मासिक धर्म चक्र – यह क्या होता है और आपको कैसे प्रभावित करता है

मासिक धर्म चक्र - यह क्या होता है और आपको कैसे प्रभावित करता है

Last Updated On

एक बार जब आप यौवन की अवस्था में प्रवेश करती हैं, तो आपका शरीर तेज़ी से परिपक्व होता है और बहुत सारे परिवर्तनों से भी गुज़रता है। स्तनों का विकास, जघन के बाल और विशेषकर मासिक धर्म जैसे शारीरिक परिवर्तन होते हैं। इस दौरान हर लड़की के मासिक धर्म की शुरुआत होती है; हालांकि यह वास्तविक समय विभिन्न कारकों के आधार पर अलग-अलग होता है।

माहवारी या मासिक धर्म क्या है?

हर महीने आपका शरीर आपके गर्भाशय को गर्भावस्था के लिए तैयार करता है। इस प्रक्रिया में अंडाणु के प्रत्यारोपण की तैयारी में ऊतक और रक्त से गर्भाशय पर अंदरूनी परत बनती है। मासिक धर्म तब होता है जब यह परत गिरती है और आपके शरीर से गर्भाशय ग्रीवा और योनि द्वारा बाहर निकलती है। इस दौरान, आपको ऊतक और रक्त का स्राव होता है, जो औसतन 3 से 5 दिनों तक चलता है।

मासिक चक्र क्या है?

मासिक चक्र हर महीने होता है, जो महिला के शरीर को गर्भावस्था के लिए तैयार करता है। आपकी माहवारी/मासिक धर्म के पहले दिन से लेकर अगली माहवारी के पहले दिन तक, एक औसत मासिक धर्म चक्र 28 से 29 दिनों का होताहै। संभव है कुछ महिलाओं को 21 दिनों तक के लघुतर चक्र होता है। ऐसी अन्य महिलाएं भी हैं जिनके मासिक चक्र की अवधि 35 दिनों से अधिक होती है।

मासिक चक्र के दौरान क्या होता है?

मासिक धर्म चक्र के चार चरण होते हैं, जो महीने की अवधि के दौरान घटित होते हैं।

पहला चरण: आर्तव प्रावस्था

इस चरण में गर्भाशय में निर्मित परत टूटकर गिरने लगती है, जिस कारण रक्तस्राव शुरू हो जाता है। यह चरण 3 से 5 दिनों तक रहता है और कुछ महिलाओं में थोड़े अधिक समय तक चल सकता है। कई महिलाएं कुछ लक्षणों का अनुभव करती हैं जैसे पेट में ऐंठन, पीठ में दर्द, पैर में दर्द, मनोदशा में अस्थिरता, स्तनों में संवेदनशीलता और इत्यादि। इस दौरान आपको अत्यधिक थकान महसूस हो सकती है और आपकी ऊर्जा में कमी भी हो सकती है।

दूसरा चरण: कूपिक चरण

यह वो अवस्था है जब आपका शरीर डिंबोत्सर्जन की तैयारी कर रहा होता है। एफ. एस. एच. (कूप उत्तेजक हॉर्मोन) एक प्रकार का हॉर्मोन होता है जो अंडाशय को उत्तेजित करता है और परिपक्व अंडाणु तैयार करने के लिए अग्रसरित करता है। यह प्रक्रिया एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरोन जैसे हॉर्मोन भी छोड़ती है जो गर्भाशय की अंदरूनी परत को आने वाले गर्भधारण के लिए तैयार करती है। यह मोटी परत भ्रूण को पोषक तत्व और रक्त प्रदान करने के लिए निर्मित होती है।

एस्ट्रोजेन के स्तर में हुई बढ़ोतरी के कारण इस समय में आप खुद को चुस्त और प्रसन्न महसूस करती हैं । आपको इस समय के दौरान कुछ सफेद स्राव भी हो सकता है, जो एक सामान्य बात है।

तीसरा चरण: ओव्यूलेशन या डिंबोत्सर्ग

डिंबोत्सर्ग तब होता है, जब अंडाशय परिपक्व अंडाणु मुक्त करता है और यह डिंबवाही नलिका के माध्यम से गर्भाशय में जाने लगता है। यह अंडाणु केवल 12 से 24 घंटे तक ही जीवित रह सकता है। इस अवधि के भीतर, यदि अंडाणु एक शुक्राणु के संपर्क में आता है, तो यह निषेचित हो जाता है। यह वे दिन हैं जब आपकी प्रजनन क्षमता अपने चरम पर होती है। यदि आप इस दौरान संभोग करते हैं, तो आपको ध्यान रखना होगा कि आप गर्भ निरोधक का उपयोग करें।

