शिशु

चौथी तिमाही – आप और आपका बच्चा

गर्भावस्था के तीन ट्राइमेस्टर यानी तिमाहियों के बारे में तो आप जानती ही होंगी, लेकिन क्या आपने कभी चौथी तिमाही के बारे में सुना है? अगर नहीं, तो परेशान न हों, हम आपको इसके बारे में सब कुछ बताएंगे। हर किसी ने चौथी तिमाही के बारे में नहीं सुना होगा, लेकिन प्रत्येक माँ और बच्चा इससे गुजरते हैं। चौथी तिमाही वो अवधि होती है जिसके दौरान एक नई माँ अपनी नई दिनचर्या के साथ एडजस्ट करना सीखती है और नवजात बच्चा भी बाहरी दुनिया के साथ तालमेल बिठाने की कोशिश करता है। 

चौथी तिमाही क्या है?

चौथी तिमाही वह चरण है जो बच्चे के जन्म से शुरू होता है और उसके जन्म के बाद तीन महीनों तक चलता है। गर्भ के अंदर होने वाला विकास उसके लिए काफी चुनौती भरा होता है, जबकि माँ के पेट से बाहर पूरी तरह से एक नई दुनिया में आना नवजात बच्चे के लिए और भी बड़ा होता है।

इस दौरान सभी इंद्रियां अपने चरम पर होती हैं और दृष्टि, ध्वनि, स्पर्श, गंध, और कई अन्य तरीकों से सभी जानकारी प्रवाहित होने लगती है। आपके बच्चे को पहली बार भूख और बेचैनी का अनुभव तब होगा जब वह आपके गर्भ से बाहर निकलेगा और उसे इस बात का अंदाजा नहीं होगा कि इससे कैसे निपटा जाए। गर्भ के अंदर के गर्म और शांत वातावरण की जगह बाहर एक तेज और ठंडा वातावरण होता है, जो बच्चे को काफी परेशान करता है। यह उसके विकास को निर्धारित करने वाली सबसे महत्वपूर्ण बातों में से एक है।

न्यूबॉर्न बेबी के लिए चौथी तिमाही क्यों महत्वपूर्ण है?

बच्चे जन्म के बाद नई दुनिया के साथ तालमेल बिठाने में अपना समय लेते हैं और उनके जन्म के पहले तीन महीने महत्वपूर्ण होते हैं। एक बच्चे के जन्म के समय उसकी इंद्रियां पूरी तरह से विकसित नहीं होती हैं और इंद्रियों को पूरी तरह से विकसित होने में कुछ समय लगता है। सारा समय गर्भ के अंदर बिताने के बाद, ऐसी शायद ही कभी जरूरत थी। आपका बेबी देख सकता है लेकिन बहुत स्पष्ट रूप से नहीं, वह सुनेगा लेकिन एक ध्वनि को दूसरे से अलग करने में उसको मुश्किल होगी, वह स्पर्श को महसूस करता है लेकिन एमनियोटिक द्रव की तुलना में उसे यह काफी खुरदरा और परेशान करने वाला महसूस होगा। बच्चे का दिमाग पूरी तरह से विकसित हो चुका होता है, लेकिन अभी उसमें पूरी तरह से काम करने की क्षमता नहीं होती है। यह उस विकास के साथ समांतर रूप में होता है, जो वह अपने आसपास के वातावरण के साथ एडजस्ट होते हुए कर रहा होता है।

तीन महीने की अवधि में, बच्चे ठीक से सांस लेना और एक लय में जीना सीखना शुरू कर देते हैं। भूख का दर्द और सोने की चाह उन्हें एक तरह के शेड्यूल में ढालना शुरू कर देती है। वह जानना शुरू कर देते हैं कि अटेंशन के लिए कैसे रोना है और खुद से समय बिताना भी सीख जाते हैं। वह अपने जीवन में अन्य लोगों की मौजूदगी को समझते हैं और खास आवाजों और स्मेल को पहचानना शुरू करने लगते हैं।

चौथी तिमाही में बच्चे का विकास

चौथी तिमाही में बच्चे के विकास के दौरान, उसकी हरकतें कई संकेत देती हैं जिन्हें उसके विकास की निगरानी के लिए महत्वपूर्ण माना जाता है और यह बताती हैं कि सब कुछ सही रास्ते पर है या नहीं। 

