प्लेसेंटा प्रीविया: कारण, उससे संबंधित ख़तरा और उपचार

प्लेसेंटा प्रीविया: कारण, उससे संबंधित ख़तरा और उपचार

Last Updated On

गर्भनाल (प्लेसेंटा) गर्भवती महिलाओं में पैनकेक के आकार का अंग होता है। यह भ्रूण को पोषक तत्व, ऑक्सीजन प्रदान करती है, उसके लिए तापमान नियंत्रित करती है और आंतरिक संक्रमणों से रक्षा करने के लिए जिम्मेदार होती है। बच्चा नाभिरज्जु के माध्यम से इससे जुड़ा होता है और यह उसे विकसित करने के लिए आवश्यक पोषक तत्व उपलब्ध कराती है। गर्भनाल, विकसित होते ही भ्रूण को माँ के गर्भाशय की दीवार से जोड़ती है। गर्भनाल, गर्भाशय की दीवारों से जुड़ी रहती है और इसमें से भ्रूण की नाभिरज्जु विकसित होती है, निम्नलिखित कुछ ऐसे महत्वपूर्ण कार्य हैं जो गर्भनाल करती है:

  • गर्भाशय में भ्रूण के विकास को आगे बढ़ाने में मदद करने के लिए यह हॉर्मोन के स्रवण में मदद करती है।
  • यह भ्रूण के रक्त से अपशिष्ट पदार्थों को हटाने के लिए जिम्मेदार है।
  • यह भ्रूण को गर्भाशय की दीवारों से जोड़ती है और बच्चे को सुरक्षा प्रदान करने के लिए उचित स्थिति में रखती है।

यदि गर्भावस्था सामान्य रूप से आगे बढ़ती है, तो गर्भनाल गर्भाशय के ऊपरी दाएं या ऊपरी बाएं भाग से जुड़ जाती है। यह ऊपर की ओर या दाएं अथवा बाएं तरफ बढ़ती है क्योंकि गर्भाशय, गर्भावस्था के दौरान फैलता है। एक सामान्य गर्भनाल अंडाकार डिस्क की तरह दिखती है जिसके बीच से नाभिरज्जु जुड़ी होती है। एक स्वस्थ गर्भनाल, बच्चे के विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाते हुए, सुरक्षित गर्भावस्था सुनिश्चित करने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है।

प्लेसेंटा प्रीविया क्या है?

प्लेसेंटा प्रीविया क्या है?

गर्भावस्था के दौरान, यदि गर्भनाल इस तरह से विकसित होती है कि यह पूरी तरह से या आंशिक रूप से गर्भाशय ग्रीवा को ढक देती है, तो इस स्थिति को प्लेसेंटा प्रीवियाया “लोलाइंग प्लेसेंटा” कहा जाता है। इससे प्रसव वेदना और प्रसव के दौरान शिशु और माँ को खतरा रहता है क्योंकि गर्भाशय ग्रीवा खुलने पर यह क्षतिग्रस्त हो सकती है। गर्भनाल समय से पहले गर्भाशय से अलग हो सकती है जिससे माँ को गंभीर रक्तस्राव होता है जो बच्चे को भी प्रभावित कर सकता है। पैदा होने वाले बच्चे में कुछ विकार हो सकते हैं या बच्चा समय से पहले पैदा हो सकता है अथवा जन्म के समय कम वज़न का भी हो सकता है।

क्या प्लेसेंटा प्रीविया के कारण दर्द होता है?

प्लेसेंटा प्रीविया की वजह से गर्भावस्था के दौरान आमतौर पर कोई दर्द नहीं होता है। हालांकि, अगर कोई असुविधा अनुभव होती है, तो इसके बारे में डॉक्टर से बात करना उचित होगा।

क्या प्लेसेंटा प्रीविया आमतौर पर होता है?

प्लेसेंटा प्रीविया एक ग़ैरमामूली चिकित्सीय स्थिति है जो गर्भवती महिलाओं में विकसित होती है। शोध के अनुसार, हर साल 200 में से 1 गर्भवती माताओं में प्लेसेंटा प्रीविया होता है।

प्लेसेंटा प्रीविया गर्भावस्था को कैसे प्रभावित करता है?

