गर्भधारण

महिलाओं और पुरुषों की फर्टिलिटी पर कीमोथेरेपी के प्रभाव

जो पुरुष या महिला उपचार के लिए कीमोथेरेपी की प्रक्रिया से गुजर रहे होते हैं वे यह जानना चाहते हैं कि क्या कीमोथेरेपी या कैंसर या कैंसर का उपचार उनकी फर्टिलिटी क्षमता को प्रभावित कर सकता है, खासकर जब वे परिवार को बढ़ाने की प्लानिंग कर रहे हों। एक सफल गर्भधारण  के लिए शरीर और मन का स्वस्थ का होना बहुत जरूरी है, लेकिन कैंसर और इसके इलाज के कुछ दुष्प्रभाव पुरुषों और महिलाओं दोनों में ही देखे जा सकते हैं।

इस लेख में हम इस बारे में बात करेंगे कि कैसे कीमोथेरेपी पुरुषों और महिलाओं की फर्टिलिटी क्षमता को प्रभावित करती है और कैसे एक कपल इस बीमारी से लड़ते हुए बच्चे की प्लानिंग कर सकता है।

कीमोथेरेपी पुरुष की फर्टिलिटी क्षमता को कैसे प्रभावित करती है?

कीमोथेरेपी और पुरुष की फर्टिलिटी क्षमता के बीच एक गहरा संबंध है और उसके प्रभाव देखे जा सकते हैं, चाहे व्यक्ति किसी भी उम्र का हो। 

  • एक पुरुष में स्पर्म का उत्पादन ठीक से 12 या 14 साल की उम्र में शुरू होता है जब युवावस्था की शुरुआत होती है। यदि कोई बच्चा अपने जीवन के शुरुआत में कैंसर से पीड़ित हो जाता है और इसका इलाज करवाता है, तो ऐसे में उसमें शुक्राणु उत्पादन की क्षमता प्रभावित हो सकती है, जिसकी वजह से उसके टेस्टिकल्स स्पर्म बनाने में विफल हो जाते हैं।
  • यह ज्यादातर कीमोथेरेपी की वजह से ही होता है। स्पर्म सेल्स शरीर के अंदर तेजी से फैल जाते हैं, यह केमिकल के वजह से शिकार होते हैं और नष्ट हो जाते हैं, क्योंकि वे काफी कमजोर हो चुके होते हैं।
  • 40 साल से अधिक उम्र के पुरुषों में भी इसी तरह के जोखिम देखे जा सकता है। कीमोथेरेपी शुक्राणु उत्पादन को गंभीर रूप से प्रभावित करती है और इसकी वजह से पहले की फर्टिलिटी क्षमता को फिर से ठीक करने में बहुत मुश्किल होती है। यह किसी विशेष प्रकार की कीमोथेरेपी दवा या हाई डोज का उपयोग करने के कारण होता है।
  • स्पर्म के प्रोडक्शन पर प्रभाव के बाद, पहले वाली फर्टिलिटी क्षमता वापस आने में 1 साल से लेकर 10 साल तक का समय लग सकता है। हालांकि, फर्टिलिटी क्षमता को फिर से पाने की संभावना काफी कम ही रहती है, अगर यह अगले 4 साल या उसके बाद तक नहीं कवर हो पाती है।

कीमोथेरेपी के बाद पुरुष बच्चा पैदा करने के लिए क्या कर सकते हैं?

जैसे कि आपको बता दें कि इस उपचार की शुरुआत में ही कीमोथेरेपी शुक्राणु के उत्पादन को प्रभावित करती है, इसलिए पहले से ही शुक्राणुओं की सुरक्षा करना जरूरी है। ऐसे समय में स्पर्म बैंकिंग काम आती है और आपको अपना बच्चा देने में यह मदद कर सकता है।

  • जैसा की स्पर्म डोनेशन की प्रक्रिया में होता है, वैसे ही स्पर्म बैंकिंग में कई तरह की फर्टिलाइजेशन तकनीकों के जरिए बच्चे को गर्भधारण करने के लिए अपने खुद के शुक्राणुओं को इकट्ठा करना और उन्हें बाद में आपके द्वारा उपयोग किए जाने के लिए स्टोर किया जाता है।
  • एचआईवी या हेपेटाइटिस जैसी किसी भी बीमारी का पता लगाने के लिए शुरू में इसके लिए कुछ मेडिकल टेस्ट करवाने की जरूरत होती है। फिर, कई स्पर्म के सैंपल कुछ हफ्तों के दौरान लिए जाते हैं, ये फ्रीज स्पर्म होते हैं और बाद में उपयोग करने के लिए सुरक्षित रूप से स्टोर किए जाते हैं।
  • जब भी आप बच्चा पैदा करने का फैसला करें, तो आप अपने स्पर्म को फ्रीज करवा सकते हैं और गर्भधारण से लेकर आईवीएफ तक, किसी भी अन्य तरीके से अंडे को फर्टिलाइज करने और गर्भावस्था को कामयाब बनाने के लिए कई तरह की तकनीकों का उपयोग कर सकते हैं।

यदि पहले से ही आपका स्पर्म काउंट कम है या कैंसर की बीमारी के कारण तुरंत कीमोथेरेपी शुरू करने की जरूरत है, तो ऐसे में स्पर्म बैंकिंग हमेशा काम नहीं करता है।

कीमोथेरेपी महिला की फर्टिलिटी क्षमता को कैसे प्रभावित करती है?

