गर्भधारण

क्या एक्सरसाइज करने से फर्टिलिटी बढ़ती है

जब भी कोई कपल प्रेगनेंसी की प्लानिंग करके अपना परिवार पूरा करना चाहता है, तो ऐसे में उनकी फर्टिलिटी क्षमता का कम होना बहुत बड़ी बाधा उत्पन्न करता है। मेडिकल चेकअप से लेकर घर में आजमाए जाने वाले उपचारों तक, आपके सामने कई सुझाव और समाधान मौजूद होते हैं, जिनमें से हर एक उपाय या तो पहले से बेहतर बताया जाता होगा या उससे बिलकुल अलग। हालांकि, एक पहलू ऐसा भी है, जो महिलाओं के साथ-साथ पुरुषों में फर्टिलिटी क्षमता से सीधे जुड़ा है, वह है उनके शरीर का स्वास्थ्य। यह केवल एक अच्छी पोषण से भरी डाइट का पालन करने तक ही सीमित नहीं है, बल्कि यह भी बहुत अहम है कि आप नियमित रूप से कैसे व्यायाम करते हैं, जो आपके शरीर के मेटाबॉलिज्म को सही रखने में मदद करता है।

क्या एक्सरसाइज करना फर्टिलिटी के लिए अच्छा है?

यदि आप सोच रही हैं कि क्या एक्सरसाइज करने से फर्टिलिटी क्षमता बढ़ाने में मदद मिलती है, तो इसे साबित करने के लिए कोई स्टडी नहीं है, लेकिन इसके परिणाम काफी फायदेमंद साबित हुए हैं। महिलाओं और पुरुषों में फर्टिलिटी क्षमता को नियंत्रित करने वाले पहलू उनके अंदर की शारीरिक प्रक्रियाओं को ऑप्टीमल लेवल पर काम करने में मदद करते हैं। ऐसे में आपकी डाइट, लाइफस्टाइल और एनर्जी में कोई भी लंबे समय का बदलाव फर्टिलिटी क्षमता पर स्थायी प्रभाव डालता है।

फर्टिलिटी के लिए एक्सरसाइज करना कितना फायदेमंद है?

नियमित रूप से व्यायाम करने से बहुत सारे फायदे होते हैं, जिनमें से सभी शरीर को किसी न किसी तरह से फायदा पहुंचाते हैं। व्यायाम करने के कुछ प्रमुख प्रभाव हैं जो कि इनडायरेक्ट तरीके से आपके अंदर खोई हुई फर्टिलिटी क्षमता को वापस लाने के लिए काम करते हैं:

1. नींद में सुधार लाना

बेशक, नींद हमारे शरीर के लिए बेहद जरूरी है, क्योंकि इस दौरान हमारा शरीर वास्तव में अपना काम शुरू करता है और सभी तरह के रखरखाव और रिपेयर करने वाली एक्टिविटीज को अपने अंदर पूरा करता है। हालांकि नींद और फर्टिलिटी क्षमता के बीच कोई सीधा संबंध नहीं है, लेकिन अच्छी तरह से नींद न ले पाने की वजह से शरीर में ओबेसिटी यानी मोटापा बढ़ने लगता है। बता दें कि, मोटापा और फर्टिलिटी एक साथ जुड़े हुए हैं और बहुत अनहेल्दी वजन बढ़ने से आपके गर्भधारण करने की संभावना कम हो जाती है। नियमित रूप से व्यायाम करने से शरीर ट्रैक पर आ जाता है, जिससे सही समय पर नींद आती है और अपनी डीप स्लीप साइकिल को पूरा कर पाती है।