चूंकि गर्भाशय ग्रीवा इस स्थिति में ढक जाती है, प्लेसेंटा प्रीविया की स्थिति में प्रसव के दौरान बच्चे के बाहर निकलने का मार्ग अटक जाता है। प्लेसेंटा प्रीविया इस से प्रकार प्रसव वेदना और प्रसव के समय मुश्किल पैदा कर देता है। इसके कारण गर्भाशय ग्रीवा के फैलते समय श्रोणि क्षेत्र में रक्त वाहिकाएं फट सकती हैं और कभीकभी इसके कारण गर्भनाल संबंधी अवखण्डन हो सकता है जहाँ गर्भनाल, गर्भाशय से अलग हो जाती है जो बच्चे और माँ दोनों को खतरे में डाल देती है।

प्रिविआ की स्थिति होने पर योनि से रक्तस्राव

प्लेसेंटा प्रीविया की स्थिति के कारण योनि से रक्तस्राव सबसे गंभीर खतरा होता है। इसके होने की संभावना तीसरी तिमाही में ज़्यादा रहती है, जब गर्भाशय की निचली परत प्रसव के लिए तैयार होते हुए पतली हो जाती है, इससे गर्भाशय ग्रीवा को ढक रही गर्भनाल से रक्तस्राव हो सकता है।

लो लाइंग प्लेसेंटा होने का क्या मतलब है?

लो लाइंग प्लेसेंटा (गर्भनाल) गर्भाशय के निचले क्षेत्र में गर्भाशय ग्रीवा के पास जुड़ा होता है, जो कि सामान्य गर्भावस्था में ऊपरी या पार्श्व ऊपरी क्षेत्रों की सामान्य स्थिति के विपरीत होता है। गर्भनाल, गर्भावस्था के शुरुआती चरणों में गर्भाशय के निचले हिस्से से जुड़ा होता है और समय के साथ यह ऊपर की ओर बढ़ता है और गर्भाशय के ऊपरी आधे हिस्से में स्थाई हो जाता है। हालांकि, अगर गर्भनाल का यह स्थानांतरण तीसरी तिमाही तक ठीक से नहीं होता है, तो इसके परिणामस्वरूप प्लेसेंटा प्रीविया की स्थिति विकसित हो जाती है।

प्लेसेंटा प्रीविया को गर्भनाल द्वारा गर्भाशय ग्रीवा के ढकने वाले क्षेत्र के आधार पर वर्गीकृत किया जाता है। गर्भाशय में गर्भनाल की स्थिति के आधार पर, इसे आगे और वर्गीकृत किया जा सकता है। पश्च पोस्टीरियर प्लेसेंटा प्रीविया तब होता है जब गर्भनाल, गर्भाशय के पीछे की ओर स्थित होती है जबकि पूर्वकाल प्लेसेंटा प्रिविया तब होता है जब गर्भनाल , गर्भाशय के सामने की ओर स्थित होती है, नाभि के आसपास।

प्लेसेंटा प्रीविया के विभिन्न प्रकार क्या हैं?

प्लेसेंटा प्रीविया स्थिति के प्रकार और उनकी गंभीरता, गर्भाशय ग्रीवा के गर्भनाल द्वारा ढके क्षेत्र से तय की जाती है जो आंशिक या पूर्ण हो सकती है। प्लेसेंटा प्रिविया के प्रकार निम्नलिखित हैं:

प्लेसेंटा प्रिविआ के विभिन्न प्रकार क्या हैं?

सीमान्त (मार्जिनल) प्लेसेंटा प्रीविया

इस प्रकार के प्लेसेंटा प्रीविया में, गर्भनाल का किनारा गर्भाशय ग्रीवा के बहुत करीब प्रत्यारोपित होता है लेकिन गर्भाशय ग्रीवा पूरी तरह से ढकी नहीं रहती है।

आंशिक गर्भनाल प्रीविया

यहाँ, गर्भाशय ग्रीवा के मुंह का एक हिस्सा गर्भनाल से ढका होता है। इसमें गर्भनाल का स्थान गर्भाशय ग्रीवा के दाहिने किनारे पर होता है। यदि गर्भवती महिला को आंशिक प्लेसेंटा प्रीविया है तो योनि प्रसव होने की संभावना रहती है।

पूर्ण प्लेसेंटा प्रीविया

इस स्थिति में, पूरी गर्भाशय ग्रीवा का मुंह गर्भनाल से ढका होता है। ऐसा होने पर गर्भवती महिला को आमतौर पर सीज़ेरियन डिलीवरी करानी पड़ती है। यह सेन्ट्रल प्लेसेंटा प्रीविया के नाम से भी प्रसिद्ध इस स्थिति में प्रसव के दौरान अधिकतम समस्याएं होती हैं।

प्लेसेंटा प्रीविया के लक्षण

विभिन्न संकेत और लक्षण हैं जो प्लेसेंटा प्रीविया की संभावना की ओर इंगित करते हैं। यहाँ कुछ लक्षण दिए गए हैं जिन पर ध्यान दिया जाना चाहिए!

