गर्भावस्था की पहली तिमाही – लक्षण, शारीरिक परिवर्तन और आहार

गर्भावस्था की पहली तिमाही – लक्षण, शारीरिक परिवर्तन और आहार

Last Updated On

गर्भवती होना हर महिला के लिए एक अद्भुत एहसास होता है। जैसे ही आप अपनी गर्भावस्था के बारे में जानती हैं, आप मातृत्व की भावनाओं से सराबोर हो जाती हैं। हालांकि, आपके मन में विभिन्न चिंताएँ और प्रश्न उठ सकते हैं जैसे कि, आपके अंदर क्या बदलाव हो रहा है, आपका शिशु कैसे विकसित हो रहा है या आपको किस प्रकार का खान-पान अपनाना चाहिए, इस तरह के अन्य प्रश्न। ऐसा इसलिए है क्योंकि यह आपकी पहली तिमाही है यानि गर्भावस्था की शुरुआत है और आपकी पहली तिमाही में आप जानना चाहेंगी कि आपको कौन सी सावधानियां बरतनी चाहिए जिससे आपके गर्भ में पल रहे शिशु को कोई तकलीफ न हो तथा आपकी गर्भावस्था समस्या रहित रहे।

प्रेगनेंसी की पहली तिमाही कितने समय तक चलती है

जिस क्षण आप गर्भधारण करने की योजना बनाती हैं या आप गर्भवती हो जाती हैं, तब गर्भावस्था से संबंधित विभिन्न शब्दों से आपका परिचय हो सकता है और ‘पहली तिमाही’ भी उनमें एक है। यदि आप सोच रही हैं कि पहली तिमाही क्या है और यह कितने समय तक चल सकती है, हमारे पास आपके सभी सवालों के जवाब हैं ! आपकी पहली तिमाही आपकी गर्भावस्था के पहले तीन महीने हैं जो आपकी गर्भावस्था के पहले सप्ताह से शुरू होती है और 13वें सप्ताह तक दूसरी तिमाही में बदल जाती है।

यदि आपका मासिक धर्म नियमित है, तो आप अपनी गर्भावस्था का आसानी से कैलकुलेशन सकती हैं, हालांकि, जिन महिलाओं का मासिक धर्म अनियमित है, यह पता लगाना थोड़ा जटिल हो सकता है।

प्रेगनेंसी की पहली तिमाही में गर्भावस्था के सामान्य लक्षण

यदि आप गर्भवती हैं, तो आप गर्भावस्था के सामान्य लक्षणों के होने का बेसब्री से इंतजार कर सकती हैं। यहाँ हम गर्भावस्था की पहली तिमाही के लक्षणों पर चर्चा करेंगे:

१. आपका मासिक धर्म रुक जाता है: मासिक धर्म का बंद होना गर्भावस्था का पहला लक्षण है जिसपर आप ध्यान दे सकती हैं; ऐसा इसलिए है क्योंकि आपका शरीर प्रोजेस्टेरोन का उत्पादन करना शुरू कर देता है, जो आपके मासिक धर्म को तब तक रोक देता है जबतक शिशु का जन्म नहीं होता।

२. आपको स्पॉटिंग का अनुभव हो सकता है: गर्भावस्था के पहले माह में स्पॉटिंग यानि हल्का स्राव का अनुभव करना बहुत सामान्य है, क्योंकि अंडा स्वयं ही गर्भाशय में प्रत्यारोपित होता है। आरोपण प्रक्रिया स्पॉटिंग और ऐंठन का कारण हो सकती है, हालांकि पहली तिमाही में संपूर्ण रक्तस्राव सामान्य नहीं है और चिकित्सक को सूचित किया जाना चाहिए।

३. स्तन की संवेदनशीलता: आपके स्तनों में हल्का दर्द और छूने पर संवेदनशील हो सकते हैं। निप्पल के आस-पास का गहरा क्षेत्र और गहरा हो जाता है और आप अपने स्तनों पर नसों को भी देख सकते हैं।

