शिंगल्स और गर्भावस्था – क्या आपको जोखिम है

शिंगल्स और गर्भावस्था - क्या आपको जोखिम है

गर्भावस्था हर एक महिला के जीवन में बहुत सारे बदलाव लाती है। महिलाएं मॉर्निंग सिकनेस, मूड स्विंग्स, थकान, बार-बार पेशाब आना, क्रैम्प और न जाने क्या-क्या अनुभव करती हैं। सभी गर्भवती महिलाओं को इसका अनुभव होता है, लेकिन कभी-कभी, महिलाएं गर्भावस्था के दौरान शिंगल्स जैसी कुछ बीमारियों की चपेट में आ सकती हैं। क्या यह गर्भावस्था के दौरान मुश्किलें पैदा करता है? चलिए जानते हैं!

शिंगल्स क्या है? 

शिंगल्स, जिसे हर्पीस जोस्टर के नाम से भी जाना जाता है, त्वचा की एक बीमारी है। यह दर्दनाक रैशेस के साथ होता है, आमतौर पर यह शरीर के ऊपरी हिस्से में किसी एक तरफ होता है।

शिंगल्स का क्या कारण है? 

शिंगल्स वैरिसेला जोस्टर वायरस के कारण होता है, यह वही वायरस है जिनके कारण चिकनपॉक्स होता है। जो लोग पहले चिकनपॉक्स से प्रभावित हुए हैं, उनमें शिंगल्स विकसित होने की संभावना बढ़ जाती है, क्योंकि वायरस उनके शरीर में सालों तक निष्क्रिय रहता है। शिंगल्स शरीर में पहले से मौजूद समस्याएं जैसे एचआईवी, कीमोथेरेपी जैसे उपचार और यहां तक ​​कि कॉर्टिकोस्टेरॉइड दवाएं, जो सूजन और जलन की तकलीफ के लिए दी जाती हैं, से भी उत्प्रेरित हो जाता है। ये सभी फैक्टर्स इम्युनिटी को कम करने में मदद करते हैं और इसलिए यह वायरस पनपने के लिए आपके शरीर में एक अनुकूल वातावरण बन जाता है।

शिंगल्स के लक्षण

यदि आपके परिवार में किसी को पहले चिकनपॉक्स हुआ हो या उसका इम्युनिटी सिस्टम कमजोर हो, तो इन लक्षणों पर नजर रखना जरूरी है।

1. शुरुआती स्टेज 

  • शिंगल्स के किसी भी विशेष लक्षण के सामने आने से पहले बुखार, सिरदर्द और कमजोरी होना आम बात है।
  • शरीर के कुछ जगहों में, आमतौर पर धड़ या चेहरे के एक तरफ, झुनझुनाहट और सनसनी के साथ जलन या सुन्न महसूस करना।
  • शिंगल्स के कारण होने वाले चकत्ते कुछ दिनों बाद दिखाई देते हैं।

2. दूसरी स्टेज 

  • जहां आप दर्द महसूस कर रही हैं उस जगह के आसपास की त्वचा पर लाल, धब्बेदार, सूजन वाले पैच दिखाई देना। शिंगल्स वायरस नर्व सेल्स के अंदर निष्क्रिय रहता है। ये खुजली वाले पैच नर्व के रास्ते के साथ होते हैं।
  • जैसे ही आपका शरीर वायरस से लड़ने की कोशिश करता है, इम्युनोलॉजिकल हमलों से जुड़े अन्य अनिवार्य लक्षण सामने आते हैं। इनमें बुखार, डायरिया, मतली और पेशाब करने में कठिनाई होती है।

3. थर्ड स्टेज 

  • त्वचा में सूजी हुई जगहों पर मवाद से भरे फफोले के साथ चकत्ते पड़ना।
  • ये फफोले धीरे-धीरे सूख जाते हैं और ऊपर की ओर छिल जाते हैं। इस प्रक्रिया में कम से कम दस से चौदह दिन लगते हैं।
  • घावों के सूख जाने के बाद भी इसका धीमा दर्द चार महीने तक और कुछ लोगों में सालों तक बना रहता है।

थर्ड स्टेज

शिंगल्स के लक्षण

क्या शिंगल्स संक्रामक है? 

शिंगल्स अपने आप में संक्रामक नहीं है, लेकिन इसका कारण बनने वाला वायरस अधिक संक्रामक है। शिंगल्स के कारण फफोले निकलते हैं जिससे वायरस वेरिसेला-जोस्टर फैल सकता है, यदि कोई संक्रमित व्यक्ति के फफोले से निकलने वाले मवाद को छूता है। इस वायरस के संपर्क में आने वाले व्यक्ति को पहले चिकनपॉक्स होगा, शिंगल्स नहीं। हालांकि, जिन महिलाओं को पहले चिकनपॉक्स हुआ है, वो संक्रमित व्यक्ति के संपर्क में आने से संक्रमित नहीं होंगी, क्योंकि उनके शरीर में यह निष्क्रिय वायरस पहले से ही मौजूद है।

शिंगल्स का निदान कैसे किया जाता है? 