कोई भी बाहरी मेडिकल उपचार एक महिला को कई प्रकार से प्रभावित कर सकते हैं, जिससे गर्भवती होने के लिए उसकी फर्टिलिटी भी प्रभावित होती है।

  • कीमोथेरेपी से पहले भी, यदि कैंसर शरीर की उन जगहों में फैल जाता है जो गर्भावस्था के लिए जरूरी हैं, तो कीमोथेरेपी आपकी प्रेगनेंसी को प्रभावित कर सकती है जिससे शरीर के अंदर एक बच्चे को रखने की संभावना कम हो जाती है।
  • कीमोथेरेपी ओवरी द्वारा उत्पादित अंडों पर हमला करती है। यह इस्तेमाल की जाने वाली दवा और दी जानी वाली डोज पर निर्भर करता है, यह प्रभाव महिलाओं में काफी स्पष्ट होता है।
  • कम उम्र की महिलाओं के पास इलाज के बाद अपनी फर्टिलिटी क्षमता को सही करने का एक बेहतर मौका होता है क्योंकि उनके अंडे का उत्पादन काफी अधिक होता है। यह तेजी से कम होने लगता है जैसे-जैसे महिलाएं की उम्र बढ़ती जाती है उन्हें गर्भवती होने में कठिनाई होती है। साथ ही, यदि कोई लड़की पूरी तरह से युवावस्था में नहीं पहुंची है या अगर लड़की की उम्र बेहद कम है तो और वह कीमोथेरेपी के संपर्क में आती है, तो उसे आगे चलकर मेनोपॉज जल्दी देखने को मिल सकता है, जिससे वह पूरी तरह से बांझ हो जाती है।
  • बता दें कि कीमोथेरेपी अंडे को नुकसान पहुंचा सकती है और फर्टिलिटी क्षमता को कम करती है लेकिन कीमोथेरेपी बंद होने के बाद इसके सही होने की संभावना होती है। हालांकि, यदि रिप्रोडक्टिव अंगों को कोई नुकसान होता है, तो इसकी वजह से अंडों का उत्पादन ठीक से नहीं होता है, जो गर्भधारण की प्रक्रिया को सफल बनाने के  लिए सही से फर्टिलाइज नहीं हो पाते हैं।

महिलाएं अपनी फर्टिलिटी क्षमता कैसे बचा सकती हैं?

पुरुषों की तुलना में महिलाओं के लिए फर्टिलिटी क्षमता को बनाए रखना थोड़ा मुश्किल होता है। कुछ तकनीकें हैं जिन्हें आप चुन सकती हैं, जिन्हें कीमोथेरेपी शुरू करने से पहले प्लान कर लिया जाता है।

1. ओवरी टिश्यू को प्रिजर्व करना

अंडाशय में मौजूद टिश्यू की कीमोथेरेपी के कारण डैमेज होने की संभावना होती है। इस तकनीक पर कुछ रिसर्च किए गए हैं, जो इलाज के शुरू होने से पहले ओवरी के टिश्यू को फिर हासिल करने में मदद कर सकते हैं और इसे फ्रीज करने के जरिए प्रिजर्व कर सकती हैं। इस ट्रीटमेंट के अंत में, टिश्यू को महिला के अंदर वापस बदला जाता है और यदि यह पहले की तरह काम करता है, तो अंडे का उत्पादन सामान्य रूप से फिर से शुरू हो सकता है और महिला की फर्टिलिटी क्षमता वापस आ सकती है।

ऐसी बहुत कम जगह हैं जो इस तरह के ट्रीटमेंट का विकल्प देती हैं और इसमें लगने वाला खर्च भी अधिक होता है।

2. अंडों की सुरक्षा

यह तकनीक ज्यादातर महिलाओं के बीच काफी प्रचलित है और आमतौर पर इसे अलग-अलग फर्टिलिटी ट्रीटमेंट क्लीनिक में भी अपनाया जाता है। अंडे एक सफल गर्भाधान के लिए पहला जरूरी कदम है और जरूरत पड़ने तक उन्हें स्टोर करके रखा जाता है। इन विट्रो फर्टिलाइजेशन के दौरान की जाने वाली प्रक्रिया की तरह ही, महिला को अंडे के उत्पादन में तेजी लाने के लिए कुछ दवाएं दी जाती हैं। जब तक आप बच्चा पैदा करना नहीं चाहती हैं तब तक इन्हें बचाकर, फ्रीज और स्टोर करके रखा जाता है।