४. बदलता मूड: आप अपने मूड में बदलाव देख सकती हैं, जो गर्भावस्था का एक बहुत सामान्य लक्षण है। यह बदलते हुए गर्भावस्था हार्मोन के कारण होता है।

५. अत्यधिक मूत्र आना: आपके शिशु की वृद्धि और विकास में सहायता करने के लिए आपके श्रोणि क्षेत्र के आसपास रक्त का प्रवाह बढ़ जाता है। इस बढ़े हुए प्रवाह को शरीर में समायोजित करने के लिए किडनी को अधिक श्रम करना पड़ता है, जिससे मूत्राशय (ब्लैडर) पर अधिक दबाव पड़ता है और बार-बार मूत्र आता है।

६. आपको थकावट और शिथिलता का अनुभव हो सकता है : आपके शरीर के अंदर बहुत सारे बदलाव हो रहे हैं और आपके शरीर को उनको समायोजित करने के लिए कठिन श्रम की आवश्यकता है। यह आपको थका हुआ और क्लांत बना सकता है।

प्रेगनेंसी की पहली तिमाही में गर्भावस्था के सामान्य लक्षण

७. आपको कब्ज का अनुभव हो सकता है: बदलते हुए हार्मोन के कारण आपका शरीर अलग तरीके से काम करना शुरू कर देता है और इस प्रकार आपकी माँसपेशियों की कार्यप्रणाली को भी प्रभावित कर सकता है। प्रोजेस्टेरोन आपकी माँसपेशियों को शाँत करता है और उन्हें आने वाले प्रसव के लिए तैयार करता है और यह शरीर के अन्य कार्यों को भी धीमा कर देता है। भोजन आँतों से धीरे-धीरे गुजरता है जिससे कब्ज होती है।

८. आपको भोजन के प्रति रूचि और अरुचि बढ़ती है: आप कुछ विशिष्ट खाद्य पदार्थों के प्रति अत्यधिक रूचि अनुभव कर सकती हैं जिन्हें आप पहले नापसंद करती थीं हो सकता है अब वो आपको पसंद आए । इसके विपरीत, आपका पसंदीदा भोजन अब आपको लुभावना नहीं लगेगा। गर्भावस्था में भोजन के प्रति रूचि और अरुचि बहुत सामान्य है, और ये प्रत्येक महिला के लिए अलग होती है।

९. उबकाई और उलटी : ये गर्भावस्था के दो से तीन सप्ताह के भीतर हो सकता है। इसे मॉर्निंग सिकनेस भी कहा जाता है; हालांकि, आप इसे दिन के किसी भी समय महसूस कर सकती हैं।

१०. सीने में जलन का अनुभव : आप एसिड रिफ्लक्स या सीने में जलन का अनुभव कर सकती हैं। ये अस्थायी लक्षण हैं जो शरीर में हार्मोनल गड़बड़ी के कारण होते हैं और जैसे-जैसे गर्भावस्था आगे बढ़ती है ये कम हो जाते हैं।

उपरोक्त वर्णित लक्षणों के अलावा, पहली तिमाही में ऐंठन, चक्कर आना, सिरदर्द या कमरदर्द का अनुभव करना बहुत सामान्य है। ये सभी गर्भावस्था के बहुत सामान्य लक्षण हैं जो यह बताते हैं कि आपके शरीर में बदलाव हो रहे हैं।

प्रेगनेंसी की पहली तिमाही में भ्रूण का विकास

आपके शरीर के अंदर क्या चल रहा है या आपका शिशु कैसे विकसित हो रहा है, यह जानने के लिए आपको उत्सुकता हो सकता है। आपका शिशु पहले तीन महीनों में थोड़ा-थोड़ा बढ़ता है यह एक निषेचित कोशिका से लेकर आलूबुखारे के आकार जितना बढ़ जाता है और जिसके हाथ, पैर और अन्य विभिन्न अंग बनने लगते हैं।

यहाँ पहली तिमाही में भ्रूण के विकास के बारे में बताया गया है:

  • छठे सप्ताह तक आपके शिशु के शरीर का विकास होना शुरू हो जाता है और छोटे-छोटे अंग बनने लग जाते हैं, और दसवें सप्ताह के आसपास हाथ और पैर की अंगुलियों का भी विकास शुरू हो जाता है।
  • आपके शिशु की त्वचा पाँचवें से आठवें सप्ताह के बीच बननी शुरू हो जाती है, और नाखूनों के नीचे का आधार और बालों के रोम लगभग आठवें सप्ताह में बनने शुरू हो जाते हैं।
  • आपके शिशु की दृष्टि, जिसमें दृष्टि तन्त्रिका और आँख की पुतली शामिल हैं, चौथे सप्ताह तक विकसित होना शुरू हो जाता है, जबकि दृष्टिपटल आठवें सप्ताह तक बनना शुरू हो जाता है।
  • आपके शिशु का दिल पाँचवें सप्ताह से बनना शुरू हो जाता है, और यह नौवें या दसवें सप्ताह के आसपास अधिक संरचित हो जाएगा, पाँचवें सप्ताह में आप पहली बार अपने शिशु के दिल की धड़कन को सुन पाएंगे।
  • मस्तिष्क का विकास आठवें सप्ताह के आसपास शुरू होता है।
  • पाचन तंत्र आठवें सप्ताह के आसपास बनना शुरू हो जाता है।
  • आपके शिशु के होंठ और नाक पर ज्ञानेंद्रियों के गठन के साथ, लगभग आठवें सप्ताह में स्पर्श की भावना विकसित होगी। जननांगों, पैर के तलों और हथेलियों पर ज्ञानेंद्रियों का गठन बारहवें सप्ताह तक होगा।
  • स्वादकलिकाओं का गठन आठवें सप्ताह के आसपास होगा, जो शिशु के मस्तिष्क से जुड़ा हुआ है। हालांकि, स्वाद छिद्र अभी भी विकसित नहीं हुए हैं।

प्रेगनेंसी की पहली तिमाही में शारीरिक बदलाव

गर्भावस्था के दौरान आपके शरीर में आंतरिक व बाह्य रूप से विभिन्न परिवर्तन होते हैं। यहाँ शरीर में होने वाले कुछ परिवर्तन बताए गए हैं जो आपके शरीर में भी हो सकते हैं :

  • आपके स्तन के आकार में वृद्धि हो सकती है, और ऐसा बढ़े हुए स्राव के कारण होता है।
  • आप पेट फूला हुआ महसूस कर सकते हैं, और आपकी पैंट या पतलून कमर के आसपास तंग हो सकती है।
  • आपके स्तनाग्र के आसपास के घेरे गहरे और बड़े हो जाएंगे।
  • आप अधिक योनि स्राव का अनुभव कर सकती हैं।
  • आपको स्पॉटिंग का अनुभव हो सकता है।
  • आप सिर घूमना व चक्कर महसूस कर सकती हैं।

प्रेगनेंसी की पहली तिमाही में वजन

पहली तिमाही में आपका वजन लगभग 1 से डेढ़ किलो तक बढ़ सकता है। हालांकि, यदि आपको बहुत ज्यादा उबकाई या भूख कम लगने का अनुभव होता है, तो आपका पर्याप्त वजन नहीं बढ़ेगा। यह कोई समस्या नहीं है क्योंकि आप अपनी आने वाली तिमाहियों में इसकी भरपाई कर सकती हैं। यदि आपकी पहली तिमाही में अत्यधिक वजन में कमी हुई है या अत्यधिक वृद्धि हुई है, तो दोनों ही स्थितियाँ चिंता का कारण हैं। गर्भावस्था की पहली तिमाही के दौरान अपने वजन से संबंधित सवालों के लिए अपने चिकित्सक से संपर्क करें।

