शिशु का 32वेंं सप्ताह में समयपूर्व जन्म

शिशु का 32वेंं सप्ताह में समयपूर्व जन्म

Last Updated On

पूर्ण अवधि वाली गर्भावस्था हमेशा बच्चे के पूर्ण विकास के लिए सर्वश्रेष्ठ होती है। हालांकि हर बार यह संभव नहीं है, कुछ मामलों में आपके शिशु का जन्म समय से पूर्व हो सकता है। इन्हें समयपूर्व जन्मे या प्रीमैच्योर शिशु कहा जाता है और यह उतने विकसित नहीं होते हैं जितना एक शिशु को होना चाहिए।

32वें सप्ताह में शिशु के जन्म के कारण

निम्नलिखित कारक गर्भधारण के 32वें सप्ताह में शिशु के जन्म को प्रेरित कर सकते हैं:

  • जुड़वां या उससे अधिक शिशुओं की उपस्थिति ।
  • गर्भनाल में कोई समस्या जिसके कारण इसे जल्दी अलग कर दिया जाए या यदि यह शिशु को भोजन इत्यादि उपलब्ध करवाने में अपर्याप्त है।
  • माँ का संक्रमण से पीड़ित होना।
  • गर्भावस्था में अवैध नशीली दवाएं लेना, शराब या धूम्रपान करना।
  • संवेदनशील गर्भाशय या एक अक्षम गर्भाशय ग्रीवा जो शिशु को सुरक्षित रखने में विफल हो जाता है।

32वें सप्ताह में जन्मे शिशु का विकास

32वें सप्ताह में पैदा होने वाले शिशुओं का वजन सामान्यतः लगभग 1.5 से 3 किलोग्राम के आसपास होता है और आमतौर पर उनकी लंबाई 20 इंच होती है।अधिकांश शिशु अपने आप ही सांस लेने लगते हैं, यद्यपि फेफड़े पूरी तरह से विकसित नहीं हुए हैं। उन्हें केवल शरीर में ऑक्सीजन के स्तर को बनाए रखने में मदद करने के लिए सप्लीमेंट ऑक्सीजन की आपूर्ति की आवश्यकता होती है।

कुछ शिशुओं के सिर पर भरपूर बाल मौजूद होते हैं, जबकि अन्य में बहुत कम होते हैं। बालक शिशु के टेस्टिकल्स आमतौर पर अंडकोश की थैली (स्क्रोटम) में उतर जाते हैं। दूसरे शिशुओं में यह समय के साथ होता है। शिशु अपने आस-पास के बारे में अवगत होता है क्योंकि उसकी सभी इंद्रियां बहुत अच्छी तरह से काम कर रही होती हैं और शायद ही कभी इनसे संबंधित कोई अक्षमता हो।

इन्क्यूबेटर शरीर के तापमान को गर्म रखने में मदद करता है, जो ब्लड प्रेशर और ग्लूकोज के स्तर को बनाए रखता है। अस्पताल का एन.आई.सी.यू. (निओनेटल इंटेंसिव केयर यूनिट) शिशु के विकास के लिए आवश्यक समझा जाता है।

32वें सप्ताह में जन्मे शिशुओं में जटिलताएं

यदि तुरंत सावधानियां न बरती जाएं और सही प्रकार से देखभाल न की जाए तो यह 32वें सप्ताह में जन्म लेने वाले शिशु के लिए जटिलताएं पैदा कर सकती है।

1. कम वजन

चूंकि शिशु का वजन उस स्तर पर नहीं है जितना होना चाहिए, इसलिए शिशु को ठीक से स्तनपान करवाना बहुत जरूरी होता है ताकि शिशु का वजन बढ़ाया जा सके। इसके अभाव में, यदि शिशु को इन्क्यूबेटर में नहीं रखा जाता है तो शिशु हाइपोथर्मिया से पीड़ित हो सकता है, ऐसा कुछ हफ्ते तक रहेगा जब तक बच्चे का वजन सामान्य नहीं हो जाता है।

2. स्तनपान की समस्या

स्तनपान करवाना मुश्किल हो सकता है, क्योंकि इतने छोटे शिशु स्तन से दूध पीने में सक्षम नहीं होते हैं। कई बार, अविकसित शिशु माँ के दूध को ठीक ढंग से पचाने में विफल होते हैं, जिससे अधिक समस्याएं पैदा हो सकती हैं। ऐसे मामलों में, आहार को नलियों के माध्यम से सीधे शिशु के पेट में पहुँचाया जाता है।

3. मस्तिष्क के विकास संबंधी समस्याएं

क्योंकि शिशु के मस्तिष्क को पूरी तरह से विकसित होने के लिए समय नहीं मिला है इसलिए चीजों को जल्दी सीखने में और व्यवहार संबंधी समस्याएं शिशु में मौजूद हो सकती हैं। गर्भावस्था के 32वें सप्ताह तक, शिशु का मस्तिष्क केवल 66% ही विकास कर पाता है।

