समय से पूर्व जन्मे शिशु का वज़न बढ़ाने के उपाय

समय से पूर्व जन्मे शिशु का वज़न बढ़ाने के उपाय

Last Updated On

समय से पूर्व जन्मे शिशु को प्रीमैच्योर शिशु भी कहा जाता है, स्वस्थ होने के लिए कई बाधाओं से उभरना पड़ता है। माँ या देखभाल करने वाले के रूप में, आपको अतिरिक्त सावधानी बरतने और यह सुनिश्चित करने की आवश्यकता है कि आपकेशिशु को सर्वोत्तम पोषण मिलें।

समय से पहले शिशु के वज़न को बढ़ाने के कई तरीके हैं। हालांकि, इससे पहले कि आप अपने शिशु के लिए वज़न बढ़ाने की योजना तय करें, आइए देखें कि समय से पहले जन्मा शिशु कैसा होता है और इस तरह के बच्चे का सही वज़न कितना होता है।

समय से पहले जन्मा शिशु किसे कहते है?

गर्भधारण के 37 सप्ताह से पहले पैदा हुए शिशु को प्रीमैच्योर शिशु माना जाता है।

समय से पहले जन्में शिशु का वज़न आमतौर पर कितना होता है?

पूर्ण अवधि में जन्मे शिशु का अनुमानित वज़न तीन किलो होता है। प्रतिदिन समय से पहले जन्में शिशु का वज़न बढ़ना शिशु के जन्म के समय पर निर्भर करता है। जितनी समय से पहले डिलीवरी होती है, शिशु का वज़न उतना ही कम होता है। समय से पहले जन्म लेने वाले शिशुओं का वज़न प्रायः 2.3 किलोग्राम से कम होता है।

जन्म के समय शिशुओं का बहुत कम वज़न, उनके जीवित रहने के लिए एक गंभीर ख़तरा पैदा कर सकता है। चिकित्सा क्षेत्र के उन्नति को श्रेय जाता है कि 800 ग्राम या उससे अधिक वज़न वाले 90% से अधिक शिशु जीवित रह सकते हैं। आजकल, 500 ग्राम से अधिक वज़न के लगभग 60% समय से पहले जन्मे शिशु भी जीवित रहते हैं।

जहाँ तक वज़न बढ़ने का सवाल है, सभी नवजात शिशु एक ही पैटर्न का पालन करते हैं, आमतौर पर वे शुरुआती दिनों के दौरान अपना कुछ वज़न कम करते हैं और विभिन्न कारकों के कारण भी वज़न घट सकता है। यदि डॉक्टर ने आपको आपका लेबर तेज़ करने के लिए हॉर्मोन ड्रिप दिया है तो जिस शिशु का जन्म हाल ही में हुआ है, उनमें कुछ तरल पदार्थ बने रह सकते हैं। ऐसे मामले में, आपका शिशु जन्म के बाद गोलमटोल दिखता है, लेकिन बाद में उसका वज़न कम हो जाता है । लेकिन यदि आपके शिशु का वज़न 10% से अधिक कम हो रहा है, तो यह चिंता का विषय हो सकता है और ऐसी स्थिति में आपको डॉक्टर से परामर्श लेने की आवश्यकता है। डॉक्टर विभिन्न कारकों जैसे, दूध पीने और मल को यह समझने के लिए जाँचेगा कि ऐसा क्यों हो रहा है?

जन्म के पाँचवे दिन के बाद वज़न कम नहीं होता है।

आदर्श रूप से, शिशुओं को अपने जन्म के वज़न पर लौटने के लिए 14 दिन लगते हैं, कुछ शिशु और ज़्यादा समय भी ले सकते हैं, इसके बाद शिशुओं का वज़न बढ़ना शुरू हो जाता है। हर हफ्ते उनका वज़न लगभग 112-200 ग्राम बढ़ता है और यह तब तक जारी रहता है जब तक कि वे 4 महीने के नहीं हो जाते। समय से पहले जन्म लेने वाले बच्चों के मामले में वज़न आमतौर पर कम बढ़ता है। छोटे शिशुओं का वज़न प्रतिदिन 5 ग्राम जितना बढ़ता है, जबकि बड़े शिशुओं के लिए यह प्रति दिन 20 ग्राम तक पहुँच जाता है।

जन्म के पाँचवे दिन के बाद वज़न कम नहीं होता है

समय से पहले जन्मे शिशु के उम्र की गणना कैसे करें

यह पता लगाने के लिए कि क्या समय से पहले जन्मे शिशु का वज़न सामान्य है, आपको उसकी उम्र का पता लगाना होगा। वास्तविक उम्र उसकी डिलीवरी की तारीख से अलग होगी क्योंकि वह समय से पहले पैदा हुआ था।

