मासिक धर्म से पहले 21 प्रारंभिक गर्भावस्था के लक्षण

Early Pregnancy Symptoms before Missed Period

Last Updated On

मासिक धर्म ना होना निश्चित रूप से गर्भावस्था का सबसे स्पष्ट संकेत है, लेकिन केवल यही एक संकेत नहीं है। आपके मासिक धर्म ना होने से पहले एक अंडा निषेचन के बाद गर्भाशय की दीवार में प्रत्यारोपित हो जाता है। जिस क्षण प्रत्यारोपण होता है, आप गर्भवती हो जाती हैं। जब आप गर्भावस्था के कुछ दिनों या हफ्तों को पार कर जाती हैं, तो शरीर निश्चित रूप से मासिक धर्म की तारीख से पहले ही गर्भावस्था के संकेत देना शुरू कर देता है। गर्भधारण के लक्षण आमतौर पर गर्भाधान के पहले सप्ताह के दौरान दिखाई देने लगते हैं। हालांकि, उत्साहित और चिंतित आशान्वित माँओं का ध्यान उन संकेतों पर नहीं जाता है। क्या कोई तरीका है कि जिससे आप मासिक धर्म न होने से पहले ही जान लें कि आप गर्भवती हैं? जानने के लिए आगे पढ़ें।

मासिक धर्म न होने से पहले गर्भावस्था के संकेत और लक्षण

मासिक धर्म न होने से पहले गर्भावस्था के संकेत और लक्षण

आप गर्भवती हैं या नहीं, यह जानने का सबसे सटीक तरीका निःसन्देह ही प्रेग्नेंसी टेस्ट है। लेकिन मासिक धर्म न होने से पहले कुछ सामान्य लक्षणों का दिखना गर्भावस्था के पहले संकेत हो सकते हैं। यहाँ गर्भावस्था के कुछ शुरुआती लक्षणों की एक सूची दी गई है जिसकी मदद से आप समझ सकती हैं कि आप गर्भवती हैं या नहीं और टेस्ट तक की तनावपूर्ण प्रतीक्षा से छुटकारा पा सकती हैं ।

1 . प्रत्यारोपण, रक्तस्राव और ऐंठन

मासिक धर्म के दौरान ऐंठन, हल्का रक्तस्राव, और स्पॉटिंग जिसे आमतौर पर प्रत्यारोपण रक्तस्राव कहा जाता है, गर्भावस्था के शुरुआती और स्पष्ट संकेत हैं। निषेचित अंडा अपने आप को गर्भाशय की दीवार से जोड़ता है जिसके परिणामस्वरूप प्रत्यारोपण होता है। यदि आपका मासिक धर्म चक्र नियमित है, तो मासिक धर्म ना होने की तारीख के लगभग एक सप्ताह पहले से प्रत्यारोपण रक्तस्राव के संकेत नज़र आने लगते हैं, यह कुछ घंटों या कुछ दिनों तक भी हो सकता है। यह अंतर्वस्त्र पर खून के हल्के निशान के रूप में या योनि को पोंछते समय हल्के रक्तस्राव के रूप में दिखाई दे सकता है। लेकिन ध्यान दें कि ज़्यादा रक्तस्राव न हो क्योंकि ऐसा गर्भपात होने पर हो सकता है या फिर मासिक धर्म के कारण भी हो सकता है।

2 . बढ़ा हुआ बुनियादी बॉडी तापमान

बाकी लक्षणों की तुलना में अक्सर अधिक सटीक, ध्यान देने योग्य परिवर्तन का पता लगाने के लिए बुनियादी बॉडी तापमान की महीनों तक जाँच करनी चाहिए। ओव्यूलेशन से पहले, शरीर का तापमान बढ़ जाता है और आपके मासिक धर्म के बाद वापस सामान्य हो जाता है। लेकिन गर्भावस्था के दौरान, बुनियादी शरीर का तापमान लगातार बढ़ा रहता है और प्रत्यारोपण होने पर, शरीर एक नया जीवन समायोजित करने के लिए खुद को तैयार करता है, जिसके परिणामस्वरूप तापमान बढ़ जाता है। प्रतिरक्षा प्रणाली खुद को गर्भावस्था के लिए तैयार करती है। यदि आपके शरीर का तापमान ओव्यूलेशन के 20 दिनों से ज्यादा समय पार होने के बाद भी बढ़ रहा है, तो यह एक नए सफर की शुरुआत का संकेत है।

