गर्भावस्था के दौरान स्तन और निप्पल संबंधी सामान्य बदलाव

गर्भावस्था के दौरान स्तन और निप्पल संबंधी सामान्य बदलाव

Last Updated On

कोई भी परीक्षण करवाने से पहले, अनेक संकेत होते हैं जो एक माँ को गर्भवती होने का एहसास देते हैं।उन सभी संकेतों में से एक संकेत है स्तन में दर्द। गर्भावस्था, एक महिला के लिए जीवन बदलने वाला अनुभव न केवल इसलिए होता है क्योंकि यह एक नया जीवन बनाता है, बल्कि इसलिए भी होता है क्योंकि वह एक बढ़ते बच्चे को समायोजित करने और पोषण देने के लिए शरीर को बदल देती है और जन्म के बाद पोषण प्रदान करने के लिए, भी तैयार रहती है। यहाँ तक कि जब आपकी मांसपेशियाँ ढीली हो जाती हैं, तो आपका रिबकेज चौड़ा हो जाता है, पेट फैल जाता है और आपके आंतरिक अंग अपनी जगह बदलते हैं, स्तन बड़े होने के साथसाथ जन्म के बाद शिशु को दूध पिलाने के लिए तैयार हो जाते हैं

अक्सर गर्भावस्था के दौरान नई माँ के लिए, स्तन वृद्धि हमेशा सुखद अनुभव नहीं होता है। अधिकांश महिलाएं दर्द की शिकायत करती हैं, लेकिन असुविधा का स्तर भिन्न होता है। यदि आप गर्भवती हैं तो स्तन में क्या बदलाव हो सकते हैं, इसके बारे में जानने के लिए पढ़ें!

गर्भावस्था में स्तन परिवर्तन

गर्भावस्था से संबंधित लगभग हर दूसरे लक्षण के साथ, इस दौरान स्तन की कोमलता के लिए दो मुख्य कारण एस्ट्रोजन और प्रोजेस्टेरोन को भी जिम्मेदार ठहराया जाता है।यह दो हॉर्मोन वही हैं जो पूर्वयौवन किशोर अवस्था में आपके स्तनों के गठन का कारण बने थे, औरअब आपको स्तनपान कराने के लिए तैयार करते है, यह हॉर्मोन सुनिश्चित करते हैं कि आपका दूध स्रवण का मार्ग चौड़ा हो और आपके स्तनों को पर्याप्त रक्त की आपूर्ति हो। प्रारंभिक गर्भावस्था में स्तन दर्द आम बात है क्योंकि पहली तिमाही अर्थात गर्भाधान के दो से चार हफ़्तों के बीच आप अधिकांश बदलावों का अनुभव करती हैं,

यहाँ पहले 12 हफ्तों के दौरान गर्भावस्था की शुरुआत में प्रति सप्ताह बदलाव होते हैं:

सप्ताह 1 – 3 में परिवर्तन

इम्प्लांटेशन होते ही ब्रेस्ट में बदलाव शुरू हो जाता है, परिवर्तनों का एक बड़ा हिस्सा दूसरे हफ्ते के दौरान होता है और आपकी संवेदनशीलता बढ़ती है खासकर उस जगह पर जहाँ आंतरिक स्तन धमनियाँ हैं। इस अवधि के दौरान दूध नलिकाएं, और वायुकोशीय कलियाँ तेज़ी से बढ़ती हैं।

सप्ताह 4 – 6 में परिवर्तन

इस अवधि में निपल्स में परिवर्तन ध्यान देने योग्य होते हैं, रक्त की आपूर्ति में वृद्धि की वजह से निप्पल के आस पास झुनझुनी के साथ एक चुभन व सनसनी का कारण बनता है और तापमान में बदलाव से भी झुनझुनी हो सकती है। इस चरण के अंत में, निप्पल के रंग और भी गहरे रंग के और बड़े हो जाते हैं।

