डायपर रैश – लक्षण, कारण और उपचार

डायपर रैश - लक्षण, कारण और उपचार

Last Updated On

एक बच्चे की त्वचा संवेदनशील होती है। यदि आपको बच्चे के डायपर की जगह की त्वचा लाल सी दिखाई देती हैं, या रैश दिखाई देती हैं, तो आपक बच्चा डायपर रैश से पीड़ित हो सकता है। बच्चों को डायपर रैश होना बहुत आम है, और अधिकांश माता-पिता को अपने बच्चे के पहले वर्ष में इसका ध्यान रखना पड़ता है। डायपर रैश से प्रभावित त्वचा कुछ घमोरियों के साथ थोड़ी सूजी हुई दिख सकती है, और साथ ही बड़े लाल फोड़ें भी हो सकते हैं (आमतौर पर जांघों और पेट पर) ।

डायपर रैश क्या होता है?

जब आप अपने बच्चे को डायपर पहनाना शुरू करती हैं, तब उन्हें डायपर रैश हो सकते हैं। यह डायपर के नीचे की त्वचा को प्रभावित करता है। बेबी डायपर रैश या डायपर डर्मेटाइटिस होना बहुत आम बात है जो आपके बच्चे की नाज़ुक त्वचा को लाल, और सूजा हुआ बनाता है।

यह आम तौर पर 2 वर्ष से कम उम्र के शिशुओं को प्रभावित करता है। यदि आपके बच्चे का नितम्ब लाल दिखाई देता है और इस पर रैश हैं, तो संभावना है कि आपका बच्चा यीस्ट डायपर रैश से पीड़ित है। यीस्ट संक्रमण के कारण इस तरह के डायपर रैश होते हैं। यीस्ट डायपर रैश से प्रभावित त्वचा छूने पर गर्म महसूस होता है।

डायपर रैश के प्रकार

डायपर रैश विभिन्न प्रकार के हो सकते हैं। उनमें से कुछ आम तौर पर होने वाले रैश नीचे दिए गए हैं:

1. कॉन्टेक्ट डायपर रैश

यह बच्चे को लंबे समय तक गीले डायपर में रखने के कारण होते हैं। आम तौर पर इस तरह के रैश गंभीर नहीं होते हैं।

2. यीस्ट रैश

यह रैश अक्सर त्वचा की मोड़ पर दिखाई देते हैं।

3. एलर्जी

एलर्जी के कारण भी डायपर की जगह पर रैश हो सकते हैं।

4. एसिडिटी के कारण होने वाले रैश

यदि आपके बच्चे का मल बहुत अम्लीय है, तो भी रैश हो सकते हैं।

डायपर रैश के लक्षण

डायपर रैश कई कारणों से हो सकते हैं, जैसे कि बच्चे के मूत्र या उसे नया खाद्य पदार्थ देने की वजह से। हालांकि यह समस्या ज़्यादा समय तक नहीं रहती, त्वचा के जलन के कारण कुछ दिनों तक बच्चा बेचैन रह सकता है। डायपर रैश को पहचानना और उसका उपचारात्मक उपाय करना आपके बच्चे को आराम पहुँचाने के लिए बहुत मददगार साबित हो सकता है। डायपर पहनने वाले शिशुओं में निम्नलिखित लक्षणों पर ध्यान दें।

यीस्ट डायपर रैश के लक्षण नीचे दिए गए हैं:

  • बच्चे के नितम्ब पर रैश : यदि आपको अपने बच्चे के नितम्ब पर गुलाबी या लाल धब्बे दिखते हैं, तो यह डायपर रैश का संकेत हो सकता है।

  • बच्चे के नितम्ब और जांघों पर फोड़ें : बच्चे के नितम्ब और जांघों पर दिखाई देने वाले फोड़ें डायपर रैश हो सकते हैं। यह फोड़ें लाल और एक तरल पदार्थ से भरे हो सकते हैं।

  • त्वचा पर खुरदरे धब्बे : डायपर के नीचे की त्वचा पर खुरदरे धब्बे या त्वचा का छिलना डायपर रैश का संकेत हो सकता है।