  • दूसरी तिमाही से बिना दर्द के रक्तस्राव, यह रक्तस्राव दो से तीन सप्ताह तक बीच में हो सकता है या यह लगातार और बिना किसी विशेष कारण के भी हो सकता है।
  • यदि भ्रूण की स्थिति अनुप्रस्थ या ब्रीच है, तो रक्तस्राव और समय से पहले संकुचन हो सकता है।
  • गर्भाशय का आकार गर्भकालीन आयु के अनुसार जितना होना चाहिए, उससे बड़ा लगता है।
  • तेज़ दर्द के साथ ऐंठन भी हो सकती है।
  • यदि इन में से कोई भी लक्षण देखे जाते हैं, तो डॉक्टर से परामर्श करना चाहिए और निर्धारित एहतियाती उपाय शुरू करने चाहिए।

गर्भवती महिलाओं में गर्भाशय के निचले भाग में गर्भनाल होने के कारण

यह अभी तक पता नहीं चला है कि प्लेसेंटा प्रीविया क्यों होता है, लेकिन इसका किसी पिछली घटना और पुरानी समस्याओं या आदतों के साथ कुछ संबंध प्रतीत होता है। यहाँ प्लेसेंटा प्रीविया के संभावित कारणों में से कुछ बताए गए हैं:

  • आयु : प्लेसेंटा प्रीविया उन महिलाओं में अधिक आम है जो 35 वर्ष या उससे अधिक उम्र की हैं।
  • गर्भावस्था का इतिहास या वर्तमान स्थिति: पहले कई बार गर्भधारण करने वाली महिलाएं या जिनके बहुगर्भधारण होते हैं जैसे कि जुड़वा या ट्रिपलेट, उन्हें इस स्थिति का सामना अन्य महिलाओं की तुलना में अधिक करना पड़ता है।
  • सर्जरी संबंधी इतिहास: अगर किसी महिला की पहले कभी गर्भाशय की सर्जरी हुई होजिसमें चीरा शामिल हो या नहीं, उन्हें प्लेसेंटा प्रीविया होने का खतरा ज़्यादा रहता है।
  • गर्भाशय का आकार: यदि किसी महिला के गर्भाशय का आकार असामान्य होता है, तो उसे प्लेसेंटा प्रीविया होने का खतरा होता है।
  • धूम्रपान या नशीले पदार्थों का सेवन: कुछ विशेषज्ञों का मानना है कि जो महिलाएं धूम्रपान करती हैं या नशीले पदार्थों की आदी हैं, उन्हें भी इस स्थिति के होने का अधिक खतरा होता है।

धूम्रपान / नशीले पदार्थों का सेवन

  • माँ का निवास स्थान: कुछ विशेषज्ञों का मानना है कि जो महिलाएं अधिक ऊंचाई पर रहती हैं, उनमें प्लेसेंटा प्रीविया होने की संभावना अधिक होती है।
  • पहले हुए गर्भपात या जबरन गर्भपात: जो महिलाएं जबरन गर्भपात कराती हैं या जिनका गर्भपात हो जाता हैं उन्हें भी प्लेसेंटा प्रीविया होने का अधिक खतरा होता है।
  • बच्चे की स्थिति: उपरोक्त कारकों के अलावा, शिशु की स्थिति एक महत्वपूर्ण कारक है जिसके परिणामस्वरूप प्लेसेंटा प्रीविया हो सकता है। यदि बच्चा गर्भ में ऐसी स्थिति में है जिसमें पहले नितंब बाहर आएगा (ब्रीच) या (अनुप्रस्थ) स्थिति में क्षैतिज रूप से है, तो प्लेसेंटा प्रीविया की संभावना कई गुना बढ़ जाती है।
  • जनसांख्यिकी संबंधी कारण: प्लेसेंटा प्रीविया की संभावना भी भौगोलिक रूप से भिन्न होती है। उदाहरण के लिए, एशियाई महिलाओं में प्लेसेंटा प्रीविया होने की संभावना अधिक होती है।
  • गर्भाशय ग्रीवा को फैला कर गर्भाशय को आंतरिक रूप से साफ करने के लिए (डी एंड सी) सर्जरी: देखा गया है कि पहले कभी इस सर्जरी के होने पर प्लेसेंटा प्रीविया होने की संभावना रहती है।
  • गर्भनाल का आकार: स्वाभाविक रूप से बड़ी गर्भनाल भी इसका कारण बन सकती है।

