गर्भधारण

गर्भवती होने के लिए फॉलिकल स्टिम्युलेटिंग हार्मोन (एफएसएच) का सही स्तर

यदि आप गर्भवती होने की कोशिश कर रही हैं, तो हो सकता है कि आपको अपने फर्टिलिटी विशेषज्ञ से ‘एफएसएच लेवल’ या ‘फॉलिकल स्टिम्युलेटिंग हार्मोन लेवल’ जैसे शब्द के बारे में जानकारी जरूर मिले। आपको बता दें कि यह हार्मोन ओवुलेशन में मदद करता है और इस बात का ध्यान रखता है कि फर्टिलाइजेशन के लिए ओवरी से अंडा रिलीज हो रहा है। एफएसएच के सही लेवल का मतलब है कि आप गर्भावस्था के लिए तैयार हैं और आपके एक स्वस्थ बच्चे के गर्भधारण करने की संभावना काफी है।

एफएसएच स्तर का ज्यादा बढ़ना, महिलाओं के बीच चिंता का कारण बना हुआ है और यहां इस आर्टिकल में आपको वह सब जानकारी मिलेंगी जो आपको गर्भवती होने के लिए एफएसएच के लेवल के बढ़ने के बारे में जानने की जरूरत होगी।

फॉलिकल स्टिम्युलेटिंग हार्मोन (एफएसएच) क्या है?

फॉलिकल स्टिमुलेटिंग हार्मोन (एफएसएच) एक ऐसा हार्मोन है जो महिलाओं में ओवुलेशन में मदद करता है। सभी महिलाएं अपनी पीरियड साइकिल के दौरान बेसलाइन से भी अधिक एफएसएच लेवल का अनुभव करती हैं, जो कि गर्भवती होने में सक्षम होने का एक अच्छा संकेत माना जाता है। ओवरी के परिपक्व होने के कारण ज्यादा उम्र की महिलाओं में एफएसएच का स्तर अधिक होता है क्योंकि एक ‘पुरानी’ ओवरी को अपने एग फॉलिकल के लिए अधिक स्टिम्युलेशन की आवश्यकता होती है। इस प्रकार उम्र के साथ एफएसएच का स्तर बढ़ता है। पीसीओएस (‘पॉलीसिस्टिक ओवरी सिंड्रोम’) का अनुभव करने वाली महिलाओं में एफएसएच का स्तर कम होता है या फिर वे गलत तरीके से ओवुलेट करती हैं या बिल्कुल भी ओवुलेट नहीं करती हैं।

गर्भवती होने के लिए एफएसएच का सामान्य स्तर क्या है?

प्रेग्नेंट होने के लिए महिलाओं में सामान्य एफएसएच स्तर पीरियड साइकिल के दौरान 4.7 और 8 आईयू/ली के बीच होता है। इन स्तरों को क्लिनिक में एफएसएच लेवल के टेस्ट से पहले ध्यान में रखा जाता है, जिससे यह पता चल सके कि आप इस टेस्ट के 4 हफ्ते पहले कोई भी बर्थ कंट्रोल पिल्स या इसी तरह की अन्य दवाएं तो नहीं ले रही हैं।

एफएसएच का स्तर बढ़ने के क्या कारण होते हैं?

महिलाओं में एफएसएच लेवल का बढ़ना नीचे दिए गए कारणों से जुड़ा हुआ है।

1. उम्र बढ़ना

दुनिया भर में अब देर से गर्भधारण करना काफी आम हो गया है क्योंकि आजकल कई महिलाएं 35 साल के बाद गर्भवती हो रही हैं। एक महिला की गर्भधारण करने की क्षमता 30 साल की उम्र के बाद थोड़ी कम हो जाती है और 40 की उम्र के बाद गर्भवती होना बहुत ही कठिन हो जाता है। एक महिला की बढ़ती उम्र में, अंडे का उत्पादन करने के प्रयास में उसका एफएसएच स्तर बढ़ना शुरू हो जाता है। हर पीरियड साइकिल में, आप अपने शरीर में सीमित संख्या के अंडों में से कुछ अंडे खो देती हैं। महिला की बढ़ती उम्र में ओवुलेशन को स्टिम्युलेट करने के लिए अधिक एफएसएच की आवश्यकता होती है जब तक कि वह एक ऐसे पॉइंट तक नहीं पहुंच जाती जहां अधिक एफएसएच का स्तर अब काम नहीं करता हो और ओवुलेशन में सहायता करने में असमर्थ होता है।

