बड़े बच्चे (5-8 वर्ष)

बच्चों में इमोशनल इंटेलिजेंस (ईक्यू) विकसित करने के 14 टिप्स

जैसे-जैसे बच्चा बड़ा हो रहा होता है, माता-पिता और स्कूल का पूरा ध्यान मुख्य रूप से यह सुनिश्चित करने पर लग जाता है कि वह विज्ञान, गणित, भाषा और किसी भी अन्य गतिविधियों में अच्छा प्रदर्शन करे जो पाठ्यक्रम का हिस्सा हैं, लेकिन वे उसके जीवन के सभी पहलुओं में अच्छा करने के बारे में नहीं सोचते हैं। छोटे बच्चों में भावनात्मक बुद्धिमत्ता उन्हें उस व्यक्ति के रूप में ढालने में महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है जो वे बड़े होकर बनेंगे। आपके बच्चे के आपके गुस्से को समझने के संकेत, जब वह अच्छा प्रदर्शन नहीं करता है या अपने पालतू जानवर को खोने पर उसके दोस्त की उदासी आदि ऐसे संकेत हैं जिनके बारे में आपको जागरूक होने की जरूरत है, जो भावनात्मक बुद्धिमत्ता के उच्च कोशंट की उपस्थिति का संकेत देते हैं।

भावनात्मक बुद्धिमत्ता (इमोशनल इंटेलिजेंस) क्या होती है?

सरल शब्दों में, किसी व्यक्ति का अपने साथ-साथ दूसरों की भावनाओं को भी समझने की क्षमता भावनात्मक बुद्धिमत्ता कहलाती है। उच्च भावनात्मक बुद्धिमत्ता वाले लोग यह देखने में माहिर होते हैं कि भावनाएं दूसरों को कैसे प्रभावित करती हैं और उनके कार्यों के पीछे की प्रेरणाओं को समझते हैं। भावनात्मक बुद्धिमत्ता को ईक्यू से मापा जाता है, जो आईक्यू से अलग होता है। एक ईक्यू जीवन के कई पहलुओं को समझने का एक उपाय है।

बच्चों के लिए भावनात्मक बुद्धिमत्ता का महत्व

भावनात्मक बुद्धिमत्ता यह स्थापित करने में एक महत्वपूर्ण भूमिका निभाती है कि एक बच्चा अपने जीवन में कितना संतुलित होगा और विभिन्न सामाजिक स्थितियों में विभिन्न भावनात्मक स्तर पर लोगों के साथ बातचीत में शामिल हो सकेगा।

1. स्वयं के बारे में जागरूकता

उच्च भावनात्मक बुद्धिमत्ता होने से बच्चे को अपनी भावनाओं को समझने में मदद मिलती है। जिससे उसे यह अच्छी तरह से समझ आने लगता है कि वो किसी विशेष भावना या अनुभूति को क्यों महसूस कर रहा है। वो यह भी समझ सकता है कि उसे कोई काम करने का मन क्यों कर रहा है और वह भावना कहाँ से उत्पन्न हो रही है। यह आत्म-जागरूकता यह समझने के लिए जरूरी है कि खुद की ताकत और कमजोरियां क्या हैं।

2. स्वयं के कामों को रेगुलेट करना

इसकी अच्छी समझ विकसित करने के बाद कि एक बच्चा क्यों महसूस करता है कि वह क्या करता है, अच्छी भावनात्मक बुद्धि वाला बच्चा अपने कार्यों को सुधारने के लिए प्रयास कर सकता है और यह सुनिश्चित कर सकता है कि किसी भी आवेग में आकर खुद को या दूसरों को नुकसान पहुंचाना नहीं चाहिए। वह उन भावनाओं के साथ तर्क कर सकता है और समझ सकता है कि उस भावना की वजह से कोई नुकसानदायक काम करने की जरूरत नहीं है।

3. दूसरों के साथ सहानुभूति रखना

केवल वही व्यक्ति जो स्वयं को अच्छी तरह समझ सकता है, दूसरों के साथ पूरी तरह और सफलतापूर्वक सहानुभूति रख सकता है। ऐसा इसलिए होता है क्योंकि वह भावनाओं को गहराई से समझता है। जो बच्चे अपने भावनात्मक पक्ष से जुड़ सकते हैं और उसका अच्छी तरह से उपयोग कर सकते हैं, वो समान स्थिति में दूसरों के साथ सहानुभूति रख सकते हैं और उनकी दुर्दशा को बेहतर ढंग से समझ सकते हैं।

4. बेहतर सामाजिक व्यवहार

लोगों के साथ बातचीत करना और अच्छे संबंध बनाना प्रत्येक व्यक्ति के विभिन्न प्रकार के भावनात्मक रूपों और बनावटी लोगों की पहचान करने का मामला है। उच्च भावनात्मक बुद्धिमत्ता वाले बच्चे बड़े होकर ऐसे लोग बन सकते हैं जो आसानी से दूसरों से जुड़ सकते हैं और मजबूत सामाजिक व्यक्ति बनकर अपनी पहचान बना सकते हैं।

एक बच्चे में भावनात्मक बुद्धिमत्ता कैसे विकसित करें?

