गर्भधारण

आईवीएफ को सफल बनाने के लिए डाइट – क्या खाएं और क्या नहीं

चाहे आप स्वाभाविक तरीके से गर्भवती होने की कोशिश कर रही हों या मेडिकल उपचारों की मदद से, यह बेहद अहम है कि आप हेल्दी डाइट का पालन करें ताकि यह आगे कोई और बाधा आपके सामने न आए। यदि आपको गर्भधारण करने में परेशानी हो रही है और आप आईवीएफ उपचार का निर्णय लेती हैं, तो कुछ बातें हैं जो आपको जाननी चाहिए। आईवीएफ पूरी तरह से शरीर के लिए एक अलग प्रक्रिया है और इसे काम करने के लिए, कुछ ऐसे विशेष खाद्य पदार्थ होते हैं, जिनका आपको सेवन करना चाहिए। आईवीएफ के दौरान एक स्पेशल डाइट का पालन करने की सलाह डॉक्टर द्वारा जरूरी रूप से दी जाती है, लेकिन अपनी डाइट में कुछ बदलाव करके आप भी इसकी सफलता दर बढ़ाने में मदद कर सकती हैं। 

आईवीएफ की सफलता दर को बढ़ाने के लिए बेहतरीन डाइट

ज्यादातर महिलाओं के लिए आईवीएफ प्रक्रिया की सफलता दर आमतौर पर लगभग 30-40% होती है। इसलिए, यदि आप गर्भधारण करने की कोशिश कर रही हैं, तो आईवीएफ को एक बार जरूर आजमाना चाहिए। लेकिन इसकी सफलता दर को बढ़ाने के लिए कुछ ऐसी खाने की चीजें हैं जिन्हें आप अपनी डाइट में शामिल कर सकती हैं। ऐसे कई खाद्य पदार्थ हैं जो शरीर को इस प्रक्रिया से निपटने और बेहतर तरीके से रिएक्ट करने में मदद करते हैं।

आईवीएफ के इलाज के दौरान क्या खाएं

जरूरी नहीं कि डॉक्टर आपको आईवीएफ इंप्लांटेशन के दौरान या प्रक्रिया के किसी भी स्टेज में खाने की लिस्ट दें, लेकिन प्रक्रिया को देखते हुए, कुछ फैक्टर हैं जो इनडायरेक्ट तरीके से आपके शरीर को बेहतर प्रतिक्रिया देने के लिए प्रभावित करते हैं। नीचे उन पोषक तत्वों की लिस्ट दी गई है जो आपके आईवीएफ उपचार को सफल बनाने के लिए जरूरी हैं।

1. जिंक से भरपूर पदार्थ

फर्टिलिटी से जुड़े प्रमुख पहलुओं में से एक हार्मोन का पर्याप्त लेवल होता है जो पूरी एक्टिविटी को प्रभावी तरीके से कंट्रोल करता है। आपके हार्मोन के स्तर में कोई भी उतार-चढ़ाव ओवरी को गलत तरीके से काम करने या अंडे के ठीक से उत्पादन नहीं होने का कारण बनता है। जिंक हार्मोनल लेवल को संतुलित करने में मदद करता है। इसलिए, आईवीएफ के दौरान यह सुनिश्चित करना, कि आप लगभग 15 मिलीग्राम जिंक की अपनी रोज की जरूरत को पूरा करती हैं, आपके फायदे के लिए काम करता है। जिंक सप्लीमेंट्स का उपयोग करके भी इसका सेवन किया जा सकता है, लेकिन बेहतर विकल्प यह होगा कि अपनी डाइट में कुछ मीट के साथ डेयरी प्रोडक्ट, अनाज, आलू और नट्स जैसे जिंक से भरपूर खाने को शामिल करें।

