शिशु

क्या माता पिता को पेरेंटिंग क्लास जाना चाहिए – फायदे नुकसान

मुझे यकीन है कि हर माता-पिता एक बात से सहमत होंगे – बच्चों को पालना सबसे मुश्किल कामों में से एक है और आज कल थोड़ी मदद की उम्मीद हर कोई करता है। समय के साथ चलने के लिए आप पेरेंट्स के रूप में हमेशा अपने बच्चे के साथ बात-चीत को बेहतर बनाने के लिए अलग-अलग तकनीकों, क्लासेस और यहां तक ​​कि तरीकों को आजमाने के लिए उत्सुक रहती होंगी।

पेरेंटिंग क्लासेस क्या होते हैं

पेरेंटिंग क्लासेस का इस्तेमाल इसलिए किया जाता है ताकि आप अपने बच्चे के विकास, विभिन्न प्रकार के पालन-पोषण और अनुशासन शैलियों का सामना करने का तरीका जान सकें, बच्चे के साथ प्रभावी ढंग से बात कर सकें और उसके अंदर लगातार बदलती भावनाओं से निपटना सीख सकें। ये क्लासेस आपको सही रिसोर्सेज प्रदान करती हैं और आपके स्किल को विकसित करने और बेहतर बनाने में मदद करती हैं। साथ ही आपको अपने बच्चे के साथ बात करते समय घर पर उपयोग करने के लिए विभिन्न तकनीकों पर शिक्षित करती हैं।

ये क्लासेस कई तरह के विषयों को कवर करती हैं और आपको माता-पिता होने के जरूरी सबक और सुझाव देती है कि आप अपने बच्चों की परवरिश कैसे कर सकती हैं। वैसे तो आपकी स्थिति के अनुसार विभिन्न प्रकार की पेरेंटिंग क्लासेस हैं। उदाहरण के लिए, बच्चे की पेरेंटिंग क्लासेस में, ज्यादातर विषय बच्चे की देखभाल के बुनियादी मुद्दों जैसे स्नान, कपड़े बदलना और उसे ब्रेस्टफीड करवाना या फिर इमरजेंसी में कैसे देखभाल की जाती है और फर्स्ट ऐड के इर्द-गिर्द घूमते हैं।

इन क्लासेस में हिस्सा लेने से अक्सर आपको बुनियादी पेरेंटिंग स्किल सीखने, अपने बच्चे के साथ सकारात्मक मार्गदर्शन का उपयोग करने का अवसर मिलता है और बच्चे की परवरिश के बारे में एक सेफ सेटिंग में प्रश्न पूछने की अनुमति भी मिलती है। ये क्लासेस उन पेरेंट्स से दोस्ती करने का जरिया भी हैं जो एक जैसी पेरेंटिंग दुविधाओं से जूझते हैं।

माता-पिता को पेरेंटिंग क्लास क्यों लेनी चाहिए

इन दिनों पेरेंटिंग क्लासेस इनकॉरपोरेट रिसर्च, फिलॉसफी और मौजूदा अनुभव ज्ञान को आपकी पेरेंटिंग स्टाइल में शामिल करना पसंद करती हैं। ऐसे पर्याप्त परिणाम लाने के लिए यह क्लासेस काफी फायदेमंद साबित हुई हैं और हम मानते हैं कि पेरेंटिंग क्लासेस लेने के कई फायदे हैं जैसे कि:

1. बेहतर परिणाम के लिए रिसर्च करना

पेरेंटिंग क्लासेस और वर्कशॉप आपको अलग-अलग पेरेंटिंग मेथड पर अलग-अलग स्टडीज और रिसर्च पर अपडेट रहने में मदद करते हैं। इसके परिणाम स्वरूप यह बच्चे के साथ आपके संबंधों को प्रभावित कर सकता है। बदलती दुनिया के साथ आपका बच्चा कैसे विकसित हो रहा है, इस पर वैज्ञानिक डेटा महत्वपूर्ण साबित होता है, खासकर जब उसके मनोविज्ञान की समझ की बात आती है। अपनी पेरेंटिंग स्किल को बेहतर बनाने और गलतियां करने से बचने के लिए इसका उपयोग जरूर करें।

