गर्भ में शिशु का हिचकी लेना

गर्भ में शिशु का हिचकी लेना

Last Updated On

एक गर्भवती स्त्री के गर्भ में जब उसका शिशु विकसित हो रहा होता है तो वह अपने शरीर में कई बदलाव महसूस करती है। यदि आप गर्भवती हैं, तो आपको अपने गर्भ में पल रहे शिशु की भिन्न-भिन्न हरकतों का अहसास होता होगा। जैसे-जैसे आपकी गर्भावस्था का समय बढ़ता जाएगा वैसे-वैसे गर्भ में शिशु का भी विकास होता जाएगा और उसकी गतिविधियां भी बढ़ने लगेंगी। कभी-कभी आपको अपने गर्भ में थोड़ी ही देर के लिए पर बार-बार होने वाली ऐंठन महसूस होगी। हो सकता है आप इस संकुचन को शिशु का लात मारना समझें, लेकिन यह वास्तव में भ्रूण की हिचकी होती है। गर्भावस्था के दौरान गर्भ में छोटी एवं लयबद्ध गतिविधियों का अनुभव होना सामान्य बात है और इन गतिविधियों को भ्रूण की हिचकी कहा जाता है। आइए जानें कि गर्भ में शिशुओं को हिचकी क्यों आती है।

भ्रूण की हिचकी का क्या कारण होता है

डॉक्टरों को भी भ्रूण की हिचकी के असल कारणों के बारे में ठीक से जानकारी नहीं है। ऐसा जरूरी नहीं है कि सभी शिशुओं को गर्भ में हिचकी आए। ऐसा माना जाता है कि भ्रूण का हिचकी लेना उसके फेफड़ों के विकास से संबंधित होता है, लेकिन यह अभी तक पूरी तरह साबित नहीं हो सका है। भ्रूण की हिचकी नई चीजों को समायोजित करने की कोशिश के परिणामस्वरूप होती है। जब शिशु को गर्भ में हिचकी आती है, तो यह इस बात का संकेत होता है कि वह अपने विकासात्मक चरण को सही समय पर पार कर रहा है और उसकी प्रगति बिलकुल ठीक है। गर्भवती होने पर, यदि आप अपने गर्भ में शिशु की हिचकी महसूस करती हैं, तो यह आपको चिंताग्रस्त कर सकता है, डॉक्टरों गर्भाशय में शिशु के हिचकी लेने के पीछे निम्न कारण बताते हैं।

1. डायफ्राम संकुचन

भ्रूण की हिचकी, बच्चों और वयस्कों द्वारा अनुभव की जाने वाली हिचकी के समान ही होती है। भ्रूण में, यह डायफ्राम यानि फेफड़ों और पेट के बीच विभाजन का कार्य करने वाली मांसपेशी के तीव्र संकुचन या ऐंठन की अचानक शुरुआत के कारण होती है। गर्भाशय में हिचकी शिशु द्वारा एम्नियोटिक सैक में पाए जाने वाले एम्नियोटिक द्रव में सांस लेने की प्रतिक्रिया है। केंद्रीय तंत्रिका तंत्र (सेंट्रल नर्वस सिस्टम) विकसित होने के बाद, एम्नियोटिक एसिड बच्चे के फेफड़ों से अंदर और बाहर प्रवाहित होता है, जिससे डायफ्राम में संकुचन होने लगता है।

2. सजगता (रेफ्लेक्सेस)

गर्भाशय में भ्रूण की हिचकी उसके रेफ्लेक्सेस को मजबूत करने में मदद करती है जो पैदा होने के बाद उसकी श्वास नली को विकसित और संचालित करते हैं । इन रेफ्लेक्सेस के कारण शिशु को बिना गले में अटके आहार लेने में मदद मिलती है। भ्रूण की हिचकी को डॉक्टरों ने गर्भाशय में रहते हुए स्तनपान की प्रक्रिया की तैयारी का संकेत भी बताया है। स्तनपान जैसी क्रिया की प्रतिरूपता से भ्रूण में हिचकी का अनुभव होता है।

