गर्भधारण

गर्भधारण के लिए मेडिटेशन – क्या यह उपयोगी है?

आज के समय की बदलती लाइफस्टाइल और काम के दबाव के कारण किसी भी महिला के लिए गर्भधारण करना कई बार काफी मुश्किल हो जाता है। ऐसे हालात में, फर्टिलिटी क्षमता में सुधार लाने के लिए मेडिटेशन यानी ध्यान करना आपको एक बेहद अजीब सुझाव की तरह लग सकता है। लेकिन यह कई लोगों के जीवन और मानसिक स्वास्थ्य को बेहतर बनाने में फायदेमंद साबित हुआ है। हालांकि यह आपकी फर्टिलिटी क्षमता में सुधार ला सकता है या नहीं यह अभी तक वैज्ञानिक रूप से साबित नहीं हुआ है। पर ऐसी कई स्टडीज हुई हैं जिन्होंने शरीर पर मेडिटेशन के प्रभाव को दिखाया है, जो अप्रत्यक्ष तरीके से एक महिला की फर्टिलिटी क्षमता को बढ़ाने में मदद करता है।

क्या मेडिटेशन से गर्भधारण में करने में मदद मिलती है?

इस बात की कोई भी गारंटी नहीं दी जाती है कि ध्यान लगाने से गर्भधारण की संभावना बढ़ती है क्योंकि सफल गर्भाधान कई तरह के कारणों पर निर्भर करता है। हालांकि, मेडिटेशन शरीर को कई तरह के फायदे पहुंचाता है जैसे, यह आपके हाई ब्लड प्रेशर को कम करने में मदद करता है, ब्लड सर्कुलेशन को बढ़ाता है और मानसिक स्वास्थ्य को स्थिर रखता है। ये सभी एक साथ उन कुछ कारकों के प्रभाव को कम करते हैं जो प्रेग्नेंट होने में बाधा डालते हैं और एक इससे एक सफल प्रेगनेंसी की संभावना बढ़ती है।

ध्यान करने से प्रेगनेंसी की संभावना कैसे बढ़ती है ?

जहां कई फर्टिलिटी उपचारों में दवाओं का उपयोग किया जाता है, वहीं मेडिटेशन आपके शरीर को उसके असली फर्टिलिटी स्तर पर फिर से लाने करने में मदद करता है और साथ ही सामान्य तरीके से गर्भधारण करने की संभावना को बढ़ाता है। यहां बताया गया है कि कैसे मेडिटेशन गर्भवती होने की संभावनाओं को बेहतर बनाता है:

1. शरीर को रिलैक्स और स्वस्थ करता है

कई महिलाओं के लिए, मेडिटेशन करना आसान काम नहीं होता है और इसे सही तरीके से करना कई लोगों के लिए काफी मुश्किल हो जाता है। ऐसे में बेहतर होगा कि आप शरीर को धीरे-धीरे रिलैक्स करने की कोशिश करें। यह अन्य प्रकार के ध्यान की तुलना में आसान है और लगभग तुरंत परिणाम देता है। फर्टिलिटी क्षमता के लिए कुछ शांत संगीत सुनना और निर्देशित मेडिटेशन के साथ पॉडकास्ट सुनना आपके शरीर के कई हिस्सों को रिलैक्स होने में मदद करता है, और अंदर की प्रक्रिया को सही करने का काम करता है। अपनी प्रारंभिक प्रेरणा को बनाए रखने के लिए अपने पति के साथ मेडिटेशन करने का प्रयास करें।

2. प्रो-सेक्स हार्मोन को संतुलन में रखता है

सामान्य परिस्थितियों में और तनाव के समय में शरीर की अंदरूनी प्रक्रियाएं काफी अलग तरीके से काम करती हैं। प्रोजेस्टेरोन और कोर्टिसोल, ये दोनों हार्मोन एक महिला की फर्टिलिटी को बनाए रखने में अहम भूमिका निभाते हैं। तनाव का स्तर कोर्टिसोल के उत्पादन को तेजी से प्रभावित करता है। यह प्रोजेस्टेरोन को कोर्टिसोल के रूप में फिर से परिवर्तित करता है ताकि इसे जल्दी से उपयोग किया जा सके। इस तरह के बदलाव से हार्मोन का लेवल प्रोजेस्टेरोन में गिरावट के साथ कोर्टिसोल की ओर बढ़ता है। यह कॉम्बिनेशन अपने आप में इनफर्टिलिटी का कारण बनता है क्योंकि भ्रूण के इम्प्लांटेशन में प्रोजेस्टेरोन का होना जरूरी है। मेडिटेशन तनाव को कम करने और हार्मोन के लेवल को ऑप्टिमम मूल्यों पर रीसेट करने में मदद करता है।

