प्राकृतिक परिवार नियोजन (एन.एफ.पी)- प्रजनन जागरूकता के तरीके

प्राकृतिक परिवार नियोजन - प्रजनन जागरूकता के तरीके

Last Updated On

प्रजनन जागरूकता, प्राकृतिक परिवार नियोजन (नैचुरल फैमिली प्लानिंग – एन.एफ.पी.) व रिदम पद्धति, आपके अंडोत्सर्ग की तारीख का पता लगाने के तरीके हैं, ताकि आप गर्भावस्था से बच सकें। कुछ अलग-अलग एन.एफ.पी. विधियां होती हैं जो जब एक साथ उपयोग की जाती हैं, तो गर्भावस्था से बचने में सफलता की दर 90% से अधिक हो सकती है। प्राकृतिक परिवार नियोजन के तरीकों और उसके काम करने की पद्धतियों के बारे में जानने का सबसे प्रभावी तरीका है किसी नर्स, काउंसलर या डॉक्टर से संपर्क करना, जो इसे सही तरीके से कैसे उपयोग किया जाए इसकी जानकारी दे सकें।

प्राकृतिक परिवार नियोजन क्या है?

प्राकृतिक परिवार नियोजन जन्म नियंत्रण की एक विधि है, जो दवाओं या उपकरणों के उपयोग के बिना की जाती है।

इन तरीकों में मासिक धर्म चक्र और संबंधित शारीरिक कार्यप्रणाली को समझना शामिल है, जिसमें यह निर्धारित किया जाता है कि किन दिनों में महिला के गर्भधारण करने की सबसे अधिक संभावना है। चूंकि यह उन तरीकों का एक संग्रह है, जिसमें शरीर की प्राकृतिक कार्यप्रणाली को समझना शामिल है, इसलिए इसे प्रजनन जागरूकता भी कहा जाता है। प्राकृतिक जन्म नियंत्रण के लिए महीने के उन दिनों या अवधि का पता लगाया जाता है जिस दौरान महिला की प्रजनन क्षमता चरम पर होती है और हर महीने इसका रिकॉर्ड रखा जाता है। यह शरीर के प्रजनन संकेतों पर भी ध्यान देता है, जैसे गर्भाशय ग्रीवा से होने वाला स्राव, शरीर का तापमान और हार्मोन में बदलाव, जिससे यह पता चलता है कि कब असुरक्षित यौन संबंध बनाया जा सकता है या फिर गर्भधारणा के लिए कब संभोग किया जा सकता है।

यह क्यों किया जाता है?

प्रजनन जागरूकता एक महिला को ये अनुमान लगाने में मदद करती है कि महीने में किस समय उसका अंडोत्सर्ग होने की संभावना है। इस जानकारी का दो तरह से उपयोग किया जा सकता है:

1. गर्भवती होने के लिए

गर्भधारण करने की कोशिश कर रहे जोड़े जब अंडोत्सर्ग के दिनों के करीब संभोग करते हैं, तो उनके सफल होने की संभावना ज्यादा होती है।

2. गर्भधारण से बचने के लिए

निम्नलिखित स्थितियों में प्राकृतिक परिवार नियोजन का उपयोग जोड़ों द्वारा जन्म नियंत्रण की एक विधि के रूप में किया जा सकता है:

  • धार्मिक मान्यताएं जन्म नियंत्रण के मौजूदा तरीकों के उपयोग पर प्रतिबंध लगाती हैं।
  • परिवार नियोजन के प्राकृतिक तरीकों के लिए वरीयता।

नोट: प्राकृतिक परिवार नियोजन का चयन करते समय दंपति को दो चीजें करने को तैयार होना चाहिए: अंडोत्सर्ग के दिनों में सेक्स न करना और हर महीने महिला के पूरे माहवारी चक्र को ट्रैक करना।