2. कार्बोहाइड्रेट

डायटीशियन जो आमतौर पर वजन घटाने की प्रक्रिया में लोगों की मदद करते हैं, वे सोच सकते हैं कि कार्बोहाइड्रेट को डाइट में शामिल करना एक स्वस्थ विकल्प नहीं है। लेकिन ऐसे में आपकी लाइफस्टाइल खराब है – कार्ब्स नहीं। पर्याप्त मात्रा में स्वस्थ कार्बोहाइड्रेट का सेवन करने से आपके शरीर को वह एनर्जी मिलती है जिसकी उसे दिन भर की कई एक्टिविटीज के लिए जरूरत होती है। आईवीएफ के लिए बहुत अधिक एनर्जी की भी जरूरत होती है, यही कारण है कि अपनी रोज की डाइट में फल और अनाज जैसे कि गेहूं, जौ, ब्राउन राइस, क्विनोआ आदि को शामिल करें जो एनर्जी प्रदान करते हैं।

3. फोलिक एसिड से भरपूर आहार

गर्भावस्था के दौरान और उससे पहले भी फोलिक एसिड का महत्व अधिक रहता है। आईवीएफ प्रक्रिया से गुजरने के दौरान भी, फोलिक एसिड की मौजूदगी  जरूरी है ताकि भ्रूण स्वस्थ हो और विकास से जुड़े किसी भी विकार से दूर रहे। फोलिक एसिड खाने की कई चीजों में मौजूद होता है और इसे अपनी डाइट का हिस्सा बनाकर सस्ते और प्रभावी तरीकों से हासिल किया जा सकता है। मटर, पालक, ब्रोकली, कीवी, पोल्ट्री प्रोडक्ट, टोफू और कई अन्य पदार्थ आपके लिए फोलिक एसिड के अच्छे स्रोत हैं।

4. फैट

आम धारणा के विपरीत, फैट आपके लिए खराब नहीं है – आपको केवल यह जानने की जरूरत है कि किस प्रकार के फैट का सेवन करना है। ट्रांस-सैचुरेटेड फैट वाले जंक फूड से हर कीमत पर बचना चाहिए। हेल्दी फैटी एसिड और अनसैचुरेटेड फैट को चुनने के लिए कहा जाता है क्योंकि वे आपके शरीर को काफी ज्यादा एनर्जी प्रदान करते हैं जिसे वह किसी भी समय टैप कर सकता है। खाने के पोषक तत्वों को तोड़ने और आपके शरीर को उन्हें ऑब्जर्व करने की अनुमति देने के लिए गुड फैट भी जरूरी है। यह अखरोट, मक्का, ऑलिव ऑयल, अलसी का तेल, नारियल का तेल, एवोकाडो आदि में पाया जाता है।

5. एवोकाडो

एवोकाडो पिछले कुछ समय से गर्भवती महिलाओं के लिए हेल्दी माना जाने लगा है और यह उन महिलाओं के लिए भी अच्छा है जो आईवीएफ ट्रीटमेंट को चुनती हैं। ऐसा कहा जाता है कि मोनोसैचुरेटेड फैट की मौजूदगी – जो एवोकाडो में भरपूर मात्रा में होती है – आईवीएफ की प्रक्रिया के लिए बेहतर है। इसके अलावा, एवोकाडो के सेवन से एक महिला के ओवुलेटरी एरिया के स्वास्थ्य में भी सुधार होता है – इससे सफल आईवीएफ होने की संभावना 3.5 गुना बढ़ जाती है।

6. प्रोटीन से भपूर खाना

शरीर में हार्मोन का उत्पादन, जो अंडाशय में अंडे के विकास को डायरेक्ट और इनडायरेक्ट तरीके से प्रभावित करता है, वह आपके शरीर में मौजूद प्रोटीन की मात्रा पर निर्भर करता है। प्रोटीन लंबे समय तक एनर्जी प्रदान करता है और शरीर के विकास में मदद करता है, इसलिए रोजाना इसका कम से कम 60 ग्राम सेवन करना जरूरी है। सी फूड, मांस और अंडे इसके सबसे अच्छे स्रोत हैं, साथ ही फलियां और विभिन्न तरीके के मेवे पर्याप्त मात्रा में लेना भी इसमें शामिल है।

7. पानी

आप अपनी अभी की लाइफस्टाइल में कभी भी पर्याप्त मात्रा में पानी नहीं पीती होंगी। हम कितना पानी पीते हैं, इसे ज्यादा करके आंकने में हम बहुत माहिर होते हैं। प्रति घंटे एक गिलास पानी पीने के शेड्यूल को सबसे अच्छा माना जाता है, यह ध्यान रखें कि कम से कम 8 गिलास पानी आप रोज पीती हों। ऑप्टीमल वाटर लेवल शरीर के अंदर कई तत्वों का अच्छा संतुलन बनाए रखने और सर्कुलेशन में मदद करता है। यह जल्दी होने वाले इम्प्लांटेशन में भी सहायता करता है। इसलिए पर्याप्त पानी पिएं और फिर पर्याप्त से  ज्यादा पिएं!