बच्चों के लिए भावनात्मक बुद्धिमत्ता वाली कई गतिविधियां हैं जिन्हें अपनाकर आप बेहतर व्यक्ति बनने के रास्ते पर चलना शुरु कर सकते हैं, जिससे आपके पास एक अच्छी भावनात्मक उपलब्धि होगी।

1. क्रोध के क्षण में शांत रहना सीखना

अगर आप एक बुरे दिन के बाद घर लौटते हैं और कोई बात या चीज आपको परेशान कर रही है, तो ऐसे में आप शांत रहते हुए कह सकते हैं कि आप अच्छे मूड में नहीं हैं और दूसरों को सुनने से पहले आराम करने और पूरी तरह से शांत होने के लिए कुछ समय चाहिए। इससे परिवार के सदस्यों को भी स्थिति को समझने में मदद मिलती है।

2. अपनी भावनाओं को बताना

अपने बच्चे को अपनी भावनाओं को व्यक्त करने के लिए खुला रहना या बेझिझक व्यक्त करना सिखाएं, ऐसे में घर उसके लिए एक सुरक्षित वातावरण वाली जगह बन सकेगा। उसे यह भी बताएं कि वो भावनाओं को ठीक तरह से समझने के लिए कभी-कभी रो या किसी बात से नाराज भी हो सकता है और बात करना, शेयर करना किसी भी स्थिति को हल करने का सबसे पहला कदम होता है।

3. अच्छे प्रदर्शन को प्रोत्साहित करें

बच्चे अपने आवेगों और भावनाओं को आसानी से नियंत्रित नहीं कर पाते हैं। उदाहरण के लिए, अगर आपके बच्चे को चीजों को इधर-उधर फेंकने की आदत है, और एक दिन, उसकी जगह, वो स्पष्ट रूप से कहता है कि वह गुस्से में है, उसे गले लगाएं और बताएं कि आपको इस बात पर गर्व है कि उसने बात की और इसकी जगह कोई गलत कदम नहीं उठाया, उसके गुस्से को बातों से दूर करें।

4. जीत और हार के बिना रहना

अपने बच्चे को जीवन में जल्दी ही यह सिखाएं कि हर फैसला जीत या हार से जुड़ा नहीं होता है। हमेशा कुछ ऐसे समाधान भी हो सकते हैं जो एक जीत से ज्यादा अहमियत रख सकते हैं। उन्हें समझौते की अवधारणा सिखाएं, जिसे स्पष्ट, शांत बातचीत से ही स्थापित होने के बाद ही शुरू किया जा सकता है।

5. उसकी प्रेरणा को पहचानें

अपने बच्चे को देखें और पता करें कि ऐसा क्या है जो उसे आगे बढ़ने के लिए प्रेरित करता है। इस संबंध में काम करने वाले पहलुओं पर ध्यान केंद्रित करके उन पंक्तियों पर उससे बात करें। आप उसे इस बात से अवगत करा सकती हैं कि असफलता के बावजूद प्रयास करते रहना अच्छा होता है और उसे अपनी भावनाओं का उपयोग उन लक्ष्यों को प्राप्त करने में मदद करने के लिए करना चाहिए, जिनके लिए उसने अपना दिमाग लगाया है।

6. सकारात्मकता सिखाएं

आप बच्चे को प्रोत्साहित करने के लिए हमेशा मौजूद नहीं रहेंगे, और उसे स्वतंत्र रूप से भी काम करना शुरू करना होगा। उसे यह समझने दें कि वह अपनी भावनाओं को बेहतर ढंग से संभालने के लिए सकारात्मक आत्म-चर्चा का उपयोग कर सकता है और खुद को पूरे समय केंद्रित और प्रेरित रख सकता है।

7. समस्या के समाधान पर ध्यान देना

जब बाधाओं और समस्याओं का सामना करना पड़ता है, तो कृपया अपने बच्चे को यह समझने में मदद करें कि समस्या को समझने के लिए ,उसे छोटे छोटे हिस्सों में बांटना बेहतर होता है, बजाय इसके कि इसे लेकर दुखी हुआ जाए और चिड़चिड़ाहट दिखाई जाए। प्रॉब्लम-सॉल्विंग स्किल से जीवन में बहुत आगे बढ़ा जा सकता है।

