गर्भधारण

फर्टिलिटी बेहतर करने और जल्दी गर्भवती होने के लिए कैस्टर ऑयल पैक का उपयोग

कुछ कपल के लिए, गर्भधारण, संबंध बनाने जितना आसान नहीं होता है और वे इसके लिए अपनी फर्टिलिटी यानी प्रजनन क्षमता में सुधार लाने के साथ ही बच्चे को कंसीव करने की संभावनाओं को बढ़ाने के लिए कई सारे तरीके आजमाते हैं और हर संभव प्रयास करते हैं। मेडिकल उपचार इस दिशा में एक बड़ी उम्मीद होती है, लेकिन कुछ प्राकृतिक उपायों के जरिए भी इस प्रयास को संभव किया जा सकता हैं। उनमें से कुछ इलाज मददगार साबित होने के साथ साथ सुरक्षित भी होते हैं जबकि कई सारे अन्य बेअसर होते हैं यहां तक कि कुछ इलाज नुकसानदायक भी साबित हो सकते हैं। इसी तरह प्रजनन क्षमता में सुधार करने के लिए कैस्टर ऑयल यानी अरंडी के तेल का उपयोग करने का सुझाव भी दिया जाता है लेकिन आप जरूर सोच रही होंगी कि यह कितना उपयोगी हो सकता है। इससे होने वाले फायदों को समझना निश्चित रूप से आवश्यक है, लेकिन इसके दुष्परिणामों को भी ध्यान में रखना चाहिए।  

कैस्टर ऑयल या अरंडी का तेल क्या है?

अरंडी के बीज का उपयोग मनुष्य कई हजार साल पहले से करता आ रहा है। अरंडी के पौधे की एक खास प्रजाति के बीजों को उनसे तेल निकालने के लिए पीसा और छाना जाता है। आम भाषा में इस खास तेल को अरंडी का तेल या कैस्टर ऑयल कहा जाता है।

कैस्टर ऑयल पैक क्या है?

कैस्टर ऑयल को कुछ अन्य चीजों के साथ मिलाकर, तेल के फायदों को बढ़ाने का प्रयास किया जाता है, जिसे आम बोलचाल में कैस्टर ऑयल पैक कहा जाता है। इनमें आमतौर पर एक कपड़े का उपयोग किया जाता है जो तेल को बड़ी ही कुशलता से अवशोषित कर सकता है और इसे शरीर के विभिन्न हिस्सों पर लगाने से ब्लड सर्कुलेशन को बढ़ाने और अन्य उपचार प्रक्रियाओं को तेज करने के लिए उपयोग किया जाता है।

फर्टिलिटी के लिए आपको कैस्टर ऑयल पैक का उपयोग कब और कितनी बार करना चाहिए?

आमतौर पर, कैस्टर ऑयल वाला पूरा इलाज सप्ताह में लगभग 4 बार एक से डेढ़ घंटे तक और कम से कम 3-4 महीनों तक चलना चाहिए।

जो महिलाएं अपनी फर्टिलिटी में सुधार करना चाहती हैं, उनके लिए पीरियड्स को छोड़कर अन्य दिनों में कैस्टर ऑयल के पैक का उपयोग करने की बहुत ज्यादा सलाह दी जाती है। जब आप गर्भधारण के लिए बार-बार प्रयास कर रही हों, तो इस प्रक्रिया को केवल तभी उपयोग करें, जब आप अपने ओवुलेशन साइकिल के पहले हिस्से में हों। अगर पीरियड्स में बहुत ज्यादा ब्लीडिंग हो रही है या आप फाइब्रॉएड से पीड़ित हैं, तो कैस्टर ऑयल के पैक के उपयोग की प्रक्रिया में कुछ बदलाव करने पड़ सकते हैं। 

