गर्भावस्था के दौरान पसीना आना

गर्भावस्था में पसीना आना

Last Updated On

जब एक महिला गर्भधारण करती है, तो उसके शरीर में कई तरह के परिवर्तन होते हैं। कुछ परिवर्तन ऐसे होते हैं जिन्हे हम बस महसूस कर  सकते हैं परन्तु कुछ परिवर्तन ऐसे होते हैं जो दृश्यमान भी हैं और हमारे दैनिक जीवनशैली में बदलाव भी लाते हैं। इनमे से एक है ‘अत्यधिक पसीना’ आना। यह एक ऐसा शारीरिक परिवर्तन हैं जो एक गर्भवती महिला को सबसे अधिक अनुभव होता है।

क्या गर्भावस्था के शुरूआती लक्षणों में से एक पसीना आना भी है?

पसीना आना भी गर्भावस्था के अन्य लक्षणों जैसे मॉर्निंग सिकनेस या मतली का अनुभव, मूड बदलना, स्तनों की कोमलता और अत्यधिक थकान होना में से एक है। गर्भावस्था के दौरान अक्सर अचानक गर्मी सी महसूस होती है और शरीर पसीने से तर-बतर हो जाता है, ऐसा हार्मोन के स्तर में बदलाव के कारण होता है जो कि बिलकुल ही आम समस्या है।

गर्भवती होने पर पसीना आने के कारण

गर्भावस्था के दौरान गर्भवती स्त्री को अत्याधिक पसीना आने का अनुभव होता है। खासकर रात के समय में पसीने की दर अधिक होती है। यहाँ कुछ ऐसे कारण बताए गए हैं जिनके कारण महिलाओं को अत्यधिक पसीना आता हैं।

  1. हार्मोन में बदलाव: गर्भावस्था के दौरान, प्रोजेस्टेरोन हार्मोन का स्तर बढ़ जाता है जिसके कारण शरीर का तापमान बढ़ जाता है और परिणामस्वरूप पसीना आता है।
  2. दवाएँ: बुखार, मतली या अन्य किसी विकार के लिए दवाएँ लेने से शरीर के तापमान में बदलाव हो सकता है और इसके परिणामस्वरूप पसीना आ सकता है, खासकर रात के दौरान। इन दवाओं से साइड-इफेक्ट के कारण भी पसीना आ सकता है।
  3. तनाव पैदा करने वाली गतिविधियाँ करना: ऐसी गतिविधियाँ जिनमें बहुत अधिक क्रियाकलाप शामिल हों जैसे व्यायाम करना, इसके परिणामस्वरूप अत्यधिक पसीना आ सकता है।
  4. इंफेक्शन या रोग: गर्भावस्था के दौरान पसीने का एक और कारण कोई इंफेक्शन या बीमारी हो सकती है जिससे गर्भवती महिला पीड़ित हैं। हॉजकिन लिंफोमा एक प्रकार का कैंसर है जो गर्भावस्था के दौरान लिम्फ तंत्र के क्षेत्र में विकसित होता है।
  5. थायराइड ग्रंथि में बदलाव: गर्भावस्था के कारण हाइपोथायरायडिज्म हो सकता है। यह स्थिति अत्यधिक पसीने का कारण हो सकती है।
  6. मसालेदार खाना और कैफीन का सेवन: जिन खाद्य पदार्थों में मसाला, कैफीन या अतिरिक्त चीनी होती है वे अधिक गर्मी पैदा करके शरीर के तापमान को बढ़ाने के लिए बाध्य होते हैं। ये खाद्य पदार्थ शरीर के मेटाबॉलिज्म को बढ़ाते हैं और अत्यधिक पसीना लाते हैं।

गर्भावस्था के दौरान आप ज्यादा पसीना कब महसूस करते हैं

गर्भावस्था के दौरान शरीर अत्यधिक दबाव में होता है क्योंकि आपके शरीर को एक नए जीवन को पालने और उसके विकास के लिए अत्यधिक ऊर्जा और परिश्रम की आवश्यकता होती है । परिणामस्वरूप शरीर में अधिक गर्मी उत्पन्न होती है और इसे ठंडा करने के लिए, शरीर एक अनैच्छिक प्रतिक्रिया के रूप में पसीना छोड़ता हैं।

गर्भावस्था में रात को पसीना या रात्रिकालीन हायपरहायड्रोसिस क्या है

रात को सोते समय गर्भावस्था में ज्यादा पसीना आ सकता है। इस स्थिति को ‘रात्रिकालीन हायपरहायड्रोसिस’ के रूप में जाना जाता है और यह महिला के रजोनिवृत्ति (मेनोपॉज़) के वर्षों के दौरान भी आम है।

