गर्भधारण

बिना संभोग के गर्भवती कैसे हों

आमतौर पर, एक बच्चे को जन्म देने के लिए महिला और पुरुष बिना किसी निरोध का इस्तेमाल किए शारीरिक संबंध बनाते हैं। हालांकि, कई बार ऐसे मामले भी होते हैं जहां गर्भधारण का यह पारंपरिक तरीका काम नहीं कर सकता है।

बांझपन से जुड़ी मेडिकल समस्याएं संभोग के जरिए प्रेग्नेंट होना मुश्किल कर देती हैं, इसके अलावा कई ऐसी स्थितियां होती हैं जिनमें गर्भधारण करने के लिए एक अलग नजरिए की जरूरत होती है। एक अकेली महिला या समलैंगिक रिश्ते में होने वाले कपल को बच्चा पाने की खुशियों से वंचित नहीं रखा जाना चाहिए। एक महिला कई तरीकों से गर्भवती हो सकती है, यहां तक ​​कि बिना संभोग किए भी। 

यह देखते हुए कि माता-पिता बनने वालों के सपनों को साकार करने के लिए प्राकृतिक तरीके से गर्भधारण करने का पारंपरिक तरीका जो काम नहीं कर रहा है या जिसे नियोजित किया जा सकता है, उसके अलावा भी पर्याप्त विकल्प मौजूद हैं। मेडिकल विज्ञान ने काफी तरक्की कर ली है, जिसमे संभोग के बिना गर्भधारण करना और एक स्वस्थ बच्चे को जन्म देना भी संभव हो चुका है।

संभोग के बिना गर्भवती होने के तरीके

नीचे बताए गए उपाय, आपको ‘अलग’ तरीके से गर्भवती होने में मदद कर सकते हैं।

1. इन-विट्रो फर्टिलाइजेशन (आईवीएफ)

कुछ मामलों में, महिला बच्चे को गर्भ में रखने के लिए तो पर्याप्त स्वस्थ होती है, लेकिन उसके अंडे का फर्टिलाइज होना एक समस्या होती है। ऐसे में आईवीएफ उपचार अहम भूमिका निभाता है। आईवीएफ देश भर के कई इनफर्टिलिटी क्लीनिकों में उपलब्ध है और यह प्रक्रिया काफी सीधी भी है। महिला के अंडे के उत्पादन को बढ़ावा देने के लिए दवा दी जाती है, और फिर अंडे को बाहर निकाला जाता है। फिर उसे ऐसी परिस्थितियों में रखा जाता है जहां उसे महिला की पसंद के शुक्राणु के साथ फर्टिलाइज किया जाता है। फर्टिलाइजेशन के बाद एक बार भ्रूण के सफलतापूर्वक बनने के बाद, एक कैथेटर का उपयोग करके महिला गर्भाशय को खोलकर भ्रूण को अंदर डाल दिया जाता है। इस दौरान कुछ महिलाओं को पेट में थोड़ा दर्द और ऐंठन महसूस होती है क्योंकि भ्रूण गर्भाशय के अंदर इम्प्लांट करने का प्रयास करता है। यह गर्भवती होने का एक बेहतरीन तरीका है, लेकिन यह प्रक्रिया काफी महंगी होती है।

2. ‘टर्की बस्टर’ तकनीक

इस तकनीक के बारे में बहुत कम लोग जानते होंगे, जबकि जानने वाले इसे एक जल्द और आसान तरीका मानते हैं। यह तकनीक ज्यादातर एक ही लिंग के कपल द्वारा अपनाई जाती है, इसकी तुलना आर्टिफिशियल इनसेमिनेशन से की जाती है। और हां, आप इस तकनीक के लिए रियल टर्की बस्टर का उपयोग नहीं करते हैं!