3. इंसुलिन के प्रति प्रतिरोध में कमी

कुछ महिलाओं के शरीर में इंसुलिन की मौजूदगी के प्रति स्वाभाविक रूप से एक स्ट्रांग रेजिस्टेंस यानी प्रतिरोध होता है। इस तरह की प्रवृत्ति सीधे ओवुलेशन को प्रभावित करती है और पॉलीसिस्टिक ओवेरियन सिंड्रोम का कारण बनती है, जिसका संबंध बांझपन से है। कभी-कभी, अधिक तनाव लेना इस स्थिति को और भी बदतर बना देता है, क्योंकि कोर्टिसोल हार्मोन ग्लूकोज के अवशोषण पर नकारात्मक प्रभाव डालता है, जिससे इंसुलिन से जुड़ी समस्याएं होती हैं। मेडिटेशन, खासकर जो बेहतरीन पद्धति का होता है, वह शरीर में इंसुलिन के प्रति बाधा को कम करता है, और एक महिला के लिए चीजों को बेहतर बनाता है। हालांकि, यह मेडिटेशन की प्रैक्टिस अभी भी क्लीनिकल रूप से सिद्ध नहीं है, इसलिए आपको इस प्रकार के ध्यान का अभ्यास करने से पहले अपने डॉक्टर से सलाह जरूर लेनी चाहिए।

4. कोर्टिसोल के स्तर को कम करता है

कोर्टिसोल शरीर के लिए कई तरह से जरूरी है क्योंकि यह मुसीबत के समय में स्रावित होने वाले अहम हार्मोन में से एक है। यह कई बार एंडोक्राइन सिस्टम पर अतिरिक्त भार डालता है ताकि यह शरीर की रक्षा करने में मदद कर सके। इसके प्रभावों में से एक है ल्यूटिनाइजिंग हार्मोन के स्तर में भारी कमी आना। प्रोलैक्टिन के स्तर को पर्याप्त रखते हुए, महिला को उचित ओवुलेशन के लिए महीने के आधार पर इस हार्मोन के सही स्तर को बनाए रखने की आवश्यकता होती है। अत्यधिक तनाव ओवुलेशन और पीरियड को पूरी तरह से बंद कर देता है और रिप्रोडक्टिव सिस्टम को अत्यधिक नुकसान पहुंचाता है। एकचित्त होकर ध्यान लगाने से, तनाव के स्तर को धीरे-धीरे कम किया जाता है और ओवुलेशन धीरे-धीरे सामान्य हो जाता है।

मेडिटेशन कैसे करें?

मेडिटेशन को एक उचित वातावरण में, सभी व्याकुलता से मुक्त होकर करना चाहिए। ध्यान रखें कि आपके पास आराम से बैठने की जगह हो, लेकिन ऐसा नहीं कि आप सो जाएं। ऐसे कपड़े पहनें जिसमें आसानी से सांस ली जा सके। गहरी सांस लेते हुए और अपने दिमाग को साफ करके इसकी शुरुआत करें। सक्रिय रूप से किसी भी विचार को रोकने की कोशिश न करें। बस उनको ऑब्जर्व करें और जाने दें। यह करना शुरुआत में थोड़ा मुश्किल होता है इसलिए यदि आप इसमें असफल होती हैं तो अपने आप पर ज्यादा जोर न डालें। हर बार जब आप समझती हैं कि आपका मन विचलित है, तो अपना पूरा फोकस अपनी सांस लेने की प्रक्रिया पर वापस लाएं। विचलित होने के लिए कभी भी खुद को गलत न समझें।

फर्टिलिटी क्षमता बढ़ाने के लिए किए जाने वाले मेडिटेशन के प्रकार

कुछ प्रसिद्ध मेडिटेशन तकनीकों के बारे में जानना जो आपकी फर्टिलिटी क्षमता को बढ़ाती हैं, महिलाओं के लिए एक अच्छी शुरुआत के रूप में काम करता है। कृपया ध्यान दें कि नीचे बताई गई एक्सरसाइज क्लीनिकल रूप से सिद्ध नहीं हैं, इसलिए मेडिटेशन के इन तरीकों का अभ्यास करने से पहले यह जरूरी है कि आप अपने डॉक्टर से सलाह ले लें।