नींद

एक नवजात बच्चे के लिए नींद सबसे जरूरी एक्टिविटी है क्योंकि उस समय उसका आंतरिक विकास सबसे अधिक होता है। कई बच्चे इस समय के दौरान ज्यादा समय के लिए सोते हैं, जिससे उनके दिमाग में ली गई सभी जानकारी को समझने की अनुमति मिलती है।

इसके आसपास एक रूटीन सेट करने में सामान्य से अधिक समय लग सकता है। आपका बच्चा अभी रोशनी और अंधेरे को समझने की कोशिश कर रहा है और उसे यह समझने में थोड़ा समय लगेगा कि अपने लिए नींद कैसे प्रेरित करें। यही कारण है कि ज्यादातर बच्चे रात भर जागते रहते हैं या दिन में सोने के लिए संघर्ष करते हैं। ऐसा कहा जाता है, इस बात का ध्यान रखना जरूरी है कि उन्हें पर्याप्त नींद मिले, भले ही इसका मतलब यह हो कि आपके बच्चे को सुबह सोते रहने दें। हर बच्चा अलग तरह से व्यवहार करता है और यहीं से माता-पिता अपने बच्चे को भी जानने लगते हैं।

रोना

रोना ही एकमात्र ऐसा तरीका है जिससे एक पैदा हुआ बच्चा किसी भी बात को बता सकता है। ज्यादातर बच्चे एक महीने या उससे अधिक समय तक रोना जारी रखते हैं और बाद में उनका रोना कम हो जाता है क्योंकि वे चीजों पर पकड़ बनाने लगते हैं।

जब भी कोई बच्चा भूख महसूस करता है या खुद को गीला कर देता है या किसी परेशानी का सामना करता है या यहां तक ​​​​कि अकेला, तनावग्रस्त या चिंतित महसूस करता है, तो वह किसी को अपनी परेशानी बताने के लिए रोने लगता है। शुरुआती महीनों में जितनी जल्दी हो सके उसके रोने पर ध्यान देना आवश्यक है क्योंकि आपके बच्चे को हर तरह के सपोर्ट की आवश्यकता होती है। नवजात बच्चों पर बहुत अधिक ध्यान देना खराब नहीं होता है। वास्तव में, उन्हें किसी और से ज्यादा इसकी जरूरत है।

दूध पीना

छोटे बच्चों को हर दो घंटे में दूध पिलाना चाहिए। यदि आपका बेबी भूखा है, तो वह रोता है ताकि आपको पता चल सके कि उसे भूख लगी है।

लेकिन हर समय रोने का मतलब ये नहीं कि उसे भूख लगी है। समय के साथ, रोने का पैटर्न बदलना शुरू हो जाता है और शेड्यूल भी सेट हो जाता है, कभी-कभी यह भूख का संकेत देता है जबकि कई बार गीले डायपर के कारण ऐसा होता है। बच्चे को भूख लगी है इसके बारे में पता लगाने का सबसे अच्छा संकेत उसके मुंह को धीरे से छूना है। ज्यादातर बच्चों में सकिंग रिफ्लेक्स होता है जो उस क्षण को ट्रिगर करता है जब वे अपने मुंह के करीब कुछ पाते हैं। नवजात बच्चों को ठीक से स्तन से दूध पीना सीखना पड़ता है और इससे पहले कि माँ और बच्चे दोनों को कुछ ऐसा मिल जाए, जो उनके लिए कारगर हो, वह कई बार दूध पी सकता है। यह माँ और बच्चे के संबंध को मजबूत बनाने का भी एक अच्छा समय होता है।

सेंसेस (इंद्रियां)

इस दौरान बच्चे की पूरी तरह से विकसित इंद्रियां तेज होने लगती हैं और उनमें सुधार आने लगता है। 

सबसे पहली चीज जिस पर ध्यान दिया जाना चाहिए वह यह है कि बच्चा इस तिमाही के दौरान आपके चेहरे को स्पष्ट रूप से देखना शुरू कर देगा, और आखिर में पूरी स्पष्टता तक पहुंच जाएगा। इसे सुनने की भावना के साथ भी जोड़ा जा सकता है क्योंकि आपके बच्चे की आंखें चारों ओर देखकर आवाज की दिशा का पता लगाने की कोशिश करेंगी। कई तरह की आवाजों को सुनना और विशेष रूप से, माँ की आवाज उसके लिए शांत और सुखदायक होती है। वह तुरंत सुरक्षित और आराम महसूस करता है।

