जुड़वां शिशु पाने के तरीके

जुड़वां शिशु पाने के तरीके

Last Updated On

शिशु को जन्म देना संभवतः एक महिला के जीवन के सबसे महत्वपूर्ण पलों में से एक है और जब जुड़वां बच्चें हों तो यह ख़ुशी दोगुनी हो जाती है । यद्यपि अधिकांश जुड़वां गर्भधारण बिना योजना के होते हैं, लेकिन हमेशा इसे भाग्य पर नहीं छोड़ना चाहिए। यदि आप चाहती हैं कि आपको जुड़वां बच्चें हो, तो इस लेख में आपको कुछ ऐसे तरीके बताए गए हैं जिनसे आप जुड़वां या दो से भी अधिक बच्चों को जन्म दे सकती हैं। आपको इसके लिए कुछ विशेष औषधियों (हर्ब्स) का सेवन और कुछ अन्य उपाय करने की आवश्यकता होगी जिससे आप जुड़वां बच्चे होने की उम्मीद कर सकती हैं।

जुड़वाँ शिशुओं की संरचना या गर्भधारण कैसे होता है?

जुड़वां शिशुओं की संरचना या गर्भधारण कैसे होता है

जैसा कि आप पहले से ही जानती होंगे कि, जुड़वां शिशु दो प्रकार के होते हैं – समरूप जुड़वां (आइडेंटिकल ट्विन्स) और भिन्न जुड़वां (फ्रेटरनल ट्विन्स)।

भिन्न जुड़वां, जिन्हें द्वियुग्मज (डाइज़ाइगोटिक) जुड़वां के रूप में भी जाना जाता है, वे तब होते हैं जब दो शुक्राणु दो अंडों को निषेचित करते हैं। आमतौर पर यह भी देखा जाता है कि जो जुड़वां बच्चे भिन्न होते हैं उनके लिंग भी अलग-अलग होते हैं। सामान्यतः भिन्न जुड़वां शिशुओं की गर्भनाल और आनुवंशिक बनावट अलग-अलग होती है ।  

समरूप जुड़वां, जैसा कि नाम से पता चलता है, वे एक ही गर्भनाल और एक ही आनुवांशिक बनावट को साझा करते हैं। इन्हें मोनोज़ाइगोटिक जुड़वां के रूप में भी जाना जाता है, जिसमें जुड़वां शिशुओं का लिंग आमतौर पर समान होता है। इसमें एक शुक्राणु एक अंडे को निषेचित करता है लेकिन यह दो अलग भ्रूणों में विभाजित हो जाता है।

जुड़वां शिशु होने की संभावना को निर्धारित करने वाले कारक

अध्ययनों से पता चला है कि आनुवांशिक कारणों से जुड़वां होने की संभावना अधिक होती है। इसके अलावा, जुड़वां शिशु होने के आपके सपने को पूरा करने वाले कुछ अन्य कारक नीचे सूचीबद्ध हैं:

1. एकाधिक गर्भावस्था

अधिक बार गर्भधारण करने से विभाजन या दोहरे निषेचन की संभावना बढ़ जाती है। पहली बार के बाद, गर्भधारण करना बहुत आसान हो जाता है और इसलिए, जुड़वां शिशु होने की एक निश्चित संभावना बन जाती है।

2. शारीरिक संरचना

अध्ययनों से यह सिद्ध हो चुका है कि लंबी और वजनी महिलाओं में छोटी और पतली महिलाओं की तुलना में जुड़वां शिशुओं के जन्म की संभावना अधिक होती है। पौष्टिक आहार लेने वाली महिलाओं की तुलना में कम वसा वाले या कम आहार खाने वाली महिलाओं के लिए जुड़वां शिशु होने की संभावना उतनी अधिक नहीं होती है।

3. अनुवांशिकता

जैसा कि पहले उल्लेख किया गया है, अनुवांशिकता का जुड़वां शिशु होने से बहुत गहरा संबंध है। इसकी संभावना तब अधिक हो जाती है जब आपकी माँ के परिवार में जुड़वां शिशु होने का इतिहास रहा हो । प्रति माह एक से अधिक डिंब बनने की हाइपरओव्यूलेशन (अतिडिंबोत्सर्जन) की आनुवांशिकता जुड़वां शिशुओं को जन्म देने की संभावना को प्रबल करती है। वहीं आपके साथी के परिवार के इतिहास में जुड़वां शिशुओं का होना आपको अधिक प्रभावित नहीं करेगा।