2. अंडे की खराब क्वालिटी

महिलाओं में अंडों की घटिया क्वालिटी बांझपन और एफएसएच के बढे हुए लेवल का एक अन्य कारण होता है। यह स्वास्थ्य समस्याओं, अच्छे पोषण की कमी, एंडोमेट्रियोसिस, रेडिएशन थेरेपी और कीमोथेरेपी की वजह से होता है। अंडों की खराब क्वालिटी के कारण महिला का एफएसएच लेवल बढ़ जाता है, जो कि उनकी क्वालिटी में सुधार लाने के प्रयास में शरीर की एक विशिष्ट प्रतिक्रिया है। जवान महिलाएं भी इस स्थिति के लिए अतिसंवेदनशील होती हैं।

3. प्रीमैच्योर ओवेरियन फेलियर

प्रीमैच्योर ओवेरियन फेलियर यानी जब ओवरी खराब हो जाती है और एक महिला 32 साल की उम्र से पहले अंडे का उत्पादन करने में असमर्थ होती है, तब दिमाग अंडे के उत्पादन को प्रोत्साहित (स्टिम्युलेट) करने के लिए एफएसएच स्तर बढ़ाने के लिए पिट्यूटरी ग्लैंड को एक संदेश भेजता है। एफएसएच लेवल के लक्षण, इस मामले में उन महिलाओं के समान होते हैं जो मेनोपॉज का अनुभव करती हैं और अंडे के उत्पादन में कमी होने की वजह से एफएसएच स्तर बढ़ता रहता है।

फॉलिकल स्टिमुलेटिंग हार्मोन (एफएसएच) टेस्ट

एफएसएच पुरुषों और महिलाओं दोनों में मौजूद होता है। एस्ट्रोजन टेस्ट, टेस्टोस्टेरोन सैंपलिंग और ल्यूटिनाइजिंग हार्मोन जैसे अन्य हार्मोन टेस्टिंग के संयोजन के साथ लेवल की जांच करने के लिए आपके डॉक्टर ये सारे टेस्ट कर सकते हैं। डॉक्टर एस्ट्राडियोल और एएमएच लेवल टेस्ट करवाने की सलाह दे सकते हैं। 

1. एफएसएच के स्तर की जांच कब की जाती है?

एक स्वस्थ ओवुलेट करने वाली महिला में, पीरियड साइकिल के तीसरे दिन एफएसएच स्तर की जांच की जाती है और साथ ही दो अन्य टेस्ट – ल्यूटिनाइजिंग हार्मोन (एलएच) टेस्ट और एस्ट्राडियोल टेस्ट होते हैं।

2. एफएसएच टेस्ट की आवश्यकता क्यों होती है?

निम्नलिखित कारणों की वजह से पुरुषों और महिलाओं दोनों में एफएसएच टेस्ट की आवश्यकता होती है:

  • यह आकलन करने के लिए कि क्या ओवरी डैमेज है या फिर यह देखने के लिए कि क्या महिला को पीसीओएस है
  • यह पुरुषों में इरेक्टाइल डिसफंक्शन (ईडी) और शुक्राणुओं की कम संख्या की जांच के लिए किया जाता है
  • हाइपोगोनाडिज्म का निदान करने के लिए किया जाता है
  • बच्चों में समय से पहले या देर से होने वाली पुबर्टी को निर्धारण करने के लिए किया जाता है
  • यह जांचने के लिए कि पीरियड साइकिल नियमित है या अनियमित
  • पिट्यूटरी ग्लैंड के किसी भी तरह के विकार या रोग का निदान करने के लिए किया जाता है

