गर्भावस्था के 9वें सप्ताह में अल्ट्रासाउंड

प्रेगनेंसी के 9वें सप्ताह में अल्ट्रासाउंड

Last Updated On

9वां सप्ताह अर्थात आप अपनी गर्भावस्था के तीसरे माह में पहुँच चुकी हैं। बीते दो महीनों के अंतराल में आपको गर्भावस्था के अनुभवों से अभ्यस्त हो जाना चाहिए। यद्यपि इस अवधि में आप अपने गर्भ में पल रहे भ्रूण को महसूस नहीं करेंगी परंतु बहुत जल्द वह छोटी-छोटी हरकतें करना शुरू कर देगा। इस दौरान आप अपने शिशु के बारे में जानने के लिए अत्यधिक उत्सुक अवश्य होंगी। गर्भावस्था के 9वें सप्ताह में भ्रूण का आकार व स्वास्थ्य की जांच के लिए डॉक्टर आपको अल्ट्रासाउंड करवाने की सलाह दे सकते हैं। अल्ट्रासाउंड के माध्यम से आप उसके हृदय की धड़कन सुनने के साथ-साथ एक बूंद समान कण को देख पाएंगी जो समय के साथ विकसित होकर शिशु के रूप में दिखाई देगा। गर्भावस्था के 9वें सप्ताह में अल्ट्रासाउंड के बारे में अधिक जानकारी के लिए यह लेख पूरा पढ़ें।

9वें सप्ताह में अल्ट्रासाउंड स्कैन की आवश्यकता क्यों होती है

गर्भावस्था के दौरान पहली बार किए जाने वाले अल्ट्रासाउंड को डेटिंग अल्ट्रासाउंड और वायबिलिटी स्कैन कहा जाता है। इस अल्ट्रासाउंड को निम्नलिखित जांच करने के लिए किया जाता है;

  • गर्भाशय में भ्रूण की स्थिति और क्या वह सही जगह पर है या नहीं, यह जांचने के लिए अल्ट्रासाउंड किया जाता है।
  • अस्थानिक गर्भावस्था (एक्टोपिक प्रेगनेंसी) का पता लगाने और गर्भाशय की पुष्टि करने के लिए भी इसे किया जाता है।
  • इस अवधि में डॉक्टर भ्रूण के हृदय की धड़कन को महसूस कर सकते हैं जो आपकी गर्भावस्था का सबसे पहला संकेत है। गर्भ में पल रहे भ्रूण का हृदय गर्भावस्था के लगभग छठे सप्ताह में धड़कना शुरू कर देता है।
  • यदि आपको हाल ही में कोई स्पॉटिंग या रक्तस्राव हुआ है तो अल्ट्रासाउंड की मदद से इसके कारणों का पता लगाया जा सकता है।
  • इस अवधि में अल्ट्रासाउंड के माध्यम से आप जान सकती हैं कि आपके गर्भ में एक शिशु है या एक से अधिक। गर्भावस्था के 9वें सप्ताह में अल्ट्रासाउंड की मदद से जुड़वां शिशु की उपस्थिति को निर्धारित किया जा सकता है।
  • आई.वी.एफ. उपचार कराने वाली महिलाओं में सफल गर्भाधान और क्षमता को निर्धारित करने के लिए भी स्कैन करवाने की आवश्यकता होती है।

9वें सप्ताह के अल्ट्रासाउंड स्कैन की तैयारी कैसे करें

यदि आप अपनी गर्भावस्था के 9वें सप्ताह में अल्ट्रासाउंड करवा रही हैं तो डॉक्टर आपको सामान्य रूप से ट्रांसवजाइनल स्कैन (टी.वी.एस.) करवाने की सलाह देते हैं। ऐसा इसलिए है क्योंकि पेट के माध्यम से स्कैन के लिए गर्भ में पल रहा शिशु बहुत नीचे व छोटा हो सकता है। टी.वी.एस. अल्ट्रासाउंड में डॉक्टर आपकी योनि के माध्यम से गर्भाशय को स्कैन करते हैं। यह अल्ट्रासाउंड करवाने से पहले आपको मूत्राशय खाली करने की सलाह दी जाती है। इस अल्ट्रासाउंड के दौरान यदि आपका मूत्राशय भरा हुआ है तो स्कैन में भ्रूण की स्पष्ट छवि उत्पन्न होने में कठिनाई हो सकती है। इसलिए टी.वी.एस. अल्ट्रासाउंड करने से पहले डॉक्टर आपको पेशाब जाने की सलाह देते हैं।