3. गर्भनाल का फंसना

गर्भनाल का शिशु के गले में फंसना बहुत खतरनाक होता है और यह अत्यंत गंभीर समस्या पैदा कर सकता है। जब गर्भनाल शिशु के गले में लिपटी होती है, या संकुचित हो जाती है, तो इससे भ्रूण को हिचकी आने की संभावना होती है। यह आमतौर पर गर्भावस्था की दूसरी और तीसरी तिमाही में अधिक होता है।

गर्भावस्था के दौरान, आप हिचकी के विभिन्न तरीकों को समझ सकती हैं। यदि आपको हिचकी की अवधि में अनियमितता या परिवर्तन दिखाई देता है, तो आपको अपने डॉक्टर से परामर्श करना चाहिए। सामान्यतः हिचकी आपके शिशु को सीमित या जरा भी वायु न मिलने कारण आती है। यदि आप हिचकी या गर्भ में लात मारने जैसी गतिविधियों में मामूली या ज्यादा बदलाव महसूस करती हैं, तो आपको तुरंत डॉक्टर की मदद लेनी चाहिए।

गर्भनाल का फंसना

क्या भ्रूण का हिचकी लेना आम है

शिशुओं को गर्भ में नियमित रूप से और काफी लंबे समय तक हिचकी आ सकती है। आप दूसरी और तीसरी तिमाही में अपने गर्भस्थ शिशु की हिचकी पर ध्यान देना शुरू कर सकती हैं। लेकिन निश्चित रूप से इस विषय पर कुछ भी ठीक से नहीं कहा जा सकता है, सभी मांओं को अलग- अलग समय पर भ्रूण की हरकतें और हिचकियां महसूस होती हैं ।

कुछ शिशुओं को अक्सर हिचकियां आती है, जबकि कुछ को इसका अनुभव नहीं होता है। डॉक्टरों का कहना है कि गर्भधारण की पहली तिमाही से ही शिशु को हिचकी आना शुरू हो जाती है, लेकिन उनके छोटे आकार के कारण, माएं इन गतिविधियों पर ध्यान नहीं दे पाती हैं। गर्भ में शिशु की हिचकी का अनुभव करना एक अच्छा संकेत है, जो यह इंगित करता है कि शिशु का विकास ठीक से हो रहा है। हालांकि, यदि आपको गर्भावस्था के 32 वें सप्ताह के बाद शिशु की हिचकी महसूस होती है, तो आपको डॉक्टर से परामर्श करना चाहिए क्योंकि यह किसी समस्या का संकेत हो सकता है।

भ्रूण कब हिचकी ले सकता है

आपके शिशु को गर्भावस्था की पहली तिमाही से ही गर्भ में हिचकी आ सकती है, लेकिन आप उन पर ध्यान नहीं दे पाती हैं, क्योंकि आपका शिशु अभी भी अपने शुरुआती चरण में ही होता है। शिशु के केंद्रीय तंत्रिका तंत्र के बनने के बाद ही शिशु को हिचकी आना शुरू हो जाती है, जो भ्रूण को सांस लेने में मदद करती है। हिचकी दूसरी और तीसरी तिमाही में स्पष्ट हो जाती है और आप इसे महसूस कर सकती हैं ।

हिचकी और लात मारने के बीच अंतर कैसे करें

प्रारंभ में, आप गर्भ में शिशु के लात मारने को उसकी हिचकी समझने की गलती कर सकती हैं, लेकिन आप उसकी गतिविधियों का अध्ययन करने के बाद हिचकी और लात मारने के बीच अंतर कर पाएंगी । आपका शिशु हिचकी ले रहा है या आपके गर्भ में लात मार रहा है यह जानने का सबसे अच्छा तरीका यह है कि आप थोड़ा टहलें। यदि आपका शिशु गर्भ में कुछ विशेष स्थितियों में असहज महसूस करता है, तो वह हलचल कर सकता है।

