गर्भावस्था के दौरान कब्ज के लिए 10 उपयोगी घरेलू उपचार

गर्भावस्था के दौरान कब्ज के लिए १० सर्वश्रेष्ठ घरेलू उपचार

Last Updated On

गर्भावस्था के दौरान कब्ज होना एक आम बात है। हालांकि, ज्यादातर महिलाएं शर्मिंदगी और अन्य कारणों से इसके बारे में बात नहीं करना चाहती हैं। और शायद इस वजह से ही वे डॉक्टर से परामर्श किए बिना पास के मेडिकल स्टोर से दवा ले लेती हैं, लेकिन गर्भावस्था के दौरान ऐसी दवाएं बिना डॉक्टर के परामर्श के खाना हानिकारक हो सकता है।

गर्भावस्था के दौरान कब्ज होने के कारण

गर्भावस्था के दौरान कई कारणों से कब्ज होता है। इनमें शामिल हैं :

1. भोजन और पानी को कम मात्रा में ग्रहन करना

सुबह की मतली ज्यादातर माताओं को प्रभावित करती है, और इससे खाने में कठिनाई होती है, और कभी-कभी पानी पीने में भी। जिस कारण शरीर को पर्याप्त मात्रा में पानी नहीं मिल पाता है।

2. हार्मोन में बदलाव

प्रोजेस्टेरोन के उत्पादन में वृद्धि से पाचन प्रक्रिया धीमी हो जाती है।

3. आहार में परिवर्तन

गर्भवती महिलाएं अपने बढ़ते भ्रूण के लिए, अक्सर अपने आहार में परिवर्तन करती हैं, इस बदलाव के कारण भी कब्ज हो सकता है।

4. लौह तत्व (आयरन सप्लीमेंट्स) की बढ़ी खुराक के कारण

गर्भवती महिलाओं में कब्ज के कारणों में से एक आयरन सप्लीमेंट्स के सेवन में वृद्धि है, जो इस दौरान दिए जाते हैं।

कब्ज गर्भवती महिलाओं के लिए असुविधाजनक हो सकता है। हालांकि, यह दैनिक आहार और जीवन शैली में थोड़े से बदलाव तथा कुछ आसान घरेलू उपचारों द्वारा आसानी से ठीक किया जा सकता है। और हम जो उपचार बताने जा रहें, उनमें से कुछ तुरंत कब्ज से राहत देते हैं, दूसरे आपको धीरे-धीरे बेहतर होने में मदद करते हैं। गर्भावस्था के दौरान कब्ज को दूर करने में मदद के लिए यहाँ उन उपायों का विवरण किया गया है।

गर्भवती होने पर कब्ज के इलाज के लिए 10 प्रभावी घरेलू उपचार

1. नींबू

नींबू पाचन के लिए बहुत अच्छा है, और विषाक्त पदार्थों और अन्य अवांछित भोजन को बाहर निकालने में मदद करता है। यदि आप एक गिलास हल्का गर्म पानी में एक नींबू डालकर पीती हैं तो यह आपकी सूंघने और स्वाद के बोध को उत्तेजित करता है और मल त्याग करने में मदद करता है।

2. पानी

पानी आपको खूब पीना चाहिए। एक दिन में लगभग 10 ग्लास पानी पीने की सलाह दी जाती है। यह आपके शरीर में पानी की वांछित मात्रा प्राप्त करने में आपकी सहायता करता है। पानी पीने से कड़ा मल नरम होने लगता है जिससे भोजन पाचन तंत्र में आसानी से आगे बढ़ता है।

पानी

3. खट्टे फल (संतरा)

संतरे जैसे खट्टे फलों में उच्च मात्रा में फाइबर और विटामिन सी होता है। कब्ज का एक प्रमुख कारण आपके दैनिक आहार में फाइबर की कमी है। यह कब्ज के लिए सबसे अच्छा उपाय है। आपको एक दिन में लगभग 30 ग्राम फाइबर का सेवन करना चाहिए। संतरे, आम, सेब और बेर में फाइबर की मात्रा अधिक होती है और कब्ज के इलाज के लिए इसका सेवन किया जा सकता है।

4. आलूबुखारे का रस

गर्भावस्था के दौरान कब्ज के लिए प्रभावी रसों में से एक है आलूबुखारे का रस। कब्ज को कम करने और मल को नरम करने के लिए आप एक दिन में लगभग 5 बार इस रस को पी सकती हैं। यदि आलूबुखारे के गाढ़े रस का स्वाद बहुत कसैला है, तो इसे थोड़ा पानी मिलाकर पतला किया जा सकता है और स्वाद बढ़ाने के लिए नींबू का एक टुकड़ा डाला जा सकता है।

5. ईसबगोल की भूसी

ईसबगोल भूसी या इसबगोल, भारत में कब्ज के लिए प्रसिद्ध घरेलू उपचारों में से एक है। इसबगोल की भूसी में लस होता है जो तरल पदार्थों को अवशोषित करता है और यह लसदार पदार्थ मल में शामिल हो जाता है। यदि आप इस उपाय को चुनते हैं, तो आपको रोजाना कम से कम 10 गिलास पानी पीने की जरूरत है। लेकिन, अगर आपको कोई हृदय रोग या रक्तचाप है तो आपको इस उपाय का विकल्प नहीं चुनना चाहिए। इस इलाज का उपयोग केवल तभी किया जाना चाहिए जब डॉक्टर द्वारा निर्धारित किया गया हो।