4. आपकी आयु

जब आप जुड़वां शिशु चाहती हैं और इसके लिए गर्भधारण करने की कोशिश कर रही हैं, तो आपकी आयु इसमें बहुत बड़ी भूमिका निभाती है। 30 वर्ष से अधिक की महिलाएं फॉलिकल स्टिमुलेटिंग हॉर्मोन का उत्पादन करती हैं, जो जुड़वां शिशु के होने की संभावना को बढ़ाती है। ये हार्मोन ओव्यूलेशन के दौरान उच्च मात्रा में अंडाणु तैयार करने में सहयोग करते हैं, जिससे एक से अधिक शिशु होने की संभावना बढ़ जाती है।

5. जातीयता (नस्ल)

अंततः, आपकी जाति भी महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है। यह देखा गया है कि एशियाई व लैटिन अमेरिकन महिलाओं की तुलना में यूरोपीय व अफ्रीकी मूल की महिलाओं में जुड़वां शिशु होने की संभावना अधिक होती है।

6. लंबाई

यह माना जाता है कि जो महिलाएं लगभग 5′ 4.8” से लंबी होती हैं, उनमें औसतन 5′ 3.7” लंबाई वाली महिलाओं की तुलना में जुड़वां शिशुओं के गर्भधारण करने की संभावना अधिक होती है।

7. प्रजनन संबंधी उपचार

आई.वी.एफ. जैसे कुछ प्रजनन उपचार जुड़वां बच्चों की आपकी संभावनाओं को काफी बढ़ा सकते हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि कुछ फर्टिलिटी ड्रग्स ओव्यूलेशन के समय एक से अधिक अंडे स्रावित करने के लिए अंडाशय को उत्तेजित करते हैं।

प्राकृतिक रूप से जुड़वां गर्भधारण के तरीके

यदि आप जुड़वां शिशु चाहती हैं और गर्भवती होने की संभावनाओं को बढ़ाने के तरीकों की तलाश में हैं, तो आपको इन प्राकृतिक तरीकों को अपनाना चाहिए। कुछ सर्वोत्तम और आसानी से कार्यान्वित किए जाने वाले तरीके नीचे सूचीबद्ध हैं:

1. गर्भधारण के बीच अंतराल

यद्यपि कई गर्भधारणों से आपको जुड़वां शिशु होने की संभावना बढ़ सकती है, लेकिन दो गर्भधारणों के बीच पर्याप्त अंतर न रखना इसकी संभावना को कम कर सकता है ।

2. स्तनपान के समय गर्भधारण करना

स्तनपान करवाते समय आपका शरीर प्रोलैक्टिन नामक घटक का उत्पादन करता है। यह घटक आपके गर्भवती होने और जुड़वां गर्भधारण करने की संभावनाओं को बढ़ाने के लिए जाना जाता है।

3. गर्भनिरोधक गोलियां लेना बंद करना

जब आप गर्भनिरोधक गोलियां लेना बंद कर देती हैं, तो आपका शरीर अधिक मात्रा में हार्मोन का उत्पादन करना शुरू कर देता है। इस चरण के दौरान, जब आपका शरीर संतुलन बनाने की कोशिश कर रहा होता है, तो उस समय आपकी जुड़वां गर्भधारण करने की बहुत अधिक संभावना हो सकती है।

4. दुग्ध उत्पाद

गाय के दूध और उससे बने अन्य दुग्ध उत्पादों में कई विकास हार्मोन पाए जाते हैं जो जुड़वां होने की संभावना को बढ़ाते हैं, इसलिए यदि आप जुड़वां शिशु चाहती हैं, तो आपको इसका सेवन करने की सलाह दी जाती है।

5. जिंक से परिपूर्ण आहार

चूंकि जिंक युक्त खाद्य पदार्थ शुक्राणुओं के उत्पादन को बढ़ाता है, इसलिए आपके साथी को इसका अधिक सेवन करना चाहिए। निषेचन प्रक्रिया की सहायता से जुड़वां गर्भधारण की उच्च संभावना होती है।

6. प्रोटीन

चूंकि जुड़वां गर्भधारण अक्सर हाइपरओव्यूलेशन पर निर्भर करता है, इसलिए प्रोटीन युक्त खाद्य पदार्थ उसको बढ़ावा देने में सहायक हो सकते हैं। साबुत अनाज, टोफू, सोया और विशेष रूप से शकरकंद ओवरी (अंडाशय) को अतिउत्तेजित करने में मदद करते हैं, जिससे जुड़वां शिशु होने की संभावना बढ़ जाती है।