चूंकि यह जांच योनि द्वारा होती है, इसलिए आपको कमर से नीचे तक कपड़े खोलने पड़ सकते हैं। किसी भी प्रकार की असुविधा से बचाव के लिए आप ढीली पैंट व ढीला टॉप ही पहनें। इस अल्ट्रासाउंड के लिए आप गाउन या मैक्सी भी पहन सकती हैं।

A doctor performing ultrasound scan

9वें सप्ताह के अल्ट्रासाउंड स्कैन में कितना समय लगता है

अल्ट्रासाउंड पूर्ण होने में लगभग 20 से 30 मिनट लग सकते हैं। हालांकि यदि स्कैन में स्पष्ट छवि नहीं दिखाई देती है तो इसमें अधिक समय भी लग सकता है लेकिन आपको इसकी चिंता करने की आवश्यकता नहीं है क्योंकि ज्यादातर महिलाओं को ट्रांसएब्डॉमिनल स्कैन की तुलना में ट्रांसवजाइनल स्कैन अधिक आरामदायक लगता है।

9वें सप्ताह में अल्ट्रासाउंड स्कैन की प्रक्रिया

अल्ट्रासाउंड स्कैन के दौरान आपको जांच की मेज या बिस्तर पर लेटने की सलाह दी जाती है। इस जांच में आपको अपने घुटनों को ऐसी अवस्था में रखने की आवश्यकता होती है जिसमें आपके पैरों के तलवे पूरी तरह से बिस्तर पर सपाट रखें हों और दोनों पैर एक दूसरे से थोड़ी दूरी पर हों। इससे डॉक्टर को स्कैन करने के लिए उपयुक्त जगह बनने में मदद मिलती है। 

यह जांच एक जीवाणुरहित लेटेक्स आवरण से ढकी जाती है जो एक कंडोम जैसा दिखता है और उस पर एक प्रकार का जेल लगाया जाता है, ताकि इस उपकरण को सरलता से योनि में डाला जा सके और फिर यह स्क्रीन पर स्पष्ट चित्र उत्पन्न करने में मदद करता है। अल्ट्रासाउंड स्कैन के दौरान योनि में लगभग दो से तीन इंच भीतर तक जांच की जाएगी। यद्यपि यह प्रक्रिया अजीब लग सकती है, लेकिन यदि आप धैर्यतापूर्वक जांच करवाती हैं तो इससे डॉक्टर को अधिक आसानी होगी। अगर आप अपनी मांसपेशियों को तनाव देती हैं, तो यह अल्ट्रासाउंड जांच आपके लिए असुविधाजनक और दर्दनाक भी हो सकती है। इसलिए अल्ट्रासाउंड करवाते समय गहरी सांस लें और आराम करें।

स्कैन में क्या दिख सकता है

गर्भावस्था के 9वें सप्ताह में अल्ट्रासाउंड के माध्यम से आप भ्रूण में निम्नलिखित विकास देख सकती हैं;

  • गर्भ में पल रहा भ्रूण लगभग 2.3 सेंटीमीटर लंबा हो सकता है और उसका वजन लगभग 2 ग्राम भी हो सकता है।
  • स्कैन के माध्यम से आप भ्रूण के सिर व शारीरिक अंगों को देख सकती हैं। गर्भावस्था की इस अवधि में गर्भ में पल रहा भ्रूण का विकास शिशु के रूप में होना शुरू हो जाता है।
  • 9वें सप्ताह के अल्ट्रासाउंड स्कैन में भ्रूण के हृदय की धड़कन को जांचा जा सकता है। आमतौर पर शिशु की धड़कन लगभग 130 से 150 बीट प्रति सेकंड हो सकती है।
  • डॉक्टर रक्तस्राव के कारणों का पता लगाने के लिए गर्भावस्था थैली के आस-पास के क्षेत्र की अत्यधिक सावधानी से जांच कर सकते हैं। इस स्थिति को सबकोरियोनिक हेमेटोमा कहा जाता है।

