मूत्र गर्भावस्था परीक्षण – घर और क्लिनिक पर

मूत्र गर्भावस्था परीक्षण - घर और क्लिनिक पर

Last Updated On

जो महिलाएं गर्भधारण करने की कोशिश कर रही हैं, वे अक्सर मूत्र परीक्षण पर भरोसा करती होंगी ताकि पता लगाया जा सके कि क्या उन्होंने सफलतापूर्वक गर्भधारण किया है या नहीं। जबकि रक्त परीक्षण अधिक सटीक परिणाम दे सकता है, मूत्र परीक्षण अधिक सस्ता, सुविधाजनक और गोपनीयता की रक्षा करता है (और इस परीक्षण को घर पर भी किया जा सकता है)। यही कारण है कि मूत्र से गर्भावस्था का परीक्षण, रक्त परीक्षणों की तुलना में अधिक प्रचलित है।

घर पर ही गर्भावस्था के दौरान मूत्र परीक्षण

घर पर ही मूत्र गर्भावस्था परीक्षण इस तथ्य पर आधारित होता है कि गर्भवती महिला में विकसित होने वाला अपरा एच.सी.जी. (मानव कोरियॉनिक गोनाडोट्रोपिन) नामक हॉर्मोन बनाता है जिसे गर्भावस्था हॉर्मोन भी कहा जाता है। यदि सही समय पर और सही तरीके से किया गया हो, तो घर में किया जाने वाला गर्भावस्था का परीक्षण मूत्र में इस हॉर्मोन की उपस्थिति का पता लगा सकता है, जिससे गर्भावस्था की पुष्टि होती है।

गर्भावस्था के दौरान मूत्र परिक्षण कब किया जाता है?

हो सकता है आप यह समझ न पाएं कि मूत्र गर्भावस्था परीक्षण कब करना है। डॉक्टर आमतौर पर मासिक धर्म न होने के बाद इस परीक्षण को करने से पहले लगभग दो सप्ताह की प्रतीक्षा अवधि की सलाह देते हैं। हालांकि, कुछ परीक्षण दूसरों की तुलना में अधिक शक्तिशाली होते हैं और इनमें दो सप्ताह की प्रतीक्षा अवधि की आवश्यकता नहीं भी हो सकती है।

यह परीक्षण क्या दिखाता है?

परीक्षण एक महिला के मूत्र में गर्भावस्था हॉर्मोन, ह्यूमन कोरियॉनिक गोनाडोट्रोपिन (एचसीजी) की उपस्थिति की पुष्टि करता है। यह परीक्षण गुणात्मक होता है और मूत्र में हॉर्मोन की मात्रा को इंगित नहीं करता है जो केवल रक्त परीक्षण द्वारा निर्धारित किया जा सकता है। मूत्र में हॉर्मोन एच.सी.जी. का होना गर्भावस्था का एक सकारात्मक संकेत है।

गर्भावस्था के दौरान सटीक परिक्षण के लिए निम्नलिखित चरण का अनुसरण करें

सुबह के मूत्र का उपयोग करके परीक्षण करें

अधिकांश घरेलू मूत्र परीक्षण किट विस्तृत निर्देशों के साथ आते हैं, कृपया सटीक नतीजे प्राप्त करने के लिए निर्देशों का सावधानीपूर्वक पालन करें, इसके निम्नलिखित चरण कुछ इस प्रकार हैं:

