गर्भावस्था का छठा महीना – लक्षण, शारीरिक परिवर्तन और आहार

गर्भावस्था का छठा महीना - लक्षण, शारीरिक परिवर्तन और आहार

Last Updated On

माँ बनने की आपकी यात्रा का एक महत्वपूर्ण दौर शुरू हो चुका है।गर्भावस्था के छठे महीने में पहुँचने का मतलब यह है कि आप अगले कुछ ही महीनों में अपने नन्हे-मुन्ने को वास्तव में अपनी बाहों में ले सकेंगी।विश्वास नहीं होता ना? लेकिन ऐसा होगा, क्योंकि जब आप अपनी तीसरी तिमाही के करीब पहुँचती हैं, मॉर्निंग सिकनेस या मतली जैसे गर्भावस्था के शुरुआती लक्षण कम होने लगते हैं और इसके बजाय आप कुछ अलग लक्षण अनुभव करने लग जाती हैं।

गर्भावस्था के छठे महीने के सामान्य लक्षण

गर्भावस्था के छठे महीने में दिखने वाले कुछ सामान्य लक्षण नीचे दिए गए हैं।

1. कब्ज और अपच

इस चरण में सबसे अधिक परेशान करने वाले लक्षण कब्ज और अपच हैं। हम में से अधिकांश को गर्भावस्था के दौरान कब्ज के साथ ही सीने में जलन का अनुभव होता है। गर्भावस्था के विभिन्न चरणों में इसके कारण अलग-अलग होते हैं। गर्भावस्था के शुरुआती चरणों में अनुभव की जाने वाली कब्ज की समस्या हार्मोन में परिवर्तन के कारण होती है, जिससे आंत के आसपास की मांसपेशियों के ढीला होने के कारण पाचन धीमा हो जाता है। जैसे-जैसे महीने गुजरते हैं, गर्भाशय का विस्तार आंत पर दबाव बनाता है, जिससे अपच होता है। अन्य कारणों में विटामिन की गोलियां भी शामिल हैं, जो मल को कठोर कर देती हैं, जिससे असुविधा और सूजन होती है। स्थिति को नियंत्रित करने के लिए, आप नियमित रूप से व्यायाम कर सकती हैं, फाइबर युक्त खाद्य पदार्थों के सेवन के साथ पानी, जूस और सभी तरल पदार्थों का सेवन करें। दही कब्ज और अपच से निजात दिलाने में अच्छी तरह से काम करता है। यदि कब्ज के कारण अत्यधिक असुविधा हो, तो आप रेचक (लैक्सेटिव) लेने के लिए अपने डॉक्टर से संपर्क कर सकती हैं।

2. सूजन

जैसे ही आप अपनी अंतिम तिमाही में प्रवेश करती हैं, आपको अपने पैरों, टखनों और कभी-कभी हाथों पर भी सूजन का अनुभव होगा! इस वक्त आपका शरीर बच्चे के लिए तैयार हो रहा है, ऐसे में यह आपके और बच्चे के पोषण के लिए ऊतकों में द्रव को बनाए रखता है, जो इस सूजन का कारण बनता है। आंखों और गालों के आस-पास भी थोड़ी सूजन सामान्य है, लेकिन अगर सूजन प्रोटीन के उच्च स्तर के साथ है तो यह प्राकगर्भाक्षेपक (प्रीक्लेम्पसिआ) का संकेत हो सकता है। यह एक गंभीर समस्या है, जो रक्तचाप का कारण बनती है। सूजन से बचने के लिए जब भी संभव हो अपने पैरों को ऊपर रखने की कोशिश करें और तंग कपड़े न पहनें। इसके अलावा कोशिश करें कि लंबे समय तक खड़ी न रहें।

3. भूख में वृद्धि

इस चरण में, आप न केवल अपने लिए बल्कि अपने बच्चे के लिए भी खा रही हैं। अब शिशु के अंग विकसित हो रहे हैं और वह परिपक्व हो रहा है, इसलिए आपके शरीर को पोषक तत्वों और विटामिन की आवश्यकता है। यही कारण है कि, इस दौरान आपको अचानक भूख महसूस होने के साथ ही खाने की क्षमता में वृद्धि का भी एहसास होगा। इसलिए खुद को दोषी महसूस किए बिना अपनी तृष्णा को शांत करना बेहतर है, लेकिन साथ ही समझदारी से खाना भी जरूरी है। इस दौरान अस्वास्थ्यकर खाने की जगह फल, सलाद, साबुत अनाज जैसे स्वास्थ्यपरक खाद्य पदार्थों को भोजन में शामिल करें। ढेर सारा पानी पिएं और दिन में 3 बार ज्यादा-ज्यादा खाने की बजाय दिन भर में 6-7 बार थोड़ा-थोड़ा करके खाएं।