सप्ताह 7 – 9 में परिवर्तन

7वें सप्ताह में, वसा के जमाव की वजह से स्तन का वज़न बढ़ने लगता है और दूध नलिकाएं बढ़ती हैं। बढ़ते एल्वियोली द्वारा लोब्यूल्स का निर्माण होता है, जिस कारण उनपर खराश और कोमलता महसूस होती है। मॉन्टगोमेरी के ट्यूबरक्लेज या छोटे दाने जो कि एरिओला (निप्पल के चारों तरफ त्वचा का घेरा) के आसपास होते हैं, लगभग 8वें सप्ताह में दिखाई देते हैं और 12वें हफ्ते तक, गहरा एरिओला हल्के एरिओला के ऊतक से घिरे होते हैं और उल्टे निप्पल भी ठीक हो जाते है।

सप्ताह 10 – 12 में परिवर्तन

यह वह अवधि है जब निप्पल पूरी तरह से फैल जाते हैं और आप उनमें अंतर महसूस करती हैं, खासकर अगर यह आपकी पहली गर्भावस्था है तो ।

पहले बारह हफ्तों के दौरान बड़े परिवर्तन होते हैं, स्तन विकास गर्भावस्था के दौरान जारी रहता है और निम्नलिखित परिवर्तनों द्वारा पहचाना जाता है:

गर्भावस्था के दौरान स्तन वृद्धि

गर्भावस्था के दौरान स्तन में वृद्धि सबसे अधिक ध्यान देने योग्य परिवर्तन है, लेकिन वृद्धि का तरीका प्रत्येक महिला में भिन्न हो सकता है। जहाँ कुछ महिलाएं धीमी और स्थिर वृद्धि का अनुभव करती हैं, वहीं अन्य महिलाओं में तेज़ी से वृद्धि होती है । यदि यह आपकी पहली गर्भावस्था है, तो आप महसूस करेंगी कि आपकी ब्रा का आकार एक कप के बराबर बढ़ गया है और आपके स्तन भरे हुए और भारी लग रहे हैं। आकार में अचानक वृद्धि आपकी त्वचा में खिंचाव लाती है और यह खिंचाव खुजली का कारण बन सकता है। खिंचाव के निशान दिखना असामान्य नहीं है, लेकिन यह ज़्यादातर अस्थायी होते हैं और आपको उनके बारे में बहुत चिंतित होने की आवश्यकता नहीं है।

गर्भावस्था के दौरान स्तन में कोमलता

पहले त्रैमासिक के दौरान तकलीफ या स्तन कोमलता सबसे अधिक ध्यान देने योग्य होती है और आमतौर पर दूसरेत्रैमासिक के लिए यह आसान हो जाता है। हॉर्मोन में वृद्धि होने के कारण, तकलीफ होती है व नियमित रूप से दैनिक कार्य या आकस्मिक स्पर्श आपको असहज कर सकता है।

दिखाई देने वाली नसें

गर्भावस्था के दौरान शरीर में रक्त का प्रवाह बढ़ने से आपके स्तनों की नाज़ुक त्वचा में नसों का दिखाई देना सम्भव है। यह स्थिति अस्थायी है और आमतौर पर प्रसूति के बाद या स्तनपान बंद करने के बाद नसें अपने सामान्य आकार में लौट आती हैं।

गाँठ और थक्के

कुछ महिलाएं स्तनों में विकसित गाँठ महसूस करती हैं, हालांकि इनमें से अधिकांश सौम्य होती हैं और यह किसी भी बदलाव या नई गाँठ को जाँचने में मदद करती है। अधिकांश गाँठ गैलेक्टोकेल्स (दूध से भरे सिस्ट), फाइब्रोएडीनोमा (रेशेदार ऊतक) या सिस्ट के कारण विकसित होती हैं।

गर्भवती होने पर निप्पल में बदलाव

गर्भावस्था आपके निप्पल की रंजकता में वृद्धि का कारण बनता है, जिसे एरिओला भी कहा जाता है। तीसरी तिमाही के बदलाव में निप्पल के आकार में वृद्धि और मॉन्टगोमेरी के ट्यूबरक्यूल्स की उपस्थिति शामिल है।