  • रक्तस्त्राव : यदि शिशु को गंभीर डायपर रैश हो तो उसके नितम्ब की त्वचा से खून आ सकता है।

  • रूखापन : बच्चे के नितम्ब की रूखी त्वचा डायपर रैश का संकेत हो सकती है।

  • तापमान में वृद्धि : यदि डायपर के नीचे की त्वचा शरीर के बाकी हिस्सों की तुलना में गर्म है, तो यह डायपर रैश का संकेत हो सकता है।

  • रोने वाला बच्चा : यदि आपका बच्चा डायपर की जगह की सफाई करते समय रोता है, तो यह डायपर रैश के कारण हो सकता है।

यदि डायपर रैश का समय पर इलाज नहीं किया गया, तो इससे बुखार हो सकता है और रैश आपके बच्चे की त्वचा के अन्य भागों में भी फैल सकते हैं।

डायपर रैश के लक्षण

शिशुओं को डायपर रैश कैसे होते हैं?

डायपर रैश के कई कारण हैं। संक्रमण का पहला कारण आपके बच्चे का मूत्र है और साथ ही अन्य निम्नलिखित कारण भी हैं:

1. नमी

सबसे अच्छे डायपर भी त्वचा पर कुछ नमी छोड़ देते हैं। जब यह नमी आपके बच्चे के मल में मौजूद जीवाणु के साथ मिल जाती है, तो मल का विभाजन अमोनिया में हो जाता है। अमोनिया इन रैश का एक प्रमुख कारण है। यही कारण है कि दस्त से पीड़ित बच्चों को डायपर रैश होने का ख़तरा ज़्यादा होता है। बहुत लंबे समय तक गंदे या गीले डायपर में रहने वाले शिशुओं को भी रैश होने की संभावना होती है।

2. टाइट डायपर

वे पसीने का कारण बन सकते हैं, और आपके बच्चे के शरीर में गर्मी पैदा कर सकते हैं। परिणामस्वरूप, आपके बच्चे की त्वचा की पी.एच. की मात्रा बढ़ती है, और इससे त्वचा अधिक संवेदनशील हो जाती है, और जिससे रैश हो सकते हैं। डायपर के साथ त्वचा में घिसाव होना इसे और ख़राब बना सकता है।

3. रासायनिक संवेदनशीलता और घिसाव

डायपर से बच्चे की कोमल त्वचा घिस जाने से रैश हो सकते हैं। साथ ही यदि, आपके शिशु की त्वचा रसायनों के प्रति संवेदनशील है, जैसे कि कुछ डिस्पोजेबल डायपरों में सुगंध के लिए इस्तेमाल किए जाने वाले रसायन, तो रैश होने की संभावना और ज़्यादा बढ़ जाती है। कपड़े के डायपर में कपड़े धोने के डिटर्जेंट के अवशेष से भी डायपर रैश हो सकता है। कुछ बेबी वाइप्स, बेबी पाउडर और अन्य उत्पादों में मौजूद रसायन से भी रैश होने की संभावना रहती है।

4. नए खाद्य पदार्थ

यदि आपने अपने बच्चे को नए खाद्य पदार्थ देना शुरू किया है या उसने ठोस पदार्थ खाना शुरू किए है, तो इससे भी डायपर रैश हो सकते हैं। आहार में परिवर्तन लाने से आपके बच्चे के मल की संरचना भी बदल जाती है। कुछ फलों और फलों के रस में मौजूद एसिड, रैश का कारण बन सकता है। आपके बच्चे के खाने की आदतों में बदलाव के कारण, उसकी शौच करने की आवृत्ति बढ़ सकती है, जिससे रैश हो सकते हैं। यदि आप अभी भी अपने बच्चे को स्तनपान करा रही हैं, तो आपके द्वारा खाए गए किसी पदार्थ के कारण भी रैश हो सकते हैं।

5. यीस्ट या जीवाणु संक्रमण

डायपर के नीचे की त्वचा गर्म और नम होती है, जो की जीवाणु और यीस्ट के बढ़ने के लिए एकदम उपयुक्त वातावरण होता है। बच्चे की त्वचा के सिलवटों में जीवाणु और यीस्ट आसानी से पनप सकते हैं।