कैस्टर ऑयल थेरेपी के फायदे

कैस्टर ऑयल थेरेपी काफी लोकप्रिय तकनीक है जिसका उपयोग विभिन्न महिलाओं पर विभिन्न कारणों से किया जाता है क्योंकि इसके फायदे काफी ज्यादा होते हैं और यह विभिन्न स्थितियों में विभिन्न परिणाम देने में भी सक्षम होती है।

1. फर्टिलिटी को स्वाभाविक रूप से बढ़ाता है

दवाओं का सेवन करना या अन्य उपचार को आजमाना हमेशा एक विकल्प रहता है, लेकिन दवाएं अभी भी आर्टिफिशियल ही हैं और इनके बारे में यह ठीक से भी नहीं कहा जा सकता कि यह हमारे शरीर पर सामान्य स्थिति में कैसे प्रतिक्रिया करेंगी। जबकि कैस्टर ऑयल थेरेपी की जड़ें प्रकृति में हैं और इसकी पूरी प्रक्रिया, शरीर के अपनी फर्टिलिटी में सुधार लाने पर केंद्रित होती है। इस थेरेपी में हार्मोन के स्तर को अपने हिसाब से ऊपर लाना और दवाओं के हानिकारक प्रभावों से शरीर को दूर रखकर स्वस्थ करना होता है, साथ ही यह महिला के भीतर आत्मविश्वास की भावना पैदा कर सकती है।

2. नेचुरल डिटॉक्सिफिकेशन

बायोलॉजिकल स्तर पर गर्भधारण करना काफी मुश्किल प्रक्रिया हो सकती है। कुछ विषैले पदार्थों या रोगाणुओं के शरीर में मौजूद होने पर इस प्रक्रिया में थोड़ी सी भी रुकावट आना इसे पूरी तरह से विफल कर सकती है। कैस्टर ऑयल थेरेपी का रोजाना उपयोग करने से शरीर के विषैले तत्वों को बहुत ही आसानी से बाहर निकाला जा सकता है और एक शरीर एक हेल्दी स्टेज पर आ सकता है, जिससे कंसीव करने के लिए एक अनुकूल वातावरण बन सके।

3. एंडोमेट्रियम को बढ़ाने में मदद करता है

एक बार गर्भधारण हो जाने पर, फीटस यानी भ्रूण को यूट्रस के भीतर सुरक्षित रूप से रखा जाना चाहिए और किसी भी छोटी-मोटी हलचल या झटके से तब तक बचाना चाहिए जब तक कि वह स्वयं मजबूत न हो जाए। यह तब होता है जब यूट्रस के भीतर एंडोमेट्रियल का अस्तर मोटा और स्वस्थ होता है। ऐसा करने के लिए, ज्यादा से ज्यादा अरंडी के बीजों का उपयोग करने की सलाह दी जाती है क्योंकि वे एंडोमेट्रियल कोशिकाओं के विकास को बढ़ाने में मदद करते हैं और गर्भ में पल रहे बच्चे के यूट्रस के भीतर सुरक्षित रहने की संभावना को बढ़ाते हैं।

4. फैलोपियन ट्यूब का सुचारु रुप से काम करना

गर्भाधान सही ढंग से होने के लिए, स्पर्म को वेजाइना से फैलोपियन ट्यूब तक पहुंचना जरूरी होता  है, ओवरी के पास और फैलोपियन ट्यूब के नीचे दिए गए अंडे से जब स्पर्म मिलते हैं, तो यह वो जगह होती है जहां फर्टिलाइजेशन पूरा होता है। ऐसे में संभावनाओं को बेहतर बनाने के लिए, अरंडी के बीजों का उपयोग किया जा सकता है जो फैलोपियन ट्यूब के भीतर किसी भी प्रकार की रुकावट को दूर करने में प्रभावी रूप से काम करते हैं, जिससे अंडे और स्पर्म एक सही जगह पर साथ मिल सकें।

