि बात करने का तरीका शायद ही मायने रखता है। अगर कुछ जरूरी है, तो वो है कम्युनिकेशन को बनाए रखना और आमतौर पर जितना ज्यादा हो सके, उतना बातचीत करना। यही बच्चे के विकास का जरूरी हिस्सा है।

बच्चे से बात करना जरूरी क्यों है? 

स्टडीज से पता चला है, कि अलग-अलग प्रकार की आवाजों, बात करने के तरीकों और शब्दों से बच्चों का जितना अधिक सामना होता है, वे उतना ही अधिक उनके बीच के अंतर को समझ पाते हैं और अपनी भाषा तैयार करने के लिए जरूरी नींव का विकास कर पाते हैं। यह भी देखा गया है, कि जो बच्चे जॉइंट फैमिली में बड़े होते हैं और जहाँ बहुत से लोग होते हैं और हमेशा कई तरह की बातचीत होती रहती है, ऐसे बच्चे जल्दी बोलना सीख लेते हैं और नए शब्दों को आसानी से याद कर पाते हैं। 

छोटे बच्चों में स्पीच डेवलपमेंट को बढ़ाने के लिए उनके साथ कम्युनिकेट करने के तरीके

हालांकि बच्चे में बोलचाल के विकास की प्रक्रिया को शुरू करने के लिए उसके साथ प्यार से आम बातचीत करना एक अच्छा तरीका है, ऐसे पलों को और अधिक इंटरएक्टिव बनाने के लिए ऐसे कुछ तरीके हैं, जिन्हें आप अपना सकते हैं। ये तकनीक बच्चों में भाषा के जल्द विकास के लिए साइंटिफिक थ्योरी का इस्तेमाल भी करती हैं। 

1. उनके रोने पर ध्यान देना

यह उन मुख्य मुद्दों में से एक है, जिसके बारे में पेरेंट्स के विचार मेल नहीं खाते हैं। कुछ पेरेंट्स मानते हैं, कि बच्चे के रोने पर तुरंत उसकी मदद करने से वह पेरेंट्स की मौजूदगी पर आश्रित बन सकता है, इसलिए उन्हें थोड़ी देर के लिए रोने देना चाहिए। इसमें थोड़ी सच्चाई हो सकती है, लेकिन यह तब काम करता है, जब बच्चे थोड़े बड़े हो चुके होते हैं। शुरुआती चरण में शिशु केवल रोने के माध्यम से ही उसकी जरूरतों और परेशानियों के लिए कम्युनिकेट कर पाता है, इसलिए बच्चे के रोने पर उस पर तुरंत ध्यान दें, ताकि वह अपने आप को सुरक्षित महसूस कर सके और उसे लगे कि कम्युनिकेशन का यह तरीका काम कर रहा है। 

2. ऊंची आवाज में बात करना

बच्चे के साथ बातचीत करना बहुत जरूरी है। साथ ही सबसे बेहतर यही है, कि उसके साथ थोड़ी ऊंची और बहुत ही प्यार और उत्साह भरी आवाज में बात की जाए। लोग अक्सर बच्चों से बच्चों जैसी आवाज में बात करते हैं, जिसके पीछे एक कारण है और यह केवल इसलिए है, क्योंकि बच्चे सामान्य तान और आवाज की तुलना में ऐसी आवाजों पर अच्छी तरह से प्रतिक्रिया देते हैं। थोड़ी ऊंची आवाज में और शब्दों और अक्षरों को लंबा खींचते हुए धीमी गति से  बात करने से बच्चे भाषा के बेसिक को अच्छी तरह से याद कर रख पाते हैं। 

3. कुछ शब्दों को बार-बार दोहराना

चाहे बच्चे हों या बड़े किसी भी इंसान के लिए कोई भी नई चीज सीखने या याद रखने के लिए दोहराना एक अच्छा तरीका है। बच्चों का मस्तिष्क अभी भी विकसित हो रहा होता है, लेकिन वे बातचीत में भी एक्टिव रूप से शामिल होते हैं और इससे उन्हें काफी जानकारी भी मिलती है। बच्चे से बात करते समय कुछ शब्दों को बार-बार दोहराने से वे शब्द दिमाग में प्राथमिक जगह बनाने लगते हैं और उन्हें जल्द याद रखने के लिए कोशिशें होने लगती हैं। ये सिंपल शब्द हो सकते हैं, जैसे – दूदू और मामा, जो कि बातचीत में शामिल होते हैं। इस बात का ध्यान रखें, कि शब्दों के साथ आप संबंधित वस्तु के बारे में भी बताएं। 

4. ब्लॉक्स में बात करें

बच्चे इतने समझदार नहीं होते हैं, कि पूरे वाक्य और उसमें इस्तेमाल किए गए शब्दों और ग्रामर को समझ सकें। यह भाषा काफी एडवांस होती है, खासकर छोटे बच्चों के लिए। इनकी जगह पर छोटे और सिंपल शब्दों के ऊपर फोकस करें और उसके साथ कोई एक्शन भी शामिल करें। उदाहरण के लिए अगर बच्चे को पानी दे रहे हैं तो उसके साथ आप कह सकते हैं ‘पापा’ या कोई और शब्द बार-बार दोहरा सकते हैं। धीरे धीरे जब बच्चा अधिक समझदार होने लगता है और बड़ा होने लगता है, वह एक्शन के साथ जुड़े हुए शब्द को समझ पाता है और वह अपनी जरूरतों को बेहतर तरीके से आप को समझाने में सक्षम हो पाता है। 