2. पेरेंटिंग स्किल की बुनियादी बातों में विशेषज्ञता हासिल करना

यदि आपने अपने छोटे भाई-बहन को पालने या उन्हें संभालने का काम पूरा किया है, तो मूल बातें जैसे कि डायपर बदलना या बच्चे को दूध पिलाना कुछ ऐसी चीजें हैं जिनमें आपको महारत हासिल होती है। लेकिन, अगर आपके पास बच्चे की देखभाल करने का कोई भी अनुभव नहीं है, तो ऐसे में उसके बारे में सोचना भी भारी पड़ सकता है। पेरेंटिंग क्लासेस आपको बच्चे के साथ व्यवहार करने के दौरान उन सभी डर और चिंताओं को दूर करने में मदद करेंगी और उन स्किल को विकसित करेंगी जो आपकी मदद करेंगे।

3. ब्रेस्टफीडिंग कराने के तरीके को समझना

स्तनपान आसान काम नहीं है, खासकर यदि आपने इसे पहले कभी नहीं किया है। इसे मां और बच्चे के बीच सबसे अच्छा बॉन्डिंग कनेक्शन माना जाता है। यह आपके बच्चे के लिए सबसे अच्छा पोषण है और गर्भावस्था के दौरान वजन कम करने का एक शानदार तरीका है। आप इसके बारे में अपनी पेरेंटिंग क्लास में स्तनपान विशेषज्ञ से अच्छे से समझ पाएंगी और साथ ही अपने बच्चे को संभालने का कॉन्फिडेंस भी महसूस करेंगी। जितनी महिलाएं पहली बार मां बनी हैं, अब उनको स्तनपान कराने के बारे में चिंता करने, भ्रमित होने या निराश होने की जरूरत नहीं है।

4. इमरजेंसी स्थिति के लिए हमेशा तैयार रहना

किसी भी आपात स्थिति के लिए हमेशा तैयार रहें। माता-पिता के रूप में, सबसे डरा देने वाली बात यह होती है कि आपके बच्चे को चोकिंग यानी घुटन हो रही है या उसे सांस लेने में समस्या दिक्कत हो रही है। पहली बार मां बनने के लिए यह आवश्यक है कि आप अपने शिशु या बच्चे पर सीपीआर करना जानती हों। माता-पिता के लिए सीपीआर क्लासेस बच्चे के साथ रिलैक्स और व्यवस्थित तरीके से उसे संभालने में मदद करेंगी, यदि कभी भी ऐसी स्थिति आती है।

5. एक नया सपोर्ट सिस्टम बनाएं

यदि आप नए और युवा पेरेंट्स हैं, तो हो सकता है कि आपके दोस्तों में भी कोई माता-पिता नहीं बना हो या उनके बच्चे नहीं हों। ऐसे में वो आपको इस समय उतना सपोर्ट नहीं दे पाएंगे, जिसकी आपको आवश्यकता होगी। पेरेंटिंग क्लासेस आपको अपने जैसे माता-पिता या यहां तक ​​कि अनुभवी माता-पिता के साथ बातचीत करने में मदद करेंगी ताकि आपको किसी भी समस्या से निपटने में मदद मिल सके। इससे आपके आत्मविश्वास का निर्माण होगा और आपको कई मुश्किलों का समाधान निकालने में मदद मिलेगी। 

6. आत्मविश्वास रखना

जब आप बड़ी भूमिकाएं या जिम्मेदारियां लेने के लिए बाहर निकलती हैं तो योजना बनाना और उसकी तैयारी करना हमेशा मदद करता है। यह तब भी लागू होता है जब आप मां बन जाती हैं। पेरेंटिंग क्लासेस आपको अपने बच्चों का स्वागत करने के लिए तैयार करते हैं और हर कदम में आपकी मदद करते हैं, जिसकी आपको आगे बढ़ने के लिए जरूरत होती है। गलतियां करना भी सीखने का हिस्सा है, लेकिन ये क्लासेस उन्हें कम करने में मदद करती हैं और बेहतर आत्मविश्वास के साथ आपको एक अच्छे माता-पिता बनने की सही समझ होगी।

7. अपने लिए सही पेरेंटिंग स्टाइल चुनना

मनोवैज्ञानिकों और विशेषज्ञों ने कई रिसर्च द्वारा विकसित पेरेंटिंग स्टाइल के बारे में बताया है। पेरेंटिंग का अलग तरीका एक ऐसी स्टाइल को तैयार करता है जो आपके और आपके बच्चे के लिए एकदम सही साबित हो। आपकी मान्यताओं और आप अपने बच्चे की परवरिश कैसे करना चाहती हैं, इसके आधार पर आप अपने और अपने बच्चे के लिए सबसे सही स्टाइल चुन सकती हैं और उस पर काम कर सकती हैं।