प्राकृतिक परिवार नियोजन की प्रभावशीलता

प्राकृतिक परिवार नियोजन की प्रभावशीलता इस बात पर निर्भर करती है कि जोड़े कितनी अच्छी तरह से इन तरीकों को समझते हैं और इसका उपयोग कितनी अच्छी तरह करते हैं।

ऐसे जोड़े जो गर्भावस्था से बचने के लिए प्राकृतिक परिवार नियोजन का उपयोग करते हैं, यदि वे एकदम सही तरीके से उपयोग करें तो 100 में से 5 से भी कम महिलाएं पहले वर्ष में गर्भवती होती हैं। सही का मतलब महिला के पूरे मासिक धर्म चक्र के दौरान इस तरीके को सही और लगातार उपयोग करने से है।

प्राकृतिक परिवार नियोजन के तरीके तब अच्छी तरह से काम करते हैं, जब अंडोत्सर्ग और मासिक धर्म को ट्रैक करने के लिए कई तरीकों का एक साथ उपयोग किया जाता है। काउंसलर, डॉक्टर या नर्स से मार्गदर्शन लेना भी बेहतर होता है, जो तरीकों को अच्छी तरह से समझते हैं और आपको उन्हें सही तरीके से उपयोग करने के निर्देश देते हैं। इसके अलावा, प्राकृतिक परिवार नियोजन उन महिलाओं के लिए अच्छी तरह काम नहीं करता जो नियमित रूप से अपने प्रजनन संकेतों को ट्रैक नहीं करती हैं या जिनका मासिक धर्म चक्र अनियमित है।

प्राकृतिक परिवार नियोजन की तैयारी कैसे करें?

यदि कोई दंपति प्राकृतिक परिवार नियोजन को अपनाते है तो महिला को अंडोत्सर्ग के अपने पैटर्न का पता रखने की आवश्यकता होती है। यह तीन या चार मासिक धर्म चक्रों का एक अच्छा रिकॉर्ड रखकर किया जा सकता है। हालांकि यह जानना महत्वपूर्ण है कि प्राकृतिक परिवार नियोजन ज्यादातर उन महिलाओं के लिए ही काम करता है जिनका मासिक धर्म नियमित होता है।

शरीर के तापमान को मापने के लिए, एकबेसल बॉडी थर्मामीटर दवाई की दुकान या परिवार नियोजन चिकित्सालय से खरीद लेना चाहिए। मानक (स्टैंडर्ड) थर्मामीटर के विपरीत ये शरीर के तापमान में छोटी सी भिन्नता भी दिखा सकता है और तापमान विधि का उपयोग करते समय काम में आता है। दंपति को प्राकृतिक परिवार नियोजन विधियों को एक साथ इस्तेमाल करने के लिए इच्छुक होना चाहिए और उस अवधि के दौरान जब महिला की प्रजनन क्षमता चरम पर होती है, सेक्स से दूर रहना चाहिए या गर्भनिरोधक का उपयोग करने के लिए तैयार होना चाहिए। यदि जन्म नियंत्रण के लिए दंपति द्वारा चुना गया एकमात्र तरीका एन.एफ.पी. हो, तो उन्हें अनियोजित गर्भावस्था के लिए भी तैयार रहना होगा।

प्राकृतिक परिवार नियोजन के तरीके

प्राकृतिक परिवार नियोजन में पहला काम मासिक धर्म चक्र के प्रति जागरूकता , और प्रजनन पैटर्न का चार्ट तैयार करना है। औसत मासिक धर्म चक्र 28 से 32 दिनों के बीच रहता है, और इसे विभिन्न चरणों में विभाजित किया जा सकता है।