4. कमजोर इम्युनिटी

गर्भावस्था के अंतिम चरण में शिशु माँ से अधिक इम्युनिटी प्राप्त करता है । असामयिक जन्म के कारण, शिशुओं की इम्युनिटी इतनी मजबूत नहीं हो पाती है, जिससे वे संक्रमण से लड़ने में असमर्थ होते हैं, विशेषतः जब उनके शरीर में तमाम नलियां और इंजेक्शन लगे हों ।

Newborn baby in incubator

32वें सप्ताह में जन्मे शिशु की देखभाल कैसे करें

बचाव करना ही सबसे बेहतर देखभाल करने का तरीका है शिशु की अच्छे से देखभाल करने से उनके समयपूर्व जन्म की संभावना को कम किया जा सकता है। उचित प्रसव पूर्व देखभाल से, असामयिक जन्म के जोखिमों को कम किया जा सकता है और असामयिक प्रसव पीड़ा को भी रोका जा सकता है।

चूंकि स्तनपान करवाना सबसे जरूरी है, आप शिशु को दूध पिलाने के लिए ब्रेस्ट पंप का इस्तेमाल कर सकती हैं, क्योंकि बच्चे को माँ का दूध मिलना बहुत जरूरी होता है ।

कई लोग आपके शिशु की देखभाल ऐसे करने की सलाह देते हैं जिस तरह से एक कंगारू अपने बच्चे की करती है। इसका मतलब जितना हो सके शिशु के साथ त्वचा से त्वचा संपर्क बनाकर रहें । अपने शिशु को अपने नग्न स्तनों के पास अधिक से अधिक समय तक पकड़ कर रखें, ताकि उसे स्वाभाविक रूप से गर्म और सुरक्षित रखा जा सके।

यह जानते हुए कि आपके समय पूर्व जन्मे शिशु को विकासात्मक विलंब का सामना करना पड़ सकता है, आप ऐसे विशेष कार्यक्रमों की तलाश कर सकती हैं जो आपके शिशु को सही तरीके से चीजें सीखने और जल्द से जल्द परिपक्व होने में मदद करे ।

32वें सप्ताह में जन्मे शिशुओं के जीवित बचने की दर क्या है

7वें माह में जन्म लेने वाले अधिकांश शिशुओं के लिए सामान्यतः जीवन रक्षा दर काफी अधिक होती है। मेडिकल साइंस और टेक्नोलॉजी  में हुई उन्नति के कारण शिशु मृत्यु दर बहुत कम हो जाती है। यह सुनिश्चित करता है कि आपका शिशु स्वस्थ रूप से विकास करे।

32वें सप्ताह में जन्मा शिशु एन.आई.सी.यू. में कब तक रहता है

यदि आपका शिशु समय से पहले पैदा हुआ है या आपकी गर्भावस्था के 32वें सप्ताह में पैदा हुआ है, तो आप सोच रही होंगी कि आपको कितने समय तक अस्पताल में रहना होगा। हो सकता आप अपने शिशु को अपने घर ले जाना चाहें और उसे बेहतर सुरक्षा देने की कोशिश करें । आपका प्रीमैच्योर शिशु एक पूर्ण विकसित नवजात जैसा लग सकता है, लेकिन आंतरिक रूप से, उसे अभी उस स्तर तक पहुँचना है जहाँ वह खुद को जीवित रखने में सक्षम हो ।

सबसे पहले, आपके शिशु को संक्रमण से सफलतापूर्वक लड़ने के लिए मजबूत इम्युनिटी की आवश्यकता होती है। शिशु को उतनी ताकत की जरूरत होती है जिसमें वह माँ का दूध पीने में सक्षम हो ताकि उनके शरीर को भोजन पहुँचाने वाली नलिकाओं को हटाया जा सके और आपका शिशु स्वाभाविक रूप से स्तनपान कर सके।

डॉक्टर शिशु को एन.आई.सी.यू. से निकालकर आपके सुपुर्द करें, वे जांच करेंगे कि क्या शिशु बिना किसी बाहरी सहायता के स्तनपान करने, सांस लेने और गर्म रहने के सभी विकासक्रमों को प्राप्त कर चुका है। ये सभी प्रमुख विकासक्रम शिशु के जीवन के लिए बहुत महत्वपूर्ण हैं।

32वें सप्ताह में शिशु का जन्म आपके लिए काफी हतोत्साहित हो सकता है। फिर भी शिशु की सुरक्षा के लिए बताए गए तमाम तरीकों को आजमाकर उन्हें एक सुरक्षित वातावरण में विकसित होने दें। यदि शिशु की अच्छे से देखभाल की जाए तो आप उसे जल्दी ही अपने साथ घर ला सकती हैं जैसे कि और दूसरे बच्चों को लाया जाता है ।