8. पार्टनर के साथ टीम वर्क करना

आपके और आपके पति के लिए इस बात पर सहमत होना महत्वपूर्ण है कि आप दोनों अपने बच्चे की परवरिश कैसे करना चाहते हैं। पेरेंटिंग क्लासेस न केवल आपको अलग तरह की पेरेंटिंग स्टाइल और मेथड का पता लगाने में मदद करती हैं बल्कि पेरेंटिंग तकनीकों और मेथड पर महत्वपूर्ण प्रश्नों पर भी चर्चा करती हैं। इस बारे में बात करना महत्वपूर्ण है और ये क्लासेस आपको रिश्तों के कई रहस्यों को भी खोलने में मदद करेंगी।

9. भावनाओं को मैनेज करने की क्लासेस

एक नए माता-पिता के रूप में, आपके लिए बहुत सी चीजें नई हैं और वे कभी-कभी बहुत ज्यादा थकान भरी और फ्रस्ट्रेटिंग हो सकती हैं। हो सकता है कि आपका बच्चा हमेशा आपको न समझे और कई बातों में आपका सहयोग न करे और यह आपको भावनात्मक रूप से थका सकता है। ऐसे में आप चिंता न करें! पेरेंटिंग क्लासेस आपको सिखाती हैं कि ऐसी परिस्थितियों से कैसे निपटना है और आपको अपने तनाव के स्तर को कम रखते हुए अपने बच्चे को कैसे संभालना है। यह आपके बच्चे को एक नॉन-अब्यूसिव और टेंशन फ्री खुशहाल वातावरण में बड़ा होने में मदद करता है।

10. अनुशासन

अनुशासित स्टाइल जिसे आप अपने बच्चे के लिए सही मानती हैं वह एक बहुत ही व्यक्तिगत पसंद है। इसे आपके विश्वासों और मूल्यों के साथ अलाइन करना होगा। पेरेंटिंग क्लासेस आपको उन तरीकों की पहचान करने में मदद करेंगी जिन्हें आप सकारात्मक तरीके से लागू कर सकती हैं ताकि आप अपने बच्चे के साथ अच्छे रिश्ते बना सकें और बनाए रख सकें। ये विकल्प आपके बच्चे में डर के बजाय आत्मविश्वास की भावना भी पैदा करता है।

11. वैक्सीनेशन की क्लासेस

टीकाकरण के बारे में हर माता-पिता के विचार एक समान नहीं होते हैं। लेकिन आपको अपने बच्चे के टीकाकरण और उसके प्रभावों के बारे में अच्छी तरह से जानकारी होनी चाहिए। कुछ पेरेंट्स स्टैंडर्ड वैक्सीन शेड्यूल के साथ ही संतुष्ट हैं और कुछ टीके से बचते हैं। पेरेंटिंग क्लासेस में इस विषय से जुड़े नियम-कानून पर चर्चा की जाती है और यहां तक ​​कि आपके आस-पास के स्कूलों और चाइल्ड केयर केंद्रों के नियमों और आवश्यकताओं में आपको मदद मिलती है।

12. अपने बच्चे के साथ संवाद करना

बात करना किसी भी रिश्ते की कुंजी है! अपने बच्चे के बड़े होने पर उसके साथ बात करना बेहद जरूरी है। पेरेंटिंग क्लासेस आपके बच्चे के साथ कई अलग-अलग बात करने के स्टाइल पर ध्यान देती हैं, जो विभिन्न स्थितियों के लिए सबसे उपयुक्त हैं। यह माता-पिता और बच्चों के बीच एक स्वस्थ, सकारात्मक और खुशहाल रिश्ते बनाए रखने में मदद करता है। यह सभी मामलों पर आपके और बच्चे के बीच बात करने की सभी तरह की उम्मीदों को खुला रखने में भी मदद करता है।

पेरेंटिंग क्लासेस के प्रकार

किसी भी पेरेंटिंग क्लास का मूल अलग-अलग तरीकों से अपने बच्चे के साथ बेहतर संबंध बनाना होता है। आपकी पारिवारिक स्थिति, आपके बच्चे की उम्र के बावजूद ये क्लासेस आपको अधिक आत्मविश्वासी होने और आपके बच्चे को अधिक प्रोडक्टिव बनने और पॉजिटिविटी फैलाने में मदद करने के लिए सही मार्गदर्शन करती हैं।