1. अपने बाएं नॉस्ट्रिल से सांस लें

योगिक के क्षेत्र में, एक प्रकार की एनर्जी होती है जिसे फीमेल मून एनर्जी कहा जाता है जो एक महिला की फर्टिलिटी क्षमता को बढ़ाने में मदद करती है। यह आपके दाहिने नॉस्ट्रिल को बंद करके, भौंहों के बीच की जगह में एक फोकस पॉइन्ट बनाए रखने और सुबह लगभग दस मिनट तक गहरी सांस लेने से हासिल किया जाता है। इस प्रकार से सांस लेना शरीर और मन को शांत करता है, तनाव को प्रभावी ढंग से कम करता है और फर्टिलिटी क्षमता को बढ़ाता है।

2. मेडिटेशन का जप करें

जप करना भी ध्यान करने का एक प्रभावी तरीका है जो उन लोगों के लिए मददगार है जिन्हें अपने दिमाग को केंद्रित करने और शांत करने में परेशानी होती है। ऐसे शब्दों को चुनें जो आपके अंदर गूंजते हों या पावरफुल आत्म-पुष्टि मंत्र जप के लिए एक बढ़िया विकल्प हों। अपनी आंखें बंद करके और गहरी सांस लेकर उन्हें धीरे-धीरे दोहराना आपके अवचेतन को प्रभावित करता है और आपकी आत्मा और आपके शरीर में एनर्जी को बहाल करने की दिशा में काम करता है। गर्भावस्था के लिए तैयार कुछ मंत्र फर्टिलिटी क्षमता को भी बढ़ाते हैं।

3. ड्रीमी मेडिटेशन

सफलतापूर्वक मेडिटेशन करने की क्षमता को अनलॉक करने के लिए कल्पना शक्ति का उपयोग करना एक शानदार तरीका है। ड्रीमी मेडिटेशन या ड्रीम्स्केप में, किसी भी विचार या छवि की कल्पना करने की सलाह दी जाती है जो आपको अपना ध्यान बनाए रखने में मदद करती है। यह शरीर के अंदर खुशी और संतोष की भावना पैदा करने में भी मदद करता है। एडवांस स्टेज में, आपके रिप्रोडक्टिव अंगों की ओर बहने वाली एनर्जी या कोमलता की कल्पना करना भी इसमें काम करेगा।

4. बर्स्ट मेडिटेशन

आज कल की महिलाओं के लिए जो अपने घर और काम को संतुलित कर रही हैं, बर्स्ट मेडिटेशन एक्टिविटी अपने व्यस्त रूटीन में फिट करने का एक आसान तरीका है। बर्स्ट मेडिटेशन दिन में छोटे-छोटे खाली समय का उपयोग करता है। बैंक में इंतजार करते समय, डॉक्टर के पास, या दोपहर के खाने के 10 मिनट बाद, इन सभी समय का उपयोग जल्दी से ध्यान करने के लिए किया जाता है। ऑफिस से कार तक की सीढ़ियां गिनने जैसी साधारण एक्टिविटी आपके दिमाग को तेजी से शांत करती है।

5. निर्देशित मेडिटेशन

कई लोगों द्वारा फर्टिलिटी क्षमता के लिए निर्देशित मेडिटेशन की सलाह दी जाती है। यह आमतौर पर उन लोगों के लिए अच्छा होता है जो सामान्य शांत तरीके से ध्यान नहीं करते या जप करने से इनका ध्यान भटकता है। निर्देशित ध्यान एक गाइड का उपयोग करता है जो श्रोता को सफलतापूर्वक ध्यान करने के लिए विशिष्ट क्रियाओं को करने में मदद करता है। शुरुआती लोगों के लिए खुद को मेडिटेशन से पहचान कराने का यह एक शानदार तरीका है, और इसमें कई प्रेगनेंसी से जुड़ी गाइड भी हैं, जो सकारात्मक पुष्टि को ठीक से मेडिटेट करने में मदद करती हैं।

कब तक मेडिटेशन करें

एक निश्चित समय के लिए मेडिटेशन करना शुरू करें जैसे कि 10 मिनट और फिर समय को बढ़ाकर लगभग आधा घंटा कर दें। लेकिन याद रखें, मेडिटेशन को ठीक से करना आपको फायदा पहुंचाती है न कि देर तक करना।

स्वस्थ प्रजनन प्रणाली के लिए प्री कॉन्सेप्शन ब्रीदिंग (पूर्वधारणा श्वास) तकनीक

सांस लेने की एक सरल तकनीक है जिसे महिलाएं अपने रिप्रोडक्टिव सिस्टम को स्वस्थ्य रखने के लिए अपना सकती हैं।