5. लगातार बातचीत को बढ़ावा दें

पेरेंट्स बनना मुश्किल होता है और घर की बाकी की एक्टिविटीज के साथ, लगातार बच्चे के इर्द-गिर्द घूमना, दिन और रात उसका रोना सुनना, आपको बहुत थका सकता है और आप थोड़ी देर की शांति की जरूरत महसूस कर सकते हैं। यह जितना जरूरी है, उतना ही घर में बातचीत के वातावरण को बनाए रखना भी जरूरी है। जब वह खेलने के मूड में हो, तो उसके साथ केवल चुपचाप बैठे नहीं। जब बार-बार ऐसा होने लगता है, तो बच्चे को ऐसा लगने लगता है, कि यह जीने का एक सामान्य तरीका है और आगे चलकर वह बातचीत करने में मुश्किल महसूस करने लगता है। अलग-अलग तरह के शब्दों, तान, आवाजों के साथ बातचीत करते रहें और आपका बच्चा उससे खुश होता रहेगा। 

6. बच्चे की एक्टिविटीज के साथ शब्दों को जोड़ें

आप क्या कर रहे हैं, इसके साथ इसे बताने के लिए शब्दों का इस्तेमाल अच्छा है। लेकिन इसके साथ ही बच्चा जो कर रहा है या अनुभव कर रहा है, उसके बारे में बताने के लिए भी शब्दों के इस्तेमाल की शुरुआत करें। चूंकि इस मामले में बच्चा ही विषय होता है, इसलिए वह तुरंत इसके साथ जुड़ पाता है। अक्सर ही बच्चा डकार लेता है या पॉटी करता है। ऐसे में जब आप उसका डायपर साफ कर रहे हों, तो इस सफाई को ‘पूपू’ कह कर बुलाएं, क्योंकि बच्चे को पहले से ही पता होता है, कि उसने पॉटी की है। अगर आप गर्म या ठंडे कपड़ों का इस्तेमाल कर रहे हैं तो तापमान के बारे में बताने के लिए भी अलग-अलग शब्दों का इस्तेमाल करें। बच्चा उसके अर्थ को नहीं समझ पाएगा लेकिन वह शब्द के साथ जुड़े हुए एहसास को समझ पाएगा।

7. कहानियों और गानों को शामिल करें

कम्युनिकेशन का मतलब केवल शब्द, वाक्य या डायलॉग नहीं होते हैं। कहानियां बताना या गाने सुनाना बातचीत का एक गहरा पहलू होते हैं, जो कि एक भावनात्मक जुड़ाव को पैदा करते हैं। बच्चे संगीत पर अच्छी तरह से रिएक्शन देते हैं और ये धुन शब्दों के साथ जुड़कर बहुत प्रभावी बन जाते हैं। अलग-अलग तरह की आवाजों और साउंड इफेक्ट के इस्तेमाल से सुनाई गई कहानियां बच्चों के लिए काफी मनोरंजक भी हो सकती हैं। 

8. किताबों और विजुअल इस्तेमाल

जैसे-जैसे आपका बच्चा बड़ा होता जाता है, वह पहले की तुलना में चीजों को बेहतर तरीके से समझ पाता है। बच्चे से बात करते समय रंग-बिरंगी तस्वीरों और कहानियों की किताबों का इस्तेमाल करके, इसका अच्छा फायदा उठाया जा सकता है। आपके द्वारा इस्तेमाल किए गए शब्दों और आपके द्वारा निकाली गई आवाजों और तस्वीरों के बीच उसके दिमाग को संबंध स्थापित करने दें। 

9. गैर शाब्दिक संकेत

बच्चों को नॉन वर्बल यानी गैर शाब्दिक संकेतों के साथ जोडें, शाब्दिक जानकारी को समझने में सक्षम होना भी जरूरी है। एक एक्सप्रेसिव चेहरे के साथ इसे पाया जा सकता है, जो कि आपके बच्चे के साथ चल रही आपकी बातचीत की भावना को दर्शाता हो। बच्चा जो कर रहा है, अगर आप उसके साथ खुश नहीं हैं, तो आँखों को बड़ा करके और चेहरे को गुस्से वाला दिखा कर आप उसे बता सकते हैं, कि आप खुश नहीं हैं। खूब मुस्कुराना और खुशी से हंसना भी यही सिखाता है। 

10. लोगों के बीच अंतर समझना

आपका बच्चा जैसे-जैसे बड़ा होता जाता है, लोगों को पहचानने लगता है और हर व्यक्ति के लिए कुछ खास शब्दों का इस्तेमाल करने लगता है। बच्चे की याददाश्त और बोलचाल में विकास को तेजी से बढ़ाने के सबसे आसान तरीकों में से यह एक तरीका है। बहुत जल्द ही वह उन लोगों के नाम पुकारने लगेगा, जिन्हें वह देखना चाहता है और उन्हें देखने पर उनके नाम ले सकता है।

शुरुआती जीवन में और ग्रोथ के दौरान भी अपने न्यूबॉर्न बच्चे से बात करना बहुत जरूरी है। कभी-कभी यह बातचीत बार-बार दोहराई जाने वाली और व्यर्थ लग सकती है। लेकिन ऐसा केवल हमारे वयस्क दिमाग के साथ ही होता है। अपने बच्चे के ऊपर पड़ने वाले इसके प्रभाव को याद करें और और इस एक्टिविटी में अपने आप को पूरी तरह से डुबो दें और बच्चे को अपना सबसे बेहतर स्वरूप देखने दें। 

यह भी पढ़ें: 

बच्चों में भाषा का विकास
बच्चे का पहला शब्द – डेवलपमेंटल माइलस्टोन
बच्चे कब बोलना शुरू करते हैं – डेवलपमेंटल माइलस्टोन