गर्भावस्था के दौरान आयरन-डेफिशिएंसी एनीमिया

प्रेगनेंसी में आयरन की कमी से एनीमिया: कारण, उपचार व अन्य जानकारी

Last Updated On

गर्भावस्था एक सुखद और परिपूर्ण करने वाला अनुभव है जो आपके जीवन में शिशु के आगमन के साथ में असीमित खुशियां लाता है।

हालांकि, गर्भावस्था में कुछ जटिलताएं होती है जिनकी रोकथाम और उपचार के लिए सावधानी रखनी होती है। गर्भावस्था के दौरान आपको जिन जटिलताओं का सामना करना पड़ सकता है उनमें से एक आयरन-डेफिशिएंसी एनीमिया यानि आयरन की कमी से होने वाला एनीमिया है। इसे रक्ताल्पता भी कहा जाता है।

इस लेख में एनीमिया और इसके उपचार के संबंध में विस्तृत जानकारी दी गई है।

आयरन-डेफिशिएंसी एनीमिया क्या है

एनीमिया तब होता है जब आपके शरीर में लाल रक्त कणिकाओं की संख्या आवश्यकता से कम होती है। ये कणिकाएं हमारे संपूर्ण शरीर में ऑक्सीजन को प्रसारित करने के लिए उत्तरदायी होती हैं। जब आपका आयरन का स्तर कम हो जाता है, तो लाल रक्त कणिकाएं शरीर में ऊतकों तक ऑक्सीजन को प्रसारित करने में असमर्थ होती हैं।

गर्भावस्था के दौरान एनीमिया होना सामान्य है। हालांकि, यदि यह गंभीर है, तो यह आपके शिशु को खतरे में डाल सकता है। जब गर्भावस्था के दौरान आयरन की कमी से स्त्री को एनीमिया होता है, तो ऐसा इसलिए क्योंकि रक्त उसके संपूर्ण शरीर में ऊतकों को आवश्यक मात्रा में ऑक्सीजन नहीं पहुँचा पाता।

गर्भावस्था के दौरान आपके शरीर में बहुत से बदलाव होते हैं, क्योंकि भ्रूण को पर्याप्त पोषण देने के लिए आपका हृदय थोड़ा अधिक श्रम करता है। इसका अर्थ है, आपके रक्त का प्रसार 30 प्रतिशत से 40 प्रतिशत तक बढ़ जाता है। तो, रक्त के प्रसार में वृद्धि होने पर आपको क्या करना चाहिए? आपको फोलिक एसिड और आयरन के सेवन को बढ़ाने की सलाह दी जाती है।

आयरन-डेफिशिएंसी एनीमिया के कारण

गर्भावस्था के दौरान एनीमिया के सबसे सामान्य प्रकारों में से एक है आयरन की कमी से एनीमिया। यह सामान्यतः तब होता है जब आपके शरीर में गर्भावस्था के दौरान पर्याप्त स्तर पर हीमोग्लोबिन का उत्पादन करने के लिए आयरन की कमी होती है। हीमोग्लोबिन एक प्रोटीन है जो लाल रक्त कणिकाओं में मौजूद होता है। यह प्रोटीन लाल रक्त कोशिकाओं को फेफड़ों से शरीर के अन्य भागों तक ऑक्सीजन प्रसारित करने में मदद करता है।

लक्षण

यदि आपको गर्भावस्था के दौरान आयरन की कमी से एनीमिया होता है, तो कई लक्षण हैं जो आपको अनुभव होंगे। नीचे ऐसे लक्षण बताए गए हैं, जिन पर आपको ध्यान देना होगा:

  • अनियमित धड़कन
  • थकावट
  • सीने में दर्द
  • सिरदर्द
  • श्वास में कमी
  • चक्कर आना
  • हाथ पैर ठंडे पड़ना
  • कांतिहीन और पीली त्वचा