3 . पीड़ादायक, संवेदनशील और भारी स्तन

मासिक धर्म न होने से एक सप्ताह पहले से ही पीड़ादायक, संवेदनशील व भारी स्तन या निप्पल के चारों तरफ के रंग का गहरा होना नज़र आने वाले गर्भधारण के लक्षण होते हैं। गर्भाधान के बाद एस्ट्रोजेन का स्तरबढ़ने के साथ, महिलाएं अत्यधिक पीड़ित व भराभरा महसूस करती हैं, और स्तन में तेज़ दर्द होता है। निप्पल गहरे रंग के दिखने शुरू हो जाते हैं और इनमें खुजली, तनाव या चुभन भी महसूस होती है। हालांकि यह लक्षण मासिक धर्म से पहले निप्पल की स्थिति के संकेत से बहुत अलग नहीं हैं, लेकिन आपके मासिक धर्म ना होने के बाद भी यह लक्षण बरक़रार रहते हैं।

4 . थकावट

हॉर्मोन में परिवर्तन के कारण आप हर समय थकान महसूस करती हैं। थकावट और नींद आना गर्भवती होने के शुरुआती लक्षण हैं, मामूली काम करने के बाद थकान महसूस होना बेहद सामान्य है। ज्यादा सोने की प्रवृत्ति के लिए प्रोजेस्टेरोन के बढ़ते स्तर को दोषी माना जा सकता है और यह पहली तिमाही की पूरी अवधि के दौरान जारी रहता है। बढ़ते भ्रूण का समर्थन करने के लिए शरीर अधिक रक्त का उत्पादन करना शुरू कर देता है जिसके परिणामस्वरूप थकावट बढ़ जाती है। यह खनिज, विटामिन, आयरन और बहुत सारे तरल पदार्थों से भरपूर स्वस्थ आहार खाने से ठीक किया जा सकता है।

5 . जी मिचलाना

मतली या उल्टी, एक मामूली लक्षण है, जिसे अक्सर मॉर्निंग सिकनेसकहा जाता है। यह लक्षण प्रमुख है और यह संकेत दे सकता है कि आप गर्भवती हैं। गर्भाधान के कुछ दिनों के भीतर, आप बेचैन महसूस करना और मतली का अनुभव करना शुरू कर सकती हैं। एस्ट्रोजेन और प्रोजेस्टेरोन के स्तर में वृद्धि के कारण, आपको हर दिन उठते ही उल्टी सी लग सकती है। जरूरी नहीं कि मतली हमेशा सुबह ही हो, यह कभी भी हो सकती है व पूरे दिन तक चल सकती है और गर्भावस्था की पूरी अवधि के दौरान यह परेशानी जारी रह सकती है। मासिक धर्म ना होने से पहले शुरुआती हफ्तों में लगभग 80% गर्भवती महिलाओं को मतली होती है। मॉर्निंग सिकनेस या मतली के लक्षणों की तीव्रता अलगअलग महिलाओं में अलगअलग प्रकार से होती है, लेकिन 50% गर्भवती महिलाओं को गर्भधारण के छह सप्ताह के भीतर या उससे भी पहले से मतली महसूस होती है।

6 . कुछ विशेष खाने की इच्छा, कुछ चीज़ों से चिढ़ और गंध के प्रति संवेदनशीलता

गर्भावस्था के हॉर्मोन आपके पसंदीदा भोजन की लालसा को प्रकट करने में एक प्रमुख भूमिका निभाते हैं और कुछ ख़ास महक से चिढ़ का कारण भी बन सकते हैं। गंध के लिए अचानक बढ़ती संवेदनशीलता, चटपटे स्वाद की लालसा और कुछ खाद्य पदार्थों से चिढ़ गर्भाधान के बाद शुरुआती हफ्तों के दौरान हो सकती है और यह पूरी गर्भावस्था के दौरान जारी रह सकता है या नहीं भी। कुछ गर्भवती महिलाओं में मासिक धर्म ना होने से पहले ही भूख ना लगने की परेशानी शुरू हो जाती है।