वर्तमान सप्ताह में से उसके जन्म के समय से पहले के हफ़्तों की संख्या घटाएं । इसका मतलब यह है कि यदि आपका शिशु 9 सप्ताह का है और वह 2 सप्ताह पहले आया है, तो आपको यह जाँचने की आवश्यकता होगी कि क्या वह 9 सप्ताह के शिशु के बजाय 7-सप्ताह के शिशु के लिए तय मानक तक पहुँच रहा है या नहीं।

समय से पहले जन्मे शिशु की वज़न सारणी

गर्भधारण का समय

(सप्ताह में )

औसत वज़न (ग्राम में )

औसत वज़न (औंस में)

औसत लंबाई (सेंटीमीटर में)

औसत लंबाई (इंच में)

औसत सिर परिधि (सेंटीमीटर में)

औसत सिर परिधि (इंच में)

23

584

20.6

29.9

11.8

20.9

8.2

24

651

23

31.1

12.2

21.8

8.6

25

737

26

32.3

12.7

22.7

8.9

26

827

29.2

33.6

13.2

23.6

9.3

27

936

33

35

13.8

24.5

9.6

28

1061

37.4

36.5

14.4

25.5

10

29

1204

42.5

38

15

26.5

10.4

30

1373

48.4

39.5

15.6

27.5

10.8

31

1546

54.5

41

16.1

28.4

11.2

32

1731

61.1

42.3

16.7

29.3

11.5

33

1956

69

43.7

17.2

30.2

11.9

34

2187

77.1

45

17.7

31.1

12.2

35

2413

85.1

46.2

18.2

31.9

12.6

36

2664

94

47.4

18.7

32.7

12.9

37

2937

103.6

48.5

19.1

33.3

13.1

38

3173

111.9

49.5

19.5

33.7

13.3

39

3338

117.7

50.2

19.8

34

13.4

40

3454

121.8

50.8

20

34.3

13.5

41

3530

124.5

51.3

20.2

34.5

13.6

कृपया ध्यान दें: यहाँ दिए गए माप औसत में हैं स्वस्थ बच्चे बड़े या छोटे हो सकते हैं।

समय से पहले जन्मे शिशु का वज़न बढ़ना कब शुरू होता है ?

समय से पहले जन्मे शिशु का वज़न बढ़ना कई कारकों पर निर्भर करता है। उनमें से एक सबसे महत्वपूर्ण है कि बच्चा कब पैदा हुआ था, जन्म के कुछ दिनों बाद ही उनका वज़न बढ़ना शुरू होता है ।

समय से पहले जन्मे शिशु का पोषण

स्तनपान, शिशु में पर्याप्त वज़न बढ़ने को बढ़ावा देने के लिए सबसे महत्वपूर्ण चीज़ों में से एक है। समय से पहले जन्मे शिशु की ताकत और स्वास्थ्य बनाने के लिए माँ का दूध सबसे अच्छा तरीका है। यह उनके पेट व आंतों को विकसित करने में और सभी प्रकार के संक्रमण को रोकने में मदद करता है ।

कोलोस्ट्रम वह पहला दूध होता है जो एक नई माँ के स्तनों में बनता है और यहीं से माँ को अपने शिशु को दूध पिलाना शुरू करना चाहिए। कोलोस्ट्रम पोषक तत्वों से भरा होता है और यह उस समय शिशु के लिए आवश्यक सभी पोषण प्रदान करता है।

समय से पूर्व जन्मे शिशु को एक सूची के अनुसार ही आहार खिलाए जाने की आवश्यकता होती है, न कि मांग के आधार पर। जब आप अपने शिशु को दूध पिला रही हों, तो उस प्रक्रिया पर नज़र रखें और कोशिश करें कि उसे नियमित अंतराल पर दूध पिलाएं। इससे बच्चे को सही समय पर पोषक तत्व प्राप्त करने में मदद मिलेगी। चिकित्सक से बात करें कि आपको कितनी बार अपने शिशु को दूध पिलाने की आवश्यकता है? डॉक्टर आपको हर 2-3 घंटे में शिशु को दूध पिलाने के लिए कह सकता है और शिशु की अच्छी नींद के लिए भी आपको ऐसा करने की है ।

जैसे ही शिशु 4-5 महीने का हो जाता है, डॉक्टर आपको बताएंगे कि आप कब और कैसे ठोस आहार शामिल कर सकती हैं।

प्रारंभिक हफ्तों में समय से पूर्व जन्मे शिशु को स्तनपान कैसे कराएं ?