हालांकि ये लक्षण गर्भावस्था के दौरान अनुभव किए जाने वाले कुछ लक्षणों के समान भी हैं। आपको यह जानने के लिए इन लक्षणों का इंतजार नहीं करना चाहिए कि आपको एनीमिया है या नहीं। गर्भावस्था में कम एचबी (हीमोग्लोबिन) की जांच के लिए रक्त परीक्षण कराने की सलाह दी जाती है। यदि आपको कोई अन्य परेशानी है, जैसे कि आप अत्यधिक थकावट अनुभव कर रही हैं, तो आपको अपने डॉक्टर से चर्चा करनी चाहिए और एक शांत और सुरक्षित गर्भावस्था के लिए उन्हें अपनी स्वास्थ्य समस्याओं से अवगत कराना चाहिए।

आयरन-डेफिशिएंसी एनीमिया का निदान

आयरन-डेफिशिएंसी एनीमिया का निदान

एनीमिया का निदान तब किया जाता है जब आपके डॉक्टर एक पूर्ण रक्त परीक्षण कर लेते हैं, जिसे सीबीसी (कम्प्लीट ब्लड काउंट) भी कहा जाता है। यह रक्त में विभिन्न कणिकाओं की संख्या को दर्शाता है जो आपके रक्त का निर्माण करती हैं। यहाँ उन परीक्षणों का विवरण दिया गया है जो आपके डॉक्टर रक्ताल्पता के परीक्षण के लिए करवाएंगे:

  1. रक्त परीक्षण

यदि डॉक्टर यह देखते हैं कि आपकी लाल रक्त कणिकाओं की संख्या कम है, तो आपको एनीमिया का निदान किया जाएगा और गर्भावस्था के दौरान आपका हीमोग्लोबिन कम रहेगा। यह परीक्षण सदैव आपकी गर्भावस्था की प्रथम तिमाही के दौरान, सामान्यतः जब आप अपनी डॉक्टर से मिलने जाएंगी, तब ही किया जाता है। जब आप 28 सप्ताह की गर्भवती होती हैं तब भी सीबीसी किया जाता है। यह परीक्षण जिसे आपका डॉक्टर एनीमिया के निदान के लिए करता है उसे एच3 रक्त परीक्षण के रूप में भी जाना जाता है।

रक्त परीक्षण

  1. एनीमिया के लिए परीक्षण

आपकी पहली नियोजित भेंट में किए जाने वाले रक्त परीक्षण में सामान्यतः निम्नलिखित शामिल होते हैं:

  • हीमोग्लोबिन परीक्षण: यह रक्त में हीमोग्लोबिन के स्तर को मापता है।
  • हेमाटोक्रिट परीक्षण: इस परीक्षण में रक्त के नमूने में मौजूद लाल रक्त कणिकाओं का प्रतिशत जांचा जाता है।

गर्भावस्था में आयरन-डेफिशिएंसी एनीमिया से संभावित खतरे

गर्भावस्था के दौरान, आपके शरीर में अनेक परिवर्तन होते हैं। इसका अर्थ है कि आपको रक्ताल्पता हो सकती है, विशेषतः यदि आपका आयरन का स्तर आवश्यकता से कम है। हालांकि, कुछ लोगों को रक्ताल्पता का जोखिम अन्य लोगों की तुलना में अधिक होता है। तो, आपको कैसे पता चलेगा कि आपको गर्भावस्था के दौरान एनीमिया होने की अधिक संभावना है और गर्भावस्था के दौरान सामान्य हीमोग्लोबिन स्तर क्या है?

ऐसे कई कारक हैं जो गर्भावस्था के दौरान आयरन की कमी से एनीमिया के कारण बन सकते हैं। यदि आपकी दो गर्भावस्थाओं में अंतराल कम है या आपके गर्भ में एक से अधिक शिशु हैं, तो आपको रक्ताल्पता होने का जोखिम अधिक है। यदि आप मॉर्निंग सिकनेस के कारण उल्टी कर रही हैं और सामान्य से अधिक बार हो रही है, तो आपको रक्ताल्पता हो सकती है। गर्भावस्था के दौरान आयरन का कम सेवन भी एनीमिया का एक कारण है। यदि आपको गर्भावस्था से पहले मासिक धर्म के दौरान अधिक रक्त प्रवाह हुआ है, तो आपको एनीमिया होने का जोखिम अधिक है।