आप अपने पेट के अलग-अलग हिस्सों में अपने शिशु की हरकतों को महसूस कर सकेंगी। अगर आप बिना हिले-डुले एक जगह बैठी हुई हैं और अपने पेट के किसी हिस्से में धड़कन या लयबद्ध झटके महसूस करती हैं, तो यह आपके शिशु की हिचकी हो सकती है। शिशु द्वारा की जाने वाली इन गतिविधियों का आदी होने में आपको थोड़ा समय लग सकता है, लेकिन आप जल्द ही सभी गतिविधियों के बीच के अंतर को अलग-अलग तरह से पहचानने लगेंगी।

A pregnant woman having nutritious breakfast

गर्भ में भ्रूण की हिचकी को कैसे रोकें

कुछ हफ्तों के अंदर आप अपने शिशु की हिचकी की पहचान करने में सक्षम हो जाएंगी। हालांकि भ्रूण की हिचकी दर्दनाक नहीं होती है पर यह विचलित कर सकती है। भ्रूण की हिचकी 15 मिनट से अधिक नहीं रहती, लेकिन अगर रहे तो यह आपको बहुत असहज कर सकती है। आपके शिशु की हिचकी आपके लिए बैठना और आराम करना मुश्किल कर सकती है। कुछ तरीकों से आप भ्रूण की हिचकी को कम करने की कोशिश तो कर सकती हैं, लेकिन गर्भाशय में अपने शिशु का इससे बचाव करने का कोई निश्चित तरीका नहीं है। डॉक्टर आमतौर पर निम्नलिखित बातों की सलाह देते हैं:

  • सोते समय, अपने शरीर की बाईं करवट पर लेटें।
  • अपने आहार में प्रोटीन युक्त भोजन को शामिल करें, क्योंकि यह आपके शिशु को आराम करने और गर्भ में हिचकी को कम करने में मदद करता है।
  • खूब पानी पिएं और हाइड्रेटेड रहें। कभी-कभी, शरीर में तरल पदार्थों की कमी के कारण भी शिशु को हिचकी हो सकती है।
  • पर्याप्त नींद लें।
  • गर्भावस्था के आखिरी चरणों में बच्चे के लात मारने पर नजर रखें यह आपको उसकी गतिविधियों और उसकी प्रगति पर ध्यान रखने में मदद करता है।

आपको कब चिंतित होना चाहिए

जब आपको लगे कि भ्रूण की हिचकी में अचानक बढ़ोतरी हुई है और उसके बाद उसकी हलचल और गतिविधियों में भी वृद्धि हुई है तो आपको अपने डॉक्टर से परामर्श करना चाहिए। आपका डॉक्टर आपके शिशु के स्वास्थ्य के बारे में बेहतर रूप से बताने के लिए अल्ट्रासाउंड करवाने का सुझाव दे सकते हैं। जितना जल्दी आप इन संकेतो पर ध्यान देंगी यह उतना ही आपके और शिशु के लिए बेहतर रहेगा।

गर्भावस्था के दौरान, यह महत्वपूर्ण है कि आप अपने शिशु की हरकतों पर पूरा ध्यान दें, यह समझने के लिए कि क्या वह पैर मारता है, हिचकी लेता है या कोई और गतिविधि करता है। यदि आपको अपने शिशु की गतिविधियों का सही अंदाजा है, तो आपको कम परेशानी होगी। सुनिश्चित करने के लिए कि आपकी गर्भावस्था ठीक तरह से चल रही है, आपको नियमित रूप से अपने डॉक्टर से परामर्श करना चाहिए। अपनी गर्भावस्था के नौ महीनों के दौरान खुद का अच्छे से ख्याल रखें, जिससे आपका शिशु स्वस्थ रहे।