3. टेस्ट के प्रकार

पुरुषों और महिलाओं के लिए एफएसएच (फॉलिकल स्टिम्युलेटिंग हार्मोन) टेस्ट के प्रकार हैं:

  • यूरिन टेस्ट – डॉक्टर आपके शरीर में एफएसएच के लेवल की जांच करने के लिए आपसे 24 घंटे के समय में कई यूरीन सैंपल मांग सकते हैं।
  • ब्लड टेस्ट – आपके हाथ की नस में सुई लगाकर ब्लड टेस्ट किया जाता है। इसमें थोड़ा दर्द होता है और चोट भी लग सकती है, लेकिन एफएसएच ब्लड टेस्ट के लिए यह टेस्ट जरूरी है।
  • अन्य टेस्ट – एफएसएच टेस्ट के साथ जुड़े अन्य टेस्ट टेस्टोस्टेरोन, एस्ट्रोजन, ल्यूटिनाइजिंग हार्मोन और एस्ट्राडियोल हैं।

डॉक्टर आपको और आपके पति को निम्नलिखित स्थितियों में एफएसएच टेस्ट करवाने के लिए कह सकते हैं:

  1. अगर आपको अनियमित पीरियड्स हो रहे हैं
  2. यदि आपकी उम्र 35 साल से अधिक है (पेरिमेनोपॉज या मेनोपॉज से बाहर निकलने के लिए)
  3. अगर आपको काफी समय से कोशिश करने के बाद भी प्रेग्नेंट होने में दिक्कत हो रही है
  4. यदि आपको पिट्यूटरी ग्लैंड या हाइपोथैलेमस डिसऑर्डर है

एफएसएच और ओवेरियन रिजर्व

आपका ओवेरियन रिजर्व, आपकी ओवरी में मौजूद अंडों की संख्या होती है। उनको एक टोकरी में रखे हुए अंडे की तरह ही समझें – आपके पास जितने अधिक अंडे होंगे, उसमें हाई क्वालिटी वाले अंडे ढूंढने की संभावना उतनी ही अधिक होगी। हालांकि याद रखें कि कुछ महिलाओं में अंडे की संख्या अधिक हो सकती है, लेकिन जरूरी नहीं कि सबकी क्वालिटी अच्छी हो। पीरियड साइकिल के दौरान फर्टिलिटी समस्याओं की जांच के लिए महिलाओं में ओवेरियन रिजर्व टेस्ट आम है। ओवेरियन रिजर्व टेस्ट के तीन सामान्य प्रकार हैं – एफएसएच टेस्ट, एंट्रल फॉलिकल काउंट (एएफसी) टेस्ट और एंटी मुलेरियन हार्मोन (एएमएच) टेस्ट।

1. एंट्रल फॉलिकल काउंट (एएफसी) टेस्ट

यह एक अल्ट्रासाउंड टेस्ट है जो आपके एंट्रल फॉलिकल्स की गिनती करता है। यह टेस्ट बहुत तकनीकी रूप से निर्भर होने के कारण हमेशा सही नहीं होता है। हालांकि, महिलाओं में दो ओवरीज के लिए आइडियल एएफसी 15-20 है।

2. एंटी मुलेरियन हार्मोन (एएमएच)

यह एक नया ब्लड टेस्ट है जो एएफसी टेस्ट से अधिक सटीक होता है, एएमएच एक प्रकार का हार्मोन है जो एंट्रल फॉलिकल्स के विकास में मदद करता है। आपके पास जितने अधिक एंट्रल फॉलिकल होंगे, आपका एएमएच लेवल उतना ही अधिक होगा क्योंकि वे एक दूसरे से जुड़े हुए हैं। नियमित ब्लड टेस्ट से पीरियड साइकिल के दौरान आपके शरीर में एएमएच के स्तर का पता चलता है।