2. अस्वस्थ वजन घटाना

यह तो सब जानते हैं कि अधिक वजन या मोटापा भी आपके शरीर को कई तरह से प्रभावित करता है। पुरुषों को इसके कारण स्पर्म यानी शुक्राणुओं की खराब संख्या और गतिशीलता (मोटिलिटी) का अनुभव होता है, जबकि मोटापे से ग्रस्त महिलाओं में बहुत अधिक जोखिम देखने को मिलता है। मोटापे से ग्रस्त महिलाओं को गर्भधारण करने में कई तरह की समस्याओं का सामना करना पड़ता है, साथ ही गर्भावस्था के दौरान कॉम्प्लिकेशन भी काफी होते हैं, जिनमें से कुछ के कारण बर्थ डिफेक्ट्स या गर्भपात भी हो सकता है। ऐसे में आपके शरीर में मौजूद किसी भी अतिरिक्त फैट को बर्न करना जरूरी है, जिसे कार्डियो एक्सरसाइज या बॉडी वेट ट्रेनिंग द्वारा बहुत अच्छी तरह से हासिल किया जा सकता है, जिससे आप स्वस्थ तरीके से अपना वजन कम कर सकती हैं।

3. तनाव कम करना

जितना जरूरी शारीरिक स्वास्थ्य होता है उससे अधिक जरूरी मानसिक स्वास्थ्य है, क्योंकि वह शरीर को और भी बेहतर बनाने के लिए महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है। किसी भी तरह की परेशानी और निरंतर तनाव आपके शरीर को कई तरीकों से प्रभावित कर सकता है, जिनमें से एक फर्टिलटी क्षमता में कमी भी है। कभी-कभी, यह प्रभाव डायरेक्ट नहीं होता है और आमतौर पर कई तरह की एक्टिविटीज का परिणाम होता है जो तनाव को कम करने के लिए किए जाते हैं, जैसे धूम्रपान, अत्यधिक अल्कोहल का सेवन, फास्ट फूड का अधिक सेवन, नशीली दवाओं का उपयोग, आदि। व्यायाम आपके शरीर में कई तरह के हार्मोन जारी करने में मदद करता है जो आपको बेहतर महसूस कराते हैं और आपके तनाव के स्तर को कम करते हैं जिसके कारण आपका शरीर को बेहतर बनता है।

जरूरत से ज्यादा एक्सरसाइज फर्टिलिटी क्षमता को कैसे प्रभावित करती है?

बहुत से लोग यह जानकर हैरान होते हैं कि बहुत ज्यादा व्यायाम करने और बांझपन के बीच एक मजबूत रिश्ता है। उचित रूप से व्यायाम करना स्वास्थ्य के लिए जितना फायदेमंद होता है, उतना ही उन लोगों के लिए हानिकारक होता है जो क्षमता से ज्यादा तेज तरीके से व्यायाम करते हैं, जिससे उनके इन्फर्टाइल होने की संभावना अधिक हो जाती है।

1. महिलाओं पर प्रभाव

महिलाओं में, स्टडीज यह बताती हैं कि नीचे के अंगों की एक्सरसाइज करने से उनमें इनफर्टिलिटी पाई गई है, खासकर मोटापे से पीड़ित महिलाओं में। वहीं, जो महिलाएं नियमित रूप से बहुत कठिन एक्सरसाइज करती हैं या पूरी तरह से थक जाने तक व्यायाम करती हैं, उनमें बांझपन का स्तर और बढ़ जाता है। इसके कुछ प्रमुख कारण इस प्रकार हैं:

  • कोर्टिसोल हार्मोन का बढ़ना

कई तरह की रिसर्च और स्टडीज में जिन प्रमुख बातों का उल्लेख किया गया है, उनमें से एक यह है कि जब महिलाएं ज्यादा समय के लिए हैवी एक्सरसाइज करती हैं, तो कई तरह के हार्मोन के बायोलॉजिकल बैलेंस में बदलाव आ जाता है। इनमें से सबसे पहला बदलाव होता है शरीर के अंदर थायराइड हार्मोन के स्तर में भारी कमी आना। यह स्वास्थ्य के लिए काफी हानिकारक है, क्योंकि थायराइड शरीर के अंदर मेटाबॉलिक एक्टिविटी को बढ़ाने के लिए काम करता है और ऐसे हार्मोन में कमी आना कभी फायदेमंद नहीं होगा।

