अस्थानिक गर्भावस्था – कारण, लक्षण और उपचार

अस्थानिक (एक्टोपिक) या ट्यूबल प्रेगनेंसी

Last Updated On

गर्भावस्था, महिलाओं के जीवन का सबसे खूबसूरत अनुभव होता है और यह अद्भुत उपहार आप और आपके साथी के लिए अत्यधिक आनंददायक है। हालांकि सभी गर्भवती महिलाओं की स्थिति सामान्य नहीं होती है और इसमें से कुछ असफल भी हो जाती हैं। गर्भावस्था के दौरान महिलाओं में कई समस्याएं उत्पन्न हो सकती हैं और समय पर इसका इलाज न करवाने से यह समस्याएं गंभीर रूप ले सकती हैं। गर्भावस्था के दौरान कई समस्याओं में से एक समस्या है अस्थानिक गर्भावस्था, यह दुनियाभर में लगभग 2% गर्भवती महिलाओं में पाया जाता है जिससे उसके स्वास्थ्य का खतरा बढ़ सकता है।

गर्भावस्था के शुरूआती दिनों में अस्थानिक गर्भावस्था सामान्य ही लगती है। लेकिन बढ़ती गर्भावधि के साथ यह दर्दनाक हो जाती है और इसे समाप्त करने की आवश्यकता पड़ सकती है।

अस्थानिक गर्भावस्था क्या है

आमतौर पर गर्भावस्था के दौरान शुक्राणु व डिंब फैलोपियन ट्यूब में निषेचित होते हैं और गर्भाशय के अंदर स्पंजी एंडोमेट्रियल अस्तर में प्रत्यारोपित हो जाते हैं। यह अस्तर गर्भाशय में स्थित डिंब को पोषण प्रदान करता है।

गर्भावस्था के शुरूआती दिनों में यदि शुक्राणु एवं डिंब गलत स्थान पर निषेचित हो जाते हैं तो इसे अस्थानिक गर्भावस्था कहा जाता है। वास्तव में ‘अस्थानिक’ का अर्थ ही ‘गलत जगह पर’ होता है और यह स्थिति फैलोपियन ट्यूब में भी होती है इसलिए इसे ‘ट्यूबल गर्भावस्था’ कहा जाता है। सरल शब्दों में कहा जाए तो गर्भावस्था के दौरान डिंब गर्भाशय के बाहर ही प्रत्यारोपित होने से यह समस्या होती है। अस्थानिक गर्भावस्था, एक गर्भवती महिला के लिए घातक साबित हो सकती है इसलिए गर्भावस्था के प्रारंभिक चरण में किसी भी अजीब लक्षण पर नजर रखें और यदि आपको कुछ भी ऐसा महसूस होता है तो तुरंत डॉक्टर से संपर्क करें।

अस्थानिक गर्भावस्था कैसे होती है?

जैसा कि पहले भी बताया गया है, सामान्य गर्भावस्था तब होती है जब शुक्राणु निषेचन के लिए फैलोपियन ट्यूब तक जाता है और निषेचित डिंब को गर्भाशय के आंतरिक अस्तर में प्रत्यारोपित करता है। हालांकि, यदि फैलोपियन ट्यूब क्षतिग्रस्त है या बहुत संकीर्ण है, तो यह डिंब को एक अलग स्थान पर प्रत्यारोपित करने का कारण बन सकती है। यह प्रत्यारोपण फैलोपियन ट्यूब के बाहर, पेट में, अंडाशय में या यहाँ तक कि गर्भाशय ग्रीवा में भी हो सकता है। इस स्थिति में डिंब परिपक्व नहीं हो पाता है, जिससे भ्रूण के विकसित होने की संभावना भी खत्म हो जाती है।

अस्थानिक गर्भावस्था कितनी आम है

अमेरिका में हुए अध्ययन के अनुसार, प्रत्येक 85 गर्भधारण में 1 अस्थानिक गर्भावस्था होती है। कुल मिलाकर एक वर्ष में लगभग 12,000 अस्थानिक गर्भावस्था होती हैं।

एक अन्य अध्ययन से पता चलता है कि केवल 50% प्रभावित महिलाओं में अस्थानिक गर्भावस्था के सभी लक्षण दिखाई देते हैं, इसलिए इसे पहचानना मुश्किल हो जाता है।