3. एफएसएच टेस्ट

12 से अधिक एफएसएच लेवल महिलाओं के लिए चिंता का कारण होता है, लेकिन यह ध्यान रखना महत्वपूर्ण है कि महिलाओं में एंट्रल फॉलिकल्स की संख्या में बदलाव के कारण ये स्तर महीनों के आधार पर बदलते हैं। यदि आपके एस्ट्राडियोल का स्तर <200 पाइकोमोल्स/ली है, तो आपका एफएसएच स्तर आपकी ओवेरियन रिजर्व की क्वालिटी और स्वास्थ्य का निर्धारण करने में सही माना जाता है।

ओवेरियन रिजर्व टेस्ट गर्भधारण और सफल गर्भावस्था की संभावनाओं के बारे में पूरी तरीके से नहीं बताते हैं, लेकिन वे मददगार मार्गदर्शक होते हैं जिनका उपयोग महिलाओं में बांझपन के इलाज के लिए अच्छी लाइफस्टाइल विकल्पों को अपनाने के लिए किया जाता है।

एफएसएच और मेनोपॉज

यदि आपके फॉलिकल स्टिम्युलेटिंग हार्मोन (एफएसएच) का स्तर लगातार 30 आईयू/मिली या उससे अधिक पर पहुंच रहा है, तो आप जरूर मेनोपॉज के करीब पहुंच रही हैं या पहले ही पहुंच चुकी हैं। यह आमतौर पर इस तथ्य के आधार पर निर्भर करता है कि आपको पूरे एक साल तक पीरियड नहीं हुए हैं । चिकित्सक कभी-कभी मेनोपॉज की पुष्टि करने के लिए एएफसी और एएमएच जैसे टेस्ट के संयोजन में सलाइवा टेस्टिंग करने की सलाह देते हैं क्योंकि अकेले एफएसएच यह साबित करने के लिए पर्याप्त नहीं है कि आप मेनोपॉज के करीब हैं या नहीं। जब महिलाएं पेरिमेनोपॉज की स्थिति में पहुंचती हैं तो बेसलाइन एफएसएच का स्तर बढ़ जाता है जो यह दर्शाता है कि अब अंडे की कम मात्रा बची है। बता दें कि पेरिमेनोपॉज 4 साल तक रहता है और एक महिला उस तारीख से 12 महीने के अंदर मेनोपॉज के चरण में प्रवेश करती है, जिस तारीख को उसको आखिरी पीरियड हुए थे।

आपके एफएसएच टेस्ट में संख्या कई बार अलग हो सकती हैं – यदि आप टेस्ट से पहले गर्भनिरोधक गोलियों (बर्थ कंट्रोल पिल्स) या अन्य ऐसी ही दवाएं लेती थीं तो टेस्ट में नतीजे गलत भी हो सकते हैं। यदि आप कोई हार्मोनल ट्रीटमेंट ले रही हैं, तो एफएसएच टेस्ट अमान्य माने जाते है और यदि आपको संदेह है कि आप पेरिमेनोपॉज फेज में हैं, तो आपको क्लिनिक या अस्पताल में एक काम्प्लेक्स मेडिकल टेस्ट जरूर करवाना चाहिए।

बढ़े हुए एफएसएच के साथ गर्भवती होने की क्या संभावना है?

हाई एफएसएच लेवल आपके गर्भवती होने की संभावना को कम करता है और क्रोमोसोम से जुड़ी किसी भी असामान्यताओं के बारे में संकेत देता है। लगातार हाई एफएसएच लेवल वाली महिलाओं के लिए गर्भवती होना कठिन और कभी-कभी असंभव भी होता है, और एक स्वस्थ बच्चे और गर्भावस्था के लिए एग डोनेशन ट्रीटमेंट ही एकमात्र विकल्प बन जाता है। यदि आप अपने पीरियड साइकिल के शुरुआती स्टेज के दौरान एफएसएच के बढ़े हुए स्तर का अनुभव कर रही हैं, तो यह ओवरी फेलियर, फर्टिलिटी क्षमता में कमी, खराब क्वालिटी वाले अंडे या इम्प्लांटेशन दर में कमी का संकेत होता है।