  1. मासिक धर्म रुकने की तिथि का हिसाब लगाएं: पिछले मासिक धर्म के पहले दिन का ध्यान रखें। उस दिन से, 28 या 35 दिनों (आपकी सामान्य चक्र अवधि के आधार पर) की गणना करें। परिणामी तिथि वह संभावित तिथि है जब आपका मासिक धर्म शुरू हुआ था, यह आपके मासिक धर्म के रुकने की तिथि है।
  2. जानिए कब करें परीक्षण: अपने मासिक धर्म की तारीख निकलने से 2 सप्ताह आगे की गणना करें। यह वह दिन होना चाहिए जब आप परीक्षण करेंगी। याद रखें कि समय से पहले परीक्षण करने से गलत या नकारात्मक परीक्षण भी हो सकता है।
  3. सही परीक्षण का चयन करें: उस घरेलू गर्भावस्था परीक्षण का चयन करें जो सबसे प्रसिद्ध है। इसके अलावा, खरीदते समय होम प्रेगनेंसी यूरिन टेस्ट किट की एक्सपायरी तारीख ज़रूर देखें। उत्पादन की तारीख जितनी नई होगी, परिणाम उतने ही सटीक होंगे। किसी भी प्रकार की टूट-फूट के लिए गर्भावस्था किट की जाँच करें।
  4. किट खोलते समय ध्यान रखें: ख्याल रहे, परीक्षण किट खोलते समय संवेदनशील सक्रियण टैब को न, छुएं दस्ताने पहनना एक अच्छा विकल्प हो सकता है।
  5. सुबह के मूत्र का उपयोग करके परीक्षण करें: परीक्षण के लिए सुबह के मूत्र का उपयोग करने से सही परिणाम मिलने की अधिक संभावना है। दिन का पहला मूत्र जो सुबह का मूत्र होता है, वह अधिक सांद्र होता है और उसमें हॉर्मोन एच.सी.जी. के उच्च स्तर की संभावना भी होती है।
  6. स्ट्रीम परीक्षण या डिप परीक्षण: कुछ परीक्षणों में कुछ सेकंड तक मूत्र की धारा के नीचे गर्भावस्था परीक्षण की किट को रखा जा सकता है जब तक कि वह पूरी तरह से भीग न लाए। कुछ मूत्र परीक्षण में एक कप में मूत्र के नमूने को इकट्ठा करने और मूत्र में किट के सक्रियण वाले छोर को डुबोने की आवश्यकता हो सकती है, अन्य परीक्षणों में एकत्रित मूत्र की कुछ बूँदें डालने के लिए ड्रॉपर दिया जा सकता हैं।
  7. समय की विभिन्न आवश्यकताएं: गर्भावस्था परीक्षण किट के विभिन्न ब्रांडों में परिणाम देखने की प्रतीक्षा अवधि या परिणामों को परिभाषित करने के लिए इस्तेमाल किए गए प्रतीकों पर अलग-अलग विनिर्देश हो सकते हैं। परिणामों को बेहतर ढंग से समझने के लिए निर्देशों को अच्छे से पढ़ें और समझें । लिखे हुए से अधिक समय के बाद परीक्षण के परिणाम पढ़ने से सटीक परिणाम नहीं भी मिल सकते हैं क्योंकि यह एक गलत सकारात्मक वाष्पीकरण की रेखा उत्पन्न कर सकता है।
  8. सकारात्मक/नकारात्मक: अधिकांश गर्भावस्था परीक्षण इन दिनों डिजिटल की मदद से होते हैं और परिणाम को सकारात्मक और नकारात्मक रूप में इंगित करते हैं जिससे परीक्षण के परिणाम में गलतियाँ कम होने की संभावना होती है। यदि परीक्षण परिणाम एक धुँधली रेखा का प्रदर्शन कर रहा है, तो लगभग 2 दिनों के बाद अगली सुबह सबसे पहले मूत्र के साथ फिर से परीक्षण करना बुद्धिमानी होती है।
  9. रक्त परीक्षण करवाकर मान्य करें: आप एक क्लिनिक में रक्त परीक्षण करवा कर घरेलू गर्भावस्था परीक्षण के सकारात्मक परिणाम को सत्यापित करने की इच्छा कर सकते हैं। रक्त परीक्षण का एक अतिरिक्त लाभ यह है कि यदि परीक्षण सकारात्मक हो तो यह आपको भ्रूण की गर्भकालीन आयु के बारे में भी बता सकता है। यदि गर्भावस्था परीक्षण का परिणाम नकारात्मक है, लेकिन आपका मासिक धर्म एक सप्ताह के भीतर शुरू नहीं होता हैं, तो रक्त परीक्षण कराने से गर्भावस्था की संभावना को समाप्त करने में मदद कर सकता है।
  10. मानसिक रूप से खुद को तैयार करें: गर्भावस्था के लिए परीक्षण कई मिश्रित भावनाओं को प्रेरित कर सकता है। पहली बार करने वाले के बेचैन होने की संभावना है जबकि यदि परीक्षण के परिणाम अपेक्षित नहीं हैं तो कोई निराश भी हो सकता है। ऐसे समय में अपने आप को मानसिक रूप से तैयार करना और अपने साथी व परिवार का समर्थन हासिल करना महत्वपूर्ण साबित हो सकता है।

गर्भावस्था के दौरान मूत्र परीक्षण के परिणाम का क्या मतलब है

यह जानना ज़रूरी है कि गर्भावस्था के मूत्र परीक्षण के परिणामों को ठीक से कैसे पढ़ें।