5. यूट्रस को सहारा देना

यूट्रस लगभग 9 महीने की अवधि के लिए नए बच्चे का घर बन जाता है। इसलिए, यह उतना ही मजबूत होना जरूरी है जितना कि बच्चे के लिए एक घर का मजबूत होना। अगर गर्भधारण के बाद एक स्वस्थ गर्भावस्था विकसित हो रही है, तो ऐसे में डिलीवरी भी सफलतापूर्वक होनी चाहिए। कैस्टर ऑयल का उपयोग यूट्रस को मजबूत बनाने का काम करता है, जो अप्रत्यक्ष रूप से एक महिला की पूरी फर्टिलिटी को बढ़ाने का काम करता है।

6. अंडे के उत्पादन को बेहतर करता है

अगर स्पर्म के पास फर्टिलाइज करने के लिए कोई उचित अंडा नहीं है तो इससे कोई भ्रूण उत्पन्न नहीं हो सकेगा। महिला के शरीर के भीतर ओवरी फर्टिलाइजेशन के लिए अंडे का उत्पादन करती हैं, पर यह तभी हो सकता है जब ओवरी खुद सबसे बेहतर स्तर पर काम कर रही हो। अंडे की अच्छी मात्रा और उसका मजबूत होना एक महिला की फर्टिलिटी को मापने का पैमाना माना जा सकता है। अरंडी के बीजों को शामिल करने से ओवरी को हेल्दी बनाए रखने और फर्टिलिटी के स्तर को ऊंचा रखने में मदद मिल सकती है।

फर्टिलिटी के लिए कैस्टर ऑयल के पैक का उपयोग कैसे करें?

आप निम्न चरणों का पालन करके तुरंत कैस्टर ऑयल के पैक का उपयोग शुरू कर सकती हैं।

  1. हमेशा पुराने कपड़े पहनकर ही कैस्टर ऑयल का उपयोग करें, क्योंकि तेल के दाग बहुत गहरे होते हैं।
  2. अपने कपड़े को एक कटोरे में रखें और उसमें धीरे-धीरे कैस्टर ऑयल डालें जब तक कि वह अच्छी तरह से भीग न जाए।
  3. अब आप लेट जाएं और कपड़े को उस क्षेत्र पर रखें जहां इलाज की जरूरत है। कपड़े को एक अन्य परत से ढक दें और फिर उसके ऊपर एक हीटिंग पैड या गर्म पानी की बोतल रखें।
  4. आप इस दौरान आराम या ध्यान कर सकती हैं, इसे लगभग एक घंटे तक ऐसे ही रहने दें। एक बार प्रक्रिया पूरी हो जाने के बाद, तेल को हल्के हाथों से मलें और फिर उस जगह को अच्छी तरह से साफ कर लें।

अपना खुद का कैस्टर ऑयल पैक कैसे बनाएं?

कैस्टर ऑयल के कुछ पैक हैं जो बाजार में आसानी से मिल जाते हैं। लेकिन आप कुछ आसानी से मिलने वाली चीजों और एक सरल प्रक्रिया के साथ घर पर ही इस पैक को बना सकती हैं।

आपको चाहिए

  • पुरानी चादरें और कपड़े
  • तेल के लिए एक कंटेनर
  • हीटिंग पैड या गर्म पानी की बोतल
  • प्लास्टिक रैप या एक मोटा कपड़ा
  • कैस्टर ऑयल की बोतल
  • एक नरम फलालैन का कपड़ा
  • बेकिंग सोडा