ध्यान रखें कि 15 और उससे आगे का एफएसएच स्तर अधिक माना जाता है और 9.5 से नीचे कुछ भी फर्टिलिटी क्षमता और गर्भावस्था के लिए इष्टतम (ऑप्टीमल) एफएसएच रेंज है। ऐसे मामले सामने आए हैं जहां महिलाएं बढ़े हुए एफएसएच स्तर और सफल गर्भावस्था का अनुभव करने में सक्षम थीं, हालांकि ऐसे मामले बहुत कम हैं।

अपने बढ़े हुए एफएसएच स्तर को कैसे कम करें

यदि आप अपने एफएसएच लेवल को कम करने का प्रयास कर रही हैं, तो हमारे पास आपके लिए एक अच्छी खबर है। आपके पास अभी भी समय है और ऐसे तरीके मौजूद हैं जिनसे आप उन्हें स्वाभाविक और सुरक्षित रूप से कम कर सकती हैं। यहां कुछ तरीके दिए गए हैं जिनसे आप एफएसएच लेवल को कम कर सकती हैं:

1. समुद्री और हरी सब्जियों का सेवन करें

सब्जियां जैसे केल्प, नोरी और वाकैम में बड़ी मात्रा में आयोडीन और आवश्यक फैटी एसिड होते हैं जो ऑप्टिमम एंडोक्राइन स्वास्थ्य के लिए महत्वपूर्ण हैं। इन्हें सलाद और सुशी के साथ खाने की कोशिश करें या इनसे वेजिटेबल रोल भी बना सकती हैं। यदि आप जहां रहती हैं वहां आपको समुद्री सब्जियां नहीं मिलती हैं, तो आप सप्लीमेंट्स का उपयोग कर सकती हैं। केल्प के सप्लीमेंट्स उनके हाई आयोडीन कंटेंट के कारण विशेष रूप से प्रसिद्ध हैं।

2. बी-पॉलन खाएं

बी-पॉलन में फूलों का पराग, रस, एन्जाइम्स, शहद और बी सीक्रेशन का मिक्सचर होता है। मधुमक्खी जब अपने छत्ते पर शहद इकठ्ठा करती है तो शहद के साथ वहां पर कुछ परागकण भी रह जाते हैं और फिर ये दानों का आकार ले लेते हैं। ये दाने सूखने के बाद बी-पॉलन कहलाते हैं। पोषक तत्वों से भरपूर, बी-पॉलन में मिनरल्स, प्रोटीन, विटामिन और इम्युनिटी-हेल्दी कंपाउंड्स होते हैं। बी-पॉलन, सप्लीमेंट रूप में भी बाजार में उपलब्ध होता है।

3. सुपर फूड्स का सेवन करें

प्रोटीन का एक बेहतरीन स्रोत जो मैग्नीशियम और पोटेशियम जैसे महत्वपूर्ण मिनरल्स से भरा होता है, स्पिरुलिना प्रकृति के सुपरफूड्स में से एक है और एंडोक्राइन  स्वास्थ्य के लिए खाने की लिस्ट को सर्वश्रेष्ठ बनाता है। अन्य सुपर फूड जिन्हें आप आजमा सकती हैं वे हैं क्लोरेला, मोरिंगा और चिया सीड्स। इन दिनों सुपरफूड के मिश्रण भी मिलते हैं जिसमें स्पिरुलिना, व्हीटग्रास, जौ घास, क्लोरेला, अकाई बेरी, स्टीविया और अन्य कई हरे मिश्रण शामिल हैं। हालांकि, ऐसी कोई भी चीज, जिसकी आपको आदत नहीं है, उसका सेवन करने से पहले डॉक्टर से सलाह लेना अच्छा है।