  • अगर गर्भावस्था के मूत्र परीक्षण सकारात्मक हैं
    हालांकि विभिन्न ब्रांडों में विविध प्रकार के प्रतीक हो सकते हैं, जैसे दूसरी पंक्ति की उपस्थिति, हालांकि, गर्भावस्था परीक्षण की किट पर यह पंक्ति जितनी भी धुँधली हो (पहली पंक्ति दिखाई देने के बाद) वह इंगित करती है कि परिणाम सकारात्मक है। यदि आप महसूस करती हैं कि लाइन बहुत धुँधली है और इसे निर्णायक नहीं माना जा सकता है तो आप अगली सुबह फिर से परिक्षण कर सकती हैं।आप चाहें तो चिकित्सक से सम्पर्क भी कर सकती हैं। मूत्र परीक्षण के परिणामों को सत्यापित करने के लिए डॉक्टर रक्त परीक्षण का सुझाव दे सकता है।
  • यदि गर्भावस्था के दौरान मूत्र परीक्षण नकारात्मक है
    अगर आपके मसिक धर्म के न होने के बावजूद मूत्र गर्भावस्था परीक्षण नकारात्मक है तो कुछ समय के लिए रुकना और फिर से परीक्षण करना बेहतर है। कई बार, डिंबक्षरण की तिथि की गलत गणना या निर्धारित तिथि से पहले परिक्षण करने के कारण एक गलत व नकारात्मक परिणाम दिखाई दे सकता है।

क्या गर्भावस्था के दौरान घरेलू परीक्षण 100% सटीक होते हैं?

क्या गर्भावस्था के दौरान घरेलू परीक्षण 100% सटीक होते हैं?

आमतौर पर, मूत्र गर्भावस्था परीक्षण की सटीकता संदिग्ध नहीं है, फिर भी घरेलू गर्भावस्था परीक्षण 100% सटीक नहीं होते हैं । यदि वे सही ढंग से और आपके मासिक धर्म के बंद होने के दिन के बाद सही समय पर किया गया हो तो वे 99% सटीक होने का दावा करते हैं। घरेलू गर्भावस्था परीक्षणों की सटीकता इस बात पर निर्भर करती है कि उल्लिखित निर्देशों का कितना सावधानीपूर्वक और व्यवस्थित रूप से पालन किया जा रहा है। लेकिन मानवीय भूल की संभावना हमेशा रहती है जो इन परीक्षणों की 100% सटीकता पर प्रश्न चिन्ह लगा सकती है।

गलत सकारात्मक परिणाम के कारण

गलत सकारात्मक परिणाम के कुछ कारण हो सकते हैं, वे इस प्रकार हैं:

  • शुरुआती गर्भपात: एक शुरुआती गर्भपात के मामले में जहाँ किसी महिला ने गर्भधारण किया हो लेकिन इसके तुरंत बाद अपने बच्चे को खो देना एक गलत सकारात्मक परिणाम का कारण हो सकता है।
  • विलंबित प्रतिक्रिया समय: कभी-कभी अनुशंसित समय के बाद परिणामों की व्याख्या करना गलत परिणाम दे सकता है। बहुत देर के बाद परिणाम पढ़ना एक गलत सकारात्मक परिणाम का कारण बन सकता है।
  • दवायें: कुछ मामलों में, प्रजनन क्षमता के लिए कुछ इलाज़ करवा रही महिलाओं में एच.सी.जी. के अतिरिक्त शॉट शामिल होते हैं जो परिणामों को भ्रमित कर सकते हैं। गर्भावस्था परीक्षण करने से पहले किसी भी एच.सी.जी. शॉट के प्रभाव को साफ करने के लिए आपके सिस्टम को पर्याप्त समय देना महत्वपूर्ण होता है।
  • वाष्पीकरण रेखा: कभी-कभी किट पर एक अलग रंग की भ्रामक रेखा दिखाई दे सकती है। यह काफी हद तक सकारात्मक रेखा की तरह लग सकती है जिसके परिणामस्वरूप गलत सकारात्मक परिणाम मिल सकता है।

नकारात्मक परिणाम के कारण

नकारात्मक परिणाम के संभावित कारण निम्न हो सकते हैं:

  • जल्दबाजी में परीक्षण: गर्भावस्था के परिक्षण को जल्दबाज़ी में लेना या मासिक धर्म रुकने के तुरंत बाद इसे करना एक गलत नकारात्मक परिणाम का कारण बनने की संभावना हो सकती है।
  • कम संवेदनशीलता: संभावना है कि गर्भावस्था परीक्षण पट्टी की संवेदनशीलता कम हो, जिसके कारण यह एच.सी.जी. के स्तर को महसूस करते समय गलती कर सकती है। कम संवेदनशीलता एक उत्पादन की त्रुटि होने के कारण हो सकती है।
  • जलमिश्रीत मूत्र: यदि आप परीक्षण के लिए मूत्र के एक जलमिश्रीत नमूने का उपयोग करती हैं, तो यह अस्पष्ट या गलत नकारात्मक परिणाम की संभावना को बढ़ा सकता है।