यदि आप चिंतित हैं यह सोचकर कि आपको अपनी स्थिति के लिए उपयुक्त क्लास नहीं मिल सकती है, तो चिंता न करें। हर क्लास को आपको सही रास्ते पर मार्गदर्शन करने के लिए डिजाइन किया गया है और जीवन के हर चरण के माध्यम से आपके माता-पिता और आपके बच्चे के बारे में आपकी हर चिंता का समाधान किया गया है। यहां आपके द्वारा चुनी जा सकने वाली कई क्लासेस के बारे में थोड़ी जानकारी दी गई है।

1. होने वाले पेरेंट्स के लिए क्लासेस

जब आप नए माता-पिता बनने वाली होते हैं, आपके पास अपने बच्चे और उसे पालने के तरीकों के बारे में कई प्रश्न, संदेह और चिंताएं होती हैं, जिन्हें आप लागू करना चाहती हैं, बच्चे के जन्म की क्लासेस से, उचित चिकित्सा प्रक्रिया, जन्म के बाद की रिकवरी के तरीके, बच्चे की देखभाल करने की क्लासेस और सुरक्षा की क्लास। क्या माता-पिता को बच्चा पैदा करने से पहले पेरेंटिंग क्लास लेनी चाहिए? खैर, ये क्लासेस गर्भावस्था के नौ महीनों के दौरान आपका मार्गदर्शन करती हैं कि आपका बच्चा कब पैदा होता है और अपने बच्चे की और अपनी देखभाल कैसे करें।

2. नए पेरेंट्स और बच्चे की देखभाल की क्लास

पेरेंट्स अपने बच्चे के डायपर बदलने, उसको खाना खिलाने, अपनी भावनाओं से निपटने के तरीके और बच्चे के विकास में सहायता के लिए किन तरीकों को शामिल किया जाए उसके लिए एक्सपर्ट की सलाह लेते हैं, ये क्लासेस उनके लिए बिलकुल सही हैं। वहीं जो नए पेरेंट्स हैं उन लोगों के लिए न्यूबॉर्न पेरेंटिंग क्लासेस बिल्कुल सही हैं और इसमे उन्हें हर चीज पर एक्सपर्ट की सलाह दी जाएगी। इनमें आपको जान्ने को मिलेगा कि अपने बच्चे की देखभाल करने से लेकर अपने बच्चे के शुरुआती कॉग्निटिव डेवलपमेंट को लागू करने के लिए आप क्या कर सकती हैं।

3. बेबी डेवलपमेंट क्लास

जैसे-जैसे आपका बच्चा बढ़ता है, ऐसी स्थितियां आती हैं कि माता-पिता के रूप में आपको इससे निपटने के तरीके के बारे में कुछ अलग अनुभव पसंद आता है। नखरे करना, पॉटी ट्रेनिंग या यहां तक ​​कि सामाजिक स्किल का विकास कुछ ऐसे मुद्दे हैं जिनका आपके बच्चे को बड़े होने पर सामना करना पड़ेगा। ऐसी क्लासेस हैं जो आपको व्यवहार परिवर्तन, मनोवैज्ञानिक और शारीरिक विकास से निपटने में मदद करेंगी। ये क्लासेस न केवल आपको अपने बच्चे के साथ व्यवहार करने के लिए हैं, बल्कि आपके बच्चे के बड़े होने के साथ-साथ आपको खुद को ढालने में मदद करने के लिए भी हैं। ये क्लासेस आपको टीनएज तक अपने बच्चे के साथ व्यवहार करने में मदद करेंगी। ये क्लासेस सिर्फ मांओं के लिए नहीं हैं बल्कि पिता के लिए भी हैं जो  मार्गदर्शन देती हैं कि कैसे आप अपने बच्चे के पालन-पोषण में योगदान दे सकते हैं।