गर्भावस्था के दौरान लो लाइंग प्लेसेंटा के लिए उपचार

उपचार का तरीका जो डॉक्टर अनुशंसित करते हैं, वह गर्भवती महिला और उसके बच्चे के स्वास्थ्य के अनुसार अलगअलग होता है। यदि गर्भावस्था के शुरुआती चरण में प्लेसेंटा प्रीविया का पता चल जाता है तो यह अपने आप ठीक भी हो सकता है।

उपचार के तरीके का निर्णय, होने वाले रक्तस्राव की मात्रा के आधार पर तय किया जाता है। डॉक्टर हल्का रक्तस्राव होने पर चलनेफिरने के लिए मना कर देते हैं और आराम करने की सलाह देते हैं। अत्यधिक रक्तस्राव होने पर, उपचार प्रक्रिया के रूप में खून चढ़ाने का सुझाव दिया जाता है। गर्भवती महिला को समय से पहले प्रसव वेदना व शुरूआती प्रसव से बचाने और 36 सप्ताह तक गर्भावस्था को पूरा करने के लिए अक्सर दवाइयाँ भी दी जाती हैं।

आरएचनिगेटिव रक्त प्रकार वाले रोगी के लिए, डॉक्टर एक विशेष दवा के रूप में रोगम देते हैं। यह गर्भावस्था के दौरान और बाद में भी दी जाती है, और यह प्रतिरक्षा प्रणाली रोकने से एंटीजन को पहचानने का काम करती है। इसे मांसपेशी में इंजेक्शन के माध्यम से दिया जाता है। ज़्यादातर मामलों में, गर्भधारण के 28 सप्ताह बाद ही गर्भवती महिलाओं में गर्भावस्था के दौरान एंटीडी विकसित होता है इसलिए गर्भावस्था के 28 सप्ताह के बाद ही रोगम दी जाती है।

बच्चे के फेफड़ों के बेहतर विकास के लिए, डॉक्टर कभीकभी स्टेरॉयड इंजेक्शन लगाते हैं। जब डॉक्टरों द्वारा भारी रक्तस्राव को नियंत्रित करना मुश्किल हो जाता है तो अंतिम उपाय के रूप में सीसेक्शन की अनुशंसा की जाती है। डॉक्टर समय से पहले प्रसव के लिए भ्रूण के विकास और स्वास्थ्य की जाँच के लिए एमनियोसेंटेसिस टेस्ट भी कर सकते हैं।

दवा प्लेसेंटा प्रीविया का इलाज के लिए कोई विशिष्ट दवा नहीं दी जाती है। डॉक्टर आयरन पूरक लेने की सलाह देते हैं क्योंकि भारी रक्तस्राव के कारण माँ को रक्ताल्पता (एनीमिया) हो सकता है। कुछ दवाएं और पूरक जो डॉक्टर दे सकते हैं, नीचे दिए गए हैं

  • टोकोलिटिक्ससमय से पहले प्रसव से बचने के लिए।
  • मैग्नीशियम सल्फेटसमय से पहले प्रसव में विलंब करने के लिए।
  • कॉर्टिकोस्टेरॉइड हल्का रक्तस्राव होने पर।
  • डेक्सामेथासोनभ्रूण के फेफड़ों को विकसित करता है।
  • बीटामेथासोनभ्रूण के फेफड़ों को विकसित करने में मदद करता है।
  • टरबुटालाइन गर्भाशय के संकुचन को शांत करने के लिए इस्तेमाल किया जाता है।

चिकित्सीय हस्तक्षेप : प्लेसेंटा प्रीविया का पता लगने पर विभिन्न प्रकार के चिकित्सीय कदम उठाए जा सकते हैं जो माँ और बच्चे की सुरक्षा सुनिश्चित करते हैं, उनमें से कुछ नीचे सूचीबद्ध हैं:

  • अंतःशिरा उपचार: जब अत्यधिक रक्तस्राव के कारण खून की कमी होने पर माँ को खून चढ़ाने की आवश्यकता होती है तब डॉक्टर इसकी सलाह देते हैं।