मोंटगोमरी का ट्यूबरक्यूल्स

एरिओला के चारों ओर छोटेछोटे दानों के रूप में दिखाई देते हैं, इन थक्कों का नाम एक आयरिश ऑब्सटेट्रिशियन के नाम पर रखा गया है जिन्होनें पहली बार इनका निरिक्षण किया था। प्रत्येक महिला के लिए थक्कों की संख्या अलगअलग होती है। इन ट्यूबरक्यूल्स को एक सुरक्षात्मक कार्य करने के लिए माना जाता है क्योंकि यह तेल को स्रावित करते हैं, जो आइसोला को मॉइस्चराइज रखता है और गर्भावस्था के दौरान निप्पल को दर्द से राहत देता है।

स्तन का रिसाव गर्भधारण करने की धारा

गर्भावस्था के दौरान 16वें सप्ताह की शुरुआत में भी स्तनों में रिसाव होना एक सामान्य घटना है। जैसा कि दूध नलिकाएं प्रसव के बाद के कार्य के लिए तैयार होती हैं, वे कोलोस्ट्रम, एक पीले रंग के तरल का रिसाव करती हैं। कोलोस्ट्रम वह है, जो आपको अपने शिशु को जन्म के तुरंत बाद पिलाना चाहिए क्योंकि यह एंटीबॉडी से भरपूर होता है जो आपके नवजात शिशु की रक्षा करता है।

स्तन में दर्द से राहत के लिए टिप्स

स्तन में दर्द से राहत के लिए टिप्स

स्तन परिवर्तन और उनके साथ जुड़ी असुविधाएं अपरिहार्य हैं, ऐसी कई चीजें हैं जो आप स्तनों में बदलाव को आसान बनाने के लिए कर सकती हैं:

प्रसूति ब्रा अपनाएं

प्रसूति ब्रा अपनाएं

सुनिश्चित करें कि जब भी आप गर्भावस्था के दौरान स्तन के आकार में बदलाव को संकुचित महसूस करती हैं, तब आप अपने आप को एक नई ब्रा के लिए माप लें। पहली तिमाही के अंत में मापना और एक बार तीसरी तिमाही के अंत में और अच्छी तरह से फिटिंग ब्रा खरीदना सुनिश्चित करेगा कि आपके स्तन हमेशा अच्छी तरह से समर्थित हैं। मातृत्व ब्रा का चयन करके हर खरीद लागत को प्रभावी बनाएं, जिसे आप जन्म देने के बाद उपयोग कर पाएंगे। गर्भावस्था के दौरान बदलते स्तन के आकार को समायोजित करना, स्तन की संवेदनशीलता से बचने का सबसे सुरक्षित तरीका है।

  • मॉइस्चराइज करें

गर्भावस्था के दौरान स्तनों में खुजली से छुटकारा पाने के लिए आपकी त्वचा मॉइस्चराइज़ होना अनिवार्य है। जैसेजैसे त्वचा बढ़ते स्तनों पर फैलती है, इसे पोषण देने की आवश्यकता होती है, ताकि यह नर्म और कोमल बनी रहे।

  • अंडरवायर्ड ब्रा को दूर रखें

पहले यह माना जाता था कि अंडरवायर्ड ब्रा रक्त प्रवाह और दूध उत्पादन में बाधा डाल सकती है, लेकिन शोध ने इस सिद्धांत को खारिज कर दिया है। हालांकि, ज़्यादातर महिलाओं को अंडरवायर्ड ब्रा स्तनों के दर्द के लिए असहज महसूस होती है परन्तु यदि आपकी ब्रा असुविधा बढ़ा रही है, तो सुनिश्चित करें कि आप अंडरवायर्ड ब्रा न पहनें ।

  • आराम के लिए सूती ब्रा चुनें

हाइपोएलर्जेनिक सूती कपड़े, त्वचा को केवल जलन और संक्रमण से बचाते ही नहीं हैं बल्कि यह भी सुनिश्चित करते हैं कि आपकी त्वचा सांस ले सके । मुलायम कपड़े पसीने को सोख लेते हैं, जिससे आपकी त्वचा साफ और सूखी रहती है इसलिए कॉटन की ब्रा लेने से बहुत राहत मिलती है।