6. एंटीबायोटिक दवाईयाँ

क्या आपका बच्चा एंटीबायोटिक दवाईयाँ ले रहा है? या क्या आप एंटीबायोटिक दवाईयाँ ले रही हैं, और अपने बच्चे को स्तनपान करा रही हैं? कभीकभी, एंटीबायोटिक दवाईयाँ स्वस्थ जीवाणुओं को मारते हैं, जो हानिकारक जीवाणुओं से लड़ते हैं, जिससे यीस्ट संक्रमण हो सकता है।

परीक्षा और निरीक्षण

डायपर रैश का निदान आपके बच्चे के रैश की शारीरिक जाँच और उसके चिकित्साइतिहास पर आधारित है। ज़्यादातर मामलों में लैब टेस्ट की आवश्यकता नहीं होती है। परन्तु, यदि डॉक्टर को लगता है कि एलर्जन से होने वाली एलर्जी के कारण रैश हुए हैं, तो एलर्जन क्या है, यह जानने के लिए वह त्वचा का परिक्षण कर सकते है

शिशुओं में डायपर रैश के लिए उपचार और उसकी दवा

उपचार के लिए प्रक्रिया का चयन, रैश की गंभीरता पर निर्भर करता है। यदि रैश कम हैं, तो आप उस जगह को साफ और सूखा रखकर, रैश का इलाज कर सकती हैं। सुनिश्चित करें कि आप त्वचा को रगड़ने के बजाय उसे सिर्फ़ हल्के से पोछे , क्योंकि रगड़ने से समस्या और बढ़ सकती है।

यदि समस्या ज़्यादा बढ़ जाए तो डॉक्टर डायपर रैश क्रीम का उपयोग करने की सलाह दे सकते है। स्थानीय दवाख़ाना में डायपर रैश के लिए कई मलहम उपलब्ध होते हैं और वह संक्रमण को ठीक करने में प्रभावी होते हैं। सुनिश्चित करें की आप डॉक्टर द्वारा निर्धारित मलहम का ही इस्तेमाल कर रहे हैं। यदि रैश एलर्जी के कारण हुए हैं, तो त्वचा परीक्षण करने के बाद डॉक्टर एंटीएलर्जी दवाईयाँ लेने की सलाह दे सकते है।

डायपर रैश कैसे रोके ?

डायपर रैश को टालने के कुछ तरीके नीचे दिए गए हैं :

  • सूखापन बनाए रखें: डायपर रैश से बचने के लिए अपने बच्चे के डायपर की जगह को सूखा रखना महत्वपूर्ण है।

  • स्वच्छता बनाए रखें: सुनिश्चित करें कि आपके बच्चे की त्वचा लंबे समय तक मल और मूत्र के संपर्क में नहीं रहे । आवश्यकता पड़ने पर डायपर बदलें और बारबार देखें, कि कहीं वह गन्दा या गीला तो नहीं हुआ है। रैश से बचने के लिए आपको रात को उठकर बच्चे का डायपर बदलना पड़ सकता है। एक दिन में 8 बार डायपर बदलना काफ़ी आम बात है।

  • सही तरीके से साफ़ करें: अपने बच्चे के डायपर की जगह को साफ़ करने के लिए गरम पानी का उपयोग करें, और सफाई के बाद, वह जगह पोंछने के लिए एक मुलायम कपड़े का उपयोग करें।यदि डायपर गंदा हुआ हो, तो ही किसी बच्चों के लिए बने साबुन का इस्तेमाल करें। यदि आपके बच्चे को रैश है तो बेबी वाइप्स का इस्तेमाल न करें। कुछ वाइप्स में प्रोपलीन ग्लाइकोल होता है, जो एक अल्कोहल है, जिससे आपके बच्चे की त्वचा जल सकती है और परिणामस्वरूप संक्रमण फैल सकता है।डायपर रैश कैसे रोके

