मैगज़ीन

फादर्स डे कब है और क्यों मनाया जाता है?

फादर्स डे अपने पिता और उन सभी लोगों, जो जिंदगी में पिता जैसा स्थान रखते हैं, उनके प्रति अपने प्यार और सम्मान को दर्शाने का एक बेहतरीन मौका होता है। आज फादर्स डे पूरी दुनिया में मनाया जाता है। यह दिन अपने पिता और पिता समान लोगों को उनके प्यार और सपोर्ट के प्रति धन्यवाद देने के लिए 1910 में यूएसए में शुरू किया गया था। लेकिन क्या आपने कभी ये सोचा है कि फादर्स डे क्यों मनाया जाता है और इसकी शुरुआत हुई कैसे थी। वह पहला इंसान कौन था जिसने यह महसूस किया कि एक पिता को उसके किए गए कर्तव्यों के लिए मान देना चाहिए। हालांकि यह दिन अब दुनिया भर में लाखों लोग मनाते हैं, लेकिन फादर्स डे के इतिहास के बारे में बहुत कम लोगों को पता होता है। तो आइए जानें कि हर पापा, डैडी, डैड, पा और बाबा के लिए मनाए जाने वाले इस खास दिन के पीछे की कहानी क्या है।

ऐसे हुई शुरुआत फादर्स डे मनाने के पीछे की कहानी

इस बात को अब 100 साल से भी ज्यादा समय हो चुका है जब अमेरिका के अरकंसास में एक लड़की सोनोरा स्मार्ट डोड मदर्स डे मनाने के लिए गई थी। साल था 1909। सोनोरा के बचपन में ही उसकी माँ की मृत्यु हो चुकी थी, और उसके पिता, विलियम स्मार्ट ने ही उसे पालपोसकर बड़ा किया था। विलियम सिविल वॉर लड़ चुके थे और पत्नी के गुजरने के बाद उन्होंने अकेले ही अपने 6 बच्चों को पालापोसा था।

जिस तरह दुनिया भर में माओं का सम्मान करने के लिए मदर्स डे मनाया जाता था, सोनोरा ने महसूस किया कि पिता के प्रति कृतज्ञता दर्शाने के लिए भी एक दिन होना चाहिए क्योंकि वे भी बच्चों की परवरिश में बहुत बड़ी भूमिका निभाते हैं। उसने चर्च में पादरी को यह विचार सुझाया। पादरी ने विचार को गंभीरता से लिया और सोनोरा से इस दिन को मनाए जाने के लिए एक उचित दिन सुझाने को कहा। सोनोरा ने 5 जून, जो उसके पिता का बर्थडे होता था, उस दिन फादर्स डे मनाने का सुझाव दिया। चूंकि यह दिन पास आ गया था और पादरी के पास कार्यक्रम की तैयारी के लिए वक्त नहीं बचा था, तो जून के तीसरे रविवार को इसे मनाने का निर्णय लिया गया। बस तभी से, जून के तीसरे रविवार को फादर्स डे मनाया जाने लगा।

फादर्स डे का इतिहास

सोनोरा की पहल के बाद लोकल पादरी ने भी इस विचार को मंजूरी दे दी और अगले ही साल यानी 19 जून 1910 को पहली बार सार्वजनिक तौर पर फादर्स डे मनाया गया। बाद में यूएसए के अन्य हिस्सों में भी लोगों ने उसी समय के आसपास यह दिन मनाना शुरू कर दिया। बाद में 1924 में राष्ट्रपति केल्विन कूलिज ने नेशनल फादर्स डे को मनाने के विचार को मंजूरी दी और 1956 में, कांग्रेस के संयुक्त प्रस्ताव द्वारा इस दिवस को मनाने के विचार को मान्यता मिली। आखिरकार 1966 में, राष्ट्रपति लिंडन जॉनसन ने आधिकारिक रूप से हस्ताक्षर करके घोषणा की कि हर साल जून के तीसरे रविवार को फादर्स डे के रूप में मनाया जाएगा।

फादर्स डे क्यों मनाया जाता है

आज, फादर्स डे न केवल आपको जन्म देने वाले बल्कि आपके जीवन में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाले हर पिता समान व्यक्ति को धन्यवाद और सम्मान देने के लिए मनाया जाता है, फिर चाहे वो आपके दादा, नाना, सौतेले पिता, चाचा या बड़ा भाई हो क्यों न हो। यदि आप किसी ऐसे व्यक्ति को जानते हैं जो इस सम्मान को पाने का अधिकारी है, तो इस दिन का उपयोग करके उसके प्रति अपनी भावनाओं को जाहिर करें और उसके किए गए कर्तव्यों और कामों की स्तुति करें।

फादर्स डे कब मनाया जाता है?