कैसे बनाना है 

  • सबसे पहले यह तय करें कि कंटेनर इतना चौड़ा है कि उसमें फलालैन कपड़ा पूरी तरह से बैठ सके और तेल से भीग सके।
  • अब कपड़े को ठीक से भिगोने के लिए कैस्टर ऑयल की कितनी मात्रा की जरूरत है, इसकी जांच करें लेकिन कपड़े को इतना गीला न होने दें कि उससे तेल बहने लगे।
  • इसके बाद एक प्लास्टिक कवर के साथ तेल से भीगे हुए कपड़े को अपने शरीर पर रखें और हीटिंग पैड के तापमान की जांच करें जिससे आप सहज महसूस कर सकें।
  • प्रक्रिया के बाद अपने शरीर को साफ करने के लिए थोड़े से पानी के साथ बेकिंग सोडा के घोल का प्रयोग करें, ताकि सतह पर किसी भी तरह के कैस्टर ऑयल से छुटकारा मिल सके।
  • कैस्टर ऑयल के पैक को आप रेफ्रिजरेटर में ठीक से स्टोर करें ताकि आप इसे 30 बार तक फिर से इस्तेमाल कर सकें।

कैस्टर ऑयल का उपयोग करते समय बरती जाने वाली सावधानियां

कैस्टर ऑयल के फायदों के साथ-साथ इसके उपयोग में कुछ सावधानियां भी बरतनी चाहिए। कभी भी कैस्टर ऑयल का सेवन न करें, क्योंकि यह शरीर के लिए काफी हानिकारक हो सकता है। खुली चोट या रूखी-फटी त्वचा वाली जगह पर भी इसका उपयोग करने से बचना चाहिए। एक बार जब आप प्रेग्नेंट हो जाए, तो इसका उपयोग न करें और पीरियड्स के दौरान भी बेहद कम उपयोग करें, खासकर जब हैवी ब्लीडिंग हो रही हो। 

गर्भधारण में की सफलता के लिए कैस्टर ऑयल के पैक का उपयोग आमतौर पर लोगों को मालूम था लेकिन अब कुछ फर्टिलिटी स्पेशलिस्ट भी इसकी सिफारिश करने लगे हैं। हालांकि, इस संबंध में अपने डॉक्टर की सलाह लेना जरूरी है। अगर कोई मेडिकल कॉम्प्लिकेशन्स हैं, तो ऐसे में खुद को कैस्टर ऑयल के संपर्क में लाने से बचना ही ठीक है और उस स्थिति में फर्टिलिटी के दूसरे उपायों को आजमाना बेहतर है। 

यह भी पढ़ें:

फर्टिलिटी बढ़ाने के लिए सर्वश्रेष्ठ जड़ी बूटियाँ
फर्टिलिटी बढ़ाने के लिए फोलिक एसिड – क्या यह मददगार है?
सबसे अच्छे खाद्य पदार्थ जो आपकी प्रजनन क्षमता को बढ़ा सकते हैं

समर नक़वी

Recent Posts

श्रेया नाम का अर्थ, मतलब और राशिफल – Shreya Name Meaning in Hindi

हम आपको इस लेख के जरिए श्रेया जैसे बेहतरीन नाम का मतलब, राशि और इन…

2 days ago

साक्षी नाम का अर्थ, मतलब और राशिफल – Sakshi Name Meaning in Hindi

कुछ लड़कियों का नाम इतना यूनीक और प्यारा होता है कि हर कोई उनके माता-पिता…

2 days ago

शिवानी नाम का अर्थ, मतलब और राशिफल – Shivani Name Meaning in Hindi

किसी भी इंसान के जीवन में उसके नाम का काफी योगदान होता है। आपको शायद…

2 days ago

प्रिया नाम का अर्थ, मतलब और राशिफल – Priya Name Meaning in Hindi

कुछ नाम ऐसे होते हैं जो रखे ही उन लोगों के लिए जाते हैं, जो…

2 days ago

प्रीति नाम का अर्थ, मतलब और राशिफल – Priti Name Meaning in Hindi

बेटियां जितनी प्यारी होती हैं माता-पिता उनका उतना ही प्यारा नाम रखने की कोशिश करते…

4 days ago

शुभम नाम का अर्थ, मतलब और राशिफल – Shubham Name Meaning in Hindi

बच्चे का आपके घर में जन्म लेना ही इस बात का सबूत है कि ईश्वर…

4 days ago