8. भावनाओं को संभालने के लिए बेहतर तरीके

निराशा और क्रोध का अनुभव होना स्वाभाविक है। लेकिन इसे सही तरीके से संभालना भी जरूरी है। अपने बच्चे को एक बॉक्सिंग बैग उपहार में देकर उसे फिजिकल एक्टिविटीज में शामिल करने का प्रयास करें जो उसके गुस्से को दूर करने में मदद कर सकती हैं। इस तरह सरल और स्पष्ट तरीके से क्रोध का उपयोग करके उसे सकारात्मक रूप में बदलना बेहतर होगा।

9. खुद को शांत करना

अपने बच्चे को आवेगपूर्ण क्रिया को रोकने के तरीके सिखाएं, जैसे कि गहरी सांस लेना, धीरे-धीरे 10 तक गिनना ईश्वर का नाम लेना, या थोड़ा पानी पीना। इस तरह की कई तकनीकें व्यक्ति को तुरंत शांत करने में कारगर होती हैं।

10. उसे तनाव के प्रति जागरूक करें

किसी समस्या को हल करने से उसे रोकना बेहतर होता है। इसलिए, अपने बच्चे को उन स्थितियों या ट्रिगर से अवगत होना सिखाएं जो उसमें तनाव पैदा कर सकते हैं। इन्हें जानने से इनसे बचने के लिए सही उपाय किए जा सकते हैं या अपनी भावनाओं के आगे आत्मसमर्पण किए बिना उनका सामना करने के लिए तैयार हुआ जा सकता है।

11. दूसरों की भावनाओं को समझना

लोगों के चेहरे के भावों और विभिन्न मौखिक और गैर-मौखिक संकेतों को पढ़ना सीखना बहस के दौरान आने वाले तर्क को समझकर शांत करने या किसी मुसीबत में किसी को समर्थन देने का एक अच्छा तरीका है। अपने बच्चे को दूसरों के साथ होने वाले विभिन्न संकेतों से अवगत होना सिखाएं।

12. खुलकर बात करने के लिए तैयार रहना

अपने बच्चे की किसी भी चीज के बारे में आपसे बात करने के लिए सहज बनाएं जिससे वो कुछ गलत होने पर उसे सामना करना पड़ सकता है। ऐसे में कोई बात गलत होने पर भी बच्चा आप पर भरोसा कर सके, इसके लिए उसके साथ खुला संवाद रखना बेहद जरूरी है।

13. भावनाओं को लेबल करना

कभी-कभी, यह समझने के लिए स्थिति काफी जटिल हो सकती है कि आपका बच्चा वास्तव में क्या महसूस कर रहा होगा। ऐसे मामलों में, उसे भावनाओं को सरल शब्दों में लेबल करने में मदद करने से न केवल आपके लिए चीजें साफ हो सकती हैं बल्कि उसे यह समझने में भी मदद मिल सकती है कि वह क्या महसूस कर रहा है।

14. बच्चे को खुद को स्वीकार करना सिखाएं

हर बच्चा एक जैसा नहीं होता। कुछ संवेदनशील होते हैं, और कुछ को क्रोध की समस्या होती है। अपने बच्चे को बात करके समझाएं कि आप उसकी भावनाओं से अवगत हैं और इसमें उसकी मदद भी कर सकते हैं। स्वीकृति स्थिति को और खराब होने से रोक सकती है।

सीखने और ध्यान देने संबंधी समस्या वाले बच्चों के लिए ईआई क्यों महत्वपूर्ण है?

बच्चों के लिए भावनात्मक बुद्धिमत्ता बहुत आवश्यक है, खासकर उन बच्चों के लिए जिन्हें सीखने और ध्यान देने में समस्या होती है। इन बच्चों में कठिनाई की एक अतिरिक्त डिग्री होती है क्योंकि उन्हें अपने साथियों को विभिन्न गतिविधियों को करते हुए देखकर प्रतिदिन निराशा का सामना करना पड़ता है, जबकि वो ऐसा महसूस नहीं करना चाहते।

अक्सर, भावनात्मक बुद्धिमत्ता एक निराशाजनक स्थिति के परिणाम को गुस्से से भरे, रोने या निराशाजनक दिन से बचाने के लिए बच्चे और परिवार के लिए आपसी बातचीत, और विकास से भरे दिन में बदल सकती है।

कुछ बच्चे अक्सर भावनात्मक बुद्धिमत्ता के साथ संघर्ष क्यों करते हैं?