भूख में वृद्धि

4. खर्राटे

कई महिलाओं को गर्भावस्था के इस चरण में खर्राटे लेने का अनुभव होता है। एक बार फिर, इसका दोष गर्भावस्था के हार्मोन को जाता है। वजन बढ़ने से आपकी गर्दन और सिर के ऊतकों में सूजन आ जाती है जिससे खर्राटे आते हैं और इसके अलावा आपकी श्लेष्मा झिल्ली भी सूज जाती है। सोते समय अच्छी तरह से सांस लेने के लिए नाक की पट्टियों (नेजल स्ट्रिप्स) का उपयोग करना बेहतर होता है। खर्राटे गर्भावधि मधुमेह का भी संकेत हो सकते हैं, जिसकी रक्त और मूत्र परीक्षणों के माध्यम से जांच की जा सकती है।

5. पीठ दर्द

अधिकांश महिलाओं द्वारा अनुभव किया जाने वाला, पीठ दर्द गर्भावस्था के अपने प्रारंभिक चरण से शुरू होता है और प्रसव तक चलता है और कई बार प्रसव के बाद भी जारी रहता है! वजन बढ़ने से पीठ में दर्द होता है और साथ ही इस दौरान गर्भाशय के भी बढ़ने के कारण यह आपकी पीठ के निचले हिस्से की वक्रता का कारण बनता है। रिलेक्सिन हार्मोन प्रसव के लिए शरीर को तैयार करने के लिए आपकी श्रोणि की मांसपेशियों को ढीला करता है, जिससे पीठ में दर्द होता है। बैठने के दौरान एक अच्छी मुद्रा बनाए रखने की कोशिश करें और जब भी संभव हो अपने पैरों को ऊपर उठाकर रखें।

गर्भावस्था के छठे महीने में शरीर में परिवर्तन

जैसा कि पहले ही उल्लेख किया गया है, अंततः अब आप गर्भवती की तरह दिख रही हैं। 6 महीने की गर्भावस्था वाला आपका पेट दिखना शुरू हो जाएगा। अब तक आपके शरीर का वजन भी बढ़ जाएगा और जैसे-जैसे गर्भाशय पेट पर दबाव बनाएगा, आपकी नाभि भी बाहर की ओर निकल आएगी, जो प्रसव के कुछ सप्ताह बाद तक इसी स्थिति में रहेगी। शिशु के वजन और बढ़ते हुए गर्भाशय के कारण आपको कई बार चक्कर जैसा महसूस हो सकता है।

गर्भावस्था के छठे महीने में होने वाली आम समस्याएं

गर्भावस्था के छठे महीने में महिलाओं को होने वाली आम समस्याओं में पीठ दर्द, पैर में दर्द, पैरों में ऐंठन, सूजन के साथ अपच, कब्ज और बवासीर शामिल हैं। आपको अपने पैरों और टखनों के आसपास सूजन दिख सकती है, जिसकी वजह से कुछ महिलाओं का जूते का एक नंबर बढ़ सकता है। प्रसव के बाद जब आपका शरीर वापस अपनी पुरानी अवस्था में आएगा तो भी आपके जूते का नंबर वैसा ही रहेगा, क्योंकि आपके पैर अपने पुराने आकार में वापस नहीं आएंगे। तो खुशी से नए जूते खरीदें!