7. फोलिक एसिड

फोलिक एसिड जुड़वां गर्भधारण करने में सहायक होता है । इसलिए आपको इसके सप्लीमेंट लेने की सलाह दी जाती है, क्योंकि यह तंत्रिका नली के दोष को रोकने के लिए जाना जाता है।

8. संभोग के आसन

उपर्युक्त विधियों के अलावा, व्यापक रूप से यह माना जाता है कि संभोग के कुछ आसन भी जुड़वां गर्भधारण की संभावना को बढ़ाते हैं। 

जुड़वां शिशुओं के लिए प्रजनन उपचार

यदि आप प्राकृतिक तरीकों के बजाय दूसरे प्रजनन उपचारों का चयन करती हैं, तो आपकी जुड़वां गर्भधारण की संभावना और बढ़ सकती है । जो कुछ इस प्रकार हैं:

1. आई.यू.आई. (अंतर्गर्भाशयी गर्भाधान)

प्रजनन संभावना को बढ़ाने के लिए इस विधि का प्रयोग आमतौर पर प्रजनन दवाओं के साथ किया जाता है। सरल शब्दों में कहा जाए तो, शुक्राणुओं को सीधे गर्भाशय के भीतर डाला जाता है जिससे प्राकृतिक विधि की तुलना में अधिक अंडे निषेचित किए जा सकते हैं।

2. आई.वी.एफ.

इस उपचार में पहला कदम यह है कि गर्भाशय में रखे गए भ्रूणों की संख्या पर ही सब कुछ निर्भर करता है। चूंकि कई भ्रूण प्रत्यारोपित किए जाते हैं, इसलिए एक से अधिक भ्रूण के जीवित रहने की संभावना बढ़ जाती है। यहाँ तक कि इस तरीके से महिलाएं समरूप जुड़वां गर्भधारण करने के रूप में अधिक जानी जाती हैं ।

आईवीएफ (पात्रे तकनीक निषेचन)

जुड़वां गर्भधारण के लिए प्रजनन सप्लीमेंट और दवाएं

कभी-कभी, बेहतर परिणामों के लिए दो पद्धतियों का एक साथ इस्तेमाल करना अच्छा होता है। जैसा कि ऊपर उल्लेख किया गया है, आई.यू.आई. के साथ इसकी दवाएं लेने से यह जुड़वां गर्भधारण की संभावना को बढ़ाने में ज्यादा बेहतर रूप से काम करता है। इन दवाओं या सप्लीमेंट के पीछे मूल विचार यह है कि यह स्वस्थ प्रजनन प्रणाली को बढ़ावा देते हुए हार्मोन को विनियमित करता है । खासतौर पर, यह सुनिश्चित करता है कि अधिक डिंब का उत्सर्जन हो, ताकि शुक्राणु उन्हें निषेचित कर सके।

इस प्रक्रिया के प्रोत्साहन में सहायक सप्लीमेंट और दवाएं नीचे सूचीबद्ध हैं।

दवाएं

परगोनल

इसे आई.वी.एफ. के दौरान बांझपन का इलाज करने और अन्य हार्मोनल दवाओं के साथ सप्लीमेंट के रूप में उपयोग किया जाता है।

क्लोमिड

यह प्रजनन की दवा डिंबोत्सर्जन को सुगम बनाती है।

हुमेगन

यह दवा फॉलिकल स्टिमुलेटिंग हॉर्मोन स्रावित करती है जो डिंबोत्सर्जन में मदद करता है।

सप्लीमेंट 

प्रोजेस्टेरोन

यह गर्भावस्था हार्मोन के रूप में भी जाना जाता है जो गर्भावस्था को बनाए रखने में महत्वपूर्ण है।

फोलिक एसिड सप्लीमेंट 

यह जन्मजात विकलांगता, विशेष रूप से रीढ़ और तंत्रिका तंत्र से संबंधित समस्या को खत्म करने में मदद करता है।

गोनाडोट्रोपिन

ये हार्मोन सेक्स हार्मोन के उत्पादन के लिए होते हैं, जो डिंबोत्सर्जन को भी उत्तेजित करता है।

जुड़वां गर्भधारण के लिए प्रजनन औषधियां

यहाँ कुछ उपयोगी प्रजनन औषधियां बताई गई हैं जो जुड़वां गर्भधारण की संभावना को बढ़ा सकती है।

मुलैठी की जड़

यह हर्ब जुड़वां गर्भधारण करने में काफी मददगार होती है। यह मासिकधर्म चक्र को विनियमित करके डिंबोत्सर्जन की प्रक्रिया में मदद करती है और हार्मोन स्तर को विनियमित करते हुए निषेचन में सुधार लाती है।