सीखने में समस्या वाले सभी बच्चे भावनात्मक बुद्धि के साथ संघर्ष नहीं करते हैं। लेकिन कुछ मामलों में उल्टा हो सकता है जहां कम ईक्यू वाला एक व्यावहारिक बच्चा समस्या की उपस्थिति का संकेत दे सकता है। एडीएचडी पीड़ित बच्चे, सुनने की समस्या वाले बच्चे, और कई दूसरे बच्चे सामाजिक संकेतों की गलत व्याख्या या उपेक्षा कर सकते हैं।

इसके विपरीत, ऐसे मामले सामने आए हैं जहां व्यवहार संबंधी समस्याओं वाले बच्चों ने आश्चर्यजनक रूप से शानदार भावनात्मक बुद्धिमत्ता दिखाई है, जिसमें दूसरों को समझने और सहानुभूति रखने की बड़ी क्षमता होती है। बच्चों में भावनात्मक संतुलन एक बच्चे से युवा व्यक्ति तक उनकी वृद्धि और विकास का एक महत्वपूर्ण संकेत माना जाता है। हालांकि कई लोग इसे स्कूलों में सिखाया जाना जरूरी नहीं मानेंगे, लेकिन माता-पिता को इसके बारे में पता होना चाहिए और उन्हें अपने बच्चे के व्यवहार पर ध्यान रखना चाहिए। उन्हें खुद को और दूसरों को बेहतर तरीके से समझने में मदद करने के लिए मिलकर काम करना चाहिए।

एक भावनात्मक रूप से बुद्धिमान बच्चा बड़ा होकर भविष्य में एक बेहतर व्यक्ति बनता है और सभी को पसंद आता है। उसके पास स्वयं की भावना भी है, दूसरों के साथ सहानुभूति है, और सबसे महत्वपूर्ण वह सामाजिक भी है, जो एक बुनियादी लाइफ स्किल है। आपके बच्चे की भावनात्मक बुद्धि पर काम करने के कई अच्छे कारण हैं। अपने नन्हे-मुन्नों को भावनात्मक रूप से बुद्धिमान बनाने और उन्हें दयालु लोगों के रूप में विकसित होते देखने के लिए इन तरीकों को आजमाएं।

हालांकि, भावनात्मक बुद्धिमत्ता के अलावा, आपके बच्चे में अन्य कौशल भी विकसित करना जरूरी है। इंटेलीकिट, कई इंटेलिजेंस थ्योरी पर आधारित मासिक एक्टिविटी बॉक्स है और बच्चों के सर्वांगीण विकास पर फोकस करता है। हर महीने एक अनूठी थीम के आधार पर, गतिविधियों में विभिन्न प्रकार के खेल शामिल होते हैं जो सुनिश्चित करते हैं कि बच्चे को कुछ नया सीखने में मजा आए। ऐसे में उसकी उम्र के मुताबिक एक्टिविटीज के एक बॉक्स के लिए सब्सक्रिप्शन लें, और यह हर महीने आपके दरवाजे पर पहुंचाया जाएगा।

यह भी पढ़ें

बच्चों की याददाश्त बढ़ाने के लिए उपाय
बच्चों में एकाग्रता बढ़ाने के सबसे प्रभावी तरीके
बच्चों का नैतिक विकास – चरण और सिद्धांत

समर नक़वी

Recent Posts

क्या एक्सरसाइज करने से फर्टिलिटी बढ़ती है

जब भी कोई कपल प्रेगनेंसी की प्लानिंग करके अपना परिवार पूरा करना चाहता है, तो…

3 days ago

रक्षाबंधन पर भाई-बहन के लिए स्पेशल कोट्स और मैसेजस

हमेशा टॉम एंड जेरी की तरह लड़ने व एक दूसरे को चिढ़ाने वाले भाई-बहन का…

5 days ago

रक्षाबंधन विशेष: बच्चों के लिए खास पहनावे

हम जानते हैं कि अपने खूबसूरत और प्यारे बच्चों को तरह-तरह के कपड़ों में सजाना…

6 days ago

लजीज पकवान जो रक्षाबंधन को बना सकते हैं और भी खास

त्यौहारों का मौसम है और इस मौसम में परिवार की खुशियाँ अक्सर दोगुनी हो जाया…

6 days ago

बहना ने भाई की कलाई पर प्यार बांधा है

बहन और भाई के बीच प्यार का सबसे बड़ा त्यौहार रक्षाबंधन इस साल 11 अगस्त…

6 days ago

अपने भाई या बहन को डेडिकेट करने के लिए 20 रक्षाबंधन स्पेशल गाने

चाहे भाई-बहन सगे हों या कजिन, राखी उनके बीच की बॉन्डिंग और प्यार को दर्शाने…

6 days ago