प्रेगनेंसी की पहली तिमाही में करने योग्य व्यायाम

स्वस्थ शरीर और मस्तिष्क के लिए व्यायाम का अत्यधिक महत्व है, और गर्भावस्था में भी व्यायाम के काफी फायदे हैं । एक स्वस्थ और तनावमुक्त गर्भावस्था के लिए यह बहुत महत्वपूर्ण है कि आप व्यायाम करें। यहाँ कुछ ऐसे व्यायाम बताए गए हैं जिन्हें आप गर्भावस्था के दौरान सक्रिय और स्वस्थ रहने के लिए अपना सकती हैं:

  • टहलना: टहलना यानि वॉकिंग, गर्भावस्था के लिए सबसे उत्तम और सुरक्षित व्यायाम है। यदि आपकी पहले से ही टहलने की आदत है, तो फिर आप आसानी से प्रतिदिन 30 मिनट तक टहल सकती हैं। हालांकि, यदि आप अपने व्यायाम की दिनचर्या में नियमित नहीं हैं, तो सप्ताह में तीन से चार बार लगभग 10-15 मिनट टहलना पर्याप्त है।
  • यदि आप स्विमिंग जानती हैं और व्यायाम के इस रूप को पसंद करती हैं, तो आप एक सप्ताह में 3 से 5 बार, 30 मिनट के लिए स्विमिंग कर सकती हैं। स्विमिंग व्यायाम का कम प्रभाव वाला रूप है और इस प्रकार गर्भावस्था के दौरान यह आपके लिए बहुत सुरक्षित है।
  • योग मानसिक और शारीरिक स्वास्थ्य के लिए उत्तम है। योग में कई गर्भावस्था संबंधित आसन हैं जो आप गर्भावस्था में सुरक्षित रूप से कर सकती हैं, जो काफी फायदेमंद है।
  • आप साइकिल चला सकते हैं या जिम में व्यायाम साइकिल चलाने की कोशिश कर सकते हैं। सुनिश्चित करें कि आप अपनी गति और तीव्रता को दायरे में रखें।
  • आप ऊर्जावान और स्वस्थ रहने के लिए पलाटेज़ भी कर सकते हैं। पलाटेज़ करना कमर से संबंधित तकलीफों में फायदेमंद है, और यह आपको अपना संतुलन बनाए रखने में भी मदद करता है।

उपर्युक्त सभी व्यायाम गर्भावस्था के दौरान आपको स्वस्थ और तंदुरुस्त रहने में मदद कर सकते हैं। हालांकि, यह सलाह दी जाती है कि जैसे ही आपको अपनी गर्भावस्था के बारे में पता चलता है, आपको अपने चिकित्सक से अपनी व्यायाम दिनचर्या के बारे में परामर्श करना चाहिए। हर गर्भावस्था अलग होती है और इस प्रकार कुछ समस्याएं या जटिलताएं हो भी सकती हैं या नहीं भी हो सकती हैं। किसी भी प्रकार का व्यायाम शुरू करने से पहले, आपको अपने चिकित्सक की सहमति लेनी चाहिए।

प्रेगनेंसी की पहली तिमाही की कार्य सूची

गर्भधारण करने के साथ, आपको अपने स्वास्थ्य और अपने शिशु के स्वास्थ्य और कल्याण के लिए सही विकल्प और निर्णय लेने चाहिए। यहाँ कुछ सुझाव दिए गए हैं जो आपको गर्भावस्था के पहले तीन महीनों में क्या करना चाहिए, या आप पहली तिमाही में गर्भावस्था की देखभाल कैसे कर सकते हैं, इसके बारे में मार्गदर्शन कर सकते हैं:

  • आप इस बात की योजना बना सकते हैं कि आप अपनी गर्भावस्था की घोषणा कब करना चाहते हैं और अपने दोस्तों और परिवार के सदस्यों को इसके बारे में बताना चाहते हैं। जैसे ही आपको गर्भधारण के बारे में पता चलता है आप सबको इस बारे में बताना चाहेंगे। हालांकि, जबतक आपकी पहली तिमाही खत्म नहीं हो जाती, तब तक इंतजार करना उचित होगा क्योंकि तब तक गर्भपात से जुड़े प्रमुख जोखिम कम हो जाते हैं।
  • आपके अपने आहार और पोषण की योजना बनानी चाहिए क्योंकि आप आपके शिशु के वृद्धि और विकास के लिए  एकमात्र स्रोत हैं जहाँ से उसे पोषण प्राप्त होगा। सुनिश्चित करें कि आप अपने गर्भावस्था आहार में ताजे फल, सब्जियाँ, अनाज, दाल, माँस, मुर्गी और दुग्ध-उत्पाद शामिल करें।
  • आपको अपनी प्रसवपूर्व दवाएँ लेना शुरू करना चाहिए जो कि भ्रूण की सर्वोत्तम वृद्धि और विकास के लिए महत्वपूर्ण हैं और आपके शिशु को विभिन्न जन्म दोषों से भी बचाती हैं।
  • यह सलाह दी जाती है कि आप अपनी गर्भावस्था के बारे में पता चलने के तुरंत बाद ही एक अच्छे डॉक्टर का चुनाव करें।
  • आपको किन्हीं संभावित जटिलताओं और जन्मदोष की पहचान के लिए विभिन्न परीक्षण और जाँच करवानी चाहिए।
  • आपको एक अच्छी बीमा योजना का चुनाव करना चाहिए।
  • आगामी खर्चों के लिए योजना और आय-व्यय का लेखा तैयार करना उचित होगा।
  • आपको अपनी पूरी गर्भावस्था के दौरान स्वस्थ और तंदरुस्त रहने के लिए स्वस्थ दिनचर्या का पालन करना चाहिए।
  • आप अपने शिशु का नाम भी पहले से सोच सकते हैं।

प्रेगनेंसी की पहली तिमाही की कार्य सूची

प्रेगनेंसी की पहली तिमाही के लिए आहार

जैसा कि पहले चर्चा की गई है, आपके लिए अपने गर्भावस्था के आहार और पोषण पर ध्यान देना बहुत महत्वपूर्ण है। याद रखें कि आप अपने बढ़ते शिशु को भी पोषण प्रदान कर रहे हैं। आपको अपने शिशु की वृद्धि और विकासात्मक आवश्यकताओं को समायोजित करने के लिए अपने कैलोरी को बढ़ाना होगा। यहाँ आपको बताया गया है कि गर्भावस्था के भोजन और संतुलित आहार के सम्बन्ध में आपको क्या करना चाहिए और क्या नहीं।

क्या खाएं

निम्नलिखित कुछ आहार बताए गए हैं जिन्हें आपको स्वस्थ गर्भावस्था के लिए अपनाना चाहिए:

  • अपने आहार में ताजे फलों को शामिल करें। आप ताजे फलों का जूस भी पी सकती हैं, लेकिन साबुत फलों को खाना बेहतर है। ताजे फल आपको पर्याप्त मात्रा में फाइबर देते हैं, जो आपके गर्भावस्था में दौरान कब्ज के लिए भी अच्छा है। डिब्बाबंद फल खाने से परहेज करें और इसके बजाय ताजे फलों का चुनाव करें। आप इन्हें दिन में 3-4 बार ले सकते हैं।
  • कद्दू, पालक, गोभी, शकरकंद, गाजर, टमाटर जैसी ताजी सब्जियों को अपने गर्भावस्था के आहार में शामिल करना चाहिए। आप एक दिन में 3 से 4 बार के भोजन में सब्जियों का सेवन करें।
  • गर्भावस्था में प्रोटीन का सेवन बढ़ाने के लिए माँस, मुर्गी और अंडे एक अच्छा स्रोत हैं और भ्रूण के विकास के लिए प्रोटीन बहुत महत्वपूर्ण है। हालांकि, यदि आप शाकाहारी हैं, तो आप अपने प्रोटीन के सेवन के लिए दाल, फलियां और मेवे शामिल कर सकते हैं।
  • कैल्शियम न केवल आपके लिए आवश्यक है, बल्कि भ्रूण की हड्डियों और दाँतों के निर्माण के लिए बहुत महत्वपूर्ण है। आपको अपने आहार में दुग्ध उत्पादों को तीन बार शामिल करना चाहिए, और इस प्रकार आपको अपने कैल्शियम की आवश्यकताओं को पूरा करने के लिए दूध, पनीर, दही या मक्खन का सेवन करना चाहिए।
  • आपको एक दिन में तीन से चार बार साबुत अनाज लेने चाहिए। आप अनाज, साबुत गेहूँ की पावरोटी या ऐसे अन्य खाद्य पदार्थ खा सकते हैं।