थायराइड के बदलाव के बाद, कोर्टिसोल के लेवल में भी काफी वृद्धि होती है। इन दोनों प्रभावों के मिलने से महिला के शरीर के एड्रेनालिन सिस्टम पर अनुचित दबाव पड़ता है। इस तरह के तनाव के साथ लंबे समय तक संपर्क में रहने से यह बायोलॉजिकल रूप से जिस तरह काम करता है वह मुख्य काम बदल जाता है और जो कम फर्टिलिटी क्षमता और हार्मोन के असंतुलन के रूप में सामने आता है।

  • शरीरिक फैट कम होना

हमारे शरीर में अच्छा और खराब बॉडी फैट दोनों होते हैं। यही कारण है कि ज्यादातर महिलाएं अपने शरीर की अतिरिक्त चर्बी को जल्द से जल्द कम करने और अपनी गर्भावस्था को संभालने के लिए सही आकार में रहने के लिए इंटेंस यानी तीव्र वर्कआउट करना पसंद करती हैं। हालांकि, स्टडीज में पाया गया है कि ऐसी महिलाओं के शरीर में फैट का लेवल इतना कम हो जाता है कि यह उनके शरीर की फर्टिलिटी क्षमता को पूरी तरह से कम करने का काम करता है। इंटेंस तरीके से एक्सरसाइज करने और शरीर में फैट लेवल लो होने की वजह से पीरियड और ओवुलेशन नियमित समय से नहीं होते, जो कि एस्ट्रोजन का लेवल कम होने की वजह से होता है। एक बच्चे को कंसीव करने के लिए इन दोनों का उचित लय में होना जरूरी है।

2. पुरुषों पर प्रभाव

बता दें कि ज्यादातर पुरुष स्पर्म मोटिलिटी और अपने  स्वास्थ्य में सुधार लाने के लिए व्यायाम करते हैं, लेकिन जल्द फिटनेस और एक मस्कुलर बॉडी पाने के लिए इंटेंस वर्कआउट इसके विरुद्ध में काम करता है और जिससे कई पुरुष दिखने में तो फिट लगते हैं लेकिन अंदर से इन्फर्टाइल हो जाते हैं।

  • स्पर्म में दोष

बेहतर शुक्राणु स्वास्थ्य, मोटिलिटी में वृद्धि और शुक्राणु की अच्छी क्वालिटी प्राप्त करने में, इंटेंस एक्सरसाइज के करने वाले पुरुषों में इसके अलग परिणाम देखने को मिले हैं। इसका कारण बहुत सरल है और इसका सीधा संबंध शरीर के तापमान से है। व्यायाम करने से हमेशा शरीर के अंदर का तापमान बढ़ता है, जो स्पर्म बनने वाली जगहों में भी बढ़ जाता है। शुक्राणु का उत्पादन तभी ऑप्टीमल होता है जब वह जगह शरीर की तुलना में काफी ठंडी हो। इसकी वजह से शुक्राणुओं की संख्या बढ़ने के बजाय कम हो जाती है।

  • ल्यूटिनाइजिंग हार्मोन और टेस्टोस्टेरोन में कमी आना

लंबे समय तक इंटेंस वर्कआउट करने वाले पुरुषों के शुक्राणुओं की संख्या में कमी के आने के पीछे एक अन्य अहम कारण है, शरीर के दो प्राथमिक हार्मोन, टेस्टोस्टेरोन और ल्यूटिनाइजिंग का स्तर कम होना। यह माना जाता है कि व्यायाम टेस्टोस्टेरोन को बढ़ाता है, लेकिन बहुत अधिक और इंटेंस तरीके से एक्सरसाइज करने पर यह वास्तव में कम होता है। एक बार जब डाइट सामान्य हो जाती है, तो ये वापस सामान्य हो सकते हैं।

कैसे जानें कि आप बहुत ज्यादा एक्सरसाइज कर रही हैं

1. दर्द और थकान होना

यदि आप अपने आप को स्वस्थ सीमा की हद से ज्यादा पुश करती हैं तो आपका शरीर संकेत देना शुरू कर देगा। व्यायाम आमतौर पर शरीर को तरोताजा करता है, लेकिन इंटेंस एक्सरसाइज करने की वजह से आपके शरीर में दर्द होगा, आपकी नींद प्रभावित होगी या यहां तक कि आपके व्यायाम में खराब प्रदर्शन भी हो सकता है। ये सभी संकेत आपके शरीर को उसकी क्षमता से अधिक तनाव देने की वजह से होते हैं।