हर गर्भावस्था की अपनी कुछ परेशानियां भी होती हैं, जिनमें शामिल हैं:

1. पेट के आसपास खुजली

गर्भावस्था के छठे महीने के मध्य के आसपास आप को पेट के आसपास खुजली का अनुभव होगा। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि आपका शिशु लगभग पूरा विकसित हो चुका होता है और बढ़ते भ्रूण और बढ़े हुए गर्भाशय को समायोजित करने के लिए आपकी त्वचा में खिंचाव आने लगता है। परिणामस्वरूप, आपकी त्वचा शुष्क हो जाती है और खुजली होने लगती है। आपकी त्वचा की नमी को बनाए रखने और खुजली को कम करने के लिए खिंचाव के निशान कम करने वाले क्रीम और मलहम को लगाने का यह सही समय है। इसके अलावा, पर्याप्त मात्रा में पानी पीती रहें, ताकि त्वचा में पानी की कमी न हो।

पेट के आसपास खुजली

2. पीठ दर्द और शरीर का दर्द

पीठ दर्द के साथ-साथ शरीर का दर्द भी आपको परेशान करना शुरू कर देगा। हर गुजरते दिन के साथ आपको अधिक थकान महसूस होगी। जैसे-जैसे गर्भाशय बढ़ता है, श्रोणि क्षेत्र से पेट तक के स्नायुबंधन खिंच जाते हैं और अत्यधिक दबाव में होते हैं, जिससे पेट के निचले हिस्से में दर्द होता है। दर्द कुछ घंटों के लिए जारी रह सकता है, लेकिन यदि यह लंबे समय तक रहता है और इसके बाद संकुचन होता है, तो आपको डॉक्टर से संपर्क करना चाहिए।

3. रात में नींद न आना

गर्भावस्था के इस समय के आसपास हार्मोनल परिवर्तन, रात में बार-बार पेशाब के लिए जाने और सीने में जलन या अपच के कारण अनेक महिलाओं को अनिद्रा की शिकायत होती है। इसके अलावा, जब आधी रात के समय शिशु पेट में हलचल करता है और पैर मारता है, तो जाहिर है कि आप अच्छी नींद नहीं ले पाती हैं। अनिद्रा से बचने के लिए कुछ सुझाव हैं, सोने से 2-3 घंटे पहले अपना रात का खाना खा लें और आप क्या खा रही हैं वह सोच-समझकर चुनें। दूसरी बात, सोने के समय एक नित्य-कर्म का पालन करें जैसे आरामदायक श्वसन योग करना, पढ़ना, संगीत सुनना, गुनगुने पानी से स्नान करना आदि। सोने के लिए आरामदायक बिस्तर का उपयोग करें एवं साथ ही इस बात का भी ध्यान रखें कि कमरे का तापमान सही हो।

4. नसों की सूजन (वेरिकोज वेन्स)

नसों की सूजन (वेरिकोज वेन्स) प्रायः वंशानुगत होता है और यह इसलिए होता है क्योंकि शिशु की बढ़ती हुई पोषण संबंधी आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए नसों को आपके गर्भाशय में अतिरिक्त रक्त पहुँचाना पड़ता है। आपकी जांघों और घुटनों के नीचे के क्षेत्र में सूजी हुईं और बैंगनी रंग की दिखने वाली नसों को वेरिकोज वेन्सके रूप में जाना जाता है। नियमित व्यायाम करने से इससे राहत मिलेगी, और जब भी संभव हो अपने पैरों को ऊपर रखने की कोशिश करें। इसके अलावा, आपके अंतर्वस्त्र और जूते आरामदायक होने चाहिए।

शिशु का विकास

गर्भ में 6 महीने का बच्चा लगभग पूरी तरह से विकसित हो चुका है और दिन-ब-दिन सुदृढ़ होता जा रहा है। उसके अंग अभी भी बढ़ रहे हैं, हालांकि स्वयं सांस ले सकने के लिए उसके फेफड़े पूरी तरह से विकसित नहीं हुए हैं। जैसे ही बच्चे की त्वचा और मांसपेशियां परिपक्व हो जाती हैं, आप बच्चे की गतिविधियों को पेट के अंदर उसके लात मारने और ऐंठने जैसी हरकतों से अनुभव कर सकती हैं। बच्चे के वजन के साथ, उसकी लंबाई भी बढ़ती है और अब वह लगभग एक फुट लंबा हो गया है। वह ध्वनि पर प्रतिक्रिया देना शुरू कर देता है। आप अल्ट्रासाउंड के जरिए भ्रूण की स्थिति समझ सकती हैं और देख सकती हैं कि बच्चे का चेहरा विकसित हो गया है और सिर शरीर के अनुपात में है। इस समय तक वह प्रकाश और अंधेरा भी महसूस कर सकता है और उसके शरीर में बीमारियों से लड़ने के लिए सफेद रक्त कोशिकाओं का विकास होने लगा है। अब शिशु का चेहरा उसकी पलकों, भौंहों और बालों सहित पूरा हो जाएगा। बालों की वृद्धि अनुवांशिक गुण है और कुछ शिशुओं के जन्म के समय बहुत बाल होते हैं, जबकि कुछ शिशु पूरी तरह से गंजे होते हैं।