6. अलसी के बीज

गर्भावस्था के दौरान कब्ज के इलाज के लिए यह एक और बहुत लोकप्रिय घरेलू उपाय है। अलसी के बीज फाइबर से भरा होता है जो आपके आहार में आवश्यक रफेज (roughage) जोड़ता है और इसमें ओमेगा-3एस भी होता है। इस इलाज के साथ भी आपको लगभग 10 गिलास पानी पीना होगा। वैकल्पिक रूप से आप अलसी के तेल का उपयोग करने पर भी विचार कर सकती हैं।

अलसी का बीज

7. मालिश

गर्भावस्था के शुरुआती चरणों के दौरान कब्ज अपरिहार्य है। वैसे आपको इसे अनदेखा नहीं करना चाहिए अन्यथा यह आगे के चरणों में एक गंभीर समस्या बन सकती है। पेट की हल्की मालिश से कब्ज से राहत मिलती है और इसे हमेशा क्लॉकवाइज गति (घड़ी के सुई की गति) में ही करने से फायदेमंद होता है। लेकिन ध्यान रहें, यदि आप समय से पहले प्रसव के जोखिम में हैं या आपका नाल (प्लेसेंटा) नीचे हो गया है तो इस उपाय को नहीं करें।

8. रिफ्लेक्सोलॉजी (क्षेत्र चिकित्सा)

रिफ्लेक्सोलॉजी बहुत सारी बीमारियों का एक प्राकृतिक उपचार है। यह एक सुरक्षित तरीका है, जिसमें अंगों में विभिन्न बिंदुओं पर दबाव डाला जाता है। यह विधि पूरी तरह से सुरक्षित और प्राकृतिक है। पाचन तंत्र को आराम देने के लिए आप परिवार के किसी व्यक्ति को पैरों के ऊपरी तलवों की धीरे से मालिश करने के लिए कह सकती हैं। यदि आप अकेली हैं तो आप कब्ज से राहत पाने के लिए हथेली पर रिफ्लेक्सोलॉजी क्षेत्रों की मालिश कर सकती हैं। एक क्लॉकवाइज गति में हथेली के किनारों के चारों ओर मालिश करते हुए आगे बढ़ें। आप पैरों के नीचे एक पानी की बोतल भी रख सकती हैं, और आराम करते समय बोतल को फर्श पर आगे-पीछे करें।

संवेदनशीलता

9. एक्यूप्रेशर

चिकित्सा की यह प्राचीन कला कब्ज के इलाज में काफी प्रभावी पाई जाती है। उपचारकर्ता या चिकित्सक का मानना ​​है कि कब्ज आमतौर पर ऊर्जा (क्यूई) के रुकावट के कारण होता है। इस बाधक को हटाने के लिए, आपको पेट के बीचों-बीच सही दबाव बिंदु खोजने की आवश्यकता है। यह नाभि से लगभग 5 से.मी. नीचे स्थित है। रोजाना इस बिंदु को धीरे-धीरे दबाएं और लगभग 30 बार दबाव बढ़ाने से मदद मिलती है। इस उपाय को आपकी गर्भावस्था के बाद के चरणों में रोक दिया जाना चाहिए। यदि आपको समय से पहले प्रसव की प्रवृत्ति है, तो इस बिंदु को लगभग 30 बार दबाया जाना चाहिए और दिन के दौरान दोहराया जाना चाहिए।

10. लैक्सेटिव (रेचक औषधि)

जुलाब दो प्रकार के होते हैं। एक जो मल बढ़ाता है, और दूसरा आंत्र के संकुचन को प्रेरित करता है। मल को बढ़ाने वाले जुलाब पानी की मात्रा बढ़ाकर ऐसा करते हैं। हालांकि, इनसे आंतों  में ऐंठन हो सकती है। लैक्सेटिव का अचानक से उपयोग करने से बहुत सारे दुष्प्रभाव हो सकते हैं। इसलिए उन्हें कुशलतापूर्वक और प्रभावी ढंग से उपयोग किया जाना चाहिए। लैक्सेटिव पुराने कब्ज को दूर करने में मदद करता है। लेकिन लैक्सेटिव का उपयोग करने का निर्णय लेने से पहले आपको एक चिकित्सक से परामर्श करना चाहिए।

ऊपर बताए गए प्राकृतिक उपचार आपको कब्ज के असुविधाजनक प्रभावों से राहत देने में मदद कर सकते हैं। हम उम्मीद करते हैं कि आपको अपना उपाय मिल गया होगा। लेकिन, यदि आपका कब्ज घरेलू उपचार या अन्य वैकल्पिक उपचारों में से किसी से ठीक नहीं होती है, तो आपको अपने डॉक्टर से परामर्श करने की सलाह दी जाती है।