गर्भावस्था के लिए अपने शरीर को कैसे तैयार करें

गर्भावस्था के लिए अपने शरीर को कैसे तैयार करें

Last Updated On

यदि आपने गर्भवती होने का फैसला ले लिया है, तो आप ज़रुर चाहेंगी कि आपका शरीर एक नए शिशु का पोषण करने के लिए सक्षम हो। कई महिलाएं गर्भावस्था का पूर्व नियोजन करती हैं ताकि एक सोचा समझा स्वस्थ गर्भावस्था हों जो कि आजकल एक आम बात है।

साथ ही, गर्भावस्था के दौरान आप स्वस्थ जीवनशैली के लिए जो बदलाव करती हैं वह गर्भावस्था के बाद भी आपके जीवन का हिस्सा बना रहता है।

गर्भावस्था के लिए अपने शरीर को इन 12 युक्तियों की मदद से तैयार करें

यहाँ कुछ युक्तियाँ दी गई हैं जिन्हें आप अपने शरीर को गर्भावस्था के लिए तैयार करने की प्रक्रिया में ध्यान रख सकती हैं; वह कुछ इस प्रकार हैं:

1. डॉक्टर से मिलें

सबसे पहली बात जिसे आपको ध्यान में रखना आवश्यक है, वह यह कि आप और आपके साथी दोनों डॉक्टर से मिलने का समय सुनिश्चित करें। डॉक्टर आपके परिवारों के चिकित्सीय इतिहास का विश्लेषण करके किसी भी संभावित समस्याओं की जानकारी आपको दे सकते हैं। अगर कोई समस्या है, तो आपको उसका उपचार बताया जाएगा। डॉक्टर इसकी भी जाँच करेंगे कि क्या आप गंभीर बीमारियों से प्रतिरक्षित हैं। आपको चिकनपॉक्स और रूबेला से बचाव का टीका लगा होना आवश्यक है, अगर ऐसा नहीं है तो गर्भधारण करने के प्रयास से तीन महीने पूर्व, आपको इन्‍हें लगवाने की आवश्यकता है।

डॉक्टर आप में यौन संचारित रोगों की भी जाँच कर सकता है और स्वस्थ गर्भावस्था की संभावनाओं को बेहतर बनाने के लिए आवश्यक सावधानियाँ और उपचारों का उपयोग करने की सलाह भी आपको देगा ।

दूसरी तरफ, यदि आप मिर्गी, मधुमेह, उच्च रक्तचाप या अस्थमा आदि के लिए कोई चिकित्सीय उपचार ले रही हैं जिनकी आपको नियमित दवा लेने की आवश्यकता होती है, तो गर्भधारण करने के प्रयास से पहले आपको उपचार प्र‍क्रिया में आवश्यक परिवर्तन करने के लिए डॉक्टर से मिलने की आवश्यकता है।

डॉक्टर से मिलें

2. गर्भनिरोधक का उपयोग बंद करें

आपके लिए किसी भी प्रकार के गर्भ निरोधक का उपयोग बंद करना अनिवार्य है, यदि आपने आई.यू.डी. लगा रखी है, तो आप स्त्रीरोग विशेषज्ञ द्वारा इसे हटवा सकती हैं। जबकि कुछ महिलाएं गर्भनिरोधक का उपयोग बंद करने के अगले दो सप्ताह के भीतर गर्भवती हो जाती हैं, वहीं अन्य महिलाओं को अधिक समय लग सकता है।

3. अपना आहार सुनिश्चित करें

अपने आहार से बिना पोषण के खाद्य पदार्थों को हटा दें और अपने शरीर को स्वस्थ और जैविक खाद्य विकल्पों के साथ गर्भावस्था के लिए तैयार करें और साथ ही खूब सारा पानी भी पिएं। कार्बोहाईड्रेटयुक्‍त और अस्वास्थ्यकर खाद्य पदार्थों को स्‍वास्‍थ्‍यवर्धक चीजों जैसे सूखे मेवे और फल से बदलना आपके लिए लाभकारी हो सकता है और आपके शरीर से टॉक्सिन को कम कर सकता है। इसके अलावा, साल्मोनेला के खतरे से बचाव के लिए कच्चे अंडे या आधे पके हुए मांस के सेवन से बचें। यदि आपका बी. एम. आई. 30 से अधिक है और आप मोटी हैं तो आपके लिए पौष्टिक आहार लेना विशेष रूप से महत्वपूर्ण है। कम वज़न भी एक समस्या हो सकती है क्योंकि यह आपके मासिक धर्म चक्र को प्रभावित करता है और माहवारी न आने का कारण हो सकता है। स्‍पष्‍टत: इसका मतलब यह है कि आपका शरीर हर चक्र में अण्‍डोत्‍सर्जन नहीं कर सकता है। यदि आप एक स्वस्थ गर्भावस्था के लिए प्रयास कर रही हैं तो 19 से 25 तक स्वस्थ बी.एम.आई. प्राप्त करना एक बेहतरीन विकल्प है।