डाइटिंग की मेडिटेरेनियन स्टाइल यह याद रखने का एक शानदार तरीका है कि आपको अपनी डाइट में खाने की किन चीजों को शामिल करना चाहिए। महिलाओं के बीच छोटे पैमाने पर की गई एक स्टडी से पता चला है कि 35 साल से कम उम्र की पतली महिलाओं के लिए, मेडिटेरेनियन स्टाइल की डाइट आईवीएफ प्रक्रिया के लिए फायदेमंद साबित हुई है। यह याद रखना जरूरी है कि एक अच्छी डाइट शुक्राणुओं की संख्या को भी प्रभावित करती है, इसलिए ध्यान रखें कि आप और आपके पति इसमें एक साथ हैं! मेडिटेरेनियन डाइट में शामिल हैं:

  1. ताजे फल और सब्जियां
  2. लीन प्रोटीन (मांस, मछली, आदि)
  3. रिफाइंड की जगह साबुत अनाज
  4. फलियां जैसे दालें
  5. लो फैट वाली डेयरी
  6. हेल्दी फैट जैसे नट, बीज, और अंडे

आईवीएफ फर्टिलिटी उपचार के दौरान क्या खाने से बचें

जिस तरह आपके ओवरी में अंडे की गुणवत्ता में सुधार के लिए आईवीएफ डाइट लेने की सलाह दी जाती है, उसी तरह कुछ प्रतिबंध भी हैं जिन पर ध्यान देना जरूरी है। यहां खाने की उन चीजों के बारे में  बताया गया है जिनसे आपको अपने आईवीएफ फर्टिलिटी इलाज के दौरान दूर रहना चाहिए:

1. कच्चे अंडे

चाहे इनका सेवन सीधे किया जाए या बिस्कुट बैटर, सलाद, या एग्नॉग जैसे रूप में, हर कीमत पर कच्चे अंडे से दूर रहें। इनमें साल्मोनेला वायरस होने की काफी संभावना होती है, जो आसानी से फूड पॉइजनिंग का कारण बनता है।

2. आर्टिफिशियल स्वीटनर

अपने वजन को कंट्रोल में रखने के लिए, कुछ महिलाएं सामान्य चीनी के बजाय अपनी चाय या कॉफी में आर्टिफिशियल स्वीटनर का इस्तेमाल करती हैं। हालांकि यह आमतौर पर एक स्वस्थ विकल्प होता है, लेकिन स्वीटनर में मौजूद सैकरीन आईवीएफ की सफलता दर को कम करने के लिए जाना जाता है। इसलिए आर्टिफिशियल शुगर से दूर रहें। इसके बजाय, सुक्रालोज पर आधारित स्वीटनर का इस्तेमाल करें या इसके बजाय अन्य नेचुरल शुगर वाले सिरप का उपयोग करें।

3. रिफाइंड शुगर

यदि आप किसी आर्टिफिशियल स्वीटनर को शामिल किए बिना शुगर फ्री डाइट का पालन कर रही हैं, तो यह बहुत अच्छी बात है। रिफाइंड शुगर इस मामले में एक विलेन की तरह है और शरीर को बेहद अस्वस्थ तरीके से प्रभावित करती है। इसकी थोड़ी सी मात्रा भी खून में शुगर लेवल को तुरंत बढ़ा देती है। चीनी खाने से आप कुछ समय के लिए अच्छा महसूस कर सकती हैं, लेकिन इसे नियमित रूप से करने से लिवर पर भार बढ़ सकता है जिससे वह बढ़ते ब्लड शुगर लेवल का मुकाबला करने के लिए अधिक इंसुलिन का उत्पादन करता है। जिसकी वजह से लंबे समय में शरीर में इंसुलिन प्रतिरोध विकसित हो जाता है, जो सीधे फर्टिलिटी क्षमता को प्रभावित करता है।