शिशु का विकास

गर्भावस्था के छठे महीने में आहार

सभी अस्वास्थ्यकर खाद्य पदार्थों से बचना और साफ-सुथरे और घर पर बने खाने का सेवन करना ही बेहतर है। चूंकि बच्चे को पूरी तरह से विकसित होने के लिए पोषक तत्वों की आवश्यकता होती है, इसलिए फोलिक एसिड, आयरन और कैल्शियम की निरंतर आपूर्ति सुनिश्चित करें। गर्भावस्था के छठे महीने में पोषक तत्वों और खनिजों की पर्याप्त आपूर्ति के लिए भोजन में हरी पत्तेदार सब्जियाँ, मेवे, फल और साबुत अनाज शामिल करें। खुबानी, चेरी, अमरूद, अंगूर, अलग-अलग बेरी, सेब, आम, अनानास जैसे फलों में काफी मात्रा में प्रतिउपचायक (एंटीऑक्सीडेंट) और खनिज पाए जाते हैं। गाजर, चुकंदर, पालक, कद्दू, टमाटर, प्याज, सेलेरी, ब्रोकोली आदि कुछ ऐसी सब्जियाँहैं, जिन्हें आपको अपने आहार में शामिल करने का सुझाव दिया जाता है।

स्त्रीरोग विशेषज्ञ से मुलाकात

एक बार जब आप अपनी गर्भावस्था के छठे महीने में प्रवेश कर जाती हैं तो आपको बार-बार क्लिनिक के चक्कर लगाने होंगे। हो सकता है कि आपको सप्ताह में एक बार डॉक्टर के पास जाना पड़े। चिकित्सक स्टेथोस्कोप से बच्चे की हृदय गति की जांच करेंगे। इसके बाद, वे गर्भाशय की जांच के साथ ही उसकी वृद्धि, सूजन के लिए आपके अंगों एवं वेरिकोज वेन्स, आपके शरीर के वजन की जांच करेंगे और आवश्यकता होने पर आपके आहार में परिवर्तन का सुझाव भी देंगे। यदि आपको रक्त की कमी है या रक्ताल्पता होने की संभावना है, तो चिकित्सक आयरन, फोलिक एसिड, बी12 विटामिन और ताँबा आदि के साथ मोलिब्डेनम लेने की सलाह दे सकते हैं।

जांच व परीक्षण

गर्भावस्था के छठे माह के दौरान आपको निम्नलिखित जांच व परीक्षण कराने होंगे :

  • रक्त चाप की जांच।
  • वजन ।
  • प्रोटीन और चीनी की मात्रा मापने के लिए मूत्र परीक्षण ।
  • गर्भावधि मधुमेह परीक्षण जिसमें आपको एक गिलास ग्लूकोज युक्त पानी पीने के लिए कहा जाएगा और इसके एक घंटे के बाद रक्त परीक्षण किया जाएगा ।
  • गर्भाशय की ऊंचाई को मापना ।
  • भ्रूण की स्थिति और गर्भाशय के आकार की जांच।
  • सूजन या वेरिकोज वेन्स के किसी भी लक्षण के लिए पैरों और अंगों की जांच।
    जांच व परीक्षण

परामर्श के विषय

एक अनुभवी और मित्रवत व्यवहार करने वाला डॉक्टर आपको हमेशा बेचैनी से दूर रखेगा, इसलिए यदि आप इनमें से किसी भी बात का अनुभव करती हैं, तो आपको चिकित्सक से परामर्श करने की आवश्यकता है :

  • यदि आपको गुदा से गंभीर रक्तस्राव का अनुभव होता है, यह किसी गंभीर बीमारी का संकेत हो सकता है।
  • योनि से रक्तस्राव ।
  • पेशाब के दौरान दर्द का अनुभव होना ।
  • लगातार उल्टी करना ।
  • पानी की झिल्ली का टूटना ।
  • निचले श्रोणि क्षेत्र में पीड़ा या दबाव ।
  • औसतन, आपको एक घंटे में भ्रूण की 10 गतिविधियां महसूस होनी चाहिए। अगर ऐसा नहीं होता है, तो आपको चिकित्सक से परामर्श करना होगा, क्योंकि यह शिशु से जुड़ी किसी समस्या की ओर इशारा हो सकता है।
  • पेट में तेज दर्द या लंबे समय तक दर्द होना ।
  • पीठ के निचले हिस्से में गंभीर दर्द होना ।
  • यदि आप एक घंटे में पॉंच से अधिक संकुचन महसूस करती हैं ।

होने वाली माँ को क्या करना चाहिए?