9वें सप्ताह में अल्ट्रासाउंड स्कैन के दौरान खाली योक सैक का क्या मतलब है

योक सैक गर्भ में विकसित होते भ्रूण व एम्नियोटिक द्रव को ढक देती है। यह सैक गर्भाशय के भीतर ही होती है जो गर्भावस्था के प्रारंभिक दिनों में गर्भस्थ शिशु को पोषण प्रदान करने में सक्षम है। यह सैक गर्भ में पल रहे शिशु की आयु का चिन्ह होती है जो गर्भावस्था के पांचवें या छठे सप्ताह तक अल्ट्रासाउंड में दिखाई नहीं देती है।

यदि छठे सप्ताह के आसपास कोई भी योक सैक नहीं दिखाई देती है, तो इसका मतलब यह हो सकता है कि आपको अपने आखिरी मासिक धर्म की तारीख याद रखने में कोई भूल हुई है। इस दौरान योक सैक की पुष्टि के लिए डॉक्टर कुछ दिन बाद दोबारा से अल्ट्रासाउंड करने के लिए कह सकते हैं। यदि 9वें सप्ताह के दूसरे अल्ट्रासाउंड में भी योक सैक नहीं दिखाई देती है तो यह गर्भपात का संकेत भी हो सकता है। इस स्थिति में फॉलो-अप स्कैन तक इंतजार करने की आवश्यकता नहीं होती है, अगर 9वें सप्ताह के अल्ट्रासाउंड स्कैन से पता चलता है कि गर्भाशय लगभग 25 मि.मी. या उससे अधिक बड़ा है और कोई योक सैक या भ्रूण नहीं है, तो यह निश्चित ही गर्भपात है।

स्कैन में कोई असामान्यता दिखने पर क्या होगा

अल्ट्रासाउंड का परिणाम कभी-कभी दुविधा में भी डाल सकता है इसलिए इस प्रक्रिया के दौरान कुछ निर्देशों का पालन अवश्य करें।

चूंकि डॉक्टर इन दिशानिर्देशों का पालन करते हैं, इसलिए वे एक सुनिश्चित निष्कर्ष तक पहुँच पाते हैं। अल्ट्रासाउंड के माध्यम से डॉक्टर उन मामूली असामान्यताओं को खोजते हैं जिन्हें ‘मार्कर’ कहा जाता है और यह बाद में किसी गंभीर समस्या का संकेत दे सकती हैं या फिर यह कोई सामान्य स्थिति भी हो सकती है। इसलिए यदि डॉक्टर को कोई असामान्यता का संकेत मिलता है तो वह शिशु में क्रोमोसोम के सामान्य होने की जांच करने के लिए आपको सी.वी.एस. या एम्नियोसेंटेसिस जैसे टेस्ट कराने के लिए कह सकते हैं।

अगर भ्रूण को कोई गंभीर समस्या है, तो आप यह सोचने के लिए समय ले सकती हैं कि आपके पास इसके उपचार के लिए क्या-क्या विकल्प हैं। इसमें गर्भावस्था को समाप्त करना, एक ऐसे शिशु के लिए तैयारी करना जिसकी विशेष आवश्यकताएं हो सकती हैं या दुर्लभ मामलों में भ्रूण की सर्जरी करना भी शामिल हो सकता है।

समस्याओं से निजात पाने और स्वस्थ गर्भावस्था की पुष्टि करने के लिए अल्ट्रासाउंड स्कैन अधिक महत्वपूर्ण है इसलिए कोई भी मौका न छोड़ें। समय पर अल्ट्रासाउंड स्कैन व जांच करवाएं और एक सुखद गर्भावस्था का आनंद लें।