4. सीफूड

कच्चे सीफूड के सेवन से भी बचना चाहिए क्योंकि इससे इंफेक्शन हो सकता है। हालांकि, सामान्य सीफूड भी कम से कम खाना चाहिए, क्योंकि मछली में बहुत अधिक मरकरी होता है, जो भ्रूण के साथ समस्या पैदा करता है और जिसके कारण बर्थ डिफेक्ट्स भी हो सकता है।

5. अल्कोहल

अनियमित ओवुलेशन एक ऐसी समस्या है जो कई महिलाओं को उनकी फर्टिलिटी क्षमता के संबंध में परेशान करती है। शराब भी इसका एक कारण है और इसलिए इसका सेवन नहीं करना चाहिए, खासकर आईवीएफ के दौरान। यह न केवल स्वस्थ अंडे प्राप्त करने की संभावनाओं को बढ़ाने के लिए एक बार फिर से ओवुलेशन को सुव्यवस्थित करेगा बल्कि बाद में गर्भ में बच्चे को नुकसान के जोखिम से भी बचाएगा।

6. कैफीन

जब आप आईवीएफ प्रक्रिया से गुजर रही हों तो कॉफी के साथ-साथ चाय का भी सीमित मात्रा में सेवन करना चाहिए। बाकी अन्य ड्रिंक्स जिनमें कैफीन होता है उन्हें या तो कम कर देना चाहिए या पूरी तरह से बंद कर देना चाहिए।

7. विशेष प्रकार का चीज़

डेयरी प्रोडक्ट का सेवन करना अच्छा होता है, लेकिन कुछ प्रकार के चीज़ में बैक्टीरिया होते हैं जो इंफेक्शन का कारण बनते हैं। अपाश्चुरीकृत दूध का सेवन नहीं करना चाहिए। इस लेवल पर सॉफ्ट चीज जैसे कैमेम्बर्ट और ब्री या कई चीज के प्रकार जिनमें नीला रंग होता है, उससे बचना चाहिए।

एक अच्छी आईवीएफ डाइट प्लान का पालन करने से आपको एक सफल आईवीएफ प्रक्रिया की संभावनाओं को बेहतर बनाने में मदद मिलती है। इसके साथ ही, मालिश करवाना, मेडिटेशन, या यहां तक ​​कि एक्यूपंक्चर जैसे कुछ अन्य तरीके भी हैं जो आपके मन और शरीर को बेहतर स्थिति में बनाए रखने में मदद करते हैं। 

स्रोत: Healthline

यह भी पढ़ें:

आईयूआई उपचार – साइड इफेक्ट्स और जोखिम
आईवीएफ को सफल बनाने के लिए टिप्स
आईवीएफ के बाद गर्भपात की संभावना को कम करने के टिप्स

समर नक़वी

Recent Posts

श्रेया नाम का अर्थ, मतलब और राशिफल – Shreya Name Meaning in Hindi

हम आपको इस लेख के जरिए श्रेया जैसे बेहतरीन नाम का मतलब, राशि और इन…

2 days ago

साक्षी नाम का अर्थ, मतलब और राशिफल – Sakshi Name Meaning in Hindi

कुछ लड़कियों का नाम इतना यूनीक और प्यारा होता है कि हर कोई उनके माता-पिता…

2 days ago

शिवानी नाम का अर्थ, मतलब और राशिफल – Shivani Name Meaning in Hindi

किसी भी इंसान के जीवन में उसके नाम का काफी योगदान होता है। आपको शायद…

2 days ago

प्रिया नाम का अर्थ, मतलब और राशिफल – Priya Name Meaning in Hindi

कुछ नाम ऐसे होते हैं जो रखे ही उन लोगों के लिए जाते हैं, जो…

2 days ago

प्रीति नाम का अर्थ, मतलब और राशिफल – Priti Name Meaning in Hindi

बेटियां जितनी प्यारी होती हैं माता-पिता उनका उतना ही प्यारा नाम रखने की कोशिश करते…

4 days ago

शुभम नाम का अर्थ, मतलब और राशिफल – Shubham Name Meaning in Hindi

बच्चे का आपके घर में जन्म लेना ही इस बात का सबूत है कि ईश्वर…

4 days ago