आयरन-डेफिशिएंसी एनीमिया का उपचार

गर्भावस्था एक बेहद महत्वपूर्ण पड़ाव है क्योंकि आप पर एक नए जीवन को जन्म देने की जिम्मेदारी होती है। कभी-कभी, आपको अपनी गर्भावस्था के दौरान चुनौतियों का सामना करना पड़ेगा, आयरन की कमी से होने वाला एनीमिया उनमें से एक है । इस समस्या का इलाज करने के सर्वोत्तम तरीकों में से एक है अच्छा व नियमित पोषण। यह गर्भधारण की कोशिश करते समय और गर्भावस्था दोनों में ही सहायक होता है। आपको उन खाद्य पदार्थों का सेवन करना चाहिए जिनमें प्रचुर मात्रा में आयरन हो क्योंकि यह सुनिश्चित करता है कि आपके शरीर को आयरन की समुचित आपूर्ति हो रही है। जिससे एनीमिया की संभावना को कम करने में मदद मिलती है। गहरी हरी पत्तेदार सब्जियां, लाल मांस, मूंगफली, अंडे और अनाज खाने की सलाह दी जाती है क्योंकि इन खाद्य पदार्थों में भरपूर मात्रा में आयरन होता है।

आयरन से भरपूर आहार लेने के अलावा, आप अपने डॉक्टर से आयरन और फोलिक एसिड विटामिनों की खुराक देने के लिए भी कह सकती हैं, ताकि यह सुनिश्चित हो सके कि आपके शरीर को आवश्यक मात्रा मिल रही है। अपनी गर्भावस्था के दौरान, आपको रोजाना न्यूनतम 27 मिलीग्राम आयरन प्राप्त करने की आवश्यकता होती है। अपनी गर्भावस्था के दौरान आयरन-डेफिशिएंसी एनीमिया का उपचार करने का सबसे अच्छा उपाय इन आयरन सप्लीमेंट् का सेवन करना है।

जब आप गर्भावस्था की पुष्टि के बाद पहली बार डॉक्टर के पास जाएं तो उनसे पूछें कि आपको एनीमिया होने का कितना जोखिम है। यह भी सुझाव दिया जाता है कि आप प्रसव के चार से छह सप्ताह बाद अपना परीक्षण करवाएं । डॉक्टर द्वारा आपकी स्थिति का विश्लेषण करने के बाद, वह आपको हिमेटोलॉजिस्ट (रुधिर रोग विशेषज्ञ) के पास भेज सकते हैं।

आयरन-डेफिशिएंसी एनीमिया को कैसे रोका जा सकता है

जबकि आपको गर्भावस्था के दौरान एक संतुलित आहार बनाए रखना चाहिए, लेकिन डॉक्टर आपके शरीर में आयरन की कमी को रोकने के लिए सप्लीमेंट्स भी दे सकते हैं। ये सप्लीमेंट्स फेरस सल्फेट (325 मिलीग्राम) होते हैं जिनका सेवन दिन में एक बार किया जाना चाहिए। सामान्य स्थिति की अपेक्षा गर्भावस्था के दौरान शरीर को आयरन की आवश्यकता अधिक होती है और आपके शरीर में इसकी कमी के कारण गंभीर रक्ताल्पता हो सकती है।

क्या गर्भावस्था में एनीमिया शिशु को प्रभावित करता है

एक शोध के अनुसार, गर्भावस्था के दौरान आयरन की थोड़ी कमी आपके शिशु को प्रभावित नहीं करती है। हालांकि, यदि आप समय पर इस कमी से एनीमिया का उपचार नहीं करती हैं, तो गर्भावस्था के दौरान आपकी स्थिति बेहद गंभीर हो सकती है। यह स्थिति प्रथम दो तिमाहियों में खराब हो सकती है, जो आपके शिशु के विकास के लिए सबसे महत्वपूर्ण अवधि है। यदि उपचार नहीं करवाया जाता है, तो जन्म के समय आपके शिशु का वजन बहुत कम होने का खतरा होता है। आयरन की कमी से एनीमिया का सबसे गंभीर मामला मृत प्रसव और नवजात मृत्यु का कारण बन सकता है। शिशु के स्वास्थ्य पर एनीमिया के प्रभाव को रोकने के लिए आपको यह सुनिश्चित करने की आवश्यकता है कि आप नियमित रूप से अपनी जांच करवाएं, उचित व अच्छी मात्रा में आयरन का सेवन करें और स्वस्थ आहार लेती रहें।