3. फीटस को प्रिजर्व करना

यह एग प्रिजर्व करने वाली प्रक्रिया से एक कदम आगे है। ऐसी तकनीक आमतौर पर शादीशुदा जोड़ों द्वारा बाद में उनके समय के हिसाब से बच्चा पैदा करने के लिए चुनी जाती है।

अंडे या शुक्राणु को अलग से स्टोर करने के बजाय, ऊपर बताई गई समान प्रक्रिया से महिला के शरीर से अंडे लिए जाते हैं। फिर ये पार्टनर के शुक्राणुओं से मिलाते हैं, जिससे उन्हें नियंत्रित वातावरण में फर्टिलाइज किया जाता है। एक बार सफल फर्टिलाइजेशन के साथ भ्रूण बन जाने के बाद, उसे फ्रीज और स्टोर किया जाता है। जब पति-पत्नी बच्चा पैदा करने के लिए तैयार होंगे, तो भ्रूण को अनफ्रोजेन करके महिला के गर्भाशय में ट्रांसफर किया जाएगा, जिससे प्रेगनेंसी का चरण शुरू हो जाएगा।

कीमो की दवाएं जिनसे बांझपन का खतरा अधिक होता है

कीमोथेरेपी में उपयोग की जाने वाली कुछ दवाएं ऐसी हैं जो कुछ शारीरिक प्रक्रियाओं या अंगों को इतनी बुरी तरह से प्रभावित करती हैं कि वे किसी व्यक्ति में उसकी फर्टिलिटी क्षमता को काफी कम कर देती हैं, साथ ही इसके फिर से सही होने की संभावना को भी कम कर देती हैं।

दवाएं जो स्पर्म और अंडे दोनों को प्रभावित करती हैं

यहां कुछ दवाएं दी गई हैं जो पुरुषों और महिलाओं दोनों को समान रूप से प्रभावित करती हैं, जिनसे शुक्राणु और अंडे के उत्पादन में समस्या आती है।

  • बुसल्फान
  • कार्बोप्लैटिन
  • कार्मस्टीन
  • क्लोरैम्बुसिल
  • सिस्प्लैटिन
  • साईक्लोफॉस्फोमाईड
  • आइफोस्फामाइड
  • लोमुस्टाइन
  • मेल्फालान
  • प्रोकार्बाजाइन

दवाएं जो केवल स्पर्म को प्रभावित करती हैं

थेरेपी के लिए उपयोग की जाने वाली कई दवाओं में से कुछ ऐसी दवाएं हैं जो विशेष रूप से एक पुरुष के शुक्राणुओं को प्रभावित करती हैं, जिससे इनफर्टिलिटी की समस्या पैदा होती है।

  • ऐसिटोमाइसिन
  • साइटाराबिन
  • नाइट्रोजन मस्टर्ड(मेक्लोरेथामाइन)
  • प्रोकार्बाजाइन

दवाएं जो केवल अंडे को प्रभावित करती हैं

कीमोथेरेपी के कारण महिलाओं में इनफर्टिलिटी का खतरा अधिक होता है और कुछ दवाएं भी बेहद हानिकारक होती हैं।

  • डाकार्बाजाइन
  • डॉक्सोरूबिसिन
  • मेक्लोरेथामाइन
  • प्रोकार्बाजाइन
  • टेमोजोलोमाइड

कीमो दवाएं जिनसे इनफर्टिलिटी का जोखिम कम होता है

कीमोथेरेपी और फर्टिलिटी क्षमता एक दूसरे पर अधिक निर्भर हैं, कुछ दवाएं हैं जो कैंसर के इलाज में फायदेमंद होती हैं, साथ ही साथ इनफर्टिलिटी के जोखिम को कम करती हैं।

दवाएं जो स्पर्म और अंडे दोनों को प्रभावित करती हैं

इन दवाओं को कैंसर का इलाज करते समय पुरुषों और महिलाओं दोनों के लिए इनफर्टिलिटी के जोखिम को कम करने के लिए दिया जाता है।

  • 5-फ्लूरोरासिल
  • ब्लेओमायसिन
  • सायटाराबीन
  • डौनोरुबिसिन
  • फ्लुडाराबीन
  • मिथोट्रेक्सेट

दवाएं जो केवल स्पर्म को प्रभावित करती हैं

कीमोथेरेपी के लिए कुछ और दवाएं मौजूद हैं जो पुरुषों में शुक्राणुओं को कम नुकसान पहुंचाती हैं।