7 . सूजन और कसाव का एहसास

मासिक धर्म ना होने से पहले, गर्भावस्था के सबसे आम लक्षणों में से एक है पेट में सूजन या मरोड़ और खिचाव, यह प्रोजेस्टेरोन के बढ़ने का परिणाम हो सकता है। हॉर्मोन का बढ़ता स्तर पाचन में बाधा डालता है और इसी कारण से आंतों में गैस फंस जाती है। पेट में सूजन के कारण कमर पर कपड़े कस सकते हैं और इसके परिणामस्वरूप बेचैनी हो सकती है। पेट फूलने के कारण पाद और डकार की समस्या भी उत्पन्न हो सकती है। स्वस्थ और नियंत्रित आहार करने से इस तरह की परेशानी को खत्म करने में मदद मिल सकती है।

8 . बारबार पेशाब करने की ज़रूरत

बारबार पेशाब करने की ज़रूरत महसूस होना एक और प्रमुख संकेत है। यह प्रवृत्ति गर्भावस्था के दौरान बढ़ती है जब बढ़ता गर्भाशय, मूत्राशय पर दबाव डालना शुरू करता है। हॉर्मोन में परिवर्तन और रक्त के अतिरिक्त उत्पादन के साथ, बारबार पेशाब आना एक सामान्य लक्षण है जो पूरी गर्भावस्था के दौरान रहेगा। रक्त को छानने के लिए गुर्दे अधिक समय तक काम करते हैं, जिससे बारबार पेशाब करने की ज़रूरत महसूस होती है। लगभग सभी गर्भवती महिलाएं इस लक्षण का अनुभव करती हैं जो गर्भावस्था के शुरुआती लक्षणों में से एक है, यह आपके मासिक धर्म की तारीख के करीब होने पर शुरू होता है।

9 . मिजाज़ में अचानक परिवर्तन

हॉर्मोन में परिवर्तन आपको या तो प्रसन्नता या फिर बहुत ही उदासीन महसूस कराता है। मासिक धर्म ना होने से पहले का एक और प्रारंभिक संकेत है मिजाज़ में बदलाव, यह रहस्यमय तरीके से बदलने लगता है, और आप सबसे मामूली या तुच्छ मुद्दों पर रोना शुरू कर सकती हैं। हॉर्मोन में असंतुलन मस्तिष्क में न्यूरोट्रांसमीटर को प्रभावित करता है, जिससे क्रोध से लेकर अचानक भावनात्मक आवेग के दौर बढ़ जाते हैं। यदि आप सामान्य महसूस नहीं करती हैं तो आराम करने के लिए थोड़ा समय निकालें।

10 . सिर चकराना

चक्कर आना और बेहोशी का एहसास गर्भावस्था का एक प्रारंभिक लक्षण है जो कई गर्भवती महिलाओं में होता है। रक्त वाहिकाएं चौड़ी हो जाती हैं, जिससे रक्तचाप में कमी होती है और चक्कर व असंतुलन महसूस होता है।यह लक्षण पहली तिमाही के दौरान दिखाई देता है और धीरेधीरे बाद के महीनों में कम हो जाता है। लेकिन अगर चक्कर आने के साथ योनि से खून बहता है और पेट में दर्द भी महसूस होता है, तो आपको तुरंत डॉक्टर से परामर्श लेना चाहिए।

11 . कब्ज़

प्रोजेस्टेरोन हॉर्मोन आंतों में कसाव पैदा करता है और इस दौरान यदि आपको शौच में तकलीफ होती है, तो यह गर्भावस्था का प्रारंभिक संकेत हो सकता है। हॉर्मोन के अचानक बढ़ने के कारण मलोत्सर्ग कड़ा हो जाता है और पाचन तंत्र से पार होने वाले भोजन की गति कम हो जाती है। यदि आपको मासिक धर्म न होने के एक सप्ताह बाद तक कब्ज़ महसूस होता है, तो आपको प्रेग्नेंसी टेस्ट करने पर विचार करना चाहिए।