क्या न खाएं

निम्नलिखित कुछ ऐसे खाद्य पदार्थ हैं जिनसे आपको अपनी गर्भावस्था के दौरान परहेज करना चाहिए:

  • अस्वास्थ्यकर भोजन से दूर रहें, क्योंकि यह न केवल स्वास्थ्य को हानि पहुँचाते हैं, बल्कि इससे अनावश्यक वजन भी बढ़ सकता है।
  • चाय, कॉफी या कार्बनीकृत पेय से दूर रहें।
  • कच्चे माँस या मुर्गे या अंडे का सेवन न करें।
  • समुद्री भोजन से बचें क्योंकि उसमे पारा(मर्क्युरी) की मात्रा अधिक होती है।
  • बिना धोए फलों और सब्जियों का सेवन न करें।
  • शराब और धूम्रपान का सेवन करने से बचना चाहिए।
  • अपाश्चुरीकृत खाद्य पदार्थों के सेवन से बचना चाहिए।

प्रेगनेंसी की पहली तिमाही में जाँच व परीक्षण

अगर आप पहली बार गर्भवती हुई हैं, तो आप अपने गर्भावस्था के लक्षणों के बारे में कंफ्यूज हो सकती हैं। हालांकि, घर पर ही गर्भावस्था जाँच से आपको यह पता लग सकता है कि आप गर्भवती हैं, लेकिन अधिकांश चिकित्सक आपकी गर्भावस्था की प्रमाणिकता और पुष्टि के लिए अन्य परीक्षण और जाँच के तरीके अपनाएंगे। यहाँ कुछ परीक्षण और जाँच संबंधी जानकारी दी गई है :

  • शारीरिक परीक्षण और अन्य चिकित्सा संबंधी जानकारी: आपका चिकित्सक आपकी गर्भनिरोध की विधि के बारे में पूछने के साथ-साथ आपकी मासिक धर्म की अंतिम तिथि के बारे में भी पूछ सकते हैं। आपकी गर्भावस्था एक स्वस्थ गर्भावस्था है और इसमें कोई जटिलता या जन्मदोष नहीं हैं, यह देखने के लिए एक संपूर्ण शारीरिक जाँच भी की जाएगी।
  • मूत्र और रक्त परीक्षण: आपके सामान्य स्वास्थय की जाँच करने और किसी भी संभावित जटिलताओं के संकेतों के बारे में जानने के लिए मूत्र और रक्त परीक्षण किया जाएगा।
  • अल्ट्रासाउंड स्कैन: एक अल्ट्रासाउंड स्कैन किया जा सकता है। यह गर्भावस्था का पता लगाने और गर्भावस्था से जुड़ी किसी भी समस्या का पता लगाने को आसान बनाता है। उपर्युक्त तरीकों से, आपका चिकित्सक न केवल आपकी गर्भावस्था की पुष्टि करने में सक्षम होगा, बल्कि आपको गर्भावस्था के दौरान आने वाली किसी भी जटिलता के बारे में भी बताएगा।

प्रेगनेंसी की पहली तिमाही में देखभाल

यहाँ कुछ सावधानियां बताई गई हैं, जिन्हें आपको गर्भावस्था के पहली तिमाही में अपनाना चाहिए:

१. गर्भावस्था में अपने आहार का ध्यान रखें। अधूरा पोषण न तो आपके लिए अच्छा है और न ही आपके शिशु के लिए। इसलिए, अच्छी तरह से और नियमित अंतराल पर खाएं जिससे आप अपच से भी दूर रहेंगी। अपने आहार में फाइबर युक्त आहार शामिल करें ताकि आपकी कब्ज नियंत्रण में रहे। ऊर्जावान महसूस करने के लिए दिन भर थोड़ा-थोड़ा भोजन करें।

२. पर्याप्त मात्रा में पानी पिएं और तरल पदार्थों का सेवन बढ़ाएं। निर्जलीकरण या डिहाइड्रेशन गर्भावस्था में जटिलताएं पैदा कर सकता है, इसलिए एक दिन में कम से कम 8 से 10 गिलास पानी पीना चाहिए।

३. शरीर की उचित क्रिया के लिए व्यायाम करना महत्वपूर्ण है और यही बात गर्भावस्था पर भी लागू होती है। गर्भावस्था में स्वस्थ रहने के लिए नियमित व्यायाम करें। आप व्यायाम का जो भी तरीका अपनाने की योजना बनाती हैं, उसके बारे में अपने चिकित्सक से परामर्श जरूर करें।

४. यह आवश्यक है कि गर्भावस्था में आपकी सोच सकारात्मक हो। अपने मन को प्रसन्न और सकारात्मक रखने का सबसे अच्छा तरीका है मेडिटेशन करें।

५. आराम गर्भावस्था में बहुत महत्वपूर्ण है। गर्भावस्था के दौरान आपके शरीर में बहुत से बदलाव होते हैं, इसलिए आपके शरीर के सही ढंग से काम करने के लिए उचित आराम और नींद अनिवार्य है। आपको रात में 7 से 8 घंटे की निर्बाध नींद लेनी चाहिए और दिन में दो से तीन बार झपकी (नैप) लेनी चाहिए।

६. गर्भावस्था आपकी इम्युनिटी को प्रभावित करती है और इस प्रकार आपको विभिन्न संक्रमणों और अन्य बीमारियों के प्रति अधिक संवेदनशील बना देती है। इसलिए स्वछता बनाए रखें और अपनी अच्छी देखभाल करें।

प्रेगनेंसी की पहली तिमाही में ध्यान देने योग्य बातें

ज्यादातर महिलाओं की गर्भावस्था सुगम होती है; हालांकि, कभी-कभी कुछ जटिलताएं पैदा हो सकती हैं। किसी भी समस्या के संकेत और लक्षणों को समझना बहुत महत्वपूर्ण है ताकि तुरंत कार्रवाई की जा सके। हम यहाँ कुछ खतरे के संकेतों पर चर्चा करेंगे, जिन्हें आपको तुरंत अपने चिकित्सक को बताना चाहिए:

  • यदि आपको योनि से अत्यधिक रक्तस्त्राव या स्पॉटिंग दिखाई दे।
  • यदि आप अत्यधिक उबकाई और उल्टी का अनुभव कर रही हैं।
  • यदि आपको तेज बुखार (101 डिग्री से अधिक) है।
  • यदि आपको मूत्र त्यागते समय जलन या दर्द हो रहा है।
  • यदि आपको अत्यधिक योनि स्राव और साथ ही खुजली हो रही है।
  • यदि आपकी दीर्घकालिक बीमारी जैसे मधुमेह, अस्थमा, लुपस इत्यादि बढ़ जाती है।
  • यदि आप किसी भी प्रकार की पिंडली या पैर की सूजन (ब्लड क्लॉटिंग के कारण) या गंभीर सिरदर्द (ब्लड क्लॉटिंग के कारण) का अनुभव करते हैं।

ये वे जानकारियां हैं, जिन्हें आपको अपनी पहली तिमाही के दौरान जानना चाहिए। अब जैसा कि आप गर्भावस्था की पहली तिमाही से जुड़ी सभी बातों से अवगत हैं, अपना ख्याल रखें और खुश रहें।