  • माहवारीका पहला दिन तब होता है जब चक्र शुरू होता है और आमतौर पर तीन से पाँच दिनों तक जारी रहता है।
  • सातवें दिन तक एक डिंब शुक्राणु द्वारा निषेचन के लिए अंडाशय में से निकलने की तैयारी कर रहा होता है ।
  • 28 दिनों के मासिक धर्म के चक्र में, 11-21वें दिन के दौरान जब शरीर द्वारा स्रावित हार्मोन के कारण अंडाशय एक डिंब जारी करता है, तो इस प्रक्रिया को अंडोत्सर्ग कहा जाता है।
  • इस अवधि के दौरान, जो 12-24 घंटों तक रहती है, डिंब फैलोपियन ट्यूब के माध्यम से गर्भाशय की ओर जाता है। यदि इस समय के दौरान शुक्राणु अंडे में प्रवेश करता है, तो निषेचित डिंब नीचे चला जाएगा, और खुद को गर्भाशय की दीवार से जोड़ देगा और बढ़ना शुरू कर देगा। अगर निषेचन नहीं होता है, तो डिंब टूट जाता है।
  • 28 दिन तक, अगर गर्भाशय की दीवार में कोई निषेचित डिंब नहीं चिपकता है, तो हार्मोन का स्तर कम हो जाता है, जिससे गर्भाशय की दीवार पतली होने लगती है और जिससे माहवारी शुरु हो जाती है।

यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि मासिक धर्म चक्र का पहला चरण (अंडोत्सर्ग से पहले) सभी महिलाओं में भिन्न होता है और यहाँ तक कि महीने से महीने भी भिन्न हो सकता है। आमतौर पर, अंडोत्सर्ग से पहले दिनों की संख्या 13 से 20 दिनों के बीच होती है। अंडोत्सर्ग के बाद मासिक चक्र का आखिरी आधा हिस्सा औसतन हर महिला के लिए एक जैसा ही होता है, क्योंकि अंडोत्सर्ग के दिन से लगभग 12-16 दिन के बाद उनकी अगली माहवारी की शुरुआत होती है।

एक बार जब आप अपने मासिक चक्रों से परिचित हो जाती हैं तो निम्नलिखित प्रजनन जागरूकता विधियों का उपयोग अंडोत्सर्ग की भविष्यवाणी करने के लिए किया जा सकता है:

1. कैलेंडर (रिदम) विधि

इस विधि का सफलतापूर्वक उपयोग करने के लिए मासिक धर्म चक्र का 6 से 8 महीने तक का व्यवस्थित रिकॉर्ड रखा जाना जरुरी है। गौर करें कि क्या आपका मासिक धर्म नियमित है और यह कितने दिनों तक रहता है और इसे प्राकृतिक परिवार नियोजन कैलेंडर पर लिख लें। अगर चक्र 28 दिन लंबा और नियमित है, तो मासिक धर्म का रक्तस्राव शुरू होने के 14 से 15 दिनों के बाद अंडोत्सर्ग होने की संभावना सबसे अधिक है।

– यह कैसे किया जाता है?

चक्र की लंबाई का पता लगाने के लिए, मासिक धर्म यानी पीरियड के पहले दिन को नोट कर लें। फिर अगले पीरियड के पहले दिन को नोट कर लें प्रत्येक माहवारी (पीरियड) के पहले दिनों के बीच के दिनों की संख्या गिनने पर चक्र की लंबाई का पता चलता है। 8 महीने की अवधि में सबसे लंबे और सबसे छोटे मासिक धर्म चक्र को नोट करें।

वो पहला दिन पता लगाने के लिए जब आपकी प्रजनन क्षमता चरम पर होगी, सबसे कम मासिक धर्म चक्र के दिनों की संख्या से 18 घटाएं। यह परिणाम आपकी माहवारी शुरू होने के बाद आपके पहले सबसे जननक्षम दिन (जब आपकी प्रजनन क्षमता चरम पर होती है) के बारे में आपको बताता है। एक उदाहरण के रूप में, यदि सबसे छोटा मासिक धर्म चक्र 26 दिनों तक रहता है, तो 18 को 26 में से घटाने पर 8 बाकी रहता है। इसलिए आपका पहला जननक्षम दिन आपके मासिक धर्म का रक्तस्राव शुरू होने से 8वां दिन होगा।