4. नियमित व्यायाम

आपको हर हफ्ते कम से कम चार से पाँच दिन लगभग 30 मिनट के लिए मध्यम स्तर के व्यायाम करना होगा। यदि आप पहली बार व्यायाम शुरू कर रही हैं, तो आपको भारी व्‍यायाम करने से पहले, 20 मिनट पैदल चलना आपके लिए मददगार हो सकता है। यदि आप नियमित रूप से व्यायाम करती हैं, तो आप सप्ताह में पाँच या छह दिन रोज़ाना लगभग 45 मिनट का व्यायाम कर सकते हैं।

नियमित व्यायाम

5. मल्टीविटामिन पर सबसे अधिक ध्यान दें

अधिकांश डॉक्टर महिलाओं को अपने शरीर में विटामिन की कमी को पूरा करने के लिए मल्टीविटामिन लेने की सलाह देते हैं। यह प्रसवपूर्व विटामिन किसी भी पोषण संबंधी कमी को दूर करने में मदद कर सकता है जो आपके गर्भवती होने से ठीक पहले हो सकती है। आपके लिए लौह तत्व और कैल्शियमयुक्त खाद्य पदार्थों के सेवन को बढ़ाना अनिवार्य है।

6. फॉलिक एसिड

अपने विटामिन की खुराक में सबसे ऊपर फॉलिक एसिड को रखें, यह गर्भावस्था के दौरान तंत्रिका नली दोष की संभावना को रोकने में मदद करता है। हालांकि, यह दवा की दुकानों पर उपलब्ध है, डॉक्टर द्वारा पूरक कि जाँच करवा सकती हैं। गर्भाधान से पूर्व फॉलिक एसिड की 400 से 800 माइक्रोग्राम की खुराक रोज़ाना लेने की सलाह दी जाती है। एक बार आपके गर्भवती होने के बाद, डॉक्टर ज़रूरत के हिसाब से खुराक में फेरबदल कर सकते हैं।

7. धूम्रपान, शराब और नशीले पदार्थों का सेवन बंद करें

यह तीनों गतिविधियाँ निस्संदेह आप और आपके बच्चे दोनों के लिए हानिकारक हैं। धूमप्रान के कारण दोनों में टॉक्सिन की मात्रा बढ़ सकती है और यह आपके रक्त प्रवाह को कम कर सकता है। यह आदत आपकी प्रजनन क्षमता को भी प्रभावित करता है और इससे समय से पूर्व प्रसव, गर्भपात, मृत शिशु जन्म भी हो सकता है। आपकी शराब पीने की आदत से गर्भ में पल रहे शिशु में लंबी चलनेवाली और विकासात्मक समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं और यह उसे खतरे में भी डाल सकता है। नशीले पदार्थों (ड्रग्स) का इस्तेमाल करना गैरकानूनी होता है और इससे गर्भपात, मृत शिशु जन्‍म आदि की संभावना हो सकती है। नशीले पदार्थ (ड्रग्स), जैसे हेरोइन और कोकीन की लत पर निर्भर बच्चे का जन्म भी हो सकता है। अगर आपके साथी धूम्रपान करते हैं तो उन्हें भी इसे छोड़ने के लिए कहने में बुद्धिमता होगी क्योंकि धूम्रपान शुक्राणुओं की कम संख्या का कारण भी हो सकता है। धूम्रपान करने का शौक, विशेषकर गर्भावस्था के दौरान बिलकुल भी बेहतर नहीं है। प्रतिदिन कैफीन का सीमित सेवन भी एक सर्वोत्तम विचार है क्योंकि गर्भवती महिलाओं को एक दिन में केवल 350 मि.ली. कैफीन लेने की सलाह दी जाती है।