12 . सिरदर्द

सिरदर्द सबसे आम मासिक धर्म होने से पहले के लक्षण हैं, हालांकि गर्भाधान होने पर, एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरोन हॉर्मोन बच्चे के लिए गर्भाशय को तैयार करने के लिए अतिरिक्त काम करते हैं। हॉर्मोन के कारण रक्त शर्करा के स्तर में गिरावट आती है जिससे सिरदर्द होता है क्योंकि मस्तिष्क की कोशिकाएं शर्करा के निम्न स्तर के साथ तालमेल रखने के लिए संघर्ष करती हैं।

13 . दर्द एवं पीड़ा

हॉर्मोन आपके अंदर नए जीव के लिए जगह बनाने का काम करते हैं और यह स्नायुबंधन को प्रभावित करता है जिसे विस्तृत होने की आवश्यकता होती है। स्नायुबंधन और जोड़ों में खिंचाव के कारण मासिक धर्म के निर्धारित समय से पहले आपकी रीढ़ की हड्डी के क्षेत्र में दर्द हो सकता है।

14. मुँह में अजीब स्वाद

हार्मोन में अजीब गतिविधियों के कारण आपको अपने मुँह में एक अजीब स्वाद महसूस हो सकता है। आपको ऐसा लगेगा जैसे कि आपने कुछ बेस्वाद धातु खाया है। यह धातु जैसा स्वाद आपको यह बताने का एक प्रारंभिक संकेत हो सकता है कि आपने मातृत्व की यात्रा शुरू कर दी है। लक्षण आमतौर पर पहली तिमाही के बाद खत्म हो जाते हैं लेकिन कुछ महिलाओं में अधिक समय तक जारी रह सकते हैं।

15 . अत्यधिक प्यास या बारबार खाने की प्रवृत्ति

यदि आप ढेर सारा पानी पीने लगती हैं तो आश्चर्यचकित न हों, रक्त की मात्रा में वृद्धि से आप मासिक धर्म ना होने की तारीख से पहले ही अत्यधिक प्यास महसूस कर सकती हैं। हॉर्मोन में वृद्धि होने के कारण आपको हर समय भूख लगती रहेगी और आपको बारबार खाना खाने की इच्छा होगी ।

16 . ग्रीवा के श्लेम में परिवर्तन

ग्रीवा के श्लेम में वृद्धि, गर्भावस्था का एक प्रारंभिक संकेत है। गर्भाधान के बाद, ग्रीवा का श्लेम अत्यधिक गाढ़ा और मलाई जैसा दिखाई देता है और यह मासिक धर्म के निर्धारित समय पर नहीं होने तक उसी तरह रहता है। पेशाब के समय आपको चुभन की अनुभूति हो सकती है या आपकी योनि के चारों ओर खुजली और सूजन हो सकती है।

17 . सांस फूलना

सांस फूलना गर्भावस्था का एक और प्रारंभिक संकेत हो सकता है क्योंकि शरीर को दो जीवों के लिए सांस लेने पर अधिक ऑक्सीजन और रक्त की आवश्यकता होती है। बढ़ते बच्चे के साथ अधिक ऑक्सीजन और पोषण की आवश्यकता सभी त्रैमासिकों में रहती है ।

18 . लार टपकना या अत्यधिक थूक बनना

हालांकि यह आम लक्षण नहीं है, कुछ महिलाओं में मासिक धर्म ना होने से पहले अत्यधिक लार का उत्पादन होता है। यह स्थिति आमतौर पर टाइलिस ग्रेडिडारम के नाम से जानी जाती है जो मॉर्निंग सिकनेस और छाती में जलन से संबंधित है। मतली की अनुभूति के कारण मुँह में अतिरिक्त लार का निर्माण होता है।

19 . गर्मी महसूस करना

यह मासिक धर्म होने के निर्धारित समय पर या मासिक धर्म बंद होने के बाद आमतौर पर अनुभव किया जाता है लेकिन अचानक गर्मी लगना गर्भावस्था का शुरुआती संकेत भी हो सकता है। यदि आपको महसूस होता है कि गर्मी की लहर आपके शारीरिक अंगों को जकड़ रही है, तो यह आपके गर्भवती होने का संकेत हो सकता है।

