गर्भावस्था के दौरान ट्रांसवेजाइनल अल्ट्रासाउंड स्कैन (टीवीएस)

गर्भावस्था के दौरान ट्रांसवेजाइनल अल्ट्रासाउंड स्कैन (टीवीएस)

Last Updated On

गर्भावस्था, होने वाली माँ के लिए बेहद महत्वपूर्ण और संवेदनशील चरण है, और माँ और बच्चे दोनों के साथ सब कुछ ठीक हो यह सुनिश्चित करने के लिए अत्यधिक देखभाल की आवश्यकता होती है। उनकी भलाई के लिए किए गए विभिन्न परीक्षणों में ट्रांसवेजाइनल अल्ट्रासाउंड स्कैन या टीवीएस आज के समय में सबसे विश्वसनीय परीक्षणों में से एक है।

ट्रांसवेजाइनल स्कैन क्या है

सभी अल्ट्रासाउंड परीक्षणों में उच्च आवृत्ति वाली ध्वनि तरंगों का उपयोग किया जाता है, जो गर्भवती महिला के आंतरिक अंगों की छवि दिखाती है। यह डॉक्टर को असामान्यताओं की पहचान करने और निदान करने में मदद करता है। टीवीएस में भी यही सिद्धांत लागू होता है। इस परीक्षण के दौरान डॉक्टर, महिला के प्रजनन अंगों जैसे अंडाशय, योनि, गर्भाशय ग्रीवा, फैलोपियन ट्यूब और गर्भाशय की जाँच करने में सक्षम होते है। यह एक आंतरिक परीक्षण है जहाँ डॉक्टर योनि नली में एक अल्ट्रासाउंड उपकरण डालता है, और ध्वनि तरंगों से भ्रूण की छवि बनाने में मदद मिलती है। जब छवि को बड़ा किया जाता है, तो डॉक्टर किसी भी असामान्यताओं या विसंगतियों को निर्धारित कर सकता है।

एक ट्रांसवेजाइनल स्कैन क्या है?

टीवीएस अल्ट्रासाउंड की आवश्यकता कब पड़ती है?

मिसकैरिज या अस्थानिक गर्भावस्था का इतिहास होने पर, गर्भवती महिला को अत्यधिक दर्द होने पर, रक्तस्राव होने पर या अगर बांझपन का इलाज करवाया गया हो तो डॉक्टर छह से दस सप्ताह के दौरान टीवीएस अल्ट्रासाउंड का सुझाव दे सकते हैं। अवधि समाप्त होने तक या दस सप्ताह के बाद भी यह परीक्षण किया जाता है। यह आवश्यक भी हो सकता है यदि माँ को समय से पहले प्रसव का अनुभव रहा हो और इसलिए उसके गर्भाशय ग्रीवा की जाँच करना आवश्यक है। यह भी सिफारिश की जा सकती है यदि माँ अधिक वजन वाली है, और नियमित स्कैन के दौरान छवियां स्पष्ट नहीं हैं।

स्कैन कब किया जाता है और इसमें कितना समय लगता है?

टीवीएस स्कैन में लगभग 30 से 60 मिनट का समय लगता है जिसमें होने वाली माँ को परीक्षण के लिए तैयार करना भी शामिल है। यह तब किया जाता है जब डॉक्टर गर्भावस्था के प्रारंभिक चरण के दौरान भ्रूण के विकास को देखना चाहते हैं, अर्थात दसवें सप्ताह के पहले।  ट्रांसवेजाइनल स्कैन डॉक्टर को बच्चे को देखने में मदद करता है क्योंकि सिर्फ पेट के स्कैन के माध्यम से बच्चे को देखना संभव नहीं है क्योंकि बच्चा अभी बहुत छोटा है और माँ के पेट में बिलकुल नीचे रहता है।

ट्रांसवेजाइनल अल्ट्रासाउंड क्यों किया जाता है?

डॉक्टर इस परीक्षण से बच्चे के दिल की धड़कन को सुन सकते हैं और किसी भी विषमता का पता लगा सकते हैं। ट्रांसवेजाइनल अल्ट्रासाउंड टेस्ट के अन्य लाभ भी हैं, डॉक्टर अस्थानिक गर्भावस्था की किसी भी संभावना को समाप्त कर सकते हैं और यह सुनिश्चित कर सकते हैं कि गर्भावस्था बिल्कुल सही दिशा में है। यह स्कैन यह जाँचने में भी मदद करता है कि क्या माँ के गर्भ में जुड़वाँ या तीन बच्चा है या नहीं है। इसके अलावा, यदि माँ के पेट के निचले हिस्से में दर्द है या हल्का रक्तस्राव है, तो डॉक्टर यह परीक्षण करके इन सब परेशानियों के कारण का पता लगा सकते हैं।

ट्रांसवेजाइनल अल्ट्रासाउंड क्यों किया जाता है?