गंध, स्वाद और स्पर्श के साथ, ये भी उतनी ही तेजी से विकसित होते हैं। कई बार दूध पिलाने के बाद, बच्चे को आपके शरीर और स्तन के आसपास के हिस्से की गंध की आदत पड़ने लगती है। यही कारण है कि आधे सोते समय भी, कई बच्चे अपने चेहरे के पास माँ के स्तन को पहचान लेते हैं और दूध पीने के लिए उसे पकड़ लेते हैं। इस लेवल पर त्वचा से त्वचा का संपर्क माँ और बच्चे के रिश्ते को और मजबूत करता है, जिससे अपनापन होने की भावना पैदा होती है।

शारीरिक विकास

न्यूबॉर्न बच्चे न तो बहुत हिल-डुल पाते हैं और न ही खुद को सहारा दे पाते हैं। उनका सभी तरह का मूवमेंट अंग पर आधारित और रिफ्लेक्सिव होता है।

इस तिमाही के दौरान, आप बच्चे को पेट पर अधिक समय बिताने में मदद कर सकती हैं जिससे वह अपनी बाहों का उपयोग खुद को ऊपर उठाने के लिए कर सकता है। यह उसे सीधे आगे की ओर देखने के लिए अपनी गर्दन उठाने में मदद करता है। आगे के विकास के लिए ताकत विकसित करने के लिए इस प्रकार की सभी चीजों को दोहराने और अभ्यास करने की आवश्यकता होती हैं।

चौथी तिमाही के दौरान बच्चे को शांत रखने और संभालने के टिप्स

इस अवधि के दौरान सुरक्षित और आराम महसूस करने के लिए बच्चे को बहुत अधिक समर्थन और प्यार की जरूरत होती है। यह कई सरल तरीकों से हासिल किया जा सकता है।

1. बच्चे को पालने में सोने में मदद करें

आपका बच्चा पालने में सोने का आनंद उठाएगा क्योंकि वह सुखद और आरामदेह महसूस करेगा।

2. बच्चे को ठीक से रैप करें

अपने बच्चे को एक मुलायम कपड़े या रैपर से लपेटने से उसे सुरक्षा की भावना मिलेगी और उसके अंगों की एक्टिविटीज पर नियंत्रण रहेगा।

3. बच्चे को बाहर ले जाएं

बच्चे के माहौल में बदलाव के लिए, बाहर थोड़ी सैर या छोटी कार ड्राइव पर ले जाएं जो उसके लिए कारगर हो सकता है।

4. हमेशा ब्रेस्टफीडिंग का विकल्प चुनें

उसे ब्रेस्टफीडिंग कराने से परहेज न करें और यदि वह मांगे तो उसे तुरंत दूध पिलाएं।

5. एक ही कमरे या एक ही बिस्तर पर सोएं

अपने बेबी का पालना उसी कमरे में रहने दें जिसमें आपका बेड है और उसे ठीक आपके बगल में रखें।

6. बच्चे को अच्छी तरह नहलाएं

सोने से पहले बच्चे को नहलाने से उसे आराम मिलेगा और उसे बेहतर नींद भी मिलेगी।

7. त्वचा से त्वचा के संपर्क को प्रोत्साहित करें

यह बच्चे को बेहतर तरीके से स्तनपान कराने में मदद करता है और माँ के साथ बात करने वाले जरिए को स्थापित करना शुरू कर देता है।

इस तिमाही के दौरान अपना खयाल कैसे रखें

इस दौरान बच्चे के साथ-साथ माँ को भी अपना खयाल रखना जरूरी होता है।

  • इस बात का ध्यान रखें कि आपको पर्याप्त आराम मिले और अपने रिकवरी फेज में खुद को तनाव न दें।
  • ऐसे में मदद मांगने से न डरें और अपने पति के साथ कामों बांट लें।
  • अपने लिए कुछ समय निकालें और अपनी पसंद की एक्टिविटीज करें। कुछ देर बच्चे की चिंता किए बिना किताब पढ़ें या पार्क में टहलें।

चौथी तिमाही में जरूरी इक्विपमेंट

बता दें कि चौथी तिमाही में स्तनपान बच्चे के विकास का मुख्य हिस्सा होता है, इसलिए ब्रेस्टफीड कराने वाली माँ के लिए कुछ अलग प्रकार के इक्विपमेंट (उपकरण) साथ रखना जरूरी है।