  • चीजों और लोगों में टकराव से बचें

निवारण यह सुनिश्चित करने का सबसे अच्छा तरीका है कि आप कभीकभी दर्द से परेशान न हों। देखें कि आप कहाँ जा रहे हैं चाहे आप घर पर हों या बाहर ताकि आप शारीरिक संपर्क से आहत न हों।

  • अपने साथी से हाथों के बिना सम्पर्क के लिए कहें

गर्भावस्था के दौरान स्तनों का दर्द, शारीरिक अंतरंगता के कारण हो सकता है । सुनिश्चित करें कि आप अपने साथी के साथ अपनी समस्याओं को बताएं और जब आप साथ हों तो, उसे अपने स्तन छूने से बचने के लिए कहें।

  • एक गर्म सेक का उपयोग करें

अपने स्तनों को गर्म और गीले तौलिये से ढककर गर्भावस्था के दौरान स्तन में दर्द से राहत देने का एक बेहतरीन तरीका है। सिकाई की गर्माहट रक्त परिसंचरण में सुधार करके सूजन और संवेदनशीलता को कम करने में मदद करती है।

गर्भावस्था के दौरान आहार में बदलाव करने से लम्बे समय तक स्तनों दर्द और परेशानी कम हो सकती है ।

  • हाइड्रेटेड रहें

स्तनों में दर्द के कारणों में से एक कारण पानी का जमाव है और इससे बचा जा सकता है यदि आप पूरे दिन भरपूर पानी पीती हैं । यह उन अतिरिक्त हॉर्मोन और तरल पदार्थ को बाहर निकालने में मदद करता है, जो दर्द का कारण बनते हैं ।

  • नमक का कम सेवन करें

कुछ महिलाओं ने पाया है कि नमक का सेवन कम करने से गर्भावस्था में स्तनों में दर्द कम होता है।

  • अलसी के बीज का सेवन

एक चम्मच पिसी हुई अलसी के बीज के साथ पानी, फलों का रस या दही का सेवन करें। पोषक तत्वों और फाइबर से भरपूर यह अलसी के बीज, स्तन के दर्द को कम करने में मदद करते हैं।

  • आहार और पोषण

स्वस्थ शरीर, स्तन के दर्द को संभालने के लिए बेहतर रूप से सुसज्जित होता है। स्तनों की संवेदनशीलता कम करने के लिए बीज और नट्स, पत्तेदार साग, सेम और अनाज सहित विटामिन और खनिज युक्त खाद्य पदार्थों का सेवन करें।

स्तन परीक्षा डॉक्टर द्वारा परीक्षण के समय

जबकि गर्भावस्था के दौरान स्तन की परेशानी सामान्य और अस्थायी होती है जैसा कि हर दूसरे लक्षणों के साथ होता है और इसकी जानकारी होना अनिवार्य है। आप चिकित्सक से परामर्श ज़रूर लें यदि आप किसी भी असामान्य दर्द या स्राव का अनुभव करती हैं। अपने डॉक्टर से बात करें यदि:

  • गाँठ में तेज़ी से बदलाव होता है या गाँठ की संख्या में वृद्धि होती है ।
  • आप कोलोस्ट्रम के साथ रक्त के रिसाव को महसूस करती हैं ।
  • आपको चकत्ते दिखाई देते हैं ।

गर्भावस्था के दौरान स्तनों में बदलाव को महसूस करना भी अनेक शारीरिक बदलावों के अनुभवों का एक हिस्सा होता है। जबकि पहली और तीसरी तिमाही अत्यधिक विकास दिखाती है, दूसरी तिमाही में भी बदलाव से होने वाली हल्की असुविधा के लिए तैयार रहें। जब तक स्वास्थ्य को कोई खतरा नहीं है, तब तक इन परिवर्तनों से आपको कोई चिंता नहीं होनी चाहिए और गर्भावस्था के आगे बढ़ने के साथ ही इनका कम होना तय है।