धूम्रपान, शराब और नशीले पदार्थों का सेवन बंद करें

8. तनावमुक्‍त रहने के उपाय आज़माएं

गर्भधारण करने के प्रयास काफी तनावपूर्ण हो सकते हैं और यह अण्‍डोत्‍सर्ग और यौनरुचि को रोककर आपके कोर्टिसोल के स्तर को बढ़ा सकता है इसलिए तनाव को प्रबंधित करना अत्यधिक महत्वपूर्ण है। आप योग, ध्यान, संगीत, पढ़ना, आदि जैसे विभिन्न तनाव से राहत के उपायों को आज़मा सकती हैं।

9. पर्याप्‍त नींद लें

रात का अच्‍छा आराम रोज़ाना आपके शरीर को कार्य करने के लिए बेहतर ऊर्जा प्रदान कर सकता है। नींद की कमी तनाव का कारण बन सकती है, आपकी यौनरूचि को कम कर सकती है और इस कमी के कारण आपको हर वक्त अत्यधिक थकान भी महसूस हो सकती है।

10. दाँतों की जाँच

प्रसवपूर्व पीड़ा में मसूड़ों की बीमारी, शिशुओं में जन्‍म के समय वज़न कम होने से जुड़ी होती है। दाँतों की जाँच के लिए डॉक्टर से सलाह लें और गर्भवती होने से पहले ही समस्या का समाधान कर लें।

11. गर्भधारण के बारे में पूरी जानकारी लें

डॉक्टर से बात करें और गर्भधारण आरंभ होने से पहले वह सारी जानकारी लें जो आपके लिए आवश्यक है। यह भी महत्वपूर्ण है कि आने वाले महीनों में आपको क्‍याक्‍या जानने की आवश्यकता है, इस जानकारी के लिए जितना संभव हो सके पढ़ें, साथ ही अपने चक्र को भी ट्रैक करें। यह जानते हुए कि जब आप अण्डोत्सर्ग कर रही हैं, तो गर्भावस्था की संभावना काफी बढ़ सकती है, आप इसके लिए अण्डोत्सर्ग किट का उपयोग कर सकती हैं।

12. अपने साथी को शामिल करें

गर्भधारण करने या गर्भधारण करने की तैयारी में आपके साथी की ज़िम्मेदारी उतनी ही है जितनी आपकी है। आप अपने साथी से भी फॉलिक एसिड का सेवन शुरू करने के लिए कह सकती हैं, क्योंकि यह शुक्राणुओं की मात्रा को बढ़ाने में मदद करता है। आपके साथी को भी तंदुरुस्त और स्वस्थ रहने का प्रयास करने की आवश्यकता है और साथ ही धूम्रपान, शराब या अन्य नशीले पदार्थों के सेवन से दूर रहने की सलाह दी जाती है, एक स्वस्थ गर्भावस्था पाने हेतु दोनों के लिए स्वस्थ जीवन शैली का होना महत्वपूर्ण है।

अपने साथी को शामिल करें

इस बात की हमेशा सलाह दी जाती है कि आप और साथ में आपके साथी भी डॉक्टर से ज़रूर मिलें और आप दोनों ही अपनी जाँच करवाएं क्योंकि बांझपन के कारणों में 30 प्रतिशत कारण पुरुष बांझपन का होता है।

जैसे ही आप अपने घर मे नए मेहमान को लाने के लिए तैयार होते हैं, यह महत्वपूर्ण है कि आप अपने आप को मानसिक रूप से भी इस काम के लिए तैयार करें। आपको बच्चे की देखभाल और पालनपोषण करना होगा और उसके विकास के लिए सबसे उपयुक्‍त वातावरण प्रदान करना होगा। जीवनशैली में कुछ मौलिक बदलाव करके इस कार्य में बेहतर योगदान दिया जा सकता है।

इसके अलावा, यह ध्‍यान रखें कि गर्भधारण करना कुछ के लिए आसान हो सकता है और कुछ के लिए उतना ही कठिन, अगर आप तुरंत गर्भधारण नहीं कर पाती हैं, तो निराश न हों। आपको इसे समय देना होगा और धैर्य रखना होगा व सबसे आवश्यक है कि आप इस प्रक्रिया का आनंद लें। यदि आप गंभीर समस्याओं का सामना कर रही हैं, तो अपने डॉक्टर से उनके संभावित कारणों की जाँच करवाएं और वह उपचार लें जिनसे आप ठीक हो सकती हैं।