मका की जड़

यह जड़ महिला के शरीर में एक स्वस्थ प्रजनन प्रक्रिया में मदद करती है। वास्तव में, यह जड़ी बूटी महिलाओं और पुरुषों दोनों में प्रजनन क्षमता को तेज करती है, जिससे जुड़वां गर्भधारण की संभावना में सुधार होता है।

अलसी का तेल

यह न केवल हार्मोन संतुलन बनाने में मदद करता है, बल्कि महिलाओं में बेहतर प्रजनन क्षमता को भी बढ़ावा देता है। यह मासिकधर्म चक्र को विनियमित करने में भी मदद करता है, जिससे डिंबोत्सर्जन में सहायता मिलती है और यह गर्भधारण को आसान बनाता है।

पीतसेवती का तेल

पीतसेवती तेल के अन्य लाभों के अतिरिक्त, गर्भाधान से संबंधित अनेक सकारात्मक परिणाम देखे गए हैं।

स्वीट कसावा

सप्लीमेंट के रूप में ली जाने वाली यह बेहतरीन हर्ब हाइपरओव्यूलेशन में मदद करती है।

चेस्ट ट्री बेर

यह दोहरे-डिंबोत्सर्जन को बढ़ावा देने में मदद करता है और इसलिए जुड़वां गर्भधारण की प्रक्रिया में सहायता करता है।

ब्लैक कोहोश

यह एक और प्राकृतिक पदार्थ है, जो प्रजनन क्षमता और जुड़वां गर्भधारण को बढ़ावा देता है।

जुड़वा बच्चों की गर्भावस्था के जोखिम क्या हैं?

जुड़वां गर्भधारण के साथ कई बार जोखिम जुड़े होते हैं । उनमें से कुछ हैं:

  • जन्म के समय, शिशु का वजन कम होना
  • समय से पहले डिलीवरी
  • मृतजन्म
  • सेरेब्रल पाल्सी और आटिज्म जैसे जन्मजात दोष
  • गर्भावस्था के दौरान मधुमेह
  • प्रीक्लेम्पसिया
  • सी-सेक्शन की आवश्यकता

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

जुड़वाँ होना कितना आम है?

 

1. जुड़वां शिशु होना कितना आम है?

जुड़वां शिशुओं का होना काफी असामान्य है, कम से कम भारत में, तथापि प्रजनन उपचारों की मदद लेने वाले जोड़ों में जुड़वां शिशु होने की संख्या में लगातार बढ़ोतरी हो रही है। 

2. क्या परिवार में जुड़वां शिशुओं का इतिहास होना, इस संभावना को प्रभावित कर सकता है?

जैसा कि पहले भी चर्चा की गई है, इस संबंध में अनुवांशिकता एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है और यदि आपके पारिवारिक इतिहास में जुड़वां शिशुओं का जन्म हुआ है तो आपके जुड़वां शिशु होने की संभावना बढ़ सकती है।हालांकि, अनुवांशिकता पर भी पूरी तौर से निर्भर नहीं हुआ जा सकता।

3. जुड़वां होने संबंधी तथ्य और मिथक क्या हैं?

चाहे आप जुड़वां गर्भधारण करने की कोशिश कर रही हों या केवल इसकी संभावना की खोज कर रही हों, तो हो सकता है आप कई तथ्यों और काल्पनिक बातों को सुनें, जो इस प्रकार हो सकते हैं:

  • थेरेपी जैसे अरोमाथेरेपी, एक्यूपंक्चर, फ्लावर एसेंस नेचुरोपैथी या काइरोप्रैक्टिक प्रक्रियाओं आदि का उपचार करने से भी जुड़वां शिशु होने की संभावना कम हो जाती है।
  • हालांकि, जब जुड़वां गर्भधारण की बात आती है अनुवांशिकता एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है, लेकिन ऐसा कहना कि यह वैकल्पिक या एक पीढ़ी छोड़ कर प्रभाव डालती है, एक मिथक है।
  • भले ही प्रोटीन और दुग्ध उत्पादों के सेवन से ओव्यूलेशन में तेजी आती है, वे जुड़वां गर्भधारण का आश्वासन नहीं देते हैं।
  • यद्यपि आयु और वजन से काफी फर्क पड़ सकता है, लेकिन जब जुड़वां गर्भधारण की बात आती है तो यह एकमात्र निर्णायक कारक नहीं हो सकता है।

जुड़वां गर्भधारण काफी चुनौतीपूर्ण साबित हो सकता है, यदि फिर भी आप जुड़वां शिशु चाहती हैं, तो आप निश्चित रूप से उपरोक्त तरीकों को अपना सकती हैं।