इसके स्टेप्स बहुत ही सरल हैं। शुक्राणु को किसी जान पहचान वाले व्यक्ति या स्पर्म बैंक से हासिल करने की जरूरत होती है। फिर स्पर्म को इकट्ठा करने के लिए एक इनसेमिनेशन सिरिंज का उपयोग किया जाता है, जिसे बाद में महिला की योनि के अंदर डाला जाता है, जिससे शुक्राणुओं को अंदर ही अंदर गर्भाधान करने दिया जाता है। इस प्रक्रिया में दर्द नहीं होता है और साथ ही ठीक होने का कोई समय नहीं है क्योंकि यह एक मेडिकल प्रक्रिया नहीं है। शुक्राणु को बाहर फैलने से रोकने के लिए पेल्विक के हिस्से को कुछ मिनटों के लिए ऊपर की ओर उठाने की सलाह दी जाती है।

ध्यान रखें कि घर पर इनसेमिनेशन का प्रयास करते समय कुछ बहुत ही अहम बातों को जानना जरूरी है। इससे पहले कि आप इसके साथ आगे बढ़ें, सुरक्षा सावधानियों को समझने के लिए, क्या करें और क्या न करें जानने के लिए और इस मेथड के जरिए आपके गर्भधारण की संभावना कितनी बढ़ जाती है यह पूछने के लिए अपने डॉक्टर से बात करें।

  • अपने पीरियड को ट्रैक करें और ध्यान रखें कि आप जिन तारीखों में प्रक्रिया कर रही हैं, वे आपके फर्टाइल समय में हैं, यानी, आपकी ओवुलेशन डेट के करीब हैं।
  • शुक्राणु को गर्भाशय या सर्विक्स में डालने का प्रयास न करें, क्योंकि यह बेहद खतरनाक हो सकता है। शुक्राणु को केवल योनि में ही डाला जाना चाहिए।
  • योनि में शुक्राणु डालने के लिए एक नई, साफ, बिना सुई के डिस्पोजेबल सिरिंज का प्रयोग करें। वहीं सीमेन को एक साफ, सूखे पात्र में इकट्ठा करें, फिर इसे सिरिंज में खींच लें।
  • इस बात का ध्यान रखें कि सिरिंज में कोई हवा नहीं है, क्योंकि हवा के बुलबुले से एम्बोलिज्म हो सकता है जो काफी खतरनाक होता है।
  • याद रखें कि यह इनसेमिनेशन मेथड (गर्भाधान विधि) आपको यौन रोगों से नहीं बचाता है।

3. यूट्रस के अंदर इनसेमिनेशन

यह मेडिकल तकनीक काफी एडवांस है, जिसे आईयूआई कहा जाता है, जो टर्की बस्टर तकनीक और आईवीएफ का एक मिला-जुला रूप है। यह आमतौर पर उन कपल द्वारा चुना जाता है जहां पुरुष पार्टनर का फर्टिलिटी लेवल कम होता है या ऐसी अकेली महिलाएं जो बच्चा पैदा करने के लिए हेल्दी होती हैं, वे इसे चुन सकती हैं। ओवुलेशन के दौरान, अंडा गर्भाशय में पहुंचता है, शुक्राणु द्वारा फर्टिलाइजेशन की प्रतीक्षा करता है। आईयूआई में महिला किसी डोनर या बैंक से स्पर्म का इंतजाम करती है। फिर एक मेडिकल प्रोफेशनल तब शुक्राणु को गर्भाशय के अंदर एक कैथेटर का उपयोग करके अंडे के करीब डालता है। यह प्रक्रिया पैप स्मीयर टेस्ट के समान है। पेल्विक को ऊपर की ओर झुकाकर लेटने से फर्टिलाइजेशन की संभावना को बढ़ाने में मदद मिलती है। ज्यादातर महिलाओं को केवल मामूली दर्द महसूस होता है, और वे कुछ ही समय में अपने सामान्य जीवन को फिर से शुरू कर सकती हैं। हालांकि, इस प्रक्रिया को सफल होने तक इस पूरी साइकिल को दोहराना पड़ता है।

4. स्प्लैश प्रेगनेंसी

कभी-कभी, पुरुष और महिला, इरेक्टाइल डिसफंक्शन या वेजिनीस्मस जैसी समस्या का सामना करने के कारण एक सफल संभोग करने में विफल हो जाते हैं। इससे या तो सेक्स करना मुश्किल हो जाता है या दर्द होता है। हालांकि, अभी भी कपल के लिए गर्भवती होने की कोशिश करने का एक तरीका है। कई युवाओं को सुरक्षा का उपयोग करने की सलाह दी जाती है क्योंकि योनि में शुक्राणु के मामूली संपर्क से भी महिला गर्भवती हो सकती है। यह वही है जो एक कपल द्वारा करना चाहिए, जितना हो सके योनि के करीब आकर इजैक्युलेशन करें, ताकि आप इसका फायदा उठा सकें। कुछ महिलाएं एक निश्चित गहराई तक प्रवेश को सहन कर सकती हैं। यह और भी बेहतर है क्योंकि योनि के अंदर इजैक्युलेशन होता है और गर्भधारण की संभावना को बढ़ाने के लिए महिला अपने पेल्विक को ऊपर की ओर उठा सकती है।