4. फर्टिलिटी मसाज के बारे में सोचें

फर्टिलिटी मसाज (प्रजनन मालिश) हार्मोन को संतुलित करती है और ओवरी की मालिश के माध्यम से तनाव से राहत देती है और साथ ही उसके उत्पादन को नियंत्रित भी करती है। लिवर की भी मालिश की जाती है और पिट्यूटरी, हाइपोथैलेमस और अंडाशय के बीच कम्युनिकेशन को बढ़ाया जाता है।

5. एक्यूपंक्चर

उचित पोषण के साथ मिलने पर एक्यूपंक्चर, हार्मोनल असंतुलन के इलाज और एफएसएच स्तर को सामान्य करने में बहुत प्रभावी है। ऑरिक्यूलर एक्यूपंक्चर ट्रीटमेंट का सबसे पसंदीदा तरीका है और ऑटोमिक नर्वस सिस्टम से संबंधित विकारों को ठीक करता है।

6. स्वस्थ वजन बनाए रखें

अधिक वजन, कम वजन या मोटापे से महिलाओं में फर्टिलिटी क्षमता की समस्या उत्पन्न होती है और इससे एफएसएच लेवल भी प्रभावित होता है। स्वस्थ वजन बनाएं रखें और सबसे अच्छे परिणामों के लिए उचित पोषण जरूर लें। आप केवल अपनी हाइट के अनुसार उचित वजन हासिल करने पर ही ध्यान नहीं दें, बल्कि आपको यह भी सुनिश्चित करना चाहिए कि आपको अपने पोषक तत्व मिल रहे हैं।

7. तनाव कम और आराम करने का प्रयास करें

योग, ध्यान, कला, प्रार्थना, और अन्य तनाव-मुक्त या ‘ग्राउंडिंग’ एक्टिविटीज तनाव के स्तर को कम करने के लिए और बाद में आपके एफएसएच स्तर के लिए एकदम सही हैं। तनाव को कम करने के अन्य उपचार जिन्हें आप आजमा सकती हैं, वे हैं क्यूई गोंग और ताई ची। डांस क्लास जाएं, दोस्तों के साथ मेलजोल करें और एक एक्टिव लाइफस्टाइल का आनंद लें। कम तनाव एक स्वस्थ हार्मोनल सिस्टम का एक प्रमुख संकेत होता है और न केवल आपके एफएसएच स्तरों के लिए, बल्कि आपके जीवन के लिए भी अच्छा साबित होता है। जरूरी डाइट और लाइफस्टाइल में बदलाव करके आप अपने जीवन की क्वालिटी में सुधार ला सकती हैं और इससे आप कुछ ही समय में सामान्य एफएसएच लेवल का भी अनुभव करेंगी।

8. ब्लड शुगर को कम रखें

ऑप्टिमम ब्लड शुगर लेवल शरीर में एस्ट्रोजन उत्पादन और एफएसएच स्तर को संतुलन में रखने में मदद करता है। लो ब्लड शुगर लेवल मजबूत भ्रूण और ओवरी में डेवलपिंग फॉलिकल के उचित पोषण में योगदान देता है। अपने ब्लड शुगर के स्तर की नियमित जांच करवाएं और ऐसे खाने की चीजों का सेवन करें जिनमें बहुत अधिक चीनी या हाई ग्लाइसेमिक इंडेक्स (जीआई) न हो। अपने डॉक्टर से ऐसे फलों और सब्जियों के बारे में पूछें और उन्हें अपनी डाइट में शामिल करें।

9. हर्ब्स

मैका, अमेरिकन जिनसेंग और अन्य एडाप्टोजेन हर्ब्स शरीर में एस्ट्रोजन के स्तर को सामान्य करने में प्रभावी साबित होती हैं। मैका और अमेरिकन जिनसेंग का सेवन करने वाले पुरुषों और महिलाओं ने कामेच्छा में वृद्धि, एक स्वस्थ शुक्राणुओं की संख्या और उचित एस्ट्रोजन के स्तर का अनुभव किया है, जो सभी सामान्य एफएसएच स्तर और स्वस्थ गर्भावस्था के लिए जरूरी हैं। आप चाइनीज जड़ी बूटियों को भी आजमा सकती हैं, क्योंकि वे तिल्ली, गुर्दे और लिवर को पोषण देने के लिए जानी जाती हैं, ये सभी ऑप्टीमल रिप्रोडक्टिव हेल्थ के लिए जिम्मेदार हैं।