अस्थानिक गर्भावस्था के कारण

अस्थानिक गर्भावस्था के कारण अक्सर स्पष्ट नहीं होते हैं जो विभिन्न स्थितियों में अलग-अलग भी हो सकते हैं। किंतु मुख्य रूप से शल्य-चिकित्सा या श्रोणि में सूजन संबंधी समस्याओं के कारण गर्भाशय में असंतुलन या तनाव होने से भी ऐसा हो सकता है। फैलोपियन ट्यूब के क्षतिग्रस्त होने से भी डिंब गर्भाशय में प्रवेश करने से रुक जाता है और वह फैलोपियन ट्यूब में ही प्रत्यारोपित हो जाता है, यह अस्थानिक गर्भावस्था का एक सामान्य कारण है।

अस्थानिक गर्भावस्था होने के खतरे

निम्नलिखित कुछ खतरों से अस्थानिक गर्भावस्था होने की संभावना हो सकती है, आइए जानते हैं;

  • अस्थानिक गर्भावस्था के ज्यादातर मामले 35-44 वर्ष की आयु के भीतर पाए गए हैं।
  • यदि आपकी पिछली गर्भावस्था अस्थानिक थी तो अगली गर्भावस्था में भी ऐसा हो सकता है। क्योंकि अस्थानिक गर्भावस्था ज्यादातर ऊतकों में क्षति पहुँचा सकती है।
  • पेट या श्रोणि की सर्जरी से फैलोपियन ट्यूब को क्षति पहुँचती है जिसके कारण भी अस्थानिक गर्भावस्था हो सकती है।
  • फैलोपियन ट्यूब में जख्मों के निशान ऊतकों को विकसित करते हैं जिसके कारण श्रोणि में सूजन आ सकती है और इससे अस्थानिक गर्भावस्था का खतरा बढ़ जाता है।
  • पहले हुए गर्भपात से आंतरिक अंगों में अधिक हानि होती है जिससे अस्थानिक गर्भावस्था हो सकती है।
  • यदि आई.यू.डी. धारण करने पर यदि आप गर्भवती होती हैं तो आपको अस्थानिक गर्भावस्था हो सकती है।
  • उसी तरह पहले डिंबप्रणालीय को बांधने के कारण कभी-कभी फैलोपियन ट्यूब में बदलाव की वजह से गर्भावस्था बाधित हो सकती है।
  • यह माना जाता है कि धूम्रपान करने से फैलोपियन ट्यूब की सामान्य रूप से कार्य करने की क्षमता को और निषेचित अंडे को गर्भाशय तक पहुँचने की क्षमता को प्रभावित करता है,  इस प्रकार यह अस्थानिक गर्भावस्था का कारण बनता है।
  • यदि आप प्रजनन उपचार या दवा के दौर से गुजर रही हैं, तो ऐसा होने की सम्भावना बढ़ जाती है। उपचार के दौरान, भ्रूण के आवागमन को सरल बनाने के लिए फैलोपियन ट्यूब को फैलाया जाता है। यह फैलाव उल्टा भी हो सकता है और इसके कारण अस्थानिक गर्भावस्था हो सकती है।
  • एंडोमेट्रीओसिस, एक ऐसी स्थिति जब एंडोमेट्रियल ऊतक गर्भाशय के अंदर के अलावा अन्य जगहों पर बढ़ता है, यह भी अस्थानिक गर्भावस्था का कारण बन सकता है।

अस्थानिक गर्भावस्था के लक्षण

अस्थानिक गर्भावस्था की शुरुआत में एक सामान्य गर्भावस्था के लक्षण दिखाई देते हैं, जैसे:

  • माहवारी न होना
  • जी मिचलाना
  • थकान
  • स्तनों का संवेदनशील होना
  • बार-बार पेशाब आना

हालांकि, अस्थानिक गर्भावस्था या ट्यूबल गर्भावस्था बढ़ने के साथ कुछ असुविधाजनक लक्षण दिखाई देते हैं, जिसमें से सबसे स्पष्ट लक्षण योनि से अत्यधिक रक्तस्राव है । यह तब होता है जब अस्थानिक गर्भावस्था के दौरान गर्भपात होता है और इसे चिकित्सीय आपातकाल के रूप में माना जाता है। अस्थानिक गर्भावस्था के दौरान गर्भपात के मामले में निम्नलिखित लक्षण और संकेत देखे जा सकते हैं:

  • बहुत ज्यादा पसीना आना
  • गंभीर और तेज श्रोणि दर्द व पेट दर्द
  • हृदय की तेज धड़कन (>100 बीट्स/मिनट)
  • पीली त्वचा, जैसी एनीमिया में होती है
  • सिर घूमना या चक्कर आना
  • योनि से अधिक रक्त का बहाव
  • कुछ मामलों में कंधे में दर्द होना। (पेट में रक्तस्राव से शरीर के डायाफ्राम में जलन हो सकती है जिसके प्रभाव से कंधों में दर्द हो सकता है )
  • सदमे के लक्षण

अस्थानिक गर्भावस्था परीक्षण

अस्थानिक गर्भावस्था का पता लगाने के लिए कोई निश्चित परीक्षण नहीं है। ज्यादातर मामलों में ऊपर दिए हुए लक्षणों के कारण अस्थानिक गर्भावस्था का निदान किया जा सकता है।

सामान्य गर्भावस्था की तरह, एक अस्थानिक गर्भावस्था एच.सी.जी. हार्मोन की उपस्थिति के कारण परीक्षण में सकारात्मक परिणाम दिखाती है और परीक्षण में यह हानिरहित ही लगती है। हालांकि, अगर एच.सी.जी. का स्तर अपेक्षित दर से अधिक नहीं बढ़ता है, तो अस्थानिक गर्भावस्था होना संभव है।

इसके बाद आगे की पुष्टि के लिए योनि का अल्ट्रासाउंड और श्रोणि का परीक्षण किया जा सकता है।

अस्थानिक गर्भावस्था का निदान कैसे करें

अस्थानिक गर्भावस्था का निदान करना मुश्किल होता है, क्योंकि इसके लक्षण किसी भी अन्य सामान्य गर्भावस्था के समान हो सकते हैं। ऐसे मामलों में जहाँ लक्षण बहुत स्पष्ट है, निम्नलिखित निदान के तरीकों का उपयोग किया जाता है:

  • योनि का अल्ट्रासाउंड: निदान के लिए सबसे आम तरीका है जो निषेचित डिंब के स्थान को दिखा सकता है।
  • रक्त परीक्षण: रक्त में एच.सी.जी. के स्तर का विश्लेषण किया जाता है और यह हॉर्मोन आमतौर पर गर्भावस्था के दौरान पाए जाते हैं। इस परीक्षण को तब किया जाता है जब अल्ट्रासाउंड के दौरान अस्थानिक गर्भावस्था की पहचान नहीं हो पाती है।
  • कीहोल सर्जरी: यह एक सरल लैप्रोस्कोपिक तकनीक है जो सामान्य एनेस्थीसिया की मदद से गर्भाशय ग्रीवा और फैलोपियन ट्यूब को आसानी से दिखा सकती है। यदि आवश्यकता हो तो यह आपको सर्विक्स गर्भावस्था के बारे में जानने में मदद करती है।

अस्थानिक गर्भावस्था का उपचार

अस्थानिक गर्भावस्था का उपचार

अस्थानिक गर्भावस्था में भ्रूण को बचाने का कोई भी तरीका नहीं है और यह जितना बड़ा होता है एक महिला के लिए जोखिम उतना अधिक होता है। चूंकि, निषेचित डिंब को गर्भाशय में प्रत्यारोपित नहीं किया जा सकता है, इसलिए गर्भावस्था को समाप्त करना ही एकमात्र विकल्प है।

अस्थानिक गर्भावस्था के लिए आमतौर पर निम्नलिखित उपचार किए जाते हैं, वे इस प्रकार हैं;

  • अपेक्षित प्रबंधन:

कुछ मामलों में, यदि लक्षण गम्भीर नहीं है, तो आपको कोई दवा या उपचार नहीं दिया जाता है। यह आमतौर पर इसलिए किया जाता है ताकि आपको चिकित्सा के दुष्प्रभावों का सामना न करना पड़े। हालांकि आपकी देखभाल पूरी तरह से की जाएगी और आपकी गर्भावस्था अपने आप ही समाप्त हो जाएगी। इस पद्धति में हल्की असुविधा होती है लेकिन चिंता करने की कोई बात नहीं है।

  • इलाज:

मेथोट्रेक्सेट की एक खुराक आपके शरीर में टीके के द्वारा दी जाती है और जो भ्रूण को बढ़ने से रोक देती है। आपके डॉक्टर द्वारा बारीकी से इसकी निगरानी रखी जाएगी और यदि आवश्यकता हुई तो दूसरी खुराक दी जाती है। इसके कुछ दुष्प्रभाव भी हैं और डॉक्टर के निर्देशानुसार आपको कुछ सावधानियां भी बरतनी पड़ सकती हैं।

  • मेथोट्रेक्सेट से इलाज के बाद, डॉक्टर आपको कम से कम तीन महीनों के लिए गर्भनिरोधक का उपयोग करने की सलाह दे सकते हैं क्योंकि दवा अभी भी आपके शरीर में मौजूद है और गर्भाधान के मामले में यह भ्रूण को नुकसान पहुँचा सकती है।
  • आपको शराब पीने की सलाह नहीं दी जाती है क्योंकि इससे मेथोट्रेक्सेट में प्रतिक्रिया हो सकती है और आपके लिवर को गंभीर नुकसान पहुँचा सकती है।

शल्य चिकित्सा:

आंतरिक रक्तस्राव का पता चलने पर ही डॉक्टर शल्य चिकित्सा का सहारा लेते हैं। इसमें लैप्रोस्कोपी की सहायता से फैलोपियन ट्यूब को हटाया जाता है। इसमें दो प्रकार की कीहोल सर्जरी होती हैं, जैसे;

  • सलपिंगोस्तोमी: फैलोपियन ट्यूब में एक छोटा चीरा लगाया जाता है जिसका उपयोग अस्थानिक गर्भावस्था की संभावना को खत्म करने के लिए किया जाता है। यह चीरा अपने आप ठीक हो सकता है या इसमें स्टीच लगा दिए जाते हैं।
  • साल्पिंगेक्टोमी: फैलोपियन ट्यूब का वह हिस्सा हटा दिया जाता है जहाँ अस्थानिक विकास देखा जाता है और नलिका की शेष लंबाई को फिर से जोड़ दिया जाता है। यह तब किया जाता है जब अस्थानिक गर्भावस्था ने फैलोपियन ट्यूब को नष्ट कर दिया हो।

ऊपर चर्चा किए गए मामलों में, संभावित दुष्प्रभावों में से एक आपके फैलोपियन ट्यूब का टूटना है। ऐसी स्थिति में शल्य चिकित्सा की जाती है और आपकी फैलोपियन ट्यूब को क्षति की सीमा के आधार पर या तो ठीक किया जाता है या हटाया जाता है।

निर्णय लेने से पहले उपचार के विकल्पों पर व्यापक रूप से चर्चा की जाती है और यह विकल्प आपकी स्वास्थ्य स्थिति पर निर्भर करते हैं। हमेशा यह सुनिश्चित करें कि आप इस निर्णय के साथ सहज हों और कभी भी प्रश्न पूछने में संकोच न करें।

अस्थानिक गर्भावस्था के बाद गर्भवती होने की संभावना

जिन महिलाओं को अस्थानिक गर्भावस्था हुई है, उनके लिए यह खुशखबरी है। आंकड़ों के अनुसार जिन महिलाओं को अस्थानिक गर्भावस्था हुई है, उनमे से 65% महिलाएं, 18 महीनों में दोबारा माँ बनने में कामयाब रही हैं। इस क्षेत्र से संबंधित चिकित्सा सर्जरी में सुधार के चलते अगले 2 वर्षों में संभावना 85% तक बढ़ने की उम्मीद है।

यह याद रखना महत्वपूर्ण है कि यदि आपकी फैलोपियन ट्यूब स्वस्थ है, तो सामान्य गर्भावस्था निश्चित हो सकती है।

अस्थानिक गर्भावस्था की रोकथाम

अस्थानिक गर्भावस्था को रोकने का कोई निश्चित तरीका नहीं है क्योंकि ज्यादातर मामलों में महिलाओं को परीक्षण करने से पहले इस बात की जानकारी नहीं होती है कि उनके प्रजनन अंगों में क्या हो रहा है। इससे अस्थानिक गर्भावस्था होने या न होने की स्थिति का अनुमान लगाना कठिन हो जाता है।

हालांकि, आप उन खतरों को कम कर सकती हैं जो एक अस्थानिक गर्भावस्था का कारण हो सकती हैं:

  • यदि आप नियमित धूम्रपान करती हैं, तो धूम्रपान करना बंद कर दें। यह पाया गया है कि धूम्रपान करने वाली महिलाओं को धूम्रपान न करने वाली महिलाओं की तुलना में अस्थानिक गर्भावस्था होने की अधिक संभावना होती है।
  • कंडोम जैसे गर्भनिरोधक का उपयोग करना सबसे अच्छा है जो एस.टी.डी. होने की संभावना को कम करता है। एस.टी.डी. जैसी समस्याएं श्रोणि में सूजन संबंधी बीमारियों का कारण बन सकती हैं। यह रोग फैलोपियन ट्यूब में ऊतकों के निशान (स्कार टिश्यू) के विकास में और अंत में एक अस्थानिक गर्भावस्था को उत्तेजित कर सकते हैं।
  • गर्भावस्था के पहले कुछ हफ्तों के दौरान, किसी भी समस्या का पता लगाने के लिए अपने शरीर और एच.सी.जी. के स्तर पर करीबी से निगरानी रखें।
  • जब आप बच्चे की योजना बना रही हों, तो ट्यूबल गर्भावस्था को रोकने के लिए अपनी फैलोपियन ट्यूब के स्वास्थ्य पर निगरानी रखें।

अस्थानिक गर्भावस्था होने के बाद सहायता कैसे करें

एक अस्थानिक गर्भावस्था के बाद स्वाभाविक रूप से माँ का भावनात्मक और शारीरिक स्वास्थ्य प्रभावित होता है।

अस्थानिक गर्भावस्था के निदान व फैलोपियन ट्यूब के उपचार के बाद डॉक्टर गर्भावस्था की समाप्ति की पुष्टि करते हैं किन्तु इसके बाद भी महिलाओं में इसके लक्षण देखे गए हैं।

यह मुख्य रूप से गर्भावस्था के बाद भी शरीर में एच.सी.जी. जैसे गर्भावस्था के हार्मोन की उपस्थिति के कारण होता है। यह अभी भी गर्भवती होने की भावना को व्यक्त करता है। यदि चिंता, भय, क्रोध, या अवसाद की भावनाएं हैं, तो महिलाओं को यह याद दिलाने की जरूरत है कि असफल गर्भावस्था उसकी गलती नहीं थी।

गर्भावस्था की समाप्ति केवल एक महिला के लिए ही नहीं बल्कि जीवनसाथी और परिवार के लिए भी निराशाजनक है। जरूरत पड़ने पर अनुभवी महिलाओं से मदद लेना समझदारी है या आप अपने मन की बात अपने किसी करीबी व्यक्ति से भी कह सकती हैं। आप इस स्थिति में आप कुछ ऐसी महिलाओं से भी सहायता ले सकती हैं जिन्हें अस्थानिक गर्भावस्था का अनुभव है।

अस्थानिक गर्भावस्था से कैसे निजात पाएं

यदि आपने अस्थानिक गर्भावस्था का अनुभव किया है, तो याद रखें कि यदि एक फैलोपियन ट्यूब को हटा दिया जाता है, तो भी आपके पास हमेशा भविष्य में गर्भधारण के लिए अन्य एक और फैलोपियन ट्यूब होती है। अपने आप और अपने शरीर के स्वास्थ्य क्षमता पर विश्वास रखें। शरीर का अपना एक उपचार तंत्र होता है और आपको केवल समय और मन की शांति की आवश्यकता है।

संक्षेप में कहें तो अस्थानिक गर्भावस्था हर माँ के सपने के विपरीत होती है। एक स्वस्थ व सही गर्भावस्था के लिए डॉक्टर से सलाह लेती रहें और किसी भी असहज लक्षण या संकेत को अनदेखा न करें । अस्थानिक गर्भावस्था के बाद, अपने आप को वापस ठीक होने के लिए समय दें।

अस्थानिक गर्भावस्था के बारे में व्यापक रूप से चर्चा नहीं की जाती है, अक्सर लोगों का ध्यान इसके हो जाने के बाद ही जाता है। आप अपनी तरफ से ज्यादा से ज्यादा महिलाओं को इसके बारे में जागरुक कर सकती हैं और उन्हें अस्थानिक गर्भावस्था से बचने में मदद कर सकती हैं।

यह भी पढ़ें:

गर्भावस्था के दौरान उच्च रक्तचाप (बीपी)
गर्भावस्था के दौरान मूत्र मार्ग संक्रमण (यू.टी.आई.)