कैलेंडर (रिदम) विधि

आपके जननक्षम होने का आखिरी दिन पता करने के लिए सबसे लंबे मासिक धर्म चक्र में दिनों की संख्या से 11 घटाएं। जो संख्या मिलेगी वो आपकी माहवारी शुरू होने के बाद आपके जननक्षम होने का सबसे आखिरी दिन होगा। उदाहरण के लिए, अगर आपका सबसे लंबा मासिक धर्म चक्र 30 दिन का है, तो 30 में से 11 घटाकर 19 आता है। इसलिए आपका अंतिम जननक्षम दिन मासिक धर्म का रक्तस्राव शुरु होने के बाद 19वें दिन होगा।

– परिणाम

यदि आप गर्भवती होने का इरादा रखती हैं, तो अपने पहले से आखिरी जननक्षम दिन तक हर दिन या हर दूसरे दिन संभोग करें।

गर्भधारण से बचने के लिए, जननक्षम दिनों में सेक्स से बचें या उस दौरान गर्भ निरोधक का इस्तेमाल करना न भूलें। ऊपर दिए गए उदाहरण को ध्यान में रखते हुए, जननक्षम दिनों की अवधि 8वें दिन से 19वें दिन के बीच है, इसलिए इन दिनों के दौरान सुरक्षा या बचाव दोनों में से कोई एक तरीका अपनाएं।

– इस विधि को क्या प्रभावित करता है?

यह विधि अनियमित, लंबे या छोटे मासिक धर्म चक्र में काम नहीं करेगी। साथ ही 6 महीने से अधिक समय तक स्तनपान कराना और स्तनपान कराने के साथ बोतल से दूध पिलाना इस तरीके को प्रभावित करता है।

2. मानक दिनों की विधि (स्टैंडर्ड डेज़ मैथड – एस.डी.एम.)

मानक दिनों की विधि (एस.डी.एम.) कैलेंडर पद्धति की तरह ही होती है और यह प्रजनन जागरूकता के तरीकों में सबसे आसान भी है। इसका उपयोग करने के लिए, आपको एक ऐप की जरूरत होगी या फिर सायकल बीड्स (चक्रमाला) की जो कि एस.डी.एम. के लिए बनाई गई एक विशेष प्रकार की माला होती है। सायकल बीड्स (चक्रमाला) में 33 रंगीन मनके होते हैं। इनमें से ज्यादातर भूरे और सफेद रंग के मनके होते हैं और एक लाल रंग का मनका होता है जो आपकी माहवारी (पीरियड) के पहले दिन को इंगित करने के लिए होता है। बीच में एक गहरे भूरे रंग का मनका भी आपको यह बता देता है अगर आपका मासिक चक्र 26 दिनों से छोटा हो । मनके से मनके की ओर जाने के लिए एक काले रबर के छल्ले (रिंग) का उपयोग किया जाता है।

– यह कैसे किया जाता है?

आपके पीरियड के पहले दिन रबर के छल्ले को सायकल बीड (चक्र माला) के लाल मनके पर ले जाएं। हर एक दिन को एक मनके के रूप में गिना जाता है। सभी भूरे रंग के मनके वे दिन होते हैं जब आपके गर्भवती होने की संभावना कम से कम होती है; ये आपके प्राकृतिक परिवार नियोजन (एन.एफ.पी.) के लिए सुरक्षित दिन हैं। सभी सफेद मनके उन दिनों की ओर इशारा करते हैं, जिनमें आपके गर्भवती होने की संभावना सबसे ज्यादा होती है। गहरे भूरे रंग का मनका 26वें दिन की ओर इशारा करता है। लाल से पहले आखिरी भूरा मनका 32वां दिन होता है।

– नतीजा

असुरक्षित यौन संबंध 1 से 7 दिनों के बीच बनाए जा सकते हैं। 8 से 19 तक के दिनों में सेक्स से बचें या अन्य गर्भ निरोधक का इस्तेमाल करें और 20वें दिन से चक्र के अंत तक, आप असुरक्षित यौन संबंध बना सकते हैं।

– इस विधि को क्या प्रभावित करता है?