शिंगल्स का निदान शरीर में होने वाले विशेष चकत्तों से किया जाता है। हालांकि, अगर चकत्ते नहीं हैं, तो वैरिसेला-जोस्टर वायरस का पता लगाने के लिए अत्यधिक एडवांस टेस्टिंग का उपयोग किए बिना सही निदान होना असंभव है।

क्या शिंगल्स माँ और बच्चे को नुकसान पहुंचा सकता है? 

क्या शिंगल्स गर्भावस्था को प्रभावित करता है – सभी गर्भवती महिलाओं के मन में यह सवाल जरूर उठता होगा। ऐसे में महिला के लिए घबराना लाजमी है, लेकिन परेशान होने की जरूरत नहीं है। गर्भावस्था पर शिंगल्स का प्रभाव बहुत कम होता है। चूंकि शिंगल्स केवल उन लोगों को प्रभावित करता है जिन्हें पहले चिकनपॉक्स हुआ है, उनके पास पहले से ही वायरस के खिलाफ इम्युनिटी मौजूद है। यह इम्युनिटी गर्भावस्था के दौरान बच्चे की रक्षा करती है।

शिंगल्स का इलाज

शिंगल्स का कोई इलाज नहीं है। यह समस्या आमतौर पर एक महीने के अंदर शुरू और खत्म हो जाती है। इस समय के दौरान, पेन किलर और एंटी-वायरल दवा का उपयोग लक्षणों को सीमित स्थिति तक राहत देने के लिए किया जाता है। हालांकि, गर्भावस्था के दौरान शिंगल्स के लिए कोई भी दवा लेने से पहले डॉक्टर से बात करनी चाहिए, क्योंकि यह भ्रूण को नुकसान पहुंचा सकती है।

सेल्फ केयर टिप्स

आमतौर पर शिंगल्स की समस्या एक महीने में कम हो जाती है। लेकिन आपकी तरफ से थोड़ा सा प्रयास शिंगल्स के कारण होने वाले दर्द और खुजली से राहत दिला सकते हैं। यहां कुछ सेल्फ केयर टिप्स दिए गए हैं जिन्हें आपको गर्भावस्था के दौरान शिंगल्स होने पर आजमा सकती हैं:

  • जलन और खुजली को शांत करने के लिए रैशेस पर ठंडी सिकाई करें। ठंडे पानी से नहाने से भी दर्द कम होता है।
  • कैलामाइन सॉल्यूशन या ओटमील स्नान त्वचा से बंधकर खुजली को शांत करते हैं। वे फफोले के सूखने में भी तेजी लाते हैं।
  • प्रभावित जगहों को ढ़कने के लिए ढीले गौज बैंडेज का प्रयोग करें। यह चकत्ते को सूखने में मदद करता है। टाइट पट्टी बांधने से त्वचा और पट्टी के बीच नमी विकसित हो जाती है, जिससे दाने बढ़ जाते हैं।
  • हर दिन या हर स्नान के बाद पट्टियां बदलें।
  • ढीले कपड़े पहनें।

गर्भावस्था के दौरान शिंगल्स से कैसे बचें?

वैक्सीनेशन (टीकाकरण) गर्भावस्था के दौरान शिंगल्स से बचाव में मदद करता है। हालांकि, गर्भावस्था पर टीकाकरण से जुड़े दुष्प्रभावों से बचने के लिए आपको गर्भधारण करने से कम से कम 3 महीने पहले टीका लगाया चाहिए। यदि आपको कभी चिकनपॉक्स नहीं हुआ है, तो अन्य लोगों के संपर्क में आने से बचें, जिन्हें शिंगल्स या चिकनपॉक्स है, क्योंकि इससे आपको चिकनपॉक्स हो सकता है। गर्भावस्था के दौरान चिकनपॉक्स बेहद खतरनाक होता है। इसे बच्चे में जन्म दोष या इंफेक्शन फैलने जैसा जोखिम होता है। इसलिए, आपको पहले से ही इसको संभालने के लिए जरूरी उपाय अपनाने चाहिए।

यदि गर्भावस्था के दौरान आपको रैशेस होते हैं या आप अपने स्वास्थ्य को लेकर चिंतित हैं, तो हम यही सलाह देते हैं कि मदद के लिए और अपनी चिंताओं को दूर करने के लिए अपने गायनेकोलॉजिस्ट से संपर्क करें।

यह भी पढ़ें:

गर्भावस्था के दौरान स्किन टैग (त्वचा की चिप्पी) आना
गर्भावस्था के दौरान एक्जिमा – कारण और ट्रीटमेंट
गर्भावस्था के दौरान रूखी त्वचा (ड्राई स्किन) – कारण, कॉम्प्लीकेशन्स और इलाज