सबसे पहले और सबसे महत्वपूर्ण है अपना ख्याल रखना।

  • नियमित रूप से व्यायाम करने से आपको गर्भावस्था के दौरान सुदृढ़ और सक्रिय रहने में मदद मिलेगी। केगेल व्यायाम करने का प्रयास करें।
  • दिन में कम से कम 8 घंटे की नींद लें।
  • गुर्दे की कार्य प्राणाली को बढ़ावा देने और अपने मलाशय पर कम दबाव डालने के लिए करवट पर सोने की कोशिश करें।
  • शरीर की मुद्रा आरामदायक बनाए रखें और जब भी संभव हो अपने पैरों को ऊपर रखने की कोशिश करें। अपने हाथों और अंगों के दर्द को कम करने के लिए चिकित्सीय सलाह पर विटामिन बी6 लेना बेहतर है।
  • प्रसव के बारे में सभी जानकारी और विवरण प्राप्त करें। छठे महीने की गर्भावस्था की सावधानियों और प्रसव पर लेख पढ़ें। भयभीत न हों । परिस्थिति के अनुसार समायोजित होने की कोशिश करें और किसी बात को दिल पर न लें।
  • अपने दिमाग को सकारात्मक और शांत रखना बहुत आवश्यक है। श्वसन संबंधी व्यायाम, गुनगुने पानी से नहाना, संगीत सुनना, मजेदार वीडियो देखने के साथ ही वह सब कुछ करें, जो आपको खुश और तनाव मुक्त बनाते हैं।

होने वाले पिता के लिए सुझाव

एक बार गर्भावस्था की खबर मिलने पर हर कोई होने वाली माँ पर ही ध्यान केंद्रित करता है, लेकिन हमें यह कभी नहीं भूलना चाहिए कि होने वाले पिता के लिए भी यह एक बहुत सुंदर अनुभव होता है। आप अपने पति के साथ भी सभी जानकारी और विवरण साझा करें, क्योंकि उनके पास अपनी चिंताओं को साझा करने वाला और कोई नहीं है। वह कैसे सहायक हो सकते हैं और प्रसव के दौरान क्या कर सकते हैं, इस बात को समझाते हुए आप शुरूआत कर सकती हैं। यदि आप दोनों खुद को मातृत्व और पितृत्व के लिए तैयार करने के लिए पालन-पोषण संगोष्ठी में भाग ले सकें, तो अच्छा होगाऔर हमेशा एक साथ आपके चिकित्सक से मिलने की कोशिश करें, ताकि आप दोनों स्थिति को अच्छी तरह से समझ सकें और चिकित्सक से खुलकर बात कर सकें। होने वाले पिता की आपके छठे महीने की गर्भावस्था की देखभाल में एक सक्रिय भागीदारी आपके इस सफर में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है।

होने वाले पिता के लिए सुझाव

इसके साथ ही मजेदार विषयों जैसे कि बच्चे के नाम पर चर्चा करना या अपने शिशु के स्वागत के लिए कमरे की सजावट की योजना बनाना आदि पर एक साथ चर्चा करते रहें। आपकी कल्पना से भी जल्दी समय बीतेगा, इसलिए किसी भी क्षण को न गंवाते हुए जीवन के इस चरण का भरपूर आनंद लें।

जैसा कि प्रत्येक व्यक्ति दूसरे से अलग होता है, हर गर्भावस्था भी अलग और अनोखी होती है! यहाँ बताई गई युक्तियां और टिप्पणियां विभिन्न माताओं के अनुभवों और चिकित्सकों के अवलोकन पर आधारित हैं। अपनी गर्भावस्था के सभी अनूठे लक्षणों की एक सूची बनाएं और इसे दूसरों के साथ साझा करें। बहुत ज्यादा न सोचें, बस आराम करें और मातृत्व की अविश्वसनीय यात्रा का मजा लें!