गर्भावस्था: 35वां सप्ताह

गर्भावस्था: 35वां सप्ताह

Last Updated On

गर्भावस्था के 35वें सप्ताह में मिली-जुली भावनाएं होती हैं, गर्भवती महिलाओं को खुशी महसूस होती है कि वे लगभग अपनी गर्भावस्था के अंतिम चरण में हैं। हालांकि, निर्धारित तारीख के करीब आने के कारण चिंता भी बहुत ज़्यादा होती है। इस समय के दौरान श्रोणि क्षेत्र में शिशु का क्रमिक अवरोह महत्वपूर्ण है क्योंकि वह दुनिया में आने के लिए तैयार हो रहा है।

गर्भावस्था के 35वें सप्ताह में शिशु का विकास

अब जब आप तीसरी तिमाही के अंत की ओर हैं, तो कुछ ऐसी चीज़ें हैं जिससे आपके शिशु को गुज़रना होता है, जैसे:

वज़न बढ़ना

गर्भ में पल रहे शिशु का वज़न करीब सौ ग्राम बढ़ सकता है और वह प्रसव के समय तक बढ़ेगा क्योंकि वसा की परत बढ़ रही है। वसा शिशु के शारीरिक तापमान को नियमित करने और उसे ऊर्जा उपलब्ध कराने में मदद करती है।

नर्म सिर

इस समय तक मस्तिष्क एक उल्लेखनीय गति से बढ़ रहा होता है और बच्चे के सिर पर ‘नर्म चिन्ह’ इस तीव्र विकास को समायोजित करता है। इसके अतिरिक्त, शिशु का नर्म सिर आरामदायक प्रसव में सहायक होता है क्योंकि इससे शिशु, जन्म नलिका से आराम से निकल सकता है।

गुर्दे के कार्य

इस समय तक शिशु के गुर्दे पूरी तरह से परिपक़्व हो चुके होते हैं ।

यकृत के कार्य

यकृत (लीवर) भी अब कार्य करने में सक्षम हो जाता है क्योंकि कुछ अपशिष्ट उत्पादों को इसके द्वारा संसाधित किया जा सकता है।

गर्भावस्था के 35वें सप्ताह में शिशु का आकार

गर्भावस्था के 35वें सप्ताह में शिशु खरबूज के आकार के बराबर होता है। जिसकी लंबाई लगभग 18 इंच होती है, शिशु का वज़न भी अब तक लगभग 2.3 किलोग्राम बढ़ सकता है। यह इतना भारी है जैसे लगभग 14 इंच का लैपटॉप अपने पेट में लिया हो।

गर्भावस्था के 35वें सप्ताह में सामान्य शारीरिक परिवर्तन

35वें सप्ताह में गर्भावस्था के दौरान शरीर के कुछ मुख्य परिवर्तनों में शामिल हैं:

भार बढ़ना

अधिकांश गर्भवती महिलाओं का वज़न लगभग 10 किलोग्राम तक बढ़ जाता है इन हफ़्तों में वज़न तेज़ी से इसलिए बढ़ता है क्योंकि शिशु में वसा की परतें बढ़ती हैं और इसी कारण से पूरा वज़न बढ़ता है।

सांस लेने में सुधार

आपने पिछले कुछ हफ्तों के दौरान सांस लेने में कुछ कठिनाई महसूस की होगी क्योंकि शिशु ने फेफड़ों के विस्तार को संकीर्ण कर दिया है। हालांकि, प्रसव की तैयारी में, शिशु श्रोणि की ओर बढ़ना शुरू कर देता है जिससे फेफड़ों में संकुचन कम हो जाता है।

भारी स्तन

इस दौरान कुछ माओं को कोलोस्ट्रम स्राव का अनुभव होता है, जिस कारण स्तन भारी हो जाते हैं।

गर्भावस्था के 35वें सप्ताह के लक्षण

35वें सप्ताह में गर्भावस्था के कुछ सामान्य लक्षण इस प्रकार हैं:

बार-बार पेशाब आना

जैसे ही गर्भावस्था तीसरी तिमाही के अंत की ओर बढ़ती है, शिशु योनिक प्रसव के लिए श्रोणि की ओर बढ़ना शुरू कर देता है। परन्तु, इससे मूत्राशय पर दबाव पड़ता है और बार-बार पेशाब करने की तीव्र इच्छा होती है।

श्रोणि का सुन्न होना

शिशु का योनि की ओर बढ़ने का एक दुष्प्रभाव यह है कि यह योनि पर दबाव डालना शुरू कर देता है और यह दबाव श्रोणि के पास की कुछ नसों पर पड़ता है, जिससे श्रोणि के आस पास के क्षेत्र में संवेदनहीनता का अनुभव होता है।

पाचन संबंधी समस्याएं

जैसे जैसे शिशु बढ़ता है, गर्भ में जगह कम होने लगती है और शरीर के कुछ आंतरिक अंगों पर दबाव पड़ने लगता है। यह सीने में जलन और उदर संबंधी अन्य समस्याओं का कारण बन सकता है।

ब्रेक्सटन हिक्स संकुचन

यह गर्भाशय का संकुचन है जिसे अक्सर प्रसव का दर्द समझ लिया जाता है। जबकि कुछ महिलाएं शायद इसे महसूस नहीं करती हैं, यह ‘नकली’ संकुचन वास्तविक संकुचन से इस तथ्य से भिन्न हो सकते हैं कि यह अनियमित होते हैं।

गर्भावस्था के 35वें सप्ताह में पेट

इस दौरान बहुत अधिक वज़न बढ़ने के कारण, पेट बहुत बड़ा हो जाता है और कोई भी यह पता लगा सकता है कि आप गर्भवती हैं। अब तक गर्भाशय अपने मूल आकार से लगभग एक हजार गुना तक बढ़ चुका होता है।

गर्भावस्था के 35वें सप्ताह में पेट

गर्भावस्था के 35वें सप्ताह में अल्ट्रासाउंड

यह समय महत्वपूर्ण होता है जब भ्रूण के विकास को तय करते समय डॉक्टर यह पता लगा सकते हैं कि शिशु गर्भ में उल्टा तो नहीं बढ़ रहा है यदि हाँ, तो डॉक्टर ऑपरेशन करने का निर्णय ले सकते हैं।

गर्भावस्था के 35वें सप्ताह में क्या खाएं?

गर्भावस्था के 35वें सप्ताह के दौरान, भोजन में मुख्य रूप से रेशा-युक्त भोजन शामिल होता है जो शौच में सहायक और कब्ज़ को रोकने में मदद करता है। अनुभवसिद्घ नियम के अनुसार, कब्ज़ से राहत के लिए घुलनशील और अघुलनशील दोनों प्रकार के रेशे का उपयोग किया जाता है। कुछ रेशे-युक्त खाद्य पदार्थों में ब्रोकोली, नाशपाती, काली सेम और जौ का आटा शामिल है।

सलाह और देखभाल

यहाँ कुछ सलाह दी गई हैं, जिनकी मदद से आप इस सप्ताह में अपनी देखभाल कर सकती हैं, वे इस प्रकार हैं:

क्या करें?

  • प्रसव प्रशिक्षक की देखरेख में रहना गर्भवती महिलाओं के लिए मददगार साबित हो सकता है क्योंकि प्रसव प्रशिक्षक महिला को शारीरिक और भावनात्मक रूप से समर्थन प्रदान करता है। कुछ अध्ययनों से पता चला है कि प्रसव प्रशिक्षक समर्थन देने में इतने सक्षम होते हैं कि दवा की आवश्यकता कम हो जाती है।
  • गर्भावस्था के 35वें सप्ताह तक पहुँचते ही महिलाएं अक्सर बेचैन रहती हैं। दोस्तों और परिवार के लोगों से बात करके तनाव को दूर किया जा सकता है।
  • पैरों में सूजन हो सकती है इसलिए उन्हें ऊँचा करने के लिए कुछ तकियों या किताबों का उपयोग करें, ऐसा करने से सूजन कम हो सकती है।
  • योनि के चारों ओर कीटाणु ना हो इसकी जाँच करवा लें ताकि शिशु के लिए कोई जटिलता पैदा न हो सके।
  • यदि आपको समय से पहले प्रसव पीड़ा शुरू हो जाती है तो अस्पताल जाने के रास्ते का नक्शा तैयार रखें।
  • केगेल व्यायाम करने का प्रयास करें क्योंकि यह योनि की मांसपेशियों को मज़बूत करने में मदद करता है।

क्या न करें?

  • छींकते या हँसते समय सावधानी बरतें क्योंकि इससे अनैच्छिक रूप से मूत्र निकल सकता है। शिशु का योनि की ओर उतरने से मूत्राशय पर पड़ने वाला दबाव इसका कारण होता है।
  • ऐसे खाद्य पदार्थों से बचें जो सीने में जलन उत्पन्न करते हैं, जैसे कॉफी या तैलीय भोजन क्योंकि गर्भावस्था के इस पड़ाव पर शरीर पाचनयंत्र की समस्याओं की तरफ संवेदनशील होता है।

आपके लिए आवश्यक खरीददारी

आपके बच्चे के जन्म के समय कुछ जरुरत की चीजें आपके पास होनी चाहिए। यहाँ दिए हुए निम्नलिखित वस्तुएं प्रक्रिया के दौरान काम में आएंगी –

1. डायपर और बेबी वाइप्स

अपने हॉस्पिटल बैग में इन्हें ज़रूर रखें क्योंकि जन्म के बाद आपके बच्चे को इनकी सबसे ज़्यादा ज़रूरत होगी।

2. दूध पिलाने वाला बोतल

शिशु के जन्म के बाद भले ही आप स्तनपान करा रही हों, परन्तु आपको इनकी आवश्यकता होगी। आपका डॉक्टर आपको सुझाव दे सकता है कि आप अपने बच्चे को पहले दो दिन बोतल से दूध पिलाएं, ताकि वह सीख सके कि आपके निप्पल को कैसे लेना है। हालांकि, अधिकांश बच्चे खुद से निप्पल पकड़ना सीख लेते हैं, इसलिए यह बैक-अप विकल्प के रूप में है।

निष्कर्ष

गर्भावस्था का 35वां सप्ताह बहुत प्रतीक्षा का समय होता है क्योंकि शिशु का जन्म होने ही वाला है। इस समय गर्भवती महिला अतिसंवेदनशील होती है और इसी समय पर दोस्तों व परिवार का समर्थन महत्वपूर्ण होता है। प्रसव पीड़ा किसी भी क्षण शुरू हो सकती है, ऐसे में प्रसव के संकेतों पर कड़ी नजर रखने की ज़रूरत है जैसे रक्त दिखाई देना।

पिछला सप्ताह: गर्भावस्था: 34वां सप्ताह

अगला सप्ताह: गर्भावस्था : 36वां सप्ताह