गर्भवती महिलाओं में आयरन की मात्रा बढ़ाने के लिए खाद्य पदार्थ

एक स्वस्थ और खुशहाल गर्भावस्था सुनिश्चित करने के सर्वोत्तम तरीकों में से एक संतुलित आहार बनाए रखना है। आपके द्वारा ग्रहण किया जाने वाला भोजन आपके स्वास्थ्य के साथ-साथ आपके शिशु के स्वास्थ्य के लिए भी अत्यंत आवश्यक है। चिप्स, वसायुक्त खाना या किसी भी तरह के डिब्बा बंद भोजन जैसे अस्वास्थ्यकर खाद्य पदार्थ के सेवन से आपकी गर्भावस्था के दौरान समस्याएं हो सकती हैं। यहाँ बताया गया है कि गर्भावस्था के दौरान अपने आहार में बदलाव करके हीमोग्लोबिन को कैसे बेहतर बनाया जा सकता है:

आयरन युक्त खाद्य पदार्थ

स्वस्थ हीमोग्लोबिन स्तर को बनाए रखने के लिए अपने आहार में आयरन युक्त खाद्य पदार्थों को शामिल करना सबसे सरल उपाय है।

यहाँ पर कुछ खाद्य पदार्थ बताए गए हैं जिन्हें आप चुन सकती हैं :

  • पालक

पालक सर्वोत्तम आयरन युक्त खाद्य पदार्थों में से एक है, जिसे आप अपनी गर्भावस्था के दौरान खा सकती हैं। आपको केवल आधा कप पका हुआ पालक खाना है। इसमें लगभग 3 मिलीग्राम आयरन और बीटा-कैरोटीन, फोलेट, विटामिन सी और कैल्शियम जैसे अन्य विटामिन तथा खनिज पदार्थ होते हैं जो आपकी गर्भावस्था के लिए बहुमूल्य हैं। पालक को अपने आहार में शामिल करने से फोलेट-की कमी से एनीमिया से जुड़ी समस्याओं पर उपाय हो सकता है।

  • आयरन फोर्टिफाइड सीरियल्स

अपने शरीर को आयरन की आपूर्ति प्रदान करने का सबसे उत्तम उपाय क्या है? आयरन फोर्टिफाइड अनाज से बनाए गए सीरियल्स का सेवन करें। ठंडे सीरियल्स से आपको लगभग 1.5 मिलीग्राम से 20 मिलीग्राम तक आयरन मिल सकता है। दूसरी ओर गर्म सीरियल्स और ओटमील आयरन की कम मात्रा प्रदान करते हैं, जिसकी एक सर्विंग में 4.5 मिलीग्राम से 8 मिलीग्राम तक आयरन होता है। आयरन फोर्टिफाइड सीरियल्स से जुड़ी एक महत्वपूर्ण बात यह है कि वे फोलेट और कैल्शियम से भी भरपूर होते हैं, जो आपकी गर्भावस्था के लिए फायदेमंद हैं।

आयरन फोर्टिफाइड सीरियल्स

  • मांसाहार

मांसाहार आयरन का एक अन्य उत्तम स्रोत है, जिसकी प्रत्येक सर्विंग में 2.6 से 2 मिलीग्राम तक मात्रा होती है। गर्भावस्था के दौरान मांसाहार खाने की सलाह देने का कारण है कि इसमें उपस्थित आयरन, जिसे हेम-आयरन भी कहा जाता है, शरीर द्वारा आसानी से अवशोषित हो जाता है। आपको वसायुक्त मांसाहार खाने की आवश्यकता नहीं है क्योंकि कम फैट वाले मांस में आयरन अधिक होता है। आप एक स्वस्थ और अच्छे आहार के लिए इसमें सब्जियां मिलाकर व्यंजन बना सकती हैं।