  • नियमित देखरेख : योनि परिक्षण करने से बचा जाता है क्योंकि इसके कारण नकसीर हो सकता है जो माँ और बच्चे दोनों के लिए जानलेवा हो सकता है।भ्रूण के दिल की धड़कन और गर्भाशय के संकुचन का निरीक्षण करने के लिए, एक बाहरी जाँच उपकरण का उपयोग किया जाता है।

  • सर्जरी: माँ और शिशु के जीवन के लिए खतरा होने पर ही डॉक्टरों द्वारा सर्जरी की जाती है। अगर गर्भनाल, गर्भाशय ग्रीवा के मुंह को 30% से अधिक तक ढक देती है तो भ्रूण गर्भाशय ग्रीवा से बाहर नहीं निकल पता है और ऐसी स्थिति में डॉक्टरों को सीसेक्शन करना पड़ता है।

प्लेसेंटा प्रीविया का निदान और उसके लिए व्यवस्था

प्लेसेंटा प्रीविया अल्ट्रासाउंड स्थिति का निदान के लिए सबसे आम और सबसे सटीक तरीका है। निदान के लिए निम्नलिखित कार्य करने पड़ सकते हैं:

  1. ट्रांसवजाइनल अल्ट्रासाउंड यह गर्भनाल और गर्भाशय ग्रीवा के मुंह के बीच की दूरी को मापने में मदद करता है इसलिए यह प्लेसेंटा प्रीविया होने या नहीं होने के बारे में सटीक जानकारी दे सकता है।

  1. ट्रांसऐब्डॉमिनल अल्ट्रासाउंड यह श्रोणि के अंगों की जांच करने और भ्रूण के विकास की जाँच करने के लिए किया जाता है।

  1. एम आर आई (चुंबकीय अनुनाद इमेजिंग)यह गर्भनाल के स्थान का स्पष्ट रूप से पता करता है।

नियमित अल्ट्रासाउंड परीक्षा के दौरान गर्भावस्था के दूसरे तिमाही से प्लेसेंटा प्रीविया का निदान किया जा सकता है। प्लेसेंटा या आंशिक प्लेसेंटा प्रीविया के सीमांत आरोपण के मामलों में, समय की प्रगति के साथ स्थिति में सुधार हो सकता है, लेकिन कुल प्लेसेंटा प्रीविया के मामलों में, यह अपने आप हल होने की संभावना नहीं है।

जबकि नियमित रूप से शुरुआती अल्ट्रासाउंड स्कैन यह दिखा सकते हैं कि नाल कम है और गर्भाशय ग्रीवा के पास काफी है, यह चिंता का कारण नहीं है। प्रारंभिक चरणों में यह काफी स्वाभाविक है, लेकिन जैसे-जैसे गर्भावस्था आगे बढ़ती है, नाल को गर्भाशय के विस्तार के साथ ऊपर की ओर बढ़ना चाहिए। यदि नाल अभी भी 20 सप्ताह के बाद ग्रीवा क्षेत्र को अवरुद्ध कर रहा है, तो प्लेसेंटा प्रीविया की संभावना मौजूद है। 20 सप्ताह या तीसरी तिमाही तक, प्लेसेंटा पर्याप्त ऊंचाई पर होना चाहिए ताकि गर्भाशय ग्रीवा को अवरुद्ध न किया जा सके।

क्या होगा अगर प्रसव वेदना और प्रसव के दौरान प्लेसेंटा प्रेविया की स्थिति बनी रहे?

प्रसव वेदना और प्रसव के दौरान प्लेसेंटा प्रेविया की स्थिति होने से बच्चे और माँ दोनों के लिए खतरा पैदा हो सकता है कुछ जटिलताएं जो उत्पन्न हो सकती हैं, वह हैं:

बच्चे और माँ पर प्लेसेंटा प्रेविया का प्रभाव

माँ पर प्रभाव

  • रक्तस्राव के कारण अत्यधिक रक्त का बह जाना: प्लेसेंटा प्रीविया प्रसव के दौरान अत्यधिक रक्तस्राव का कारण हो सकता है और माँ के स्वास्थ्य के लिए भी खतरा हो सकता है।

  • प्लेसेंटा एक्रीटा: इस स्थिति में, गर्भनाल के ऊतक गहराई तक गर्भ में अंतः स्थापित हो जाते हैं। वे मांसपेशियों की परत से जुड़ जाते हैं और प्रसव के दौरान गर्भाशय की दीवार से अलग नहीं होते हैं। इसके कारण रक्तस्राव हो सकता है जो माँ के जीवन को खतरे में डाल सकता है। प्लेसेंटा एक्रीटा होने पर अक्सर सीसेक्शन प्रसव के दौरान गर्भाशयोच्छेदन करना पड़ता है।