2. लंबे समय तक ट्रेनिंग करना

आपकी उम्र और फिटनेस के आधार पर, रोजाना व्यायाम करने के लिए एक निर्धारित समय होता है। लेकिन क्षमता से अधिक व्यायाम करने वाले लोग बहुत अधिक ट्रेनिंग लेते हैं, जो रोज के आधार पर एक घंटे से भी अधिक समय तक चलती है। लेकिन यह बिलकुल भी स्वस्थ नहीं है और इससे शरीर कई तरह से गलत तरीकों से प्रभावित होता है।

3. अनियमित पीरियड साइकिल

जब भी आपका पीरियड मिस होता है, तो आपको लगता है कि आप प्रेग्नेंट हैं। हालांकि, इंटेंस एक्सरसाइज की वजह से भी पीरियड मिस होते हैं या देरी से भी होते है। शरीर के अंदर हार्मोन के लेवल में बहुत उतार-चढ़ाव होता है, जो पीरियड साइकिल की प्राकृतिक लय को बिगाड़ देता है, जिससे ऐसे परिणाम सामने आते हैं। इतना ही नहीं यह आपके ओवुलेशन को भी प्रभावित करता है, जिसके कारण गर्भधारण की संभावना कम हो जाती है।

फर्टिलिटी बढ़ाने वाली सबसे अच्छी एक्सरसाइज

गर्भधारण की संभावना को प्रभावित किए बिना आपको अपने स्वास्थ्य को बनाए रखने में मदद करने के लिए बेस्ट फर्टिलिटी बूस्टिंग एक्सरसाइज के बारे में जानना जरूरी है।

1. कार्डियो एक्सरसाइज

इसमें चलना, टहलना, एरोबिक्स, डांस आदि शामिल हैं। ये शरीर में सर्कुलेशन को बढ़ाते हैं। स्वस्थ गर्भावस्था के लिए अच्छा ब्लड फ्लो जरूरी है। आप हर दिन 15 मिनट ब्रिस्क वॉकिंग या जॉगिंग से शुरू कर सकती हैं और धीरे-धीरे इसे बढ़ाकर 30 मिनट कर दें।

2. स्ट्रेंथ ट्रेनिंग

इसमें आप सहजता से वजन उठा सकती हैं, जो शरीर में मसल मास और स्टेमिना बढ़ाने में मदद करता है। आप एक ट्रेनर के साथ हफ्ते में कम से कम तीन या चार दिन मध्यम स्ट्रेंथ ट्रेनिंग ले सकती हैं। 

3. स्ट्रेचिंग और फ्लेक्सिबिलिटी

वर्कआउट करने से पहले हमेशा स्ट्रेचिंग एक्सरसाइज जरूर करें। ये आपकी फ्लेक्सिबिलिटी को बढ़ाएगा, तनाव को दूर करेगा और वर्कआउट के दौरान किसी भी तरह की चोट लगने की संभावना कम होगी।

4. योगा

यह किसी भी अन्य कार्डियो एक्सरसाइज की तरह इंटेंस नहीं होता है, लेकिन योग आपके शरीर में फ्लेक्सिबिलिटी के लेवल को बनाए रखने में मदद करता है, साथ ही स्ट्रेस और एंग्जायटी को कम करने के लिए काम करता है, जिससे मानसिक स्वास्थ्य को काफी प्रभावी तरीके से बढ़ावा मिलता है।

कौन सी एक्सरसाइज नहीं करनी चाहिए?