अन्य विकल्प जिन पर आप विचार कर सकती हैं यदि आपको हाई एफएसएच स्तर की समस्या है, तो इन-विट्रो फर्टिलाइजेशन और इंट्रायूटेरिन इनसेमिनेशन (आईयूआई) एक फर्टिलिटी विशेषज्ञ द्वारा अनुशंसित तरीकों से एफएसएच स्तर बढ़ाकर आपके अंडाशय को स्टिम्युलेट करने के साथ संयोजन में हैं। इनमें गोनल-एफ, फॉलिस्टिम और ब्रावेल जैसे इंजेक्शन शामिल हैं। यदि चीजें समझ में नहीं आती हैं तो आपका अंतिम उपाय एक एग डोनर की तलाश करना होगा।

यदि आप स्वस्थ आहार लेती हैं, तनाव मुक्त रहती हैं और अपने रोजाना के पोषण की खुराक प्राप्त करती हैं, तो ऐसा कोई कारण नहीं है जिससे आप स्वस्थ गर्भावस्था हासिल नहीं कर सकती हैं। हाई एफएसएच लेवल को आपको गर्भधारण करने से रोकने की अनुमति न दें और अपने शरीर को स्वस्थ होने, ठीक होने और उसे सामान्य करने के लिए आवश्यक समय दें। इसको सही होने में समय लगता है; और जैसा कि हमेशा कहा जाता है – ‘कभी न होने से तो देर में होना ही भला।’

ऊपर दी गई सलाह, पोषण संबंधी दिशानिर्देशों और लाइफस्टाइल का पालन करने के बाद भी यदि आपको गर्भधारण करने में समस्या हो रही है, तो आप और क्या कर सकती हैं, इसके बारे में आप अपने क्लिनिक या डॉक्टर से जानकारी ले सकती हैं।

स्रोत: WebMD

यह भी पढ़ें:

महिलाओं में होने वाले प्रकार के आम फर्टिलिटी टेस्ट
महिलाओं के लिए प्रजनन की दवाइयां – लाभ और दुष्प्रभाव
महिलाओं में अंडों की गुणवत्ता सुधारने के लिए पौष्टिक खाद्य पदार्थ

समर नक़वी

Recent Posts

क्या एक्सरसाइज करने से फर्टिलिटी बढ़ती है

जब भी कोई कपल प्रेगनेंसी की प्लानिंग करके अपना परिवार पूरा करना चाहता है, तो…

3 days ago

रक्षाबंधन पर भाई-बहन के लिए स्पेशल कोट्स और मैसेजस

हमेशा टॉम एंड जेरी की तरह लड़ने व एक दूसरे को चिढ़ाने वाले भाई-बहन का…

5 days ago

रक्षाबंधन विशेष: बच्चों के लिए खास पहनावे

हम जानते हैं कि अपने खूबसूरत और प्यारे बच्चों को तरह-तरह के कपड़ों में सजाना…

6 days ago

लजीज पकवान जो रक्षाबंधन को बना सकते हैं और भी खास

त्यौहारों का मौसम है और इस मौसम में परिवार की खुशियाँ अक्सर दोगुनी हो जाया…

6 days ago

बहना ने भाई की कलाई पर प्यार बांधा है

बहन और भाई के बीच प्यार का सबसे बड़ा त्यौहार रक्षाबंधन इस साल 11 अगस्त…

6 days ago

अपने भाई या बहन को डेडिकेट करने के लिए 20 रक्षाबंधन स्पेशल गाने

चाहे भाई-बहन सगे हों या कजिन, राखी उनके बीच की बॉन्डिंग और प्यार को दर्शाने…

6 days ago