इसके लिए वास्तविक कारण को निर्धारित और अंतर करना महत्वपूर्ण है। गर्भावस्था के परिणामस्वरूप हार्मोंस में बदलाव के कारण या गर्म वातावरण के कारण रात में पसीना आ सकता है, जो पूरी तरह से सामान्य है। हालांकि, यह एक अंतर्निहित बीमारी या संक्रमण के कारण भी हो सकता है, जिसे उपचार की आवश्यकता होगी।

गर्भावस्था में अत्यधिक पसीने से छुटकारा कैसे पाएँ

हालांकि पसीने का कोई इलाज नहीं है, निम्नलिखित टिप्स हैं जिनसे आप इसके प्रभाव को कम कर सकते हैं और बेहतर महसूस कर सकते हैं:

  • हाइड्रेटेड रहने के लिए खूब पानी पिएं और ऐसे खाद्य पदार्थों का सेवन करें जो आपको ठंडा रखें और शरीर की गर्मी को कम करें।
  • भारी व्यायाम से बचें, खासकर जब वातावरण बहुत गर्म हो। वातानुकूलित कमरों में व्यायाम करने को प्राथमिकता दें और सुबह जल्दी या शाम को सैर के लिए निकलें।
  • बहुत ज्यादा कपड़े पहनने से बचें। हल्के रंग के कपड़े पहनें जो हल्के, मुलायम वस्त्र से बने हों। सुनिश्चित करें कि आपके कपड़े हवादार हों और शरीर में से गर्मी को बाहर छोड़ें।
  • अपने शरीर पर टैल्कम पाउडर लगाएं, विशेष रूप से उन क्षेत्रों में जहाँ घर्षण होता है। टैल्कम पाउडर पसीने को सोख लेगा।
  • दिन के समय, सीधे धूप से दूर रहें, खासकर गर्मियों के मौसम में। एयर-कंडीशनिंग में समय बिताने से आपका शरीर ठंडा रहेगा और पसीना कम आएगा।
  • एक तौलिए पर सोएं या अपने बिस्तर पर चादर की अतिरिक्त परतें बिछाएं। यह अतिरिक्त पसीने को अवशोषित करने और आपको सूखा रखने में मदद करेगा।
  • मसालेदार भोजन खाने और गर्म पेय पीने से बचें क्योंकि ये पदार्थ अनैच्छिक पसीने को बढ़ावा देंगे। शराब, कैफीन युक्त पेय, चॉकलेट या मिठाई का सेवन करने से दूर रहें।
  • अपने आप को कमरे में बंद करके न रखें। वायु-संचालन और ताजी हवा आने के लिए खिड़कियाँ खुली रखें। लगातार खुद को पंखे के सामने रखने से पसीना सूख जाएगा।
  • बार-बार स्नान करें, विशेष रूप से सोने से पहले।
  • प्राकृतिक, ताजे फल और सब्जियों के रस पिएं। ये आवश्यक पोषण प्रदान करेंगे और आपको ठंडा भी रखेंगे। सोडा और डिब्बेबंद जूस नहीं पिएं, इनमें बहुत अधिक चीनी होती है।
  • त्वचा पर बहुत अधिक तेल, मेकअप या बॉडी लोशन न लगाएं। त्वचा को साँस लेने दें।
  • एंटीपर्सपिरेंट लगाने से भी पसीने को कम करने में मदद मिल सकती हैं।
  • लंबे बाल पसीने को बढ़ा सकते हैं इसलिए अपने बालों की छोटी या जुड़ा बनाए, बिखरे न छोड़ें।

डॉक्टर से परामर्श कब करें

अपने डॉक्टर से परामर्श करें यदि पसीना – तेज बुखार, घबराहट या तेज धड़कन के साथ होता है। पसीना कैंसर या ल्यूकेमिया जैसी गंभीर बीमारी का संकेत हो सकता है। अपने चिकित्सक को किसी भी असुविधा के बारे में सूचित करें। डॉक्टर यह तय करेंगे कि आपको अपने पसीने को नियंत्रित करने के लिए किसी परीक्षण या दवा की आवश्यकता है या नहीं।

गर्भावस्था के दौरान पसीना आना कोई असामान्य बात नहीं है। पर यह कई बार असहज हो सकता है, लेकिन यह कुछ ऐसा है जो आपके नियंत्रण से बाहर है। आप आवश्यक सावधानी बरतें ताकि पसीना कम से कम हो और आप इससे बहुत अधिक प्रभावित न हों।