प्लेसेंटा प्रीविया निम्नलिखित स्थितियों में बच्चे को प्रभावित कर सकती है:

  • गर्भनाल संबंधी अवखण्डन: यह एक ऐसी स्थिति है जहाँ गर्भनाल गर्भाशय से अलग हो जाती है, जिससे बच्चे को रक्त और पोषक तत्वों की आपूर्ति नहीं होती है और बच्चे के जीवन को खतरा हो सकता है।

  • समय से पहले जन्म: यदि योनि से रक्तस्राव अत्यधिक होता है तो डॉक्टर बच्चे को समय से पहले प्रसव कराने का निर्णय ले सकते हैं। यदि बच्चे का जन्म समय से बहुत पहले होता है तो वह लंबे समय तक स्वास्थ्य और विकास संबंधी समस्याओं से घिरा रह सकता है।

गर्भनाल संबंधी अन्य आम समस्याएं

जबकि लो लाइंग प्लेसेंटा सबसे ज्यादा चर्चित प्लेसेंटा समस्या है क्योंकि यह शुरुआती गर्भावस्था में आम होती है, ऐसी अन्य स्थितियाँ भी हैं जो गर्भनाल की सेहत को प्रभावित कर सकती है,।इनमें से कुछ हैं :

  • गर्भनाल अपर्याप्तता: इस स्थिति में, गर्भनाल बढ़ते भ्रूण को पर्याप्त पोषण प्रदान करने में असमर्थ रहती है। इससे जन्म के समय बच्चे का वज़न कम हो सकता है।

  • गर्भनाल में इन्फ़ार्क्ट्स: इन्फ़ार्क्ट्स गर्भनाल में मृत ऊतक के क्षेत्र हैं जो रक्त के प्रवाह को कम करते हैं। वे गर्भावस्था से प्रेरित उच्च रक्तचाप के कारण हो सकता है। इसमें आमतौर पर कोई हानि नहीं होती लेकिन इस स्थिति के गंभीर रूप धारण करने पर बच्चे का स्वास्थ्य या उसका जीवन खतरे में पड़ सकता है।

  • गर्भनाल संबंधी अवखण्डन: इस स्थिति में, गर्भनाल आंशिक रूप से या पूरी तरह से गर्भाशय से अलग हो जाती है जिसके कारण भ्रूण को पूरी तरह से रक्त नहीं मिलता या पूरी तरह से रक्त का प्रवाह रुक जाता है। यह स्थिति बहुत कम नज़र आती है लेकिन घातक हो सकती है।

  • प्लेसेंटा एक्रीटा: इस स्थिति में, गर्भ में गर्भनाल गहराई तक अंतः स्थापित हो जाती है। इससे प्रसव के बाद अत्यधिक रक्तस्राव हो सकता है। ऐसी स्थिति में प्रसव के बाद गर्भाशय से ऊतक को हटाने के लिए सर्जरी की आवश्यकता हो सकती है।

लो लाइंग प्लेसेंटा होने पर प्रसव

भ्रूण और माँ का स्वास्थ्य और गर्भाशय में भ्रूण का स्थान और स्थिति, इन सब कारकों पर निर्भर करता है कि सामान्य प्रसव होगा या सीसेक्शन डिलीवरी होगी।यदि गर्भावस्था के बाद के चरण में प्लेसेंटा प्रीविया की स्थिति विकसित हो जाती है तो सीसेक्शन डिलीवरी की संभावना बढ़ जाती है।

जबकि प्लेसेंटा प्रीविया चिंताजनक स्थिति हो सकती है लेकिन ऐसा भी नहीं है कि इसके कारण हर हाल में गर्भावस्था को खतरा रहेगा। लगातार देखरेख , निवारक दवा, आराम और सर्जरी के बाद देखभाल सुनिश्चित करते हैं कि अधिकांश प्लेसेंटा प्रीविया प्रसव सुरक्षित हों। जबकि ऐसी स्थिति में लगभग सभी में सीसेक्शन डिलिवरी करनी पड़ती है, मार्जिनल प्लेसेंटा प्रेविया की स्थिति में योनि प्रसव होना असंभव नहीं है। याद रखें कि प्रारंभिक गर्भावस्था में लो लाइंग प्लेसेंटा आम है और इसकी ज़्यादा संभावना रहती है कि अपने आप ही यह ऊपर की ओर चढ़ जाती है।