  • यदि आपके ब्रेस्ट बड़े और लटके हुए हैं, तो दूध के रिसाव को सोखने में मदद करने के लिए ब्रेस्टफीडिंग पैड का उपयोग करें।
  • ऐसे ब्लाउज या टॉप्स पहनें जिनमें बटन हों या ब्रेस्ट तक आसानी से पहुंचा जा सके।
  • ब्रेस्टफीडिंग ब्रा चुनें जो न केवल आपके स्तनों को सहारा दे बल्कि बच्चे को आसानी से दूध पीने के लिए मददगार हो।
  • सही गर्भनिरोधक के लिए अपनी स्त्री रोग विशेषज्ञ से सलाह लें।

इस तिमाही के दौरान आप क्या सीखती हैं?

चौथा ट्राइमेस्टर बच्चे और माँ दोनों के लिए अलग-अलग तरीकों से सीखने का अनुभव है।

1. स्तनपान कराना आसान नहीं है

जी हाँ, एक बच्चे को दूध पिलाना आसान नहीं है और आपको और आपके बच्चे को ब्रेस्टफीडिंग के साथ सहज होने में कुछ समय लग सकता है। बच्चे की मांग के साथ सही प्रोडक्शन के लिए भी शरीर को समय चाहिए और इसके बारे में बहुत अधिक चिंता करने की जरूरत नहीं है।

2. हार्मोनल परिवर्तन होते रहते हैं

गर्भावस्था की तरह ही शरीर मातृत्व के विभिन्न परिवर्तनों से गुजरता है, जिसके परिणामस्वरूप हार्मोन का लेवल फिर से बदल जाता है। जिसकी वजह से महिलाओं में मूड स्विंग्स होते है और साथ ही पोस्टपार्टम डिप्रेशन भी सामने आता है। इसके प्रति जागरूक होने और अपने हौसले बुलंद रखने की जरूरत है।

3. नींद में कमी आना सच है

आपका बच्चा आपको रात में जगाए रखेगा और हो सकता है कि आपको पर्याप्त नींद न मिले। आपको दिन के समय में सोना सीखना होगा और ध्यान रखना होगा कि आप पर्याप्त आराम भी कर रही हैं।

डिलीवरी के बाद के शुरुआती महीनों में एक नवजात बच्चे को नई दुनिया से परिचित कराया जाता है। साथ ही महिला मातृत्व की जिम्मेदारी भी निभाती है। पर्याप्त समर्थन और प्यार के साथ, दोनों एक-दूसरे के लिए सपोर्ट बनते हैं और इस पूरी जर्नी को खुशी से आगे बढ़ाते हैं।

यह भी पढ़ें:

बेबी ब्लूज से कैसे निपटें
काम जो आपको बच्चे के जन्म के बाद जरूर करने चाहिए
कंगारू मदर केयर (केएमसी) – न्यूबॉर्न बेबी के लिए वरदान

समर नक़वी

Recent Posts

क्या एक्सरसाइज करने से फर्टिलिटी बढ़ती है

जब भी कोई कपल प्रेगनेंसी की प्लानिंग करके अपना परिवार पूरा करना चाहता है, तो…

3 days ago

रक्षाबंधन पर भाई-बहन के लिए स्पेशल कोट्स और मैसेजस

हमेशा टॉम एंड जेरी की तरह लड़ने व एक दूसरे को चिढ़ाने वाले भाई-बहन का…

5 days ago

रक्षाबंधन विशेष: बच्चों के लिए खास पहनावे

हम जानते हैं कि अपने खूबसूरत और प्यारे बच्चों को तरह-तरह के कपड़ों में सजाना…

6 days ago

लजीज पकवान जो रक्षाबंधन को बना सकते हैं और भी खास

त्यौहारों का मौसम है और इस मौसम में परिवार की खुशियाँ अक्सर दोगुनी हो जाया…

6 days ago

बहना ने भाई की कलाई पर प्यार बांधा है

बहन और भाई के बीच प्यार का सबसे बड़ा त्यौहार रक्षाबंधन इस साल 11 अगस्त…

6 days ago

अपने भाई या बहन को डेडिकेट करने के लिए 20 रक्षाबंधन स्पेशल गाने

चाहे भाई-बहन सगे हों या कजिन, राखी उनके बीच की बॉन्डिंग और प्यार को दर्शाने…

6 days ago