स्त्री रोग विशेषज्ञ के क्लिनिक में मूत्र परीक्षण

चिकित्सक के लिए गर्भावस्था में मूत्र के परिक्षण की सलाह देना आम बात है। प्रसव के पूर्व, डॉक्टर के पास पहली बार जाने के समय, घरेलू गर्भावस्था परीक्षण के परिणामों को प्रमाणित करने और किसी संभावित विसंगतियों का पता लगाने के लिए मूत्र परीक्षण किया जा सकता है। आपको अपनी बाद की प्रसवपूर्व, चिकित्सक से मुलाकातों के दौरान समय-समय पर मूत्र परीक्षण कराने की आवश्यकता हो सकती है।

क्लिनिक में मूत्र परीक्षण क्यों किया जाता है?

एक नैदानिक मूत्र परीक्षण आमतौर पर किया जाता है:

  • यकृत की समस्याओं और मधुमेह जैसे कुछ विकारों की संभावना को दूर करने के लिए, चिकित्सक द्वारा नियमित गर्भावस्था जाँच के रूप में आपके मूत्र परीक्षण की सलाह दी जा सकती है।
  • पेशाब के समय पेट में दर्द, पीठ दर्द, योनि में दर्द व जलन जैसी समस्याओं का संभावित कारण जानने के लिए और आपकी चिकित्सा स्थिति का निर्धारण करने के लिए मूत्र परीक्षण की आवश्यकता हो सकती है।
  • मूत्र संबंधी विकारों या किडनी से संबंधित अन्य अनियमितताओं पर निगरानी रखने के लिए मूत्र विश्लेषण को नियमित उपचार के हिस्से के रूप में किया जा सकता है।

नैदानिक मूत्र परिक्षण का आँकलन कैसे किया जाता है?

मूत्र परिक्षण करवाने वाली महिला को यह जानने की इच्छा हो सकती है कि क्या यूरिन प्रेगनेंसी टेस्ट गलत हो सकता है। उत्तर यह है कि इसकी बहुत कम संभावना है। गर्भावस्था के लिए एक मूत्र परीक्षण रिपोर्ट आमतौर पर तीन तरीकों से सावधानीपूर्वक मूल्यांकन के बाद तैयार की जाती है:

  • देखकर परिक्षण: पैथोलॉजिस्ट आपके मूत्र के रंग की जाँच कर सकता है कि वह धुंधला है या साफ। कोई भी अपरिचित गंध या असामान्य रंग संक्रमण का संकेत हो सकता है। कई बार, रहूबार्ब या बीट जैसे खाद्य पदार्थों का सेवन आपके मूत्र के रंग को प्रभावित कर लाल रंगत दे सकता है।
  • डिपस्टिक टेस्ट: डिपस्टिक्स,पतली प्लास्टिक पट्टियाँ होती हैं जिन्हें पी.एच. अम्लता, शर्करा की मात्रा, कीटोन्स, प्रोटीन के स्तर, बिलीरुबिन, रक्त की उपस्थिति जैसे कुछ संकेतों का मूल्यांकन करने के लिए मूत्र के एक नमूने में डुबोई जा सकती हैं।
  • सूक्ष्मदर्शी उपकरण द्वारा परीक्षण: किसी भी संभावित अनियमितताओं को निर्धारित करने के लिए लाल रक्त कोशिकाओं, कास्ट-ट्यूब-आकार के प्रोटीन, सफेद रक्त कोशिकाओं, खमीर या बैक्टीरिया, क्रिस्टल के होने का आँकलन करने के लिए एक माइक्रोस्कोप के माध्यम से मूत्र का नमूना देखा जा सकता है।

घर पर किए गए गर्भावस्था के दौरान मूत्र परीक्षण के सही परिणाम को प्रभावित करने वाले कई मुद्दे हो सकते हैं। तो, गर्भवती महिलाओं को किसी भी गलत सकारात्मक या नकारात्मक परिणामों को रोकने के लिए, घर पर मूत्र गर्भावस्था परीक्षण को निष्पादित करने के सर्वोत्तम तरीके और समय को समझने की आवश्यकता है। घरेलू गर्भावस्था परीक्षण के परिणाम को प्रमाणित करने के लिए इसके बाद एक नैदानिक मूत्र परीक्षण किया जा सकता है।