  • जितना हो सके डायपर का इस्तेमाल न करें: अपने बच्चे को थोड़ी देर के लिए बगैर डायपर के रहने दे ताकि उसके अंगों पर हवा लग सके।

  • सही डायपर चुनें: ऐसे डायपर का उपयोग करें जिसकी अवशोषण करने की क्षमता सबसे अधिक हो।

  • धीरेधीरे खाने में ठोस पदार्थ देना शुरू करें: एक समय पर एक ही खाद्य पदार्थ दें और दूसरे किस्म का पदार्थ कुछ दिनों बाद दें।

  • डायपर को अच्छे से धोएं: यदि आप कपड़े के डायपर का उपयोग कर रही हैं, तो सुनिश्चित करें कि आप उन्हें अच्छी तरह से धोती हों और साफ़ रखती हों । क्षारीय प्रदाहकों से छुटकारा पाने के लिए र बच्चों के अनुकूल डिटर्जेंट का उपयोग करें।

डायपर रैश के बारे में चिंतित कब होना चाहिए?

आम तौर पर ऊपर दिए गए तरीके और दवाईयाँ रैश से छुटकारा पाने के लिए पर्याप्त हैं। रैश को 3-4 दिनों में ठीक हो जाना चाहिए। लेकिन, यदि रैश संक्रमित होता दिखाई दें, तो अपने डॉक्टर से ज़रूर परामर्श करें। कुछ चीजें जिनसे आपको सावधान रहने की ज़रूरत हैं:

  • यदि रैश आपके बच्चे के शरीर के अन्य हिस्सों को प्रभावित करने लगते हैं।

  • यदि रैश में मवाद का निर्माण होता है।

  • यदि आपके शिशु को बुखार है।

  • यदि रैश और लाल हो जाते हैं और बदतर हो जाते हैं।

  • यदि खुले फोड़ों के साथ पीले धब्बे दिखाई देते हैं।

  • यदि आपका शिशु 6 सप्ताह से कम उम्र का है।

  • यदि रैश दस्त के साथ भी होते हैं जो 2 दिनों से अधिक समय तक ठीक नहीं होते है।

कम डायपर रैश के इलाज के लिए आपको डॉक्टर की आवश्यकता नहीं है। सुनिश्चित करें कि आप अपने बच्चे के नितम्ब को सूखा और साफ रखें ।

डायपर रैश के लिए घरेलू उपचार

डायपर रैश के लिए कुछ प्रभावी प्राकृतिक उपचार इससे जुड़े लक्षणों को दूर करने में मदद कर सकते हैं। इनमें ऐसे प्राकृतिक पदार्थों का उपयोग शामिल है, जो आसानी से उपलब्ध होते हैं।

1. नारियल का तेल

यह डायपर रैश के लिए उपलब्ध सर्वोत्तम प्राकृतिक उपचारों में से एक है। रैश से छुटकारा पाने के लिए नारियल तेल से डायपर की जगह पर हल्के हाथों से मालिश करें।

डायपर रैश के लिए घरेलू उपचार2. शीया बटर

यदि आपके बच्चे की त्वचा संवेदनशील है, तो आप उसपर शीया बटर लगा सकते हैं। यह उसकी त्वचा को मुलायम रखेगा और यीस्ट संक्रमण से भी बचाएगा ।

3. गरम पानी से स्नान

यह खुजली और जलन से आराम पहुँचाने में मदद करता है। गरम पानी में 1 चम्मच बेकिंग सोडा डालें और रैश की जगह को इसमें थोड़ी देर के लिए भिगों कर रखें। यह दिन में तीन बार दोहराएं। यह उपचार आज़माने की सलाह उन शिशुओं को दी जाती हैं, जिनकी गर्भनाल गिर गई हैं और जो 1-2 सप्ताह से ज़्यादा उम्र के हैं।

निष्कर्ष : डायपर रैश बच्चों में आम है और परवरिश के समय अक्सर आने वाली चुनौतियों में से एक है। स्वच्छता बनाए रखें, डायपर को बारबार बदलें, और रैश के निवारण के लिए अंगों को पर्याप्त हवा लगने दें।