20 . धब्बे, मुंहासे और फुंसी

मासिक धर्म के निर्धारित समय से पहले मुंहासे और फुंसी का कभीकभी होना आम है। गर्भाधान के बाद हॉर्मोन के स्तर में वृद्धि होने के परिणामस्वरूप अचानक से यह बहुत ज्यादा बढ़ सकते हैं। खैर, इसका उल्टा भी हो सकता है, मासिक धर्म के निर्धारित समय से पहले मुंहासे बिलकुल साफ भी हो सकते हैं और यह संकेत हो सकता है कि गर्भावस्था शुरू हो गई है।

21 . अजीब सपने

गर्भावस्था के शुरुआती हफ्तों में अजीब सपने आना आम बात है। यह एक अजीब गर्भावस्था का लक्षण है जहाँ कई महिलाओं को गर्भाधान के एक या दो सप्ताह बाद अजीब भावनाओं की अनुभूति होती है। गर्भावस्था के हॉर्मोन विचित्र तरीके से काम करते हैं, जिससे एक गर्भवती महिला को बेवजह सपने और भ्रम पैदा होते हैं।

मासिक धर्म के निर्धारित समय पर ना होने से कितना पहले गर्भावस्था के लक्षणों का अनुभव किया जा सकता है?

हर महिला में लक्षणों के नज़र आने में भिन्नता होती है। कोमल स्तन, मतली, थकान, नींद, गंध के प्रति संवेदनशीलता और पेट में सूजन आम लक्षण होते हैं जो मासिक धर्म के न होने से एक सप्ताह या दस दिन पहले शुरू होते हैं। बारबार पेशाब आना आमतौर पर मासिक धर्म के निर्धारित समय से कुछ दिन पहले होता है। योनि से स्राव, ग्रीवा के श्लेम के रंग में परिवर्तन, निप्पल के चारों तरफ के रंग का गहरा होना, जैसे अन्य लक्षण कुछ समय बाद दिखते हैं और बारीकी से इनकी जाँच करने की आवश्यकता होती है।

मासिक धर्म के होने में देरी के कारण

कई कारकों के कारण मासिक धर्म के होने में देरी हो सकती है, ऐसा भी हो सकता है कि आप गर्भवती हैं। हालांकि हॉर्मोन में परिवर्तन, वज़न बढ़ना, वज़न कम होना, दवा, खाने के विकार तनाव, पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम, थायराइड, जन्म नियंत्रण की गोलियाँ या नशीली दवाओं के प्रयोग से भी मासिक धर्म में देरी हो सकती है।

पी.एम.एस और गर्भावस्था के लक्षणों के बीच क्या अंतर है?

गर्भावस्था के लक्षण और पूर्वमासिक धर्म सिंड्रोम (पी.एम.एस) के प्रभाव काफी एक जैसे होते हैं और इसलिए आपको अपनी गर्भावस्था की पुष्टि करने के लिए थोड़ी प्रतीक्षा करने की आवश्यकता होती है। लगातार बढ़ा हुआ बेसल बॉडी तापमान, मलाई जैसा योनि से स्राव और निप्पल के चारों तरफ के रंग का गहरा होना गर्भाधान के कुछ स्थाई संकेत हैं। हालांकि, उनमें से कोई भी पूर्णप्रमाणित नहीं है और प्रग्नेंसी टेस्ट एकमात्र तरीका है यह पुष्टि करने का कि गर्भावस्था के अन्य शुरुआती लक्षण गर्भधारण के कारण हैं या पूर्वमासिक धर्म सिंड्रोम के कारण हैं।

क्या ऐसा हो सकता है कि मासिक धर्म ना हो लेकिन गर्भधारण भी न हो?

एक बार मासिक धर्म न होने का मतलब यह नहीं है कि आप गर्भवती हैं। देरी से मासिक धर्म होने के कई कारण हो सकते हैंहॉर्मोन में परिवर्तन, तनाव और जब तक प्रेग्नेंसी टेस्ट से इसकी पुष्टि नहीं होती, तब तक मासिक धर्म का न होना गर्भावस्था का संकेत नहीं माना जा सकता है।

क्या ऐसा हो सकता है कि मासिक धर्म हो लेकिन गर्भधारण भी हो जाए?