टीवीएस स्कैन की तैयारी कैसे करें

परीक्षण के लिए कमर से नीचे के कपड़े उतारने की आवश्यकता होती है, इसलिए सलाह दी जाती है कि आप परीक्षण के लिए जाते समय उपयुक्त कपड़े जैसे कि स्लैक्स या सलवार कुर्ता पहने। टीवीएस डॉक्टरों या तकनीशियनों द्वारा किया जाता है, और वे स्त्री या पुरुष, दोनों हो सकते हैं। यदि आप परीक्षण कराने के लिए एक महिला को पसंद करती हैं, तो सुनिश्चित करें कि आप क्लिनिक को पहले से सूचित कर दें। कई महिलाओं को टीवीएस अधिक आरामदायक लगता है क्योंकि इसके लिए मूत्राशय (ब्लैडर) भरा हुआ होने की आवश्यकता नहीं होती है। वास्तव में, इसके लिए मूत्राशय खाली होना ही बेहतर है, ताकि बच्चे की स्पष्ट तस्वीर आसानी से प्राप्त की जा सके।

टीवीएस अल्ट्रासाउंड प्रक्रिया

कमर से नीचे कपड़े उतारने के बाद आपको अपनी पीठ के बल अपने पैरों को फैलाकर लेटने के लिए कहा जाएगा और पैरों को फैलाकर घुटनों को मोड़ने के लिए कहा जाएगा। नर्स आपके निचले आधे हिस्से को एक चादर से ढंक देगी। डॉक्टर योनि मार्ग में लगभग दो से तीन इंच तक जाँच उपकरण डालेंगी। जाँच उपकरण में एक लेटेक्स की कवरिंग होती है जिसमें थोड़ा जेल लगाया जाता है ताकि उसे आसानी से योनि में प्रवेश कराया जा सकें। आप शुरू में असहज महसूस कर सकती हैं, लेकिन आपको बस एक गहरी साँस लेने की जरूरत है और विश्राम करें ताकि परीक्षण जल्दी और आराम से हो पाएं।

स्कैन के बाद क्या होता है?

यदि आप स्कैन के दौरान तनाव में थी, तो आपकी मांसपेशियों में थोड़ी देर के लिए दर्द हो सकता है। शुरुआत में असहज महसूस हो सकता है और यहाँ तक कि स्कैन के बाद आपको धब्बे भी दिख सकता है । गर्भाशय ग्रीवा के आसपास यदि छोटी रक्त वाहिकाएं फट जाती हैं तो ऐसा हो सकता है। हालांकि, यह सामान्य है जब तक रक्तस्राव के साथ पेट के निचले हिस्से में ऐंठन नहीं होती है, उस स्थिति में आपको अपने डॉक्टर को सूचित करना चाहिए।

ट्रांसवेजाइनल अल्ट्रासाउंड स्कैन के जोखिम और साइड इफेक्ट्स

चूंकि टीवीएस के दौरान कोई विकिरण (रेडिएशन) नहीं होता है, इसलिए इसे माँ और बच्चे दोनों के लिए सुरक्षित माना जाता है। इस तरह से स्कैन की तकनीक में कोई जोखिम नहीं होती है। हालांकि, अगर आपको परीक्षण के दौरान अत्यधिक असुविधा महसूस होती है, तो तुरंत डॉक्टर को सूचित करें।

ट्रांसवेजाइनल अल्ट्रासाउंड परिणाम क्या दर्शाते हैं?

एक रेडियोलॉजिस्ट द्वारा विश्लेषण किया गया है कि टीवीएस परिणाम फाइब्रॉएड, सिस्ट, कैंसर, गुहा संक्रमण, गर्भपात, लो लाइंग प्लेसेंटा, अस्थानिक गर्भावस्था और नियमित गर्भावस्था जैसी स्थितियों का निदान करने में डॉक्टर की मदद करते हैं।

ट्रांसवेजाइनल अल्ट्रासाउंड परिणाम क्या दर्शाते हैं

ट्रांसवेजाइनल अल्ट्रासाउंड की लागत कितनी है?

टीवीएस स्कैन की लागत हर शहर में भिन्न हो सकती है। यहाँ तक कि आपके द्वारा चुने गए चिकित्सा केंद्र भी लागत को प्रभावित कर सकता है। लेकिन औसतन एक टीवीएस स्कैन की कीमत 700 रुपए से 1100 रुपए के बीच होनी चाहिए।

अक्सर पूछे जाने वाले प्रश्न

1. क्या टीवीएस से गर्भपात हो सकता है?

जब तक अल्ट्रासाउंड एक प्रशिक्षित पेशेवर द्वारा एक ज्ञात सुविधा केन्द्र पर किया जाता है, तब तक इससे गर्भपात होने की कोई संभावना नहीं होती है। किसी भी अन्य गर्भावस्था अल्ट्रासाउंड की तरह, गर्भ का टीवीएस परीक्षण सुरक्षित माना जाता है।

2. क्या टीवीएस अल्ट्रासाउंड दर्दनाक है?

टीवीएस स्कैन दर्दनाक हो सकता है, यदि आप तनावग्रस्त हैं और आपकी मांसपेशियाँ परीक्षण के दौरान कसी हुई हैं। दर्द से मुक्त अनुभव के लिए यह सुझाव दिया जाता है कि आप आराम करें और परीक्षण से पहले और दौरान गहरी साँस लें। डॉक्टर को सूचित करें यदि आप अभी भी दर्द महसूस करती हैं या एक महत्वपूर्ण असुविधा महसूस करती हैं।

यद्यपि आप टीवीएस स्कैन के दौरान थोड़ी असुविधा और अटपटा महसूस कर सकती हैं, पर इसके परिणाम सबसे विश्वसनीय होते हैं और 24 घंटों के भीतर उपलब्ध हो जाते हैं। यह जोखिम-मुक्त परीक्षण है जो बच्चे और माँ के आंतरिक अंगों की स्पष्ट जानकारी देता है और अत्यधिक अनुशंसित है।