इस तरीके से सफलता मिलने की कोई गारंटी नहीं है, लेकिन आप किसी अन्य तरीके के चुनाव से पहले हमेशा ऐसा करना जरूर चुन सकती हैं।

5. सरोगेट बेबी

कुछ कपल में, एक या दोनों पार्टनर ही इन्फर्टाइल होते हैं, या महिला के पास इतना मजबूत गर्भाशय नहीं होता है कि वह बच्चे को उसमें रख सके। लेकिन फिर भी कपल अपना खुद का बच्चा चाहते हैं। और यह सरोगेसी के जरिए हासिल किया जा सकता है। पुरुष के शुक्राणुओं और महिला के अंडे को एक लैब में मिक्स किया जाता है ताकि फर्टिलाइजेशन और भ्रूण बनने की अनुमति मिल सके। इस भ्रूण को फिर आपके पसंद की सरोगेट महिला के गर्भ में रखा जाता है, जो गर्भावस्था की पूरी अवधि तक बच्चे को रखेगी और फिर जन्म के बाद उसे उसके असली माता-पिता को सौंप देगी। बेशक, सरोगेसी एक महंगा विकल्प है जिसमें फीस और अन्य खर्चों को ध्यान में रखा जाता है।

अब, यह निश्चित रूप से बहस का विषय है कि क्या आप ‘तकनीकी रूप से’ गर्भवती होंगी यदि आपके पास अपने बच्चे को कैरी करने वाली सरोगेट है। लेकिन इसमें कोई शक नहीं, यह बच्चा पूरी तरह से आपका अपना होगा।

बिना संभोग के गर्भवती होने के कई तरीके हैं, और हर एक तरीके के अपने-अपने फायदे हैं और इसके साथ ही इसे जुड़े खर्चे भी हैं। कुछ मामलों में संभोग एक विकल्प या संभावना नहीं होता है, और यही वह जगह है जहां मेडिकल साइंस आपके बचाव में आगे आता है। हालांकि, यदि इनमें से कोई भी तरीका काम नहीं करता है, तो अपने आप एक बच्चे को गोद लेने का भी रास्ता खुला रख सकती हैं, क्योंकि यह आपको माता-पिता बनने की खुशी जरूर देगा।

यह भी पढ़ें:

जल्दी और आसानी से गर्भधारण कैसे करें
ओवुलेशन के बिना गर्भावस्था – क्या यह संभव है?
जल्द गर्भवती होने के लिए सर्वश्रेष्ठ संभोग स्थितियाँ

समर नक़वी

Recent Posts

श्रेया नाम का अर्थ, मतलब और राशिफल – Shreya Name Meaning in Hindi

हम आपको इस लेख के जरिए श्रेया जैसे बेहतरीन नाम का मतलब, राशि और इन…

2 days ago

साक्षी नाम का अर्थ, मतलब और राशिफल – Sakshi Name Meaning in Hindi

कुछ लड़कियों का नाम इतना यूनीक और प्यारा होता है कि हर कोई उनके माता-पिता…

2 days ago

शिवानी नाम का अर्थ, मतलब और राशिफल – Shivani Name Meaning in Hindi

किसी भी इंसान के जीवन में उसके नाम का काफी योगदान होता है। आपको शायद…

2 days ago

प्रिया नाम का अर्थ, मतलब और राशिफल – Priya Name Meaning in Hindi

कुछ नाम ऐसे होते हैं जो रखे ही उन लोगों के लिए जाते हैं, जो…

2 days ago

प्रीति नाम का अर्थ, मतलब और राशिफल – Priti Name Meaning in Hindi

बेटियां जितनी प्यारी होती हैं माता-पिता उनका उतना ही प्यारा नाम रखने की कोशिश करते…

4 days ago

शुभम नाम का अर्थ, मतलब और राशिफल – Shubham Name Meaning in Hindi

बच्चे का आपके घर में जन्म लेना ही इस बात का सबूत है कि ईश्वर…

4 days ago