4. विशेष क्लास

पेरेंट्स, जब हम कहते हैं कि आप सभी के लिए क्लासेस हैं, तो हमारा मतलब आप में से हर एक से है। यदि आपके बच्चे को विशेष ध्यान देने की आवश्यकता है, तो ऐसे विशेषज्ञ होते हैं जो ऐसे मामले में आपका मार्गदर्शन करेंगे। क्लासेस विशेष रूप से उन माता-पिता के लिए डिजाइन की गई हैं जिनके बच्चे किसी तरह की डेवलपमेंट और मेडिकल चुनौतियों से गुजर रहे हैं। ये क्लासेस, सपोर्ट माता-पिता के लिए, अलग होने के बाद सह-अभिभावक बनने की इच्छा रखने वाले कपल के लिए, या यहां तक ​​कि बच्चों को गोद लेने और पालने के लिए इच्छुक लोगों के लिए होती हैं। ये क्लासेस, जैसे को पेरेंटिंग क्लासेस, उन बच्चों के लिए सकारात्मक दृष्टिकोण लागू करने में मदद करती हैं जिनके माता-पिता तलाक से गुजर रहे हैं। अपने बच्चे की जरूरतों को प्राथमिक चिंता के रूप में रखते हुए ये क्लासेस आपको इसे संभालने में मदद करती हैं।

अच्छी पेरेंटिंग क्लासेस कैसे ढूंढें

देश में आज ऐसी कई पेरेंटिंग क्लासेस हैं और इतने सारे विकल्पों में चुनना थोड़ा मुश्किल हो जाता है। हालांकि, एक अच्छी क्लास ढूंढना अनिवार्य है क्योंकि यह आपके बच्चे के लम्बे समय तक के विकास में मदद कर सकती है। क्लासेस चुनने के लिए यहां कुछ बातें दी गई हैं:

  • यह देखने के लिए कि क्लासेस इंटरैक्टिव हैं या नहीं, इसके लिए डेमो क्लास जरूर लें। आप फैकल्टी द्वारा लिए जाने वाले सेशन में भाग लेते हैं या आप क्लास में बोरिंग लेक्चर सुनने के लिए मजबूर हैं? उस क्लास को चुनें जो इंटरैक्शन को प्राथमिकता देता है क्योंकि उसमे सीखने की स्थिति तेज होती है।
  • किसी भी क्लास में अपना नामांकन करने से पहले इंस्ट्रक्टर या ट्रेनर का अनुभव जरूर मांगें और देखें कि क्या वे पर्याप्त रूप से योग्य हैं या क्या उनके पास पर्याप्त अनुभव है? ये ऐसे सवाल हैं जिन्हें एनरोल करने से पहले पूछे जाने की जरूरत है।
  • आपके द्वारा सामना की जाने वाली पेरेंटिंग समस्याओं को आपके द्वारा चुनी गई क्लासेस द्वारा कवर करने की आवश्यकता नहीं हो सकती है। करिकुलम पर पूरी तरह से नजर डालें और तभी आगे बढ़ें जब आपको लगे कि आप और आपके बच्चे को क्लास से महत्वपूर्ण लाभ मिल रहा है।

पेरेंटिंग क्लासेस के नुकसान

हमेशा लोग कहते हैं कि आपको अपने बच्चे की परवरिश कैसे करनी चाहिए, लेकिन माता-पिता के रूप में, आपको हमेशा इस दुविधा का सामना करना पड़ता है कि आपको क्या करना चाहिए। पेरेंट्स की क्लासेस से जुड़ना ही हमेशा आपका सही उत्तर नहीं हो सकता है।

क्या ये क्लासेस वास्तव में पेरेंट्स को अपने बच्चों की परवरिश में होने वाली कठिनाइयों का सामना करने में मदद करती हैं? क्या यह रिकमेंड कोर्स एक अनुशंसित तरीका है जिस पर माता-पिता को भरोसा करना चाहिए? आइए देखें कि अगर पेरेंटिंग क्लासेस को अनिवार्य नहीं बनाया गया तो क्या हो सकता है