  • सूखे फलों का रस

एक अन्य खाद्य पदार्थ जो गर्भावस्था के दौरान उत्तम होता है वह है सूखे आलूबुखारे का रस।100 ग्राम सूखे आलूबुखारे का रस आपको लगभग 1.2 मिलीग्राम आयरन देता है। आयरन के अलावा, सूखे आलूबुखारे के रस में फाइबर भी भरपूर होता है और यह कब्ज में उत्कृष्ट रूप से सहायता करता है।

हालांकि, यदि आपको सूखे आलूबुखारे का रस पसंद नहीं है, तो आप अन्य सूखे फलों का विकल्प भी चुन सकती हैं। आधा कप सूखी खुबानी में 3.6 मिलीग्राम आयरन, सूखे आड़ू में 4.8 मिलीग्राम आयरन, सूखे आलूबुखारे में 3.8 मिलीग्राम आयरन और किशमिश में 2.6 मिलीग्राम आयरन मिलता है। सूखे फल फाइबर से भरे होते हैं, जिससे आपको गर्भावस्था के दौरान होने वाली कब्ज की समस्या से राहत मिलती है।

  • आलू

आश्चर्यजनक रूप से, आलू भी आपकी गर्भावस्था के दौरान आयरन की कमी को कम करने में मदद करते हैं। आलू न केवल विटामिन सी और पोटैशियम से भरपूर हैं, बल्कि यह आयरन का भी एक अच्छा स्रोत है और प्रति आलू लगभग 2.7 मिलीग्राम आयरन मिलता है। आलू विटामिन बी 6 और फाइबर से भी भरपूर होता है।

आप एक संपूर्ण आहार के लिए झटपट आलू का सलाद या आलू की सब्जी बना सकती हैं।

  • फलियां

फलियां चाहे वो लाल, काली या राजमा की फली हो, आयरन का उत्तम स्रोत होती हैं। हालांकि, सफेद फलियों में आयरन की सबसे अधिक मात्रा होती है जिसमें प्रति आधा कप में 3.8 मिलीग्राम आयरन मिलता है।

  • कद्दू के बीज

कुछ चबाने का मन करता है? चिप्स के उन थैलों को छोड़ दें और मुट्ठी भर कद्दू के बीज लें क्योंकि इसमें लगभग 4 मिलीग्राम आयरन होता है । इन कद्दू के बीजों को भूनकर संग्रहित किया जा सकता है और आप हर बार जब आपको इच्छा हो तो आप उन्हें खा सकती हैं।

उपरोक्त खाद्य पदार्थ आयरन से भरपूर होते हैं और यह सुनिश्चित करते हैं कि आपको गर्भावस्था के दौरान इसकी प्रतिदिन आवश्यक मात्रा मिले । इन खाद्य पदार्थों का सेवन आपकी गर्भावस्था के दौरान आयरन की कमी को रोकने में मदद करेगा।

गर्भावस्था एक यादगार यात्रा है, जिसे बाद में आप मुस्कुराते हुए याद कर सकती हैं। हालांकि, कोई भी गर्भावस्था थोड़ी-बहुत चुनौतियों के बिना नहीं आती है। आयरन की कमी से एनीमिया एक ऐसी ही चुनौती है। अच्छी बात यह है कि यह कमी आसानी से रोकी जा सकती है और जब आप गर्भवती होने की कोशिश कर रही हों तब भी आप इसका ध्यान रख सकती हैं । यदि आप बच्चा चाहते हैं, तो सुनिश्चित करें कि आपका आयरन का स्तर उत्कृष्ट है। यदि आप गर्भवती हो चुकी हैं, तो अपने डॉक्टर के साथ जोखिमों पर चर्चा करें और उन्हें अपने शरीर में आयरन की पर्याप्त मात्रा बनाए रखने के तरीकों के बारे में पूछें।

यह भी पढ़ें:

गर्भावस्था के दौरान उच्च रक्तचाप (बीपी)
गर्भावस्था के दौरान दाँत का दर्द और मसूड़ों में रक्तस्राव के 10 घरेलू उपचार