यह महत्वपूर्ण है कि आपका मासिक धर्म हमेशा नियमित रहे। यदि आपके एक से अधिक चक्र हैं जो 26 दिनों से कम या 32 दिनों से अधिक लंबे हैं, तो यह विधि जन्म नियंत्रण के लिए उपयुक्त नहीं है।

3. गर्भाशय ग्रीवा श्लेम पद्धति (बिलिंग्स मैथड)

इस तरीके में आप अपने गर्भाशय ग्रीवा के श्लेम को देखकर और उसमें होने वाले बदलावों को ट्रैक करके अंडोत्सर्ग का अनुमान लगा सकती हैं। दरसल यह गर्भाशय ग्रीवा श्लेम पूरे मासिक चक्र के दौरान आपकी योनि से स्राव के रुप में निकलता है। मासिक धर्म चक्र के दौरान गर्भाशय ग्रीवा श्लेम के रंग, बनावट और मात्रा में बदलाव होता है, विशेष रूप से अंडोत्सर्ग के दौरान।

– यह कैसे किया जाता है?

हर दिन अपनी योनि में एक उंगली डालकर अपने श्लेम की जांच करें और मात्रा और रंग को नोट करें । तर्जनी और अंगूठे के बीच इसकी एक बूंद रखकर देखें कि यह कितना पतला या गाढ़ा है और इसमें होने वाले “खिंचाव” को भी देखें। उंगलियों को अलग फैलाएं और देखें कि यह कितना फैल सकता है।

आपके मासिक चक्र के ठीक बाद बहुत ज्यादा ग्रीवा श्लेम नहीं होगा। यह गाढ़ा, चिपचिपा और बादल जैसा धुंधला हो सकता है। जैसे ही आपका अंडोत्सर्ग निकट आता है, श्लेम की मात्रा बढ़ जाती है और यह पतला और स्पष्ट भी हो जाता है। अंडोत्सर्ग से पहले, इसका फैलावलगभग 2.5 से.मी. तक हो सकता है।

– परिणाम

गर्भवती होने के लिए, श्लेम के साफ और लचीला होने के दिनों से शुरू करके उसके चिपचिपा और बादल की तरह धुंधला होने के दिनों तक संभोग करें। गर्भधारण से बचने के लिए उन दिनों के दौरान जब श्लेम स्पष्ट और लचीला (खिंचाववाला) होता है जन्म नियंत्रण के अन्य तरीकों का इस्तेमाल करें। “2 दिन” विधि का भी उपयोग किया जा सकता है; स्वयं से पूछें – क्या मुझे कल स्राव हुआ था? क्या आज मुझे स्राव हुआ है? यदि दोनों सवालों का जवाब हाँ है, तो आपके जननक्षम होने की संभावना सबसे अधिक है।

– इस विधि को क्या प्रभावित करता है?

यह विधि अच्छी तरह से काम नहीं करेगी यदि आप नलधावन (डूश- नली से योनि साफ करना/खंगालना) करती हैं, योनि ल्यूब्रिकेंट का उपयोग करती हैं, स्तनपान करा रही हैं, आपकी योनि में संक्रमण है या आपकी रजोनिवृत्ति निकट है।

4. शरीर का बुनियादी तापमान (बेसल बॉडी टेम्प्रेचर) तरीका

मासिक धर्म चक्र के दौरान शरीर के तापमान में थोड़ा सा बदलाव होता है और एक खास अंडोत्सर्ग थर्मामीटर से इसका पता लगाया जा सकता है। इसमें 0.1 डिग्री तक के तापमान में बदलाव को भी देखा जा सकता है और इसके इस्तेमाल से अनुमान लगाया जा सकता है कि आपका अंडोत्सर्ग कब शुरु होगा।

– यह कैसे किया जाता है?

कुछ महीनों तक सुबह उठते ही प्रतिदिन, खाने या पीने से पहले या कुछ भी काम करने से पहले शरीर का तापमान मापें। गुदा के रास्ते या मुँह के द्वारा तापमान मापने के लिए अंडोत्सर्ग थर्मामीटर का उपयोग करें। हर दिन एक ही स्थान पर थर्मामीटर का उपयोग करना सुनिश्चित करें और सटीक रीडिंग प्राप्त करने के लिए इसे पूरे 5 मिनट के लिए उस स्थान पर रखें। रीडिंग लिख लें, थर्मामीटर को साफ करें और इसे रख दें। शरीर के बुनियादी (बेसल) तापमान के ट्रेंड का निरीक्षण करने के लिए हर दिन एक चार्ट या एक ग्राफ पर तापमान रिकॉर्ड करें। अंडोत्सर्ग के कारण बी.बी.टी. 0.4 डिग्री फारेनहाइट या 0.2 डिग्री सेल्सियस तक बढ़ जाता है और एक सप्ताह से अधिक समय तक बढ़ा रहता है।

शरीर का बुनियादी तापमान (बेसल बॉडी टेम्प्रेचर) तरीका

– नतीजा

अगर आप गर्भधारण करना चाहती हैं, तो प्रतिदिन या फिर एक दिन छोड़कर संभोग करें, ऐसा अपने पहले जननक्षम दिन से लेकर बी.बी.टी. तापमान बढ़ने के तीन दिन बाद तक करें। गर्भधारण से बचने के लिए इन दिनों में जन्म नियंत्रण के दूसरे तरीकों को अपनाएं। इस बात का ध्यान रखें कि आपके बी.बी.टी. बढ़ने और पूरे तीन दिनों तक बढे रहने के बाद आपकी जननक्षम अवधि खत्म हो जाती है और इन तीन दिनों में आपका तापमान आपके चक्र के दूसरे दिनों की तुलना में अधिक रहता है।

– इस विधि को क्या प्रभावित करता है?

बुखार, तनाव, यात्रा और एस्पिरिन जैसी दवाएं लेना इस पद्धति को प्रभावित करते हैं। असंगत मापने जैसे कि थर्मामीटर को बहुत जल्द बाहर निकालना और दिन के अलग-अलग समय पर तापमान लेना भी गलती का कारण बनता है।

5. संयुक्त (सिम्प्टोथर्मल) विधि

संयुक्त विधि में आपके चक्र में सबसे जननक्षम दिनों की पूर्व सूचना देने के लिए किए गए कुछ अन्य तरीकों का उपयोग एक साथ किया जाता है।

– यह कैसे किया जाता है?

आप अपने शरीर के बुनियादी तापमान, ग्रीवा श्लेम में परिवर्तन और एक हार्मोन परीक्षण की जांच करके शुरू कर सकती हैं। यदि सभी परीक्षणों के परिणाम अंडोत्सर्ग की ओर मिलते हैं तो अतिरिक्त संकेतों जैसे कि स्तनों की संवेदनशीलता, पेट का दर्द और अपने मिज़ाज (मूड स्विंग) पर ध्यान रखें।

– परिणाम

अंडोत्सर्ग का संकेत देने वाले परीक्षणों के साथ, स्तनों के दर्द और यौन इच्छा में वृद्धि जैसे लक्षणों को देखें। जैसा कि प्रत्येक चक्र में केवल एक अंडाशय में से एक डिंब निकलता है, आपको पेट के केवल एक तरफ दर्द महसूस होगा। इस दर्द को मिटेलश्मेर्त्ज कहा जाता है, और यह तेज या हल्का हो सकता है और अंडाशय के उस तरफ होता है जो डिंब को निकालता है।

– इस विधि को क्या प्रभावित करता है?

परीक्षणों में से किसी एक के परिणाम में कोई परिवर्तन भी संयुक्त विधि के नतीजों को बदल सकता है।

6. हार्मोन की निगरानी

अंडोत्सर्ग के दौरान, हार्मोन में बदलाव की निगरानी अंडोत्सर्ग प्रेडिक्टर किट, सलाईवा या “फर्निंग” माइक्रोस्कोप या फर्टिलिटी मॉनिटर की मदद से होती है। उनका उपयोग अंडोत्सर्ग के दौरान शरीर में ल्यूटिनाइजिंग हार्मोन और एस्ट्रोजन जैसे दूसरे हार्मोन में हुई बढ़ोतरी को मापने के लिए किया जा सकता है।

– यह कैसे किया जाता है?

  • अधिकांश दवाई की दुकानों पर उपलब्ध अंडोत्सर्ग प्रेडिक्टर किट मूत्र में ल्यूटिनाइजिंग (एल.एच.) की मात्रा का परीक्षण करती हैं। ये किट हार्मोन में वृद्धि को बता सकती हैं जो आपके अंडोत्सर्ग होने से 12 से 36 घंटे पहले होती है और 90% से अधिक सटीक होती हैं।
  • फर्निंग माइक्रोस्कोप छोटे होते हैं और कभी-कभी लिपस्टिक की तरह दिखने के लिए भी डिज़ाइन किए जाते हैं। वे आपकी लार के नमूने की जांच करते हैं। जब एस्ट्रोजन का स्तर अंडोत्सर्ग के दौरान बढ़ता है, तो लार में नमक का स्तर बढ़ जाता है। जब माइक्रोस्कोप की मदद से इस लार की जांच की जाती है, तो नमक एक पैटर्न का कारण बनता है जो एक फर्न पौधे की पत्तियों जैसा दिखता है। वे आगामी 24-72 घंटे की अवधि के लिए अंडोत्सर्ग के बारे में अनुमान लगा सकते हैं।
  • फर्टिलिटी मॉनिटर महंगे होते हैं लेकिन इनके कारण एक महत्वपूर्ण फायदा ये है कि वे संभावित प्रजनन क्षमता के 6 या 7 दिनों का अनुमान बता सकते हैं (भविष्यवाणी कर सकते हैं) जबकि अधिकांश अंडोत्सर्ग प्रेडिक्टर्स केवल 2 दिनों तक की अवधि के बारे में अनुमान देते हैं। वे यूरिन में एल.एच. और एक अन्य हार्मोन ई.3जी. को मापते हैं। नतीजे एक स्क्रीन पर दिखाए जाते हैं और यन्त्र में भी दर्ज हो जाते हैं। इन उपकरणों की सटीकता लगभग 90% होती है।

– परिणाम

हार्मोन मॉनिटरिंग किट ल्यूटिनाइजिंग हार्मोन (एल.एच.) के स्तर को मापते हैं और परिणाम एक प्रदर्शन इकाई या एक परीक्षण पट्टी पर प्रदर्शित करते हैं।

– इस विधि को क्या प्रभावित करता है?

यदि किट पर के निर्देशों का पालन नहीं किया जाता है तो हार्मोन मॉनिटरिंग के परिणाम गलत हो सकते हैं।

प्राकृतिक परिवार नियोजन के जोखिम

प्राकृतिक परिवार नियोजन से कोई दुष्प्रभाव या शरीर के लिए खतरा नहीं होता। इस तरीके में एकमात्र जोखिम केवल एक अनियोजित गर्भावस्था ही है। इन तरीकों का उपयोग करते हुए गर्भावस्था को रोकने के लिए, ऐसे किसी भी दिन या समय में संभोग न करें जिस दौरान डिंब के निषेचित होने की संभावना हो। इसमें अंडोत्सर्ग से पहले 5 दिन शामिल हैं क्योंकि सेक्स के बाद शुक्राणु योनि में 3 से 5 दिन रह सकते हैं।

प्राकृतिक परिवार नियोजन के जोखिम

क्या प्रजनन जागरूकता प्रतिवर्ती है?

हाँ। चूंकि प्रजनन संबंधी जागरूकता का पुरुष या महिला के प्रजनन प्रणाली पर कोई प्रभाव नहीं पड़ता, इसलिए इस पद्धति को अपनाने के बाद बिना देरी के गर्भधारण संभव है। प्रजनन केवल अनचाहे गर्भ को रोकने के लिए ही नहीं बल्कि आसानी से गर्भधारण में भी मदद करती है, क्योंकि अब बच्चे के जन्म की योजना बना रहे जोड़ों को महिला को होने वाले अंडोत्सर्ग की जानकारी होती है।

अंडोत्सर्ग के शारीरिक संकेत

शरीर की कुछ हरकतों और होने वाले बदलावों पर ध्यान देकर, जिन्हें महसूस किया जा सकता है या पहचाना जा सकता है, आपकी प्रजनन विधि को पहचानना संभव है। अंडोत्सर्ग के इन शारीरिक लक्षणों में शामिल हैं:

  • गर्भाशय ग्रीवा में बदलाव जैसे की वह नर्म होकर और अधिक खुल जाती है।
  • स्तनों में संवेदनशीलता।
  • अंडाशय के किसी भी एक भाग में हल्का दर्द।

ध्यान रखें कि यदि प्रजनन जागरूकता विधियों का उपयोग जन्म नियंत्रण करने के लिए एकमात्र पद्धति के रुप में किया जा रहा है, तो इन अतिरिक्त लक्षणों पर विशेष रूप से भरोसा नहीं किया जाना चाहिए। उन्हें पुख्ता करने के लिए ग्रीवा श्लेम और बेसल बॉडी टेम्परेचर जैसे प्राथमिक लक्षणों को परखना हमेशा बेहतर होता है।

प्राकृतिक परिवार नियोजन के लाभ

  • सही तरीके से और लगातार इस्तेमाल करने पर प्रभावी जन्म नियंत्रण पद्धति ।
  • कोई दुष्प्रभाव या स्वास्थ्य जोखिम नहीं ।
  • तुरंत रोका जा सकता है।
  • सस्ती या लगभग मुफ्त।
  • क्लिनिक के चक्कर काटने, दवाएं लेने या किसी भी तरह के उपकरण के इस्तेमाल का झंझट नहीं ।
  • इसमें हृदय की समस्याओं के खतरे को बढ़ा सकने वाले एस्ट्रोजन जैसे हार्मोन्स नहीं होते ।
  • गर्भनिरोध से संबंधित धार्मिक प्रतिबंध वाले जोड़ों के बीच स्वीकार्य जन्म नियंत्रण उपाय ।
  • दोनों तरीकों के लिए अच्छी तरह से काम करता है, चाहे वह जोड़ा गर्भधारण के लिए प्रयास कर रहा हो या गर्भाधान से बचना चाहता हो।

प्राकृतिक परिवार नियोजन के नुकसान

  • दोनों ही साथियों का सावधान रहना आवश्यक है।
  • महीने का लगभग एक तिहाई समय सेक्स से दूर रहने में या गर्भ निरोधकों के दूसरे तरीकों के इस्तेमाल में चला जाता है।
  • मासिक धर्म चक्र का एकदम सही और लगातार रिकॉर्ड रखना बेहद जरुरी होता है।
  • उन महिलाओं के लिए चुनौतीपूर्ण है जिनका मासिक धर्म चक्र अनियमित है।

आपके मासिक धर्म चक्र और प्रजनन क्षमता जागरुकता के तरीकों की पूरी समझ के साथ, प्राकृतिक परिवार नियोजन को एक प्रभावी प्राकृतिक गर्भनिरोधक के रूप में उपयोग करना संभव है। सस्ता, और आसानी से समझ में आने वाला, एन.एफ.पी. दुनिया भर में अक्सर इस्तेमाल किया जाने वाला तरीका है।