आपको बता दें कि फर्टिलिटी क्षमता में सुधार लाने के लिए व्यायाम करते समय, उन एक्सरसाइज के बारे में भी जानने की जरूरत है जिनसे आपको दूर रहना चाहिए, ताकि आप पर कोई गलत प्रभाव न पड़ सके।

  • किसी भी प्रकार की तेज रनिंग या जिमनास्टिक जो शरीर के लिए सही नहीं हो
  • 1 घंटे से अधिक समय के लिए व्यायाम करना
  • बूट कैंप एक्सरसाइज चुनना, जो अक्सर बहुत तीव्र होती हैं
  • रोजाना लंबी दूरी तक दौड़ना
  • कोई आराम वाला दिन रखे बिना लगातार पूरे हफ्ते व्यायाम करना
  • ओवुलेशन के दौरान कोर स्ट्रेंथ एक्सरसाइज करना
  • हॉट योगा करना, जो शरीर के तापमान को बढ़ाता है और फर्टिलिटी क्षमता को प्रभावित करता है

क्या आईवीएफ या आईयूआई के बाद महिलाओं को एक्सरसाइज करनी चाहिए?

अपना फर्टिलिटी एक्सरसाइज प्लान तैयार करते समय अपने डॉक्टर की सलाह लेना सबसे जरूरी होता है, खासकर यदि आपने आईवीएफ या आईयूआई तरीका चुना है। ज्यादातर मामलों में, डॉक्टर महिलाओं को व्यायाम से बचने के लिए कहते हैं क्योंकि यह भ्रूण के इम्प्लांटेशन या अंडों को फिर से प्राप्त करने की प्रक्रिया को प्रभावित कर सकता है। ऐसा कहा जाता है, सुबह या शाम को हल्की वॉक या साधारण योग या सांस लेने के व्यायाम आपको कम मेहनत के साथ बेहतर महसूस करने में मदद करते हैं।

एक्सरसाइज और फर्टिलिटी ट्रीटमेंट को एक साथ जोड़ना अजीब लगता होगा। लेकिन यह जानने के बाद कि वास्तव में ये दोनों आपस में कितनी अच्छी तरह जुड़े हुए हैं, आपको अपनी लाइफस्टाइल में उचित बदलाव लाना काफी जरूरी है। सही लाइफस्टाइल अपनाने से आप अपनी फर्टिलिटी क्षमता को ऊंचे स्तर पर रखते हुए अपने स्वास्थ्य को भी बेहतर बना सकती हैं।

यह भी पढ़ें:

सर्वाइकल म्यूकस की फर्टिलिटी कैसे बढ़ाएं
फर्टिलिटी बढ़ाने के लिए फोलिक एसिड – क्या यह मददगार है?
पुरुषों और महिलाओं में फर्टिलिटी के लिए लहसुन का उपयोग

समर नक़वी

Recent Posts

पंचतंत्र की कहानी: ब्राह्मणी और तिल के बीज | Panchatantra Story: Brahmani And Sesame Seeds In Hindi

यह कहानी एक निर्धन ब्राह्मण और उसकी पत्नी की है। भिक्षाटन से जीवन चलाने वाले…

2 days ago

हाथी और दर्जी की कहानी | The Elephant And The Tailor Story In Hindi

यह कहानी है एक पुजारी और उसके पालतू हाथी की है, जो रोजाना पुजारी के…

2 days ago

शेर और हाथी की कहानी | Lion And Elephant Story In Hindi

शेर और हाथी की इस कहानी में शेर अपनी ताकत पर बैठा अफसोस कर रहा…

2 days ago

एक घमंडी हाथी और चींटी की कहानी | Elephant & Ant Story In Hindi

घमंडी हाथी और चींटी की कहानी में दुष्ट हाथी सबको बहुत परेशान किया करता था…

2 days ago

अकबर-बीरबल की कहानी: बीरबल का बच्चा बनना | Akbar-Birbal Story: Birbal As A Child Story In Hindi

अकबर-बीरबल की प्रसिद्ध कहानियों में से या एक बहुत ही मनोरंजक किस्सा है। एक बार…

3 days ago

लालची मिठाईवाला की कहानी | Greedy Sweet Seller Story In Hindi

ये कहानी एक लालची मिठाई वाले रमेश की है। इसमें रमेश ने ज्यादा पैसे के…

5 days ago