  • 6-मर्कैपटॉप्यूरिन
  • डाकार्बाजाइन
  • एपिरुबिसिन
  • ईटोपोसेड
  • माइटोजैन्ट्रोन
  • थियोगुआनाइन

दवाएं जो केवल अंडे को प्रभावित करती हैं

महिलाओं और पुरुषों दोनों के लिए फायदेमंद दवाओं के साथ-साथ कुछ दवाएं इस संबंध में महिलाओं के लिए विशेष रूप से फायदेमंद होती हैं।

  • डाक्टिनोमाइसिन
  • जेमसिटाबीन
  • इडारुबिसिन

महिलाओं को कीमोथेरेपी के बाद गर्भवती होने के लिए कब तक इंतजार करना चाहिए?

कीमोथेरेपी के बाद गर्भधारण के बारे में सोचते समय, डॉक्टरों की सहमति होना जरूरी है, आपको गर्भवती होने का प्रयास करने से पहले सही मायने में कुछ सालों तक इंतजार करना चाहिए। ये विंडो पीरियड यह पता लगाने के लिए जरूरी होता है कि कैंसर सेल्स फिर से बढ़ते तप नहीं हैं।

क्या होगा अगर महिला कीमोथेरेपी कराने के दौरान गर्भवती हो जाती है?

कीमोथेरेपी के बाद गर्भवती होना एक बात है, लेकिन कीमोथेरेपी के साथ गर्भवती होना पूरी तरह से एक अलग बात है।

इसका इलाज इस आधार पर किया जाता है कि कैंसर किस प्रकार का है। बच्चे की डिलीवरी तक इसमें देरी की जा सकती है, लेकिन ज्यादातर डॉक्टर इसकी सलाह नहीं देते हैं। पहली तिमाही के बाद ब्रेस्ट कैंसर या अन्य प्रकार के कैंसर का इलाज किया जा सकता है।

आमतौर पर, इस स्थिति में डॉक्टर अबॉर्शन कराने की सलाह देते हैं यदि गर्भावस्था की शुरुआत ही हुई है तो, या आप समय से पहले डिलीवरी करवा सकती हैं अगर डिलीवरी का समय पूरा होने के करीब है।

इस सवाल के साथ – क्या कीमोथेरेपी फर्टिलिटी क्षमता को प्रभावित करती है – इसका उत्तर कई तरीकों से दिया गया है, अपने जीवन के बारे में सही निर्णय लेना जरूरी है। इलाज शुरू करने से पहले अपनी फर्टिलिटी क्षमता को सुरक्षित रखने के लिए सावधानी से कदम उठाना आपके भविष्य के लिए बेहतर होगा और आपको एक गंभीर बीमारी के इलाज की चिंता किए बिना, अपने पैरंटहुड का अनुभव करने के लिए खुद को मोटिवेट करते रहना होगा।

यह भी पढ़ें:

प्रजनन क्षमता बढ़ाने के लिए सर्वश्रेष्ठ जड़ी बूटियाँ
पुरुषों और महिलाओं में फर्टिलिटी के लिए लहसुन का उपयोग
सबसे अच्छे खाद्य पदार्थ जो आपकी प्रजनन क्षमता को बढ़ा सकते हैं

समर नक़वी

Recent Posts

क्या एक्सरसाइज करने से फर्टिलिटी बढ़ती है

जब भी कोई कपल प्रेगनेंसी की प्लानिंग करके अपना परिवार पूरा करना चाहता है, तो…

3 days ago

रक्षाबंधन पर भाई-बहन के लिए स्पेशल कोट्स और मैसेजस

हमेशा टॉम एंड जेरी की तरह लड़ने व एक दूसरे को चिढ़ाने वाले भाई-बहन का…

5 days ago

रक्षाबंधन विशेष: बच्चों के लिए खास पहनावे

हम जानते हैं कि अपने खूबसूरत और प्यारे बच्चों को तरह-तरह के कपड़ों में सजाना…

6 days ago

लजीज पकवान जो रक्षाबंधन को बना सकते हैं और भी खास

त्यौहारों का मौसम है और इस मौसम में परिवार की खुशियाँ अक्सर दोगुनी हो जाया…

6 days ago

बहना ने भाई की कलाई पर प्यार बांधा है

बहन और भाई के बीच प्यार का सबसे बड़ा त्यौहार रक्षाबंधन इस साल 11 अगस्त…

6 days ago

अपने भाई या बहन को डेडिकेट करने के लिए 20 रक्षाबंधन स्पेशल गाने

चाहे भाई-बहन सगे हों या कजिन, राखी उनके बीच की बॉन्डिंग और प्यार को दर्शाने…

6 days ago