फादर्स डे का कांसेप्ट भले संयुक्त राज्य अमेरिका से निकला हो, लेकिन इसे जल्द ही दुनिया के दूसरे देशों के लोगों द्वारा भी अपना लिया गया। यद्यपि इसे सेलिब्रेट करने के पीछे का विचार सभी जगह एक जैसा होता है, फिर भी इसे मनाने का समय बदलता रहता है। संयुक्त राज्य अमेरिका, यूनाइटेड किंगडम, भारत, कनाडा, चीन और जापान में, फादर्स डे जून के तीसरे रविवार को मनाया जाता है। लेकिन ऑस्ट्रेलिया और न्यूजीलैंड में, यह दिन सितंबर महीने के पहले रविवार को सेलिब्रेट होता है। इटली, स्पेन और स्विट्ज़रलैंड में, यह 19 मार्च को मनाया जाता है और मिस्र व संयुक्त अरब अमीरात (यूएई) में, इसे 21 जून को मनाने का रिवाज है।

फादर्स डे का महत्व

तो फादर्स डे के इतिहास के बारे में जानकर यह दिन और भी खास लगने लगा है न? वह व्यक्ति जो आपके लिए और पूरे परिवार के लिए कड़ी मेहनत करता है वह निश्चित रूप से धन्यवाद और प्रशंसा का हकदार होता है। चाहे आप कितने भी व्यस्त हों, इस दिन को अपने बच्चों के साथ अपने पिता से मिलने और उनके लिए कुछ खास करने के लिए रिजर्व रखें। अपने खुद के पिता के साथ आपको फादर्स डे सेलिब्रेट करते हुए देखकर आपके बच्चों के सामने आपकी और बेहतर इमेज बनेगी, और वे भी अपने डैड को फादर्स डे पर मान देने के लिए उत्साहित होंगे।

फादर्स डे पर सम्मान देने का सही तरीका

वैसे तो हमें अपने पिता को हमेशा ही सम्मान देना चाहिए लेकिन फादर्स डे पर उनके लिए ऐसा कुछ खास करना चाहिए जो उन्हें हमेशा याद रह जाए। फादर्स डे पर सम्मान देने का सही तरीका यह है कि आप कितने भी व्यस्त हों, इस दिन को पूरी तरह अपने पापा के साथ बिताएं। उनके लिए प्यारे कोट्स पढ़ें या मैसेज करें, अगर वे सिनेमा के शौकीन हों तो उनके साथ ऐसी पिता और बच्चों के बीच की बॉन्डिंग दिखाने वाली फिल्में देखें हों। या फिर उनके प्रति आभार प्रकट करती हुई कोई कवित पढ़ें या गाना गाएं। कहने का अर्थ यही है कि इस बार फादर्स डे को अपने पापा के लिए एकदम यादगार बना दें।

श्रेयसी चाफेकर

Recent Posts

पंचतंत्र की कहानी: ब्राह्मणी और तिल के बीज | Panchatantra Story: Brahmani And Sesame Seeds In Hindi

यह कहानी एक निर्धन ब्राह्मण और उसकी पत्नी की है। भिक्षाटन से जीवन चलाने वाले…

5 days ago

हाथी और दर्जी की कहानी | The Elephant And The Tailor Story In Hindi

यह कहानी है एक पुजारी और उसके पालतू हाथी की है, जो रोजाना पुजारी के…

5 days ago

शेर और हाथी की कहानी | Lion And Elephant Story In Hindi

शेर और हाथी की इस कहानी में शेर अपनी ताकत पर बैठा अफसोस कर रहा…

5 days ago

एक घमंडी हाथी और चींटी की कहानी | Elephant & Ant Story In Hindi

घमंडी हाथी और चींटी की कहानी में दुष्ट हाथी सबको बहुत परेशान किया करता था…

5 days ago

अकबर-बीरबल की कहानी: बीरबल का बच्चा बनना | Akbar-Birbal Story: Birbal As A Child Story In Hindi

अकबर-बीरबल की प्रसिद्ध कहानियों में से या एक बहुत ही मनोरंजक किस्सा है। एक बार…

6 days ago

लालची मिठाईवाला की कहानी | Greedy Sweet Seller Story In Hindi

ये कहानी एक लालची मिठाई वाले रमेश की है। इसमें रमेश ने ज्यादा पैसे के…

1 week ago