इस अवधि के दौरान आपके शरीर में उत्पादित एस्ट्रोजन का उच्च स्तर आपको ऊर्जा, भाव और यहाँ तक कि आपके कामेच्छा में वृद्धि करता है।

चौथा चरण: पीतपिंड चरण

यह चरण मासिक धर्म चक्र के अंत को चिह्नित करता है, एक बार जब अंडाणु डिंबवाहिनी नलिका से नीचे और गर्भाशय के अंदर चला जाता है, तब आपका शरीर प्रोजेस्टेरोन का उत्पादन करना शुरू कर देता है और यह गर्भाशय की अंदरूनी परत का निर्माण करता है। हालांकि अगर अंडाणु निषेचित नहीं होता है, तो एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरोन के स्तर में गिरावट होने लगती है। इसके अलावा, चूंकि अंडाणु के आरोपण ना होने के कारण गर्भाशय को इस परत की आवश्यकता नहीं होती है और यह परत गर्भाशय से गिरने लगती है। यह वो समय है जब आप एक नए चक्र में प्रवेश करती हैं।

हॉर्मोन कार्य कैसे करते हैं?हॉर्मोन कार्य कैसे करते हैं?

मासिक धर्म चक्र विभिन्न हॉर्मोन द्वारा विनियमित होता है जो शरीर के विभिन्न भागों में उत्पन्न होते हैं।

  • गोनैडोट्रॉफ़िन-रिलीज़िंग हॉर्मोन, जिसे की जी.एन.आर.एच. (CnRH) के रूप में जाना जाता है, मस्तिष्क के हैपॉथेलेमस भाग में उत्पन्न होता है। यह अन्य हॉर्मोन के उत्पादन को उद्यीपित करता है, जैसे फॉलिकल स्टिम्युलेटिंग हॉर्मोन (FSH) और ल्यूटिनाइजिंग हॉर्मोन(LH)।
  • ऍफ़.एस.एच. या कूप उत्तेजक हॉर्मोन, मस्तिष्क में पिट्यूटरी ग्रंथि द्वारा निर्मित होता है और अंडाशय में अंडाणु को परिपक्वव या तैयार होने में मदद करता है।
  • पीयूषिका (पिट्यूटरी) ग्रंथि में भी उत्पादित, ल्यूटिनाइजिंग हॉर्मोन अंडाशय को अंडाणु से मुक्त करने के लिए उद्यीपित करता है।
  • आपका अंडाशय एस्ट्रोजन का उत्पादन करता हैं जो यौवन के दौरान आपके शरीर में होने वाले परिवर्तनों के लिए जिम्मेदार है। आपके शरीर में, खासकर प्रजनन चक्र के दौरान इसकी बहुत सी भूमिकाएं होती हैं।
  • प्रोजेस्टेरोन हॉर्मोन, जो अंडाशय द्वारा भी बनाया जाता है, आपके प्रजनन चक्र को नियमित बनाए रखने के साथ-साथ गर्भावस्था की तैयारी का भी कार्य करता है।

डिंबोत्सर्ग के दौरान

डिंबोत्सर्ग के दौरान, आपके शरीर में एस्ट्रोजन के स्तर में वृद्धि होती है जिसके कारण ऍफ़.इस.एच. हॉर्मोन में तुरंत कमी आ जाती है। लेकिन ल्यूटिनाइजिंग हॉर्मोन में वृद्धि के साथ, ऍफ़.इस.एच. भी बढ़ जाता है। ल्यूटिनाइजिंग हॉर्मोन डिंबोत्सर्ग को सक्रिय कर देता है और अंडाणु थैली से और अंडाशय से बाहर निकल जाता है। यह अंडाणु फिर डिंबवाही नलिका द्वारा पकड़ लिया जाता है।

सामान्य दिनों के दौरान गर्भाशय ग्रीवा में गाढ़ा श्लेम बनता है जिसमें शुक्राणु प्रवेश नहीं कर सकते हैं। डिंबोत्सर्ग से पहले, एस्ट्रोजन हॉर्मोन इस गाढ़े श्लेम को बदलकर इसे पतला बनाता है। इससे शुक्राणु अंडाणु को निषेचित करने के लिए तैर कर गर्भाशय के अंदर जा पाते हैं।

डिंबोत्सर्ग के बाद

अंडाणु के मुक्त होने के बाद अंडाशय का कूप जिसमें बदल जाता है उसे पीतपिंड कहते हैं। पीतपिंड कोशिकाओं का एक पीला पिंड होता है जो प्रोजेस्टेरोन हॉर्मोन के उत्पादन के लिए ज़िम्मेदार होता है। प्रोजेस्टेरोन श्लेम को फिर से गाढ़ा कर देता है और जिस कारण शुक्राणुओं का प्रवेश निषेध हो जाता है। इस समय आप देख सकते हैं कि आपका योनि का स्राव गाढ़ा और चिपचिपा होता है।

प्रोजेस्टेरोन, रक्त और ऊतकों की एक मोटी अंदरूनी परत बनाकर अंडे के आरोपण के लिए गर्भाशय की दीवारों को भी तैयार करता है। प्रोजेस्टेरोन के स्तर में वृद्धि के साथ, आपके स्तनों में थोड़ा खिंचाव भी महसूस हो सकता है और आप उनमें झुंझुनाहट वाली सनसनी का अनुभव भी कर सकती हैं।

डिंबोत्सर्ग के बाद, पिट्यूटरी ग्रंथि अब और अधिक अंडाणु को परिपक्व होने से रोकने के लिए ऍफ़.इस.एच. हॉर्मोन का उत्पादन करना बंद कर देती है।

अगर निषेचन हो जाए तो क्या होता है?

यदि अंडाशय से छूटा हुआ परिपक्व अंडाणु, डिंबवाही नलिका में शुक्राणु द्वारा निषेचित हो जाता है तो यह गर्भाशय के अंदर जाता है और गर्भाशय की अंदरूनी परत पर प्रत्यारोपित हो जाता है। अंडाणु को अंडाशय से गर्भाशय तक पहुँचने में छः से बारह दिन के बीच का समय लगता है। इस दौरान, अंडाणु में सिर्फ़ 150 कोशिकाएं होती हैं। इस समय आप गर्भावस्था के शुरुआती लक्षणों को भी महसूस करना शुरू कर सकती हैं क्योंकि आपके शरीर में प्रोजेस्टेरोन का स्तर बढ़ना जारी रहता है।

क्या होता है अगर निषेचन नहीं हो पाता है?

यदि निषेचन नहीं हो पाता है या अंडाणु गर्भाशय की दीवार पर सफलतापूर्वक प्रत्यारोपण नहीं कर पाता है तो अंडाणु का विघटन शुरू हो जाता है। पीतपिंड भी सिकुड़ जाता है और आपके शरीर में एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरोन का स्तर कम होने लगता है।

गर्भाशय प्रोस्टाग्लैंडिंस नामक एक रसायन का उत्पादन करता है, जो गर्भाशय की तरफ होने वाली रक्त की आपूर्ति को बदल सकता है, गर्भाशय की दीवारों पर बनाई गई अंदरूनी परत को तोड़कर गर्भाशय को संकुचित करता है। इसी समय वह परत अनिषेचित अंडाणु के साथ-साथ गिरने लगती है और माहवारी शुरू हो जाती है।

सामान्य माहवारी कैसी होती हैं?

सामान्य माहवारी में आपकी योनि से लगभग 3 से 5 दिनों तक रक्तस्राव होता है। कुछ महिलाओं में रक्तस्राव कम या अधिक समय तक चल सकता है। मासिक धर्म प्रवाह या योनि से निकलने वाले रक्त की मात्रा को भारी, मध्यम या हल्के प्रवाह के रूप में वर्गीकृत किया जा सकता है। यह एक महिला से दूसरी महिला में भिन्न होता है। मासिक धर्म के दौरान रक्तस्राव शुरुआत के कुछ वर्षों में ज़्यादा लंबे समय तक चल सकता है और उम्र बढ़ने के साथ नियमित होने लगता है।

माहवारी से जुड़ी समस्याएं

ऐंठन, प्रागार्तव (PMS), दर्द और शरीर में दर्द के अलावा आपकी माहवारी के साथ आने वाली कई समस्याएं हो सकती हैं।

1. अत्यार्तव

इसमें भारी रक्तस्राव होता है जो पाँच से सात दिनों तक रह सकता है। अत्यार्तव एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरोन जैसे के स्तर में असंतुलन के कारण होता है। योनि में संक्रमण, गर्भाशय ग्रीवा में सूजन, हाइपोथायरायडिज्म, गर्भाशय में रसौली और इत्यादि भी इसका कारण हो सकते हैं।

2. अनार्तव

इसे अनुपस्थित माहवारी भी कहा जाता है। यहाँ अलग-अलग कारणों से आपको माहवारी नहीं हो पाती है। प्राथमिक अनार्तव तब होता है जब आप 16 वर्ष की होते हुए भी आपको मासिक धर्म नहीं होता है यह युवास्था में देरी, प्रजनन प्रणाली में जन्मजात दोष या पीयूष ग्रंथि में समस्या जैसे कारणों से हो सकता है। अवटु अतिक्रियता, क्षुधा-अभाव, डिम्बग्रंथि पुटी, गर्भावस्था, गर्भ निरोधक को रोक देना या अचानक वज़न बढ़ने या कम होने के कारण द्वितीयक अनार्तव हो सकता है।

3. कष्टार्तव

कष्टार्तव के कारण माहवारी के दौरान आपको तीव्र दर्द का अनुभव हो सकता है। हालांकि प्रागार्तव (PMS) के दौरान गर्भाशय के सिकुड़ने और फैलने के दौरान ऐंठन सामान्य होती है, कष्टार्तव वाली महिलाओं को अत्यंत कष्टकारी दर्द का अनुभव होता है। यह श्रोणि कि सूजन, रसौली या एंडोमेट्रियोसिस (गर्भाशय में ऊतक की असामान्य वृद्धि) के कारणों से हो सकता है।

कष्टार्तव

एक लड़की को आमतौर पर पहली माहवारी कब होती है?

पहली माहवारी आमतौर पर 10 से 12 साल की उम्र के बीच में शुरू होती है। लेकिन कुछ लड़कियों को यह जल्दी 10 साल की उम्र में भी हो सकती है या देर से 15 या 16 की उम्र तक हो सकती है। पहली माहवारी की उम्र इस बात पर भी निर्भर हो सकती है कि माँ को पहली माहवारी कब हुई थी । यह भी देखा गया है कि लड़की में स्तनों और जघन के बाल विकसित होने के लगभग दो साल बाद माहवारी शुरू होने की संभावना होती है।

रजोनिवृत्ति कब शुरू होती है?

एक महिला को रजोनिवृत्त तब कहा जाता है जब उसे 12 महीनों से अधिक समय तक माहवारी नहीं हुई हो। महिलाओं में रजोनिवृत्ति पहुँचने की औसत आयु 40 से 50 वर्ष के बीच है। हालांकि, कुछ महिलाएं अपने 30 के दशक में रजोनिवृत्ति में प्रवेश करती हैं और अन्य को रजोनिवृत्ति तब तक नहीं मिलती है जब तक कि वे अपने 60 के दशक में नहीं होती हैं।

आपको पैड/टैम्पोन को कितनी बार बदलना चाहिए?

संक्रमण और बैक्टीरिया में वृद्धि होने से बचने के लिए आपको हर चार घंटे में अपना पैड बदलने की आवश्यकता है। यदि आप टैम्पोन का उपयोग कर रही हैं, तो टी.एस.एस. या विषाक्त शॉक सिंड्रोम (टैम्पोन को आठ घंटे से अधिक समय तक पहनने के कारण बैक्टीरिया द्वारा विषाक्त या ज़हर बन जाने कि स्थिति) से बचने के लिए इसे आठ घंटे से अधिक नहीं पहनना ही उत्तम माना जाता है। स्पंज और मासिक धर्म के कप को, अपने प्रवाह की मात्रा के आधार पर दिन में एक या दो बार बदला जा सकता है।

यह महत्त्वपूर्ण है कि वे उत्पाद उपयोग करें जो आपके रक्तस्राव की मात्रा के लिए उपयुक्त हो। आप अलग-अलग दिनों में अलग-अलग उत्पादों का प्रयोग भी कर सकती हैं क्योंकि जैसे-जैसे आपकी माहवारी आगे बढ़ती है, आपके मासिक धर्म के प्रवाह में परिवर्तन होता है।

आपको कब स्त्री रोग विशेषज्ञ से परामर्श लेना चाहिए?आपको कब स्त्री रोग विशेषज्ञ से परामर्श लेना चाहिए?

आपको निम्नलिखित मामलों के तहत डॉक्टर से परामर्श करने की आवश्यकता है :

  • अगर आपको 15 वर्ष की आयु तक पहली माहवारी नहीं हुई है।
  • आपके स्तन विकसित नहीं हुए हैं या स्तनों के विकास के तीन वर्ष के भीतर आपको माहवारी शुरू नहीं हुई है।
  • माहवारी आना 90 दिनों से अधिक समय तक एकाएक रुक जाता है।
  • अनियमित माहवारी।
  • अगर आपको सात दिनों से ज़्यादा रक्तस्राव होता है।
  • अगर आपको बहुत ज़्यादा रक्तस्राव हो, जिस वजह से हर दो घंटे में एक से अधिक पैड या टैम्पोन का उपयोग करना पड़े।
  • आपको दो माहवारियों के बीच रक्तस्राव होता है।
  • मासिक धर्म के दौरान गंभीर ऐंठन और दर्द होता है।
  • अगर आपको टैम्पोन का उपयोग करने के बाद बुखार हो गया है।

मासिक धर्म एक महिला के जीवन का महत्वपूर्ण पड़ाव है क्योंकि यह उसके शरीर को गर्भधारण करने में सक्षम बनाता है। चूंकि आप अपने स्त्रीत्व की यात्रा शुरू करने जा रही हैं, यह समझना महत्वपूर्ण है कि आपका मासिक चक्र कार्य कैसे करता है ताकि आप सजग एवम् सुरक्षित रहें।