  • गहरी सांस लें
  • सांस को लगभग 4 सेकंड के लिए रोक कर रखें
  • फिर इसे धीरे-धीरे छोड़ें
  • 4 सेकंड तक इंतजार करें और फिर से सांस अंदर खींचे

मेडिटेशन को अधिक प्रभावी बनाने के टिप्स

हालांकि मेंडिटेशन शुरुआत में मुश्किल भरा लगता है, लेकिन कुछ टिप्स हैं जिनका उपयोग करके आप इसे प्रभावी और आसान बना सकती हैं।

  • शांति से सांस लेने के लिए अपने पति के साथ शारीरिक मसाज या आलिंगन करें।
  • रिलैक्स होने का माहौल बनाने के लिए खुशबू वाली कैंडल और गंध का उपयोग करें।
  • सही मूड सेट करने के लिए कुछ सुकून देने वाला संगीत सुनें।

क्या पति के साथ मेडिटेशन करने से गर्भधारण की संभावना बढ़ती है?

आपकी फर्टिलिटी क्षमता में सुधार लाने के मामले में, मेडिटेशन अप्रत्यक्ष रूप से फायदेमंद होता है, लेकिन अपने पार्टनर के साथ मेडिटेशन करने से शरीर में मौजूद तनाव को भी कम करने में मदद मिलती है। यह उनके शुक्राणु के स्वास्थ्य में सुधार लाने और गर्भधारण की संभावना को बढ़ाने में अद्भुत तरीके से काम करता है।

क्या होगा यदि आप ध्यान करने में असमर्थ हों?

यदि आप मेडिटेशन करना जल्दी नहीं सीख पाती हैं तो दुखी न हों। कई लोगों को यह मुश्किल लगता है और कुछ इसे लंबे समय तक नहीं कर पाते हैं। फिर भी, रिलैक्स करने के लिए निर्देशित मेडिटेशन या शांत संगीत का उपयोग करें या यदि आप कर सकती हैं तो एक अच्छा स्पा ट्रीटमेंट लें। मेडिटेशन का अहम मकसद है रिलैक्स होना और इसे हासिल करने के कई तरीके हैं।

जब आप अपनी फर्टिलिटी क्षमता में सुधार लाने के बारे में सोचती हैं तो प्री कॉन्सेप्शन मेडिटेशन का उपयोग करना आपकी लिस्ट में पहला पॉइंट नहीं होता है। हालांकि, यह निश्चित रूप से कोशिश करने लायक तकनीक है। फर्टिलिटी क्षमता इस बात का परिणाम होती है कि आपका शरीर कितना संतुलित है, और मेडिटेशन उस संतुलन को बनाए रखने में मदद करता है।

यह भी पढ़ें:

जल्द गर्भधारण के लिए सर्वश्रेष्ठ घरेलू उपचार
गर्भवती होने के लिए सही वजन क्या होना चाहिए?
गर्भधारण करने के लिए कब और कितनी बार संभोग करना चाहिए?

समर नक़वी

Recent Posts

अकाय नाम का अर्थ, मतलब और राशिफल – Akaay Name Meaning in Hindi

जब किसी सेलिब्रिटी का बेबी होता है लोगों में उसका नाम जानने की बहुत उत्सुकता…

4 days ago

शेखचिल्ली की कहानी: सात परियां और मूर्ख शेख चिल्ली | Sheikh Chilli’s Story: Seven Fairies and the Fool Sheikh Chilli In Hindi

यह कहानी शेख चिल्ली नाम के लड़के की है, जो बचपन से ही बहुत आलसी…

6 days ago

महाभारत की कहानी: चक्रव्यूह में अभिमन्यु का वध l The Story Of Abhimanyu Vadh In Hindi

यह महाभारत की कहानी उन अनेक कथाओं में से एक कथा है जो बच्चों को…

6 days ago

भूखी चिड़िया की कहानी | The Hungry Bird Story In Hindi

यह कहानी टीकू चिड़िया और उसके परिवार की है, जिसे एक भली महिला रोजाना खाना…

7 days ago

श्री कृष्ण और कालिया नाग की कहानी | The Story Of Shri Krishna And Kaliya Snake In Hindi

भगवान कृष्ण ने अपने बचपन में कई राक्षसों का वध किया था। कालिया नाग को…

7 days ago

पुस्तकालय पर निबंध (Essay On Library In Hindi)

पुस्तकालय एक ऐसी जगह होती है जहां कई तरह की ज्ञानवर्धक पुस्तकें, जानकारियां, अनुसंधान, सूचनाएं…

1 week ago