एक नवजात शिशु रोग विशेषज्ञ आपके बच्चे की स्थिति का विश्लेषण करेगा और फिर शुरुआती हफ्तों के दौरान उन्हें स्तनपान कराने का सबसे अच्छा तरीका तय करेगा। कुछ ऐसे तरीके हैं, जिनसे समय से पूर्व जन्मे शिशुओं को आहार दिया जाता है:

  • IV के द्वारा आहार देना (अंतःशिरा नलिकाएं)

पोषक तत्व और तरल पदार्थ एक IV नलिका के माध्यम से भेजे जाते हैं जो प्रीमी (समय से पूर्व जसमय से पहले पैदा होने वाले बच्चे की देखभाल के लिए अधिक प्रयास करने की आवश्यकता होती है। जानें कि यह सुनिश्चित कैसे करें कि समय से पहले पैदा होने वाले बच्चे की पोषण संबंधी आवश्यकताएँ पूरी हों, साथ ही उसका वज़न सही से बढ़े।न्मे शिशु ) के पैर, हाथ या सिर में लगाई जाती है। यह पसंदीदा तरीका है यदि प्रीमी समय से बहुत पहले जन्मा है तो उसे सांस लेने में समस्या होती है क्योंकि उनके फेफड़े पूरी तरह से विकसित नहीं होते हैं और पाचन तंत्र भी अविकसित होता है।

  • मुख और नाक से आहार देना

नाक से दूध पिलाने या गैवीज फीडिंग में माँ के दूध या फॉर्मूला दूध को सीधे बच्चे के पेट में उनकी नाक या मुंह के माध्यम से एक ट्यूब द्वारा भेजा जाता है। यह उन शिशुओं के लिए सुझाया जाता है जिनके दिल या फेफड़े कमज़ोर होते हैं और उनमें समन्वय की समस्या होती है।

  • अम्बिलिकल कैथेटर

यह आपके शिशु को खिलाने का एक दर्द रहित तरीका है, जहाँ डॉक्टर शिशु की गर्भनाल के अंदर एक ट्यूब डालते हैं। इसमें संक्रमण की संभावना अधिक होती है इसलिए केवल सबसे गंभीर मामलों में इसकी सिफारिश की जाती है।

  • स्तन और बोतल के माध्यम से आहार देना

जब शिशु चूस सकता है और निगल सकता है, तो मेडिकल टीम आपके शिशु को स्तनपान कराने या बोतल से दूध पिलाने में आपकी मदद करेगी।

  • सेंट्रल लाइन फीडिंग

शिशु की नस में IV नलिका डाली जाती है और यह नलिका आपके बच्चे तक आवश्यक पोषक तत्व पहुँचाती है।

प्रारंभिक हफ्तों में समय से पूर्व जन्मे शिशु को स्तनपान कैसे कराएं

शिशु के जीवित रहने के लिए देखभाल के तरीके

  • त्वचा से त्वचा का संपर्क महत्वपूर्ण है क्योंकि यह आपके शिशु को वज़न बढ़ाने में मदद करता है, उन्हें गर्म रखता है, उनके दिल की धड़कन और सांस लेने की दर को नियंत्रित करता है। यह आपके शिशु की नींद सुनिश्चित करता है और स्तनपान की संभावना को भी बढ़ाता है।
  • मालिश से भी शिशु का वज़न बढ़ने में मदद मिल सकती है।
  • सुनिश्चित करें कि आप डॉक्टर से मिलने की कोई भी तारीख़ न भूलें क्योंकि नियमित रूप से आपके शिशु के वज़न की जाँच महत्वपूर्ण है।
  • अपने शिशु को छाती से लगाएं, उस पर ध्यान दें और उसे खुश रखें।

निष्कर्ष

समय से पहले जन्मे शिशु नाज़ुक होते हैं और उनकी नियंत्रित वातावरण में देखभाल करने की आवश्यकता होती है। अच्छी खबर यह है कि उत्तरजीविता की सफलता दर अधिक है और वज़न बढ़ना इस उत्तरजीविता को पटरी पर लाने में (सही तरीके से कार्य करने में) मदद करता है। ऊपर दिए गए सभी सुझाव आपके समय से पहले जन्मे शिशु का वज़न बढ़ाने को सुनिश्चित करने में आपकी मदद करेंगे।