  1. बच्चों को पालने का कोई निश्चित तरीका नहीं होता है। हर परिवार अलग होता है और परिस्थितियां भी जिनमें बच्चा बड़ा होता है। इस प्रकार, एक ही नियम हर किसी पर लागू नहीं होता है।
  2. माता-पिता को पता होता है कि उनके बच्चों के लिए क्या अच्छा है और क्या बुरा। हर पैरेंट हमेशा वह करने का प्रयास करेंगे जो सर्वश्रेष्ठ प्रदर्शन दें और बच्चों के लिए बेस्ट हो।
  3. माता-पिता को चाहिए कि वे अपने बच्चों के साथ समय बिताएं। अपने बच्चों से बात करके और उनके साथ एक्टिविटीज में हिस्सा लेकर उन्हें जानने की कोशिश करना, इन क्लासेस में समय बिताने से अधिक फायदेमंद होता है।
  4. यह सच है कि केवल आप ही अपने बच्चे को समझ सकते हैं। विशेषज्ञ केवल स्थितियों के बारे में जानेंगे और आपके बच्चे का विश्लेषण करेंगे, लेकिन वास्तव में आपके बच्चे की स्थिति को कभी नहीं समझेंगे।
  5. पेरेंटिंग क्लासेस ने हमेशा से ग्रुप की मानसिकता को विकसित किया है। किसी ऐसी चीज का अनुसरण करना जो आपको और आपके बच्चे के रिश्ते को एक व्यावसायिक मॉडल में बदल रही है, इसके लायक नहीं है।
  6. अगर आपको कभी किसी स्थिति में मदद की जरूरत है, तो रिश्तेदार, दोस्त और यहां तक ​​कि प्रोफेशनल सलाहकार से भी आप संपर्क कर सकती हैं। पेरेंटिंग पर किताब पढ़ना भी काफी मदद करता है।

पेरेंटिंग क्लासेस के अपने फायदे हैं लेकिन इसको फॉलो किया जाना उचित नहीं है! माता-पिता कुछ रचनात्मक तरीके सीख सकते हैं जिन्हें वे बच्चे के साथ उपयोग कर सकते हैं, लेकिन हर परिवार को इसकी आवश्यकता नहीं है!

माता-पिता इन क्लासेस की ओर क्यों रुख करते हैं, इसका एक मुख्य कारण यह है कि उन्हें लगता है कि उन्हें अपने बच्चों के साथ किसी भी पालन-पोषण के तरीकों को लागू करने के लिए पर्याप्त क्वालिटी टाइम नहीं मिलता है, इसका जवाब आपके सामने है। अपने बच्चे के साथ बात करते हुए समय बिताएं और सकारात्मक और स्वस्थ एक्टिविटीज में हिस्सा लें। यदि आप इसे संभाल नहीं सकती हैं, तो दूसरे माता-पिता या काउंसलर के साथ मुद्दों पर चर्चा करें लेकिन अपने पार्टनर के साथ बात करना महत्वपूर्ण है कि क्या किया जा सकता है।

पेरेंटहुड निश्चित रूप से कोई खेल नहीं है और एक बच्चा गाइड बुक के साथ नहीं आता है! यह एक बेहद ही चुनौती भरा काम है और आपको इसका पता लगाने के लिए समय निकालना होगा।

यह भी पढ़ें:

पेरेंटिंग स्किल्स को बेहतर बनाने के 15 तरीके
जेंडर न्यूट्रल पेरेंटिंग – क्या यह सही है?
क्या बच्चों को उनकी विशेषताएं माता-पिता से विरासत में मिलती हैं

समर नक़वी

Recent Posts

श्रेया नाम का अर्थ, मतलब और राशिफल – Shreya Name Meaning in Hindi

हम आपको इस लेख के जरिए श्रेया जैसे बेहतरीन नाम का मतलब, राशि और इन…

2 days ago

साक्षी नाम का अर्थ, मतलब और राशिफल – Sakshi Name Meaning in Hindi

कुछ लड़कियों का नाम इतना यूनीक और प्यारा होता है कि हर कोई उनके माता-पिता…

2 days ago

शिवानी नाम का अर्थ, मतलब और राशिफल – Shivani Name Meaning in Hindi

किसी भी इंसान के जीवन में उसके नाम का काफी योगदान होता है। आपको शायद…

2 days ago

प्रिया नाम का अर्थ, मतलब और राशिफल – Priya Name Meaning in Hindi

कुछ नाम ऐसे होते हैं जो रखे ही उन लोगों के लिए जाते हैं, जो…

2 days ago

प्रीति नाम का अर्थ, मतलब और राशिफल – Priti Name Meaning in Hindi

बेटियां जितनी प्यारी होती हैं माता-पिता उनका उतना ही प्यारा नाम रखने की कोशिश करते…

4 days ago

शुभम नाम का अर्थ, मतलब और राशिफल – Shubham Name Meaning in Hindi

बच्चे का आपके घर में जन्म लेना ही इस बात का सबूत है कि ईश्वर…

4 days ago