गर्भावस्था के शुरुआती चरणों के दौरान रक्तस्राव होना गर्भवती महिलाओं के लिए असामान्य नहीं है। गर्भाधान के 6 से 12 दिन बाद प्रत्यारोपण के कारण रक्तस्राव होता है। हल्का रक्तस्राव, मध्यम गुलाबी या हल्के भूरे रंग का स्राव होना संभव है जो कुछ घंटों या कुछ दिनों तक चलता रहता है। हालांकि, यदि आपके मासिक धर्म चक्र अनियमित है, तो हल्का रक्तस्राव मध्यचक्र गड़बड़ी के कारण हो सकता है, जिसके बाद मासिक धर्म शुरू होता है। यह पुष्टि करने के लिए कि आप गर्भवती हैं, पास के औषधि विक्रेता से होम प्रेगनेंसी किट लें या निश्चित जवाब पाने के लिए, अपने डॉक्टर से सलाह लें।

होम प्रेगनेंसी टेस्ट लेने के लिए कितने समय तक इंतजार करना चाहिए?

गर्भावस्था के शुरुआती लक्षण आपके मासिक धर्म के समय से कुछ सप्ताह पहले दिखाई देते हैं, लेकिन होम प्रेगनेंसी टेस्ट करने के लिए ओव्यूलेशन की तारीख से दो सप्ताह की औसत प्रतीक्षा अवधि की अनुशंसा की जाती है। मानव कोरियोनिक गोनाडोट्रोपिन (एचसीजी) एक प्लेसेंटानिर्मित हॉर्मोन है जो गर्भाशय में एक भ्रूण को प्रत्यारोपित करने के बाद मूत्र में मिल जाता है, यह निषेचन के लगभग 6 से 12 दिन बाद होता है। एचसीजी का स्तर परीक्षण से तभी पता चलता है जब मासिक धर्म का समय पास हो, होम प्रेगनेंसी टेस्ट करने का सही समय आपके मासिक धर्म के निर्धारित समय के एक हफ्ते बाद है। एक सही परिणाम की 90% संभावना तब होती है, जब परीक्षण मासिक धर्म की निर्धारित तिथि बीतने के बाद किया जाता है।

गर्भावस्था के लक्षणों का अनुभव होना कब शुरू होता है?

गर्भाधान के 6 से 14 दिन बाद गर्भावस्था के शुरुआती लक्षण सामने आते हैं। एक बार जब आप ओव्यूलेशन अवधि के दौरान यौनसंबंध बनाते हैं, तो शरीर में बढ़ते भ्रूण के लिए खुद को तैयार करना शुरू कर देता है। अंडा खुद को निषेचित करता है और भ्रूण गर्भाशय की दीवार में खुद को प्रत्यारोपित करता है औरआपके मासिक धर्म होने के दस दिन पहले आप गर्भवती हो जाती हैं। इसी समय आप थकान, मतली और क्लांति के शुरुआती लक्षणों का अनुभव करना शुरू करती हैं लेकिन प्रेगनेंसी टेस्ट मासिक धर्म की निर्धारित तारीख पर न होने के एक या दो सप्ताह की अवधि के बाद ही सर्वोत्तम परिणाम देता है क्योंकि मूत्र में गर्भावस्था हॉर्मोन का स्तर उचित स्तर तक होना चाहिए।

गर्भावस्था

गर्भावस्था के लक्षण और चरण हर महिला में कभी भी एक जैसे नहीं होते हैं। आपके द्वारा अनुभव किए जाने वाले कुछ लक्षण किसी बीमारी के कारण भी हो सकते हैं जिनके बारे में आपको जानकारी नहीं हो, ऊपर बताए गए लक्षण पूर्ण रूप से गर्भावस्था की पुष्टि नहीं करते हैं। यदि आप परिवार शुरू करने की सोच रही हैं तो उपरोक्त संकेतों के नज़र आने पर ध्यान दें। संभव है कि इन में से कोई भी लक्षण न दिखें लेकिन तब भी महिला गर्भवती हो और पूरी तरह से सामान्य बच्चा पैदा हो। गर्भावस्था की पुष्टि तभी की जा सकती है जब आपको मासिक धर्म निर्धारित समय पर न हो या प्रेगनेंसी टेस्ट किट द्वारा परीक्षण किया जाए लेकिन हर बार किसी डॉक्टर द्वारा रक